आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

अनवर मसूद का मज़ाहिया कलाम: है आप के होंटों पे जो मुस्कान वग़ैरा 

अनवर मसूद का मज़ाहिया कलाम: है आप के होंटों पे जो मुस्कान वग़ैरा 
                
                                                                                 
                            है आप के होंटों पे जो मुस्कान वग़ैरा 
                                                                                                

क़ुर्बान गए उस पे दिल ओ जान वग़ैरा 

बिल्ली तो यूँही मुफ़्त में बदनाम हुई है 
थैले में तो कुछ और था सामान वग़ैरा 

बे-हिर्स-ओ-ग़रज़ क़र्ज़ अदा कीजिए अपना 
जिस तरह पुलिस करती है चालान वग़ैरा 

अब होश नहीं कोई कि बादाम कहाँ है 
अब अपनी हथेली पे हैं दंदान वग़ैरा  आगे पढ़ें

2 weeks ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X