लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   Dogs getting trained at to be deployed in Kuno National Park to protect cheetahs

Cheetah: कूनो में तैनात होंगे 'कमांडो' कुत्ते, शिकारियों से करेंगे चीतों की सुरक्षा, मिल रही खास ट्रेनिंग

एएनआई, चंडीगढ़ Published by: ajay kumar Updated Wed, 28 Sep 2022 11:40 AM IST
सार

भारत में आखिरी बार चीता 1948 में देखा गया था। इसी वर्ष कोरिया के राजा रामनुज सिंहदेव ने तीन चीतों का शिकार किया था। इसके बाद भारत में चीतों को नहीं देखा गया। 1952 में सरकार ने चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया।

कुत्तों को दी जा रही खास ट्रेनिंग।
कुत्तों को दी जा रही खास ट्रेनिंग। - फोटो : एएनआई
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया से लाए गए चीतों की सुरक्षा में प्रशिक्षित डॉग तैनात होंगे। इन्हें हरियाणा के पंचकूला में खास ट्रेनिंग दी जा रही है। कुत्तों के प्रशिक्षण का एक वीडियो भी सामने आया है। 10 दिन पहले चीतों को कूनो नेशनल पार्क लाया गया था। सभी आठ चीतों को अभी विशेष निगरानी में रखा गया है। अन्य जानवरों व शिकारियों से बचाने के उद्देश्य से विशेष प्रशिक्षित कुत्तों को इनकी सुरक्षा में तैनात किया जाएगा। 



इन जर्मन शेफर्ड कुत्तों को पंचकूला स्थित भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल (आईटीबीपी) के राष्ट्रीय कुत्तों के प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षित किया जा रहा है। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल के बुनियादी प्रशिक्षण केंद्र के आईजी आईएस दुहान ने बताया कि विशेष प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के दौरान कुत्तों को बाघ की खाल और हड्डियों का पता लगाने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। प्रशिक्षण WWF-इंडिया (वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर इंडिया) के सहयोग से दिया जा रहा है।


यह भी पढ़ें- बाप बना हैवान: नाबालिग बहनें बोलीं- मुंह में कपड़ा ठूंस पिता करता है दुष्कर्म, जबरन शराब व सिगरेट भी पिलाता है

देश में 1948 में आखिरी बार देखा गया था चीता
भारत में आखिरी बार चीता 1948 में देखा गया था। इसी वर्ष कोरिया के राजा रामनुज सिंहदेव ने तीन चीतों का शिकार किया था। इसके बाद भारत में चीतों को नहीं देखा गया। 1952 में सरकार ने चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया। इसके बाद भारत सरकार ने 1970 में एशियाई चीतों को ईरान से लाने का प्रयास किया।

ईरान सरकार से बातचीत भी की गई लेकिन यह पहल सफल नहीं हो सकी। मगर अब नामीबिया से आठ चीतों को मोदी सरकार लेकर आई है। केंद्र सरकार की पांच साल में 50 चीते लाने की योजना है। बता दें कि कूनो नेशनल पार्क में चीते को बसाने के लिए 25 गांवों के ग्रामीणों अपना घर छोड़ना पड़ा। 

यह भी पढ़ें- खुशखबरी: सात साल बाद 7471 पदों पर निकली TGT की भर्ती, HTET पास करने वालों को मिलेगा मौका
विज्ञापन

 
 

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00