जब शायर ने कहा- उम्दा शराब पीओ, अच्छी संगत में पीओ और स्वयं खरीदकर पीओ...

जिगर मुरादाबादी
                
                                                             
                            मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी ऐसे शायर थे जो 12-13 वर्ष की आयु से ही शराब पीना शुरू कर दिए थे। धीरे-धीरे इसमें वृद्धि होती गई और यह आदत इस सीमा तक बढ़ गयी कि वे हर समय नशे में धुत रहने लगे। 
                                                                     
                            

कभी तो इतनी पी लिया करते थे कि उन्हें ख़ुद अपनी भी सुध नहीं रहती थी। असग़र गौंडवी कभी प्रत्यक्ष रूप से उन्हें शराब पीने से मना नहीं करते, बल्कि एक बार सलाह दी कि- उम्दा शराब पीओ, अच्छी संगत में पीओ और स्वयं खरीदकर पीओ।  आगे पढ़ें

1 day ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X