विज्ञापन

Sahir Ludhianvi: देखा है ज़िंदगी को कुछ इतना क़रीब से, चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

sahir ludhianvi famous ghazal dekha hai zindagi ko kuch itne qareeb se
                
                                                                                 
                            
देखा है ज़िंदगी को कुछ इतना क़रीब से

चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

कहने को दिल की बात जिन्हें ढूँढ़ते थे हम
महफ़िल में आ गए हैं वो अपने नसीब से

नीलाम हो रहा था किसी नाज़नीं का प्यार
क़ीमत नहीं चुकाई गई इक ग़रीब से

तेरी वफ़ा की लाश पे ला मैं ही डाल दूँ
रेशम का ये कफ़न जो मिला है रक़ीब से
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X