आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

हर एक बात को चुप-चाप क्यूं सुना जाए- निदा फ़ाज़ली

nida fazli
                
                                                                                 
                            हर एक बात को चुप-चाप क्यूं सुना जाए 
                                                                                                

कभी तो हौसला कर के नहीं कहा जाए 


तुम्हारा घर भी इसी शहर के हिसार में है 
लगी है आग कहां क्यूं पता किया जाए आगे पढ़ें

2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X