बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें
Myjyotish

अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Himachal Flood: उफनते नाले को पार कर अस्पताल पहुंचाया घायल युवक, एक बाल-बाल बहने से बचा

हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति के तिंदी में कुठाड़ बस स्टेंड के समीप हुए सड़क हादसे में घायल युवक को उफनते जाहलमा नाले से रस्सी के सहारे निकाला गया। घायल युवक को उपचार के लिए कुल्लू अस्पताल रेफर किया गया है। 100 मीटर नीचे गिरी गाड़ी में 18 वर्षीय जतिन गंभीर रूप से घायल हुआ है। उदयपुर अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद उसे कुल्लू भेजा गया है। हालांकि नाले तक उन्हें गाड़ी में लाया गया, लेकिन उफनते जाहलमा नाले ने रास्ता रोक दिया। ऐसे में रस्सी के सहारे लोग नाले में उतरे और कड़ी मशक्कत के बाद घायल युवक को निकाला गया। इस दौरान एक व्यक्ति नाले में बहने से बाल-बाल बच गया जिसे अन्य लोगों ने बाजू से पकड़कर बहने से बचा लिया।
... और पढ़ें
लाहौल: घायल युवक को अस्पताल पहुंचाने के लिए उफनते जाहलमा नाले को रस्सी से पार करते लोग। लाहौल: घायल युवक को अस्पताल पहुंचाने के लिए उफनते जाहलमा नाले को रस्सी से पार करते लोग।

Kullu Flood: सैलाब में बही विनीता की तलाश में नदी किनारे दो दिन से भूखे प्यासे भटक रहे माता-पिता

हिमाचल प्रदेश: सिरमौर में भारी भूस्खलन, पलक झपकते ही पूरी सड़क गायब

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में भारी भूस्खलन हुआ है। पांवटा साहिब से रोहड़ू जाने वाला नेशनल हाईवे 707 बड़वास के पास लगभग 50 से 100 मीटर तक पूरी सड़क धंसने से बाधित हो गया है। पांवटा, सतोन से कमरऊ, कफोटा शिलाई की तरफ जाने के लिए वैकल्पिक मार्ग किलोड- खेरवा (उत्तराखण्ड) मशु-च्योग- जाखना होते हुए कफोटा पहुंच सकते हैं। प्रशासन का कहना है कि सड़क को बहाल करने में दो से तीन दिन का समय लग सकता है। 



पांच जिलों में आज बाढ़ की चेतावनी, दो अगस्त तक येलो अलर्ट
हिमाचल प्रदेश में दो अगस्त तक बारिश का येलो अलर्ट और चार अगस्त तक पूरे प्रदेश में मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान है। शुक्रवार को प्रदेश के पांच जिलों चंबा, मंडी, कुल्लू, शिमला और सोलन के कुछ क्षेत्रों में बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है।
... और पढ़ें

मौसम बना बाधा: सीएम जयराम का दौरा रद्द, लाहौल में फंसे 221 लोग, चंडीगढ़ से हेलीकॉप्टर नहीं भर पाया उड़ान

हिमाचल प्रदेश के लाहौल जिले में बाढ़ आने से फंसे 221 लोगों को रेस्क्यू करने में मौसम बाधा बना है। शुक्रवार सुबह खराब मौसम के कारण चंडीगढ़ से हेलीकॉप्टर लाहौल के लिए उड़ान नहीं भर सका है। सीएम जयराम ठाकुर ने मंडी के सुंदरनगर में आयोजित प्रेसवार्ता में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा की लाहौल में प्रभावित क्षेत्रों का दौरा खराब मौसम के चलते रद्द करना पड़ा है।

सीएम ने सुबह 8:00 बजे सुंदरनगर से लाहौल-स्पीति जाना था। मौसम साफ रहा तो वे शनिवार को धर्मशाला से लाहौल जाएंगे। उन्होंने कहा कि लाहौल में फंसे 221 लोगों को सुरक्षित निकालने के पूरे प्रयास हो रहे हैं। लगातार राहत कार्य की समीक्षा की जा रही है। फंसे लोगों को जल्द निकालने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है।

उन्होंने पर्यटकों से आह्वान किया कि भूस्खलन वाले क्षेत्रों में न जाएं। पूरे प्रदेश में प्रशासन को अलर्ट किया गया है। सीएम ने कहा कि पिछले सात दिनों में मंडी जिले में 880 करोड़ रुपये के उद्घाटन और शिलान्यास किए हैं। पर्यटकों को रेस्क्यू करने के लिए प्रदेश सरकार का नया हेलीकॉप्टर चंडीगढ़ में तैयार है। मौसम साफ होते ही हेलीकॉप्टर रवाना हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मंडी संसदीय और विधानसभा उपचुनावों की आचार संहिता अगस्त में दूसरे सप्ताह में लगेगी।
... और पढ़ें

हिमाचल प्रदेश: मंडी में पार्किंग की छत पर गिरा डंगा, सिरमौर में नेशनल हाईवे बंद

सुंदरनगर में प्रेसवार्ता करते सीएम जयराम ठाकुर।
हिमाचल प्रदेश में बारिश से भारी तबाही हुई है। जगह-जगह भूस्खलन हो रहा है। जिससे हाईवे बंद हैं। सिरमौर जिले में सड़क धंसने के कारण नेशनल हाईवे बंद हो गया है। वहीं, मंडी जिला में पार्किंग की छत पर डंगा गिर गया है। जिससे पार्किंग में खड़ी गाड़ियों को नुकसान पहुंचा है। 

जानकारी के अनुसार, सिरमौर जिले में 707 पावटा साहिब से रोहड़ू जाने वाला राष्ट्रीय उच्च मार्ग बड़वास के पास लगभग 50 से 100 मीटर सड़क धंसने से अवरुद्ध हो गया है। 

पावटा, सतोन से कमरऊ, कफोटा शिलाई की तरफ जाने के लिए वैकल्पिक मार्ग किलोड-खेरवा (उत्तराखंड) मशु-च्योग- जाखना होते हुवे कफोटा पहुंच सकते है। क्योंकि यह सड़क कल या परसों शाम तक ही खुल सकती है। अगर बारिश हो जाती है तो ओर भी समय लग सकता है। 

वहीं, हिमाचल प्रदेश के ही मंडी जिले में मूसलाधार बारिश का कहर जारी है। वीरवार देर रात तेज बारिश के कारण मंडी के रामनगर में पार्किंग शेड की टीन की छत पर डंगा गिर गया। पार्किंग में खड़ी 12 कारों पर छत गिरने से भारी नुकसान हुआ है। 

चार कारों का ऊपरी हिस्सा टूटकर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। बाकियों के शीशे टूटे हैं। रामनगर के पार्षद योगराज ने कहा कि कारों को निकाला जा रहा है। वहीं बारिश से सातमील के पास भूस्खलन से मंडी-कुल्लू एनएच शुक्रवार सुबह छह से साढ़े सात बजे तक डेढ़ घंटे के लिए बंद रहा। वाहनों को वाया कटौला बजौरा मार्ग से भेजा गया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आशीष शर्मा ने पुष्टि की है।
 
... और पढ़ें

इंदौरा, नाहन, हमीरपुर में मेकशिफ्ट अस्पताल बनेंगे, 109 एंबुलेंस लेंगे

हिमाचल प्रदेश में तीन और मेक शिफ्ट अस्पताल बनेंगे। सरकार ने इन्हें जिला कांगड़ा के इंदौरा, नाहन और हमीरपुर में बनाने का फैसला लिया है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर के चलते सरकार 109 और एंबुलेंस किराये पर लेगी। सरकार ने 15 अगस्त तक मेडिकल कॉलेजों और जिला अस्पताल के वार्डों को ऑक्सीजन पाइपलाइन से जोड़ने का लक्ष्य रखा है। स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने वीरवार को उपायुक्तों, मेडिकल कॉलेजों के प्रिंसिपलों और सीएमओ से वीडियो कॉन्फ्रेंस से ये निर्देश दिए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय एक सप्ताह के भीतर ठीक कर भेजेगा। स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि सरकार कोरोना की स्थिति पर नजर रखे है। संभावित तीसरी लहर के चलते तैयारियां की जा रही हैं। उन्होंने लोगों से संभावित तीसरी लहर से बचाव के दृष्टिगत सतर्क रहने को कहा है। 

कोरोना महामारी से निपटने के लिए सरकार के पास 600 वेंटिलेटर हैं। इनमें से 30 वेंटिलेटर खराब हैं। इन्हें ठीक करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजा गया है। - अमिताभ अवस्थी, स्वास्थ्य सचिव

हिमाचल में अभी चार मेक शिफ्ट अस्पताल
हिमाचल प्रदेश के आईजीएमसी, जिला मंडी के नेरचौक, जिला कांगड़ा के धर्मशाला और नालागढ़ में मेक शिफ्ट अस्पताल हैं। इनमें दो सौ से ज्यादा बेड की व्यवस्था है। तीन और नए मेक शिफ्ट अस्पताल बनने से बिस्तरों की कमी नहीं रहेगी। 

कोरोना के एक्टिव मामले एक हजार पार, 150 नए केस
हिमाचल प्रदेश में कोरोना महामारी फिर बढ़ने लगी है। पहले प्रदेश में एक्टिव मामलों का आंकड़ा 800 से नीचे आ गया था, अब फिर 1000 के पार हो गया है। वीरवार को प्रदेश में 150 नए मामले दर्ज किए गए। एक्टिव मामलों की संख्या 1098 हो गई है। मामले बढ़ने से प्रदेश सरकार ने अलर्ट जारी किया है। प्रदेश में कोरोना से मौत का आंकड़ा 3504 पहुंच गया है। बुधवार को प्रदेश में 73 लोगों ने कोरोना को मात दी है। जिला मंडी में सबसे ज्यादा 262 कोरोना एक्टिव मामले है। दूसरी नंबर पर जिला चंबा है। एक्टिव केस संख्या 236 हैं। अन्य जिलों का आंकड़ा दो सौ से नीचे है।

हाईकोर्ट ने उपायुक्तों से मांगा स्वास्थ्य सुविधाओं का ब्योरा
हाईकोर्ट ने जिला उपायुक्तों को आदेश दिए हैं कि वे अपने जिलों में उपलब्ध स्वास्थ्य सेवाओं का ब्योरा कोर्ट के समक्ष रखें। इसमें स्वास्थ्य केंद्रों, बिस्तरों की संख्या, स्वास्थ्य संस्थाओं की आधारभूत संरचना, डॉक्टरों और  रिक्त पदों की संख्या, उपलब्ध पैरा मेडिकल, अन्य स्टाफ  की संख्या और रिक्त पदों की संख्या का रिकॉर्ड शामिल है। मामले पर अगली सुनवाई 4 अगस्त को होगी। कोरोना से निपटने के लिए अपर्याप्त सुविधाओं को लेकर दायर याचिकाओं पर सुनवाई कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमठ व न्यायाधीश ज्योत्स्ना रिवाल दुआ की खंडपीठ के समक्ष हो रही है।
... और पढ़ें

विक्रमादित्य बोले- गढ़ किसी का नहीं होता, जयराम भी हारे थे 2013 में मंडी उपचुनाव

शीतकालीन में अगस्त और ग्रीष्मकालीन स्कूलों में नवंबर में होंगी एफए-3 की परीक्षाएं

हिमाचल प्रदेश के शीतकालीन स्कूलों में अगस्त और ग्रीष्मकालीन स्कूलों में नवंबर में एफए-3 की परीक्षाएं होंगी। समग्र शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना कार्यालय ने पहली से आठवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों की परीक्षाओं का शेड्यूल जारी कर दिया है। शीतकालीन स्कूलों में वार्षिक परीक्षा दिसंबर के दूसरे सप्ताह और ग्रीष्मकालीन स्कूलों में मार्च के दूसरे हफ्ते में होगी।

समग्र शिक्षा अभियान के परियोजना कार्यालय और प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने परीक्षाओं का शेड्यूल तैयार किया है। वीरवार को शिक्षा सचिव से मंजूरी मिलने के बाद इसे जारी किया गया है। रचनात्मक मूल्यांकन (एफए) वन और टू का आयोजन मार्च से जून के बीच हो चुका है। अब अगस्त के तीसरे सप्ताह में शीतकालीन स्कूलों और नवंबर के तीसरे सप्ताह में ग्रीष्मकालीन स्कूलों में एफए थ्री की परीक्षाएं होंगी। एफए फोर का आयोजन शीतकालीन स्कूलों में अक्तूबर के तीसरे सप्ताह और ग्रीष्मकालीन स्कूलों में जनवरी के पहले सप्ताह में होगा। सारांशित मूल्यांकन (एसए) वन का आयोजन सर्दियों के स्कूलों में जून में हो चुका है। 

गर्मियों के स्कूलों में सितंबर के तीसरे सप्ताह में यह परीक्षा होगी। एसए दो का आयोजन शीतकालीन स्कूलों में दिसंबर के दूसरे सप्ताह और ग्रीष्मकालीन स्कूलों में मार्च के दूसरे सप्ताह में होगा। एफए और एसए की परीक्षाओं के अंकों को जोड़कर पहली, दूसरी, चौथी, छठी और सातवीं कक्षा के विद्यार्थियों का वार्षिक परिणाम तैयार किया जाएगा।

इन कक्षाओं के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रमोट करने के लिए अंकों की बाध्यता नहीं रहेगी। उधर, तीसरी, पांचवीं और आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों को इस वर्ष परीक्षा परिणाम के आधार पर ही अगली कक्षा में भेजा जाएगा। सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रावधान को लागू करते हुए इन कक्षाओं के विद्यार्थियों की इस वर्ष से परीक्षाएं लेने का फैसला लिया है। इस फैसले के चलते ही दो अगस्त से पांचवीं और आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों को स्कूलों में शिक्षकों से परामर्श लेने के लिए बुलाया जा रहा है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X