विज्ञापन

आज की नटछडी युवा

                
                                                                                 
                            मैं आज की नटछडी युवा ,
                                                                                                

थोडी नादा और थोडी दुआ,
अपनों का साथ सलोना ,
माॅं पापा का प्यारा खिलोना !
ख्बाब तो हरदम आखों में ,
सारा जहाॅं कैद है सासों में ,
उडने को मैं आजाद परिंदा ,
कहाॅं नजर में मेरे कोई घरोंदा !
कदम कदम बदले कभी इरादा ,
थामा कोई हाथ निभाता वादा ,
सोच लूँ जो मैं एक बार तो ,
मुश्किल है मुझे रब को रोकना !
मैं देश की मजबूत होती कमान ,
हाथों में मेरे विज्ञान की तीरकमान,
मुझसे बढता विदेशों में देश सन्मान !
हरदिन करु मैं नया अविष्कार ,
दुनिया ही बने मेरा संसार ,
मैं सिखाऊ सबको मानवता,
सबके साथ चलने में धन्यता !

- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
3 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X