विज्ञापन

चंडीगढ़

विज्ञापन
शनि अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण के समय करें पंच दान, होगा हर समस्या का समाधान - 4 दिसम्बर, 2021
Myjyotish

शनि अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण के समय करें पंच दान, होगा हर समस्या का समाधान - 4 दिसम्बर, 2021

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Digital Edition

चन्नी सरकार पर बरसे केजरीवाल: दिल्ली के सीएम ने ट्वीट कर उठाए विधायकों-मंत्रियों के बच्चों को नौकरी देने पर सवाल 

पंजाब की चरणजीत चन्नी सरकार एक बार फिर अपने करीबियों को नौकरी देने के कारण विवादों में है। ताजा मामला घन्नौर हलके के विधायक मदन लाल जलालपुर के बेटे एवं जिला परिषद सदस्य गगनदीप जौली को पावरकॉम के डायरेक्टर प्रबंधकीय पद पर नियुक्त करने का है।

इस मामले में आम आदमी पार्टी के कन्वीनर और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चन्नी सरकार पर निशाना साधा है। केजरीवाल ने ट्वीट किया है कि आज पंजाब की कांग्रेस सरकार केवल विधायकों और मंत्रियो के बच्चों को सरकारी नौकरियां दे रही है। हमारी सरकार बनने पर सरकारी नौकरियां जनता के बच्चों को मिलेंगी। चन्नी सरकार की ये धांधली बंद करेंगे। वहीं पंजाब के स्कूलों की खस्ता हालत पर केजरीवाल ने ट्वीट किया कि चन्नी साहिब कहते हैं पंजाब के स्कूल सबसे अच्छे हैं। मतलब स्कूलों को ठीक करने की उनकी कोई मंशा नहीं है। इन नेताओं ने जानबूझ कर सरकारी स्कूलों को 70 साल से खराब रखा है। अब नहीं होगा। चन्नी साहिब, पंजाब के बच्चों को हम लोग दिल्ली जैसी शानदार शिक्षा देंगे।  

इससे पहले मंगलवार को फरीदकोट में चरणजीत चन्नी ने आम आदमी पार्टी पर तीखे हमले किए थे। चन्नी ने कहा था कि आम आदमी पार्टी सिर्फ ड्रामेबाज पार्टी है और झूठे वादे करके लोगों को गुमराह कर रही है। दिल्ली में लोगों को कोई फायदा नहीं दे पाए तो पंजाब में कैसे देंगे।

नया विवाद जिस विधायक जलालपुर से जुड़ा है, उन्होंने ही पटियाला में कैप्टन के खिलाफ बगावत का झंडा सबसे पहले बुलंद किया था। इसी के चलते नवजोत सिंह सिद्धू के वह काफी करीबी माने जाते रहे हैं। सिद्धू भी पंजाब कांग्रेस प्रधान बनने के बाद खास तौर से जलालपुर के घर पहुंचे थे। 
... और पढ़ें

HSSC Constable Result 2021: हरियाणा पुलिस कमांडो रिजल्ट 2021 घोषित, शॉर्टलिस्ट उम्मीदवारों को नौ दिसंबर करना होगा यह जरूरी काम

फिरोजपुर: बस न रोकने पर हुआ विवाद, बीच रास्ते में पंजाब रोडवेज के चालक को पीटा

AAP Tiranga Yatra: अरविंद केजरीवाल ने दी पांचवीं गारंटी, कहा-शहीद जवानों के परिवारों को देंगे एक करोड़ रुपये

बुधवार को पठानकोट में निकाली गई तिरंगा यात्रा में पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने पंजाब के लोगों को दो और गारंटी दी। यात्रा में अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और पंजाब प्रधान भगवंत मान ने पंजाब सरकार पर जुबानी वार किया। केजरीवाल ने कहा कि अब वह शहीदों की धरती पठानकोट को नई गारंटी देंगे।

पहली यह है कि पंजाब में दिल्ली की तर्ज पर बढ़िया स्कूल बनाए जाएंगे, पुराने स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों की तरह अपग्रेड किया जाएगा। इसके अलावा, पंजाब पुलिस या सेना का जो भी जवान शहीद होगा, उसके परिवार को एक करोड़ रुपये सम्मान राशि दी जाएगी।  

इस दौरान शिक्षा, बेरोजगारी समेत अन्य मुद्दों पर पंजाब सरकार को घेरा और दावा किया कि पंजाब में इस बार आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी। तिरंगा यात्रा में पंजाब भर के हलका इंचार्ज, वालंटियर और विधायक पहुंचे। केजरीवाल निर्धारित समय से चार घंटे देरी से पहुंचे। पठानकोट पहुंचे केजरीवाल ने सबसे पहले गुरदासपुर रोड पर शहीद लेफ्टिनेंट त्रिवेणी सिंह की तस्वीर पर पुष्पाजंलि अर्पित की। 

इतने तिरंगे देखकर दिल में कुछ-कुछ होता है: केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि लंबे अरसे के बाद इतने तिरंगे एक साथ देखे हैं। इतने तिरंगे देखकर दिल में कुछ-कुछ हो रहा है। इससे पहले इतने तिरंगे अन्ना आंदोलन के दौरान दिल्ली के रामलीला मैदान में देखे थे। उन्होंने कहा कि कुंवर विजय प्रताप ने बताया था कि फौज में सबसे ज्यादा भर्ती पठानकोट और गुरदासपुर जिले से होती हैं। सबसे ज्यादा शहीद भी पठानकोट और गुरदासपुर के हैं। उन्होंने कहा कि वह शहीदों की इस धरती को नमन करने यहां आए हैं।
... और पढ़ें
आप तिरंगा यात्रा: पठानकोट पहुंचे अरविंद केजरीवाल। आप तिरंगा यात्रा: पठानकोट पहुंचे अरविंद केजरीवाल।

लुधियाना: विधायक बैंस के खिलाफ दूसरी बार गिरफ्तारी वारंट जारी, 10 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

लोक इंसाफ पार्टी प्रमुख व विधायक सिमरजीत सिंह बैंस की मुश्किल बढ़ती जा रही है। ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट हरसिमरनजीत कौर की अदालत ने दूसरी बार विधायक बैंस व अन्य आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी वांरट जारी किया। इस बार वारंट को पुलिस कमिश्नर के माध्यम से किसी गजटेड अफसर को तामील करवाने का आदेश भी दिया। 

बताते चलें कि पहले 18 नवंबर को अदालत ने विधायक सहित अन्य आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था लेकिन पुलिस ने किसी आरोपी को गिरफ्तार कर अदालत के समक्ष पेश नहीं किया। इस बार अदालत ने 10 दिसंबर तक का समय पुलिस को दिया है।

पीड़िता के वकील हरीश राय ढांडा ने बताया कि बुधवार को पुलिस ने अदालत को बताया कि वह आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कोशिश कर रही है लेकिन कोई घर पर नहीं मिल रहा है। उन्होंने अदालत को बताया कि किस तरह वह अपनी राजनीतिक रैलियां कर रहे हैं। 

पुलिस इस मामले में आरोपियों को संरक्षण दे रही है। इसलिए अदालत ने बुधवार को जारी गिरफ्तारी वारंट को पुलिस कमिश्नर को भेज किसी गजटेड अफसर को तामील करवाने के लिए कहा है। दुष्कर्म जैसे मामले में सुप्रीम कोर्ट का साफ आदेश है कि ऐसे मामलों को तेजी से निपटाया जाए। ढांडा के अनुसार अगर 10 दिसंबर तक आरोपी अदालत में पेश नहीं होते हैं, इसके बाद उन्हें पीओ करार देने की कार्रवाई शुरू हो सकती है।
 
पीड़िता ने पहले अपनी शिकायत पुलिस के पास दी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होने पर अदालत की शरण ली थी। अदालत के आदेश पर थाना डिवीजन नंबर छह पुलिस ने विधायक बैंस और कमलजीत सिंह, बलजिंदर कौर, जसबीर कौर उर्फ भाभी, सुखचैन सिंह, परमजीत सिंह उर्फ पम्मा और गोगी शर्मा के खिलाफ केस दर्ज किया था।
... और पढ़ें

चंडीगढ़: अब लिखित परीक्षा पास करने के बाद ही मिलेगा जब्त लाइसेंस, ट्रैफिक पुलिस लगाएगी पाठशाला 

चंडीगढ़ में यातायात नियमों का उल्लंघन करने पर जब्त हो चुका लाइसेंस अब ट्रैफिक पुलिस की पाठशाला लगाकर लिखित परीक्षा पास करने के बाद ही मिलेगा। टेस्ट में 30 सवालों (एमसीक्यू) के जवाब देने होंगे। इनमें से 25 सवाल ठीक करने पर ही आपको पास कर सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इस सर्टिफिकेट से ही संबंधित अथॉरिटी से लाइसेंस मिलेगा। 

2700 वाहन चालकों को पढ़ाया जा चुका है नियमों का पाठ

ट्रैफिक पुलिस ने 19 नवंबर 2020 से 30 नवंबर 2021 तक 2700 वाहन चालकों को पाठशाला में ट्रैफिक नियमों का पाठ पढ़ाया। यह पाठशाला सेक्टर- 23 के चिल्ड्रन पार्क में लगाई जाती है। इस पाठशाला में उन्हें बुलाया जाता है, जिनके लाइसेंस खतरनाक ड्राइविंग के कारण जब्त हुए हैं। इनमें से 2579 चालकों ने टेस्ट पास किया और 121 चालक फेल हो गए। हालांकि टेस्ट में फेल हो चुके चालक फिर से पाठशाला लगाकर टेस्ट दे सकते हैं। इन 2700 चालकों में से ओवर स्पीड के 789, बिना हेलमेट के 1516, मोबाइल का इस्तेमाल करने पर 217, ट्रिपल राइडिंग के 87, रेड लाइट जंप के 85, प्रेशर हॉर्न बजाने और साइलेंस की तेज आवाज के 36 व अन्य तरह के चालान कर लाइसेंस जब्त किए गए। ट्रैफिक पुलिस की ओर से रोजाना 20 से 25 वाहन चालकों को पाठशाला के लिए बुलाया जाता है। पाठशाला में हेलमेट और सीट बेल्ट न लगाने के नुकसानों के बारे में बताया जाता है। पाठशाला में डीएसपी जसविंदर सिंह ने चालकों को स्क्रीन पर एक वीडियो दिखाकर बताया कि किस तरह पटियाला में हुए सड़क हादसे में बाइक सवार के सिर से ट्रक का टायर निकल गया था, लेकिन उसे कोई जानी नुकसान नहीं हुआ।

नकल न कर सकें, अलग-अलग दिए जाते हैं प्रश्नपत्र 

एक दिन की पाठशाला पूरी होने के बाद एक टेस्ट (ड्राइवर रेफ्रेशर ट्रेनिंग कोर्स) होगा। 30 सवालों (एमसीक्यू) के जवाब देने होंगे। इनमें से 25 सवालों के जवाब ठीक होने पर क्वालीफाई किया जाएगा। कोई चालक नकल न कर सके, इसलिए चार अलग-अलग प्रश्न पत्र दिए जाते हैं। हरेक सवाल के चार विकल्प दिए जाते हैं, जिनमें से सही जवाब पर टिक लगाना होता है। इस टेस्ट में रोड साइन के बारे में पूछा जाता है। ट्रैफिक नियम को तोड़ने पर कितना जुर्माना लगता है, इस तरह के सवाल होते हैं। बाइक पर सवार बच्चे को किस उम्र से हेलमेट पहनना है। इसी तरह 30 सवालों के जवाब देने होते हैं। 

पिछले साल की तुलना से चार गुना बढ़े बिना हेलमेट के चालान

पिछले साल की तुलना में इस साल बिना हेलमेट के वाहन चलाने पर चार गुना चालान बढ़ गए हैं। पिछले वर्ष बिना हेलमेट के 1178 वाहन चालकों के लाइसेंस जब्त हुए। इस साल 4633 चालकों के लाइसेंस जब्त किए गए। डीएसपी ट्रैफिक जसविंदर सिंह पाठशाला लगाने आए चालकों को खासतौर पर हेलमेट न पहनने को लेकर नुकसान के बारे में बता रहे हैं। उन्होंने चालकों को कहा कि 99 प्रतिशत लोग हेलमेट सही तरीके से नहीं पहनते हैं। 

इस साल 8388 वाहन चालकों के लाइसेंस हुए सस्पेंड 

ट्रैफिक पुलिस ने वर्ष 2021 में 8388 वाहन चालकों के चालान कर लाइसेंस सस्पेंड किए। इनमें बिना हेलमेट 4633, ट्रिपल राइडिंग 18, प्रेशर हॉर्न बजाने और साइलेंसर की तेज आवाज के 318, लाल बत्ती जंप के 206, मोबाइल का इस्तेमाल करने के 914, तय सीमा से तेज वाहन चलाने पर 2280 और अन्य नियम नियम तोड़ने पर चालकों के लाइसेंस जब्त किए गए। 

2020 में 11,686 वाहन चालकों के लाइसेंस हुए थे सस्पेंड  

ट्रैफिक पुलिस ने वर्ष 2020 में 11,686 वाहन चालकों के लाइसेंस सस्पेंड किए। इनमें डेंजर ड्राइविंग के चालानों में बिना हेलमेट के 1178, ट्रिपल राइडिंग 142, प्रेशर होर्न बजाने और साइलेंसर की तेज आवाज के 83, रेड लाइट जंप के 350, ऑवर स्पीड के 6510, वाहन चलाते समय मोबाइल का इस्तेमाल करने पर 406 व अन्य नियम तोड़ने पर लाइसेंस जब्त हुए। 

 
... और पढ़ें

अवैध हिरासत मामला: हाईकोर्ट की सख्ती के बाद आखिरकार नितिन को किया गया पेश

24 वर्षिय नितिन को चंडीगढ़ पुलिस द्वारा अवैध हिरासत में रखने का आरोप लगाते हुए उसकी मां सुनीता रानी द्वारा दाखिल याचिका पर सुनवाई के दौरान पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट की सख्ती के चलते आखिरकार नितिन पेश हो गया।नितिन के पेश होने पर हाईकोर्ट ने कहा कि याची मां ने याचिका में जो मांग की थी वह पूरी हो चुकी है ऐसे में याचिका पर आगे सुनवाई आवश्यक नहीं है।

यह भी पढ़ें : 
आईजी भारती अरोड़ा हुई सेवानिवृत्त: कहा-घर में अशुद्ध धन न ले जाएं, इससे तकलीफें भी आएंगी

इसके साथ ही हाईकोर्ट ने नितिन को छूट दी कि यदि वह चाहे तो अवैध हिरासत को लेकर चंडीगढ़ के डीजीपी को शिकायत दे सकता है। डीजीपी को हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि यदि ऐसी कोई शिकायत मिलती है तो उस शिकायत की जांच चार सप्ताह में पूरी कर उचित आदेश जारी किए जाएं। साथ ही हाईकोर्ट ने स्पष्ट किया कि यदि नितिन को किसी गैर जमानती धारा में गिरफ्तार करना हो तो इससे पहले पुलिस को उसे 7 दिन का नोटिस देना होगा। 

यह था मामला

चंडीगढ़ सेक्टर 29 निवासी नितिन की मां सुनीता रानी ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करते हुए आरोप लगाया था कि पुलिस ने उसके बेटे को अवैध हिरासत में रखा है। याचिका पर चंडीगढ़ पुलिस ने कहा था कि शहर के किसी भी थाने या चौकी में नितिन नहीं है। हाईकोर्ट ने याचिका पर यूटी प्रशासन को नोटिस जारी करते हुए जवाब दाखिल करने का आदेश दिया था। साथ ही पुलिस को आदेश दिया था कि अगली सुनवाई पर नितिन को कोर्ट में पेश किया जाए।

... और पढ़ें

सिद्धू के मॉडल पर आपत्ति: दिल्ली में चन्नी और नवजोत से मिले राहुल, सिद्धू को सीख-सभी से बातचीत कर लें कोई फैसला

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट
कांग्रेस के मजबूत चुनावी राज्य पंजाब में चल रही खींचतान को लेकर नेतृत्व की चिंता बढ़ गई है। पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू के पंजाब मॉडल पर उठे घमासान के बीच बुधवार रात राहुल गांधी ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और सिद्धू से मुलाकात की। संगठन के ढांचे को लेकर उठ रहे सवालों पर राहुल ने सिद्धू से बात की है और सभी नेताओं के साथ बातचीत कर ही कोई फैसला लेने को कहा है। पंजाब के जिला अध्यक्षों को लेकर भी सर्वसम्मति बनाने को कहा गया है। बताते हैं कि जाखड़ इसी को लेकर नाराज हैं और इसी संबंध में उन्होंने राहुल से मुलाकात कर अपनी आपत्ति बता दी है। 

सिद्धू ने भी रखी अपनी बात

बैठक में सिद्धू ने भी अपना पक्ष रखा है। सिद्धू ने भी उन मुद्दों को उठाया, जिन्हें लेकर आलाकमान के साथ सहमति बनी थी, लेकिन अभी तक फैसला नहीं हुआ है। राहुल ने मुख्यमंत्री चन्नी से पार्टी के घोषणापत्र में कही शेष बातों को भी जल्द पूरा करने को कहा है। चन्नी ने भी आ रही दिक्कतों की जानकारी राहुल के सामने रखी हैं।
  
दरअसल सिद्धू अपने करीबियों को महत्व देने के लिए संगठन में बदलाव लाना चाह रहे हैं और इसकी शिकायत भी नेतृत्व को लगातार मिल रही है। सिद्धू ने 14 दिन पहले हाईकमान को 29 जिला समितियों के लिए एक-एक प्रधान और दो-दो कार्यकारी प्रधानों की सूची भेजते हुए इसे पंजाब में पार्टी का मॉडल करार दिया था। लेकिन हाईकमान ने अब तक इस सूची पर कोई फैसला नहीं लिया है।  

सिद्धू के पार्टी मॉडल पर आपत्ति

पता चला है कि सिद्धू की ओर से बनाए गए मॉडल पर दो एतराज सामने आए हैं। पहला, सिद्धू ने जिला प्रधानों के नाम तय करते समय राज्य के किसी भी सीनियर कांग्रेसी नेता से विचार-विमर्श नहीं किया। दूसरा, दो-दो कार्यकारी अध्यक्ष की नियुक्ति भी हाईकमान को नागवार गुजर रही है। इस पूरे मामले में हाईकमान की तरफ से कोई सीधी प्रतिक्रिया नहीं आई, लेकिन मंगलवार को सिद्धू ने लुधियाना में एक जनसभा के दौरान साफ कर दिया कि अगर हाईकमान ने उनके द्वारा भेजे मॉडल को मंजूरी नहीं दी तो वह आगामी विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। सिद्धू के इस रुख के बाद हाईकमान ने बुधवार को न सिर्फ सिद्धू बल्कि मुख्यमंत्री चन्नी को भी बुला लिया है। बताया जा रहा है कि सिद्धू हाईकमान के इस रवैये से नाराज हैं, वहीं राज्य में जिला व ब्लाक स्तर के कार्यकर्ताओं के लिए अब तक स्थिति साफ नहीं हो रही कि वह चुनाव के लिए किस तरह पार्टी की जिम्मेदारी संभालें।

जाखड़ को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी

बुधवार को ही पंजाब के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ भी दिल्ली पहुंचे और उन्होंने राहुल गांधी से मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार, बैठक के दौरान जाखड़ ने भी 2022 के विधानसभा चुनाव को लेकर पंजाब में कांग्रेस के संगठनात्मक ढांचे के बारे में राहुल गांधी को कुछ सुझाव दिए हैं। इसके अलावा उन्होंने सिद्धू और चन्नी के बीच चल रही सार्वजनिक बयानबाजी और सिद्धू का अपनी ही सरकार के खिलाफ किसी न किसी मुद्दे को हवा देते रहने के बारे में भी राहुल गांधी को जानकारी दी है। इस बीच यह भी चर्चा है कि कांग्रेस हाईकमान जल्द ही सुनील जाखड़ को कोई बड़ी जिम्मेदारी सौंपने जा रहा है। जाखड़ ने भी कहा है कि वह हमेशा कांग्रेस के बेहतर भविष्य को ध्यान में रखकर कार्य करते रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ निगम चुनाव: भाजपा ने घोषित किए 23 उम्मीदवार, इस्तीफों की झड़ी के साथ बुलंद हुई बगावत

भाजपा ने बुधवार रात चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव के लिए 23 उम्मीदवारों की घोषणा कर दी। इनमें से 17 उम्मीदवार ऐसे हैं, जो पहली बार चुनाव लड़ेंगे। इनमें से अधिकतर वर्तमान पार्षदों की पत्नियां या फिर रिश्तेदार हैं। टिकटों की घोषणा के साथ ही पार्टी में बगावत भी शुरू हो गई है। भाजपा नेता व किसान मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य गुरप्रीत हैप्पी समेत कई नेताओं ने इस्तीफा दे दिया है।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद ने कहा कि 23 वार्डों में उम्मीदवारों की घोषणा की गई है। 12 वार्ड के लिए शुक्रवार तक उम्मीदवार घोषित कर दिए जाएंगे। बताया कि प्रत्येक वार्ड से मंडल के पदाधिकारियों ने उम्मीदवारों को शॉर्ट लिस्ट किया, जिसके बाद, जिलाध्यक्षों, महामंत्रियों, पूर्व जिलाध्यक्षों, प्रदेश के पदाधिकारियों ने उम्मीदवारों की स्क्रूटनी की। पार्टी ने कई दौर के उम्मीदवारों के सर्वे किए, जिसमें स्थानीय और राष्ट्रीय नेतृत्व शामिल थे। सभी सिफारिशों के बाद हाईकमान की स्वीकृति के बाद उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की गई है।

सूद ने बताया कि उम्मीदवारों में कई नए लोगों को मौका दिया गया है। पढ़े लिखे लोगों को टिकट मिला है। कहा कि पार्टी ने आया राम गया राम वालों को टिकट नहीं दिया है। वहीं, टिकटों की घोषणा के बाद फैले असंतोष के सवाल पर उन्होंने कहा कि सभी की सहमति से टिकटों की घोषणा की गई है।

लगी इस्तीफों की झड़ी

भाजपा के किसान मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य गुरप्रीत हैप्पी वार्ड नंबर-9 से अपनी पत्नी के लिए टिकट मांग रहे थे, लेकिन पार्टी ने उनकी मांग को दरकिनार कर पार्षद अनिल दुबे की पत्नी विमला दुबे को टिकट दे दिया। इससे नाराज होकर उम्मीदवारों के एलान के पांच मिनट बाद ही हैप्पी ने इस्तीफे की घोषणा कर दी। उन्होंने एलान कर दिया कि वह गुरुवार को वार्ड नंबर 9 से आजाद उम्मीदवार के रूप में नामांकनपत्र भरेंगे। हैप्पी ने कहा कि भाजपा ने 22 गांवों की अनदेखी की है, पार्टी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। इसके साथ ही इस्तीफों की झड़ी लग गई। मंडल अध्यक्ष चमन लाल, महामंत्री श्याम लाल जैन, पूर्व मंडल अध्यक्ष तिलक राज, बलवीर सिंह, प्रदेश किसान मोर्चा के मंडल अध्यक्ष जगमोहन सिंह, हिमाचल प्रकोष्ठ के वार्ड नंबर नौ के अध्यक्ष सीताराम व अन्य कार्यकर्ताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। वहीं, भाजपा किसान मोर्चा के महासचिव धर्मेंद्र सिंह सैनी ने भी इस्तीफा दे दिया। वह अपनी पत्नी कमलजीत कौर के लिए टिकट मांग रहे थे।

भाजपा में परिवारवाद हावी

भाजपा ने जो सूची जारी की है, उसमें से 17 उम्मीदवार पहली बार नगर निगम चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएंगे। भाजपा ने जिन नए चेहरों को मौका देने की बात कह रही है, उनमें लगभग सभी पार्टी के ही किसी पद पर काबिज नेता की पत्नी या रिश्तेदार हैं। इसकी वजह से भाजपा पर परिवारवाद का आरोप लग रहा है। 23 नामों की सूची में सिर्फ चार वर्तमान पार्षदों और एक मनोनीत पार्षद को टिकट मिला है। इनमें भरत, कंवरजीत राणा, रविकांत शर्मा और दिलीप शर्मा शामिल हैं। मनोनीत पार्षद सचिन लौहटिया हैं।

वार्ड नंबर और उम्मीदवार

वार्ड-1 मनजीत कौर (भाजपा प्रदेश सचिव हुकम चंद की पत्नी)
वार्ड-3 दलीप शर्मा (वर्तमान पार्षद)
वार्ड-4 सविता गुप्ता (पूर्व डिप्टी मेयर विनोद अग्रवाल की पत्नी)
वार्ड-5 निकिता गुप्ता (महिला मोर्चा की पूर्व सचिव एवं भाजपा नेता देशराज की बहू)
वार्ड-6 सर्वजीत कौर ढिल्लों (वर्तमान पार्षद जगतार सिंह ढिल्लों की पत्नी)
वार्ड-7 मनोज सोनकर (व्यापारी एवं एससी मोर्चा के उपाध्यक्ष)
वार्ड-9 विमला दूबे (वर्तमान पार्षद अनिल दूबे की पत्नी)
वार्ड-10 राशि भसीन (जिला अध्यक्ष मनु भसीन की पत्नी)
वार्ड-11 अनूप गुप्ता (भाजपा नेता स्व. राजेश गुप्ता के बेटे)
वार्ड-13 प्रिंस भंडूला (मेडिकल एवं फार्मा सेल के संयोजक)
वार्ड-15 गोपाल शुक्ला (वर्तमान पार्षद चंद्रवाती शुक्ला के पति)
वार्ड-17 रविकांत शर्मा (वर्तमान मेयर)
वार्ड-20 देबी सिंह (प्रदेश कार्यालय सचिव)
वार्ड-23 नेहा अरोड़ा (महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष)
वार्ड-24 सचिन लौहटिया (मनोनीत पार्षद)
वार्ड-27 रविंद्र रावत (व्यापारी)
वार्ड-28 जसविंदर कौर (महिला मोर्चा की प्रदेश महासचिव)
वार्ड-29 रविंद्र पठानिया (जिला अध्यक्ष)
वार्ड-30 संजीव ग्रोवर (ट्रेडर सेल के सह संयोजक)
वार्ड-31 भरत कुमार (वर्तमान पार्षद)
वार्ड-33 कंवरजीत सिंह राणा (वर्तमान पार्षद)
वार्ड-34 भूपिंद्र शर्मा (उत्तराखंड सेल के संयोजक)
वार्ड-35 राजिंद्र कुमार शर्मा (जिला अध्यक्ष)
... और पढ़ें

चंडीगढ़ में बदला मौसम: बर्फीली हवाओं से कांपे लोग, 2011 के बाद एक दिसंबर का दिन रहा सबसे ठंडा 

पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी के चलते चंडीगढ़ में भी मौसम का मिजाज बदल गया। शहर में बुधवार को दिनभर बादल छाए रहे। साथ ही ठंडी हवाएं चलीं। मौसम विभाग के अनुसार, एक दिसंबर का दिन चंडीगढ़ में बीते 10 वर्षों में सबसे ठंडा दिन रहा। ऐसी ठंड एक दिसंबर को इससे पहले वर्ष 2011 में पड़ी थी। 

अधिकतम पारा सामान्य से पांच डिग्री तक गिर गया, जिससे लोगों को कड़ाके की ठंड का एहसास हुआ। अधिकतम तापमान 19.8 डिग्री और न्यूनतम तापमान 11.3 डिग्री दर्ज किया गया। ये सामान्य से पांच डिग्री कम रहा। बुधवार को दिनभर सूरज नहीं निकला। वहीं, शाम होने के साथ ठंड भी बढ़ती गई। ठिठुरन के बढ़ने से लोग भी घरों में जल्दी दुबक गए। दिसंबर माह के पहले हफ्ते में औसतन तापमान 24 डिग्री से 27 डिग्री सेल्सियस के बीच रहती है, लेकिन बुधवार को 10 साल में पहली बार पारा 20 डिग्री से भी कम आ गया। 

छाए रहेंगे बादल, रविवार को बारिश के आसार

मौसम विभाग के अनुसार, गुरुवार को शहर में हल्के बादल छाए रहेंगे और तापमान में गिरावट देखने को मिलेगी। गुरुवार को अधिकतम तापमान 23 डिग्री और न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया जा सकता है। विभाग ने आशंका जताई है कि रविवार के दिन मौसम खराब हो सकता है और बारिश भी हो सकती है। इससे तापमान में और गिरावट देखने को मिल सकती है।

एक दिसंबर के दिन किस वर्ष कितना रहा तापमान

वर्ष           अधिकतम                 न्यूनतम
2021         19.8                       11.3
2020         24.3                        9.0
2019         24.0                        9.9  
2018         25.5                        8.6
2017         24.5                        7.5  
2016         27.0                        13.0

पंजाब में छह को बारिश के आसार 

पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता से उत्तरी हिमालय क्षेत्र में हल्की बारिश के साथ बर्फबारी का दौर शुरू हो रहा है। इसका असर पूरे उत्तर भारत में देखने को मिला। बुधवार को दिन भर बादल छाए रहे। इससे लोगों को ठंड का अहसास हुआ। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अब धीरे-धीरे तापमान गिरेगा। दो व तीन दिसंबर को कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है। छह दिसंबर को मौसम में भारी बदलाव आएगा। इस दिन पूरे पंजाब में अच्छी बारिश के आसार हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, बुधवार को चंडीगढ़ का अधिकतम तापमान 19.8 डिग्री सेल्सियस, अमृतसर में 23.2 डिग्री, लुधियाना में 20.2 डिग्री, पटियाला में 20.5 डिग्री और अमृतसर में 24.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बारिश के बाद तेजी से तापमान लुढ़कना शुरू होगा और उत्तरी हिमालय से आने वाली शीत हवाएं पूरे उत्तर भारत में ठंड बढ़ाएंगी।  
... और पढ़ें

बिगड़े बोल: मोगा में सीएम चन्नी ने केजरीवाल को कहा काला अंग्रेज, दिल्ली के सीएम ने दिया करारा जवाब

आमतौर पर नरम तरीके से बात रखने वाले पंजाब के सीएम चरणजीत चन्नी के बोल बिगड़ गए। पंजाब विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच बयानबाजियों का दौर तेज होने लगा है। मनीष सिसोदिया और परगट सिंह के बीच शिक्षा ढांचे पर विवाद के बाद अब सीएम चन्नी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल आमने-सामने हैं।

मोगा के कस्बा बधनी कलां में बुधवार को पंजाब निर्माण रैली के दौरान मुख्यमंत्री चन्नी ने अपनी सरकार की प्राप्तियां गिनवाते हुए अकाली दल और आम आदमी पार्टी के नेताओं पर तीखे हमले किए। वहीं पत्रकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को काला अंग्रेज कह दिया। 

वहीं केजरीवाल ने चन्नी की टिप्पणी का कड़ा जवाब देते हुए कहा कि जबसे मैंने कहा कि पंजाब की हर महिला को 1000 रुपये महीना देंगे, चन्नी साहिब मुझे गालियां दे रहे हैं। बोले कि केजरीवाल के कपड़े खराब हैं, आज बोले केजरीवाल काला है। चन्नी साहिब, मेरा रंग काला है। पर पंजाब की मेरी मां-बहनों को ये काला बेटा/भाई पसंद है। उनको पता है कि मेरी नीयत साफ है।
... और पढ़ें

आदेश: पंजाब में तीन आईपीएस अधिकारियों समेत 35 पुलिस अफसरों का तबादला

पंजाब सरकार ने बुधवार को तत्काल प्रभाव से तीन आईपीएस अधिकारियों समेत 35 पुलिस अफसरों के तबादला और नियुक्ति आदेश जारी किए हैं। इस आदेश के तहत, तीन आईपीएस अधिकारियों में, मोहनीश चावला को आईजी बॉर्डर रेंज अमृतसर के पद पर बनाए रखते हुए आईजी स्पेशल टास्क फोर्स का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है जबकि डीआईजी (ट्रेनिंग) पीएपी जालंधर तैनात एसके रामपाल को डीआईजी (प्रशासन) स्पेशल टास्क फोर्स पंजाब चंडीगढ़ लगाया गया है। एडीसीपी (मुख्यालय) लुधियाना अश्विनी गोटयाल को असिस्टेंट कमांडेंट 13वीं बटालियन पीएपी चंडीगढ़ लगाते हुए एडीसीपी (मुख्यालय) लुधियाना का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है।

बदले गए पीपीएस अधिकारियों में, रछपाल सिंह को डीसीपी इनवेस्टिगेशन अमृतसर के पद पर बनाए रखते हुए एआईजी स्पेशल टास्क फोर्स अमृतसर रेंज का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है। वरिंदर सिंह बराड़, जो विजिलेंस ब्यूरो पंजाब से ट्रांसफर हुए हैं और पोस्टिंग का इंतजार कर रहे थे, को डीसीपी इनवेस्टीगेशन लुधियाना लगाया गया है। इसी तरह अमरजीत सिंह बाजवा को भी विजिलेंस ब्यूरो पंजाब से ट्रांसफर के बाद अब एआईजी ट्रांसपोर्ट एंड पब्लिक ग्रीवांसेस पंजाब की जिम्मेदारी सौंपी गई है। 

एसपी सिक्योरिटी एंड आपरेशन तरनतारन बलजीत सिंह ढिल्लों को बदलकर कमांडेंट नौवीं बटालियन पीएपी अमृतसर, एसपी इनवेस्टीगेशन गुरदासपुर मुकेश कुमार को बदलकर एसपी मुख्यालय अमृतसर ग्रामीण, एसपी पीबीआई अमृतसर ग्रामीण अमनदीप कौर को बदलकर एसपी स्पेशल ब्रांच अमृतसर ग्रामीण, असिस्टेंट कमांडेंट नौवीं बटालियन पीएपी अमृतसर जगजीत सिंह वालिया को बदलकर एसपी पीबीआई अमृतसर ग्रामीण, एसपी इनवेस्टीगेशन लुधियाना ग्रामीण बलविंदर सिंह को बदलकर एसपी पीबीआई लुधियाना ग्रामीण, एसपी मुख्यालय मोगा गुरदीप सिंह को बदलकर एसपी इनवेस्टीगेशन लुधियाना ग्रामीण, कमांडेंट पीआरटीसी जहांखेलां हरप्रीत सिंह को उनके मौजूदा कार्यभार के साथ एआईजी एनआरआई जालंधर का अतिरिक्त चार्ज, एआईजी एनआरआई जालंधर मनदीप सिंह को बदलकर एसपी इनवेस्टीगेशन होशियारपुर, एसपी इनवेस्टीगेशन होशियारपुर तेजबीर सिंह को बदलकर एसपी इनवेस्टीगेशन बटाला लगाया गया है। 

एडीसीपी-3 अमृतसर हरपाल सिंह को बदलकर एडीसीपी-2 जालंधर, एडीसीपी इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी जालंधर गगनेश कुमार को बदलकर एडीसीपी ट्रैफिक जालंधर, एडीसीपी ट्रेफिक जालंधर मनजीत कौर को बदलकर एडीसीपी इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी जालंधर, जोनल एसपी सीआईडी बठिंडा जसबीर सिंह को बदलकर एसपी मुख्यालय मोगा, एसपी मुख्यालय बरनाला केसर सिंह को एसपी पीबीआई पटियाला, एसपी पीबीआई पटियाला गुरमीत सिंह को बदलकर एसपी मुख्यालय गुरदासपुर, एसपी पीबीआई बरनाला गुरबाज सिंह को बदलकर एडीसीपी इनवेस्टीगेशन जालंधर, एडीसीपी इनवेस्टीगेशन जालंधर हरप्रीत सिंह बेनिपाल को बदलकर एडीसीपी मुख्यालय अमृतसर, एसपी आपरेशन बठिंडा अनिल कुमार को बदलकर एसपी इनवेस्टीगेशन बरनाला लगाया गया है।

एसपी इनवेस्टीगेशन बरनाला जगजीत सिंह सरोया को एसपी इनवेस्टीगेशन कपूरथला, एडीसीपी पीबीआई अमृतसर नवजोत सिंह को एडीसीपी-1 अमृतसर, एसपी इनवेस्टीगेशन मानसा सुरिंदर पाल सिंह को जोनल एसपी सीआईडी बठिंडा, एसी पहली आईआरबी पटियाला से एसपी पीबीआई लुधियाना ग्रामीण ट्रांसफर हुए हरवीन सराओ को असिस्टेंट कमांडेंट 7वीं बटालियन पीएपी जालंधर, एसपी मुख्यालय मालेरकोटला हरवंत कौर को एसपी पीबीआई बरनाला लगाया गया है। 

असिस्टेंट कमांडेंट पहली आईआरबी पटियाला अमनदीप सिंह बराड़ को एसपी इनवेस्टीगेशन खन्ना, असिस्टेंट कमांडेंट सातवीं बटालियन पीएपी जालंधर दिलबाग सिंह को असिस्टेंट कमांडेंट नौवीं बटालियन पीएपी अमृतसर, एसपी आपरेशन फरीदकोट कुलदीप सिंह को एसपी मुख्यालय बरनाला, एसपी इनवेस्टीगेशन मालेरकोटला रमनीश कुमार को उनके मौजूदा कार्यभार के साथ एसपी मुख्यालय मालेरकोटला का अतिरिक्त चार्ज, एसपी सिक्योरिटी एंड आपरेशन फिरोजपुर गुरमीत सिंह को एसपी पीबीआई पठानकोट और एसपी पीबीआई पठानकोट गुरबिंदर सिंह को एसपी सिक्योरिटी एंड आपरेशन फिरोजपुर लगाया गया है।
... और पढ़ें

साजिश : भारत में फिर आंतकी घुसपैठ की फिराक में पाकिस्तान, अब लश्कर को सौंपी जिम्मेदारी 

पाकिस्तान इस बार फिर बड़ी साजिश रचते हुए भारत में पंजाब के जरिए आंतकी घुसपैठ की फिराक में है। इस संबंध में पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई ने आंतकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा को घुसपैठ करने का जिम्मा सौंपा है। खुफिया सूत्रों की मानें तो करतारपुर कॉरिडोर के आसपास के इलाकों के जरिए इस घुसपैठ को अंजाम दिया जा सकता है। जिसके बाद आंतकी गुरदासपुर एवं पठानकोट में कोई बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते है। 

सूत्रों के अनुसार केंद्रीय खुफिया टीम की ओर से इस संबंध में अलर्ट जारी कर दिया है। इस संबंध में पंजाब पुलिस और सीमा सुरक्षा बल पूरी तरह अलर्ट पर हैं। बीएसएफ के जवान सरहद पर बाज सी निगाहें गाढ़े सीमा पर पैनी निगाहें रख रहे हैं। पंजाब पुलिस की ओर से भी रात की गश्त व नाकों में बढ़ोतरी की गई है और चप्पे चप्पे पर निगाह रखी जा रही है। गुरदासपुर पुलिस के हाथ सफलता भी लगी।   

खुफिया सूत्रों के अनुसार लश्कर- ए- तैयबा ने करीब 4 से 5 आंतकवादियों को घुसपैठ करवाने की साजिश रची है। वह गुरदासपुर एरिया में पड़ते इलाके से भारत में प्रवेश कर सकते है। इस बार उनका रास्ता करतारपुर कारिडोर के समीप वाला इलाका हो सकता है। सूत्रों के अनुसार पुलिस के बड़े अधिकारियों ने एसएसपी बटाला को जानकारी विकसित करने के लिए तथा केंद्रीय एजेंसियों के साथ सहयोग करने संबंधी कहा है। 

इससे पहले 27 जुलाई 2015 को दीनानगर में आंतकवादी हमला और जनवरी 2016 में पठानकोट के एयर बेस पर आंतकियों ने नरोट जैमल सिंह एरिया के रास्ते से ही धुसपैठ कर आंतकी वारदात को अंजाम दिया गया था। हालाकि आंतकी किस रास्ते से कैसे घुसे यह अभी तक सवाल बना हुआ है। हाल ही में 22 नवंबर 2021 को पठानकोट में भारतीय सेना के त्रिवेणी द्वार पर ग्रनेड़ का फेंका जाना, गुरदासपुर के भैणी मिआँ खाँ इलाके से रिकवरी के दौरान ग्रेनेड मिलना तथा बुधवार को दीनानगर के दबुर्जी इलाके में 900 ग्राम आरडीएक्स तथा 3 डेटोनेटर का मिलना पाकिस्तानी तस्करों और अलगाववादियों की ओर से अपने स्लीपर सैल को एक्टीवेट करने संबंधी शक पैदा करता है। 

पुलिस अधिकारियों सहित उच्च अधिकारी अभी तक इस संबंधी चुप्पी धारण किए है तथा आधिकारिक तौर पर कुछ भी बताने से इंकार कर रहे है। परन्तु पुलिस की ओर से बरती जा रही सतर्कता में ओर अधिक इजाफा किया है। पुलिस की ओर से बढ़ाई गई चौकसी ने लोगों के कान खड़े कर दिए है। बीएसएफ के डीआईजी प्रभाकर जोशी ने बताया कि सीमा पर जवान पहले ही मुस्तैद रहते है तथा किसी भी प्रकार की घुसपैठ रोकने में पूरी तरह तैयार है। उनका कहना था कि जवानों की ओर से हर वक्त सरहद पर पैनी नजर रखी जाती है ओर रात के वक्त सरहद के समीप आने वाले किसी भी व्यक्ति को सीधा गोली मारने के निर्देश है।
... और पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00