आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

Kaleem Aajiz: कलीम आजिज़ की ग़ज़ल 'जहाँ ग़म मिला उठाया फिर उसे ग़ज़ल में ढाला'

kaleem aajiz ghazal jahan gham mila uthaya phir usey ghazal mein dhaala
                
                                                                                 
                            

जहाँ ग़म मिला उठाया फिर उसे ग़ज़ल में ढाला


यही दर्द-ए-सर ख़रीदा यही रोग हम ने पाला

तिरे हाथ से मिली है मुझे आँसुओं की माला
तिरी ज़ुल्फ़ हो दो-गूना तिरा हुस्न हो दो-बाला

ये समाँ उसे दिखाऊँ सबा जा उसे बुला ला
न बहार है न साक़ी न शराब है न प्याला

मिरे दर्द की हक़ीक़त कोई मेरे दिल से पूछे
ये चराग़ वो है जिस से मिरे घर में है उजाला

उसे अंजुमन मुबारक मुझे फ़िक्र-ओ-फ़न मुबारक
यही मेरा तख़्त-ए-ज़र्रीं यहीं मेरी मिर्ग-छाला

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X