विज्ञापन

नाचता आया सावन

                
                                                                                 
                            मतवाला मौजी बनके आया,
                                                                                                

इस बरस का प्यासा सावन ,
कुछ आरजू लेकर वो आया,
कुछ मैला होकर वो आया।

कुछ कल की यादों के साथ,
कुछ नई साथ ले जाने आया,
कुछ सुकून की बूंदे बनकर,
कुछ तूफा के वर्षाव सा आया।

मेरे छत पर टप टप बरसता,
मेरे संग नए राग गाने आया,
कुछ अपनी बनी बनाई पुरानी,
धुन नए से सुनाने व्याकुल हुआ।

कुछ ओस की बूंदों सा चमकता,
कुछ हरियाली बनकर खिलता,
कुछ कोयल सा मधुर चहकता,
कुछ बेवजह ही बच्चे सा रूठता।

इस साल का सावन आया तो,
पुराना सारा धुलने वो है आया,
नई आशा की किरण आसमा में,
इंद्रधनुष के रंगों में बिखरने आया।
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X