मैंनु तेरा शबाब ले बैठा... शिव कुमार बटालवी

menu tera shabab le baiha shiv kumar batalvi poetry
                
                                                             
                            

मैंनू तेरा शबाब ले बैठा,
रंग गोरा गुलाब ले बैठा।
 

किन्नी-बीती ते किन्नी बाकी है,
मैंनू एहो हिसाब ले बैठा।
 

मैंनू जद वी तूसी तो याद आये,
दिन दिहाड़े शराब ले बैठा।
 

चन्गा हुन्दा सवाल ना करदा,
मैंनू तेरा जवाब ले बैठा।

3 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X