लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Delhi NCR ›   Gurugram ›   Toll fee at Gurugram-Sohna Ghamroj toll plaza hikes

Gurugram: गुरुग्राम-सोहना टोल प्लाजा का टैरिफ बढ़ा, आने-जाने में ढीली होगी जेब

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, गुरुग्राम Published by: प्राची प्रियम Updated Thu, 04 Aug 2022 12:26 PM IST
सार

टोल प्लाजा के मैनेजर ने गुरुवार को कहा कि यहां से पास होने वाली एक कार को एक बार यात्रा के लिए अब 115 रुपये देने होंगे। अन्य वाहनों के लिए भी यह टैरिफ बढ़ गया है।

गुुरुग्राम सोहना टोल प्लाजा
गुुरुग्राम सोहना टोल प्लाजा - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

यदि आप घामडोज गांव के 20 किलोमीटर दायरे में नहीं हैं तो अपनी कार से गुरुग्राम से सोहना की ओर जाना व सोहना से गुरुग्राम की ओर आना महंगा पड़ेगा। सोहना हाईवे का सफर अब वाहन चालकों की जेब ढीली करेगा। बुधवार को आधी रात से टोल दरों में ढाई गुना तक की बढ़ोतरी कर दी गई। यह बढ़ोतरी इतनी अधिक है कि महीने भर भुगतान से निश्चित ही कई तरह का बजट गड़बड़ाएगा। कार सवारों को यहां एक बार की यात्रा के लिए अब यहां 45 की बजाय 115 रुपये भुगतान करना होगा। 



आसपास के जिलों और क्षेत्रों की आजीविका का प्रमुख स्थान गुरुग्राम है। दिल्ली-एनसीआर और रेवाड़ी-नारनौल के साथ ही यहां मेवात और पलवल से भी भारी तादात में लोग आजीविका के लिए आते हैं। टोल की बढ़ी दरें सबसे अधिक ऐसे ही नौकरीपेशा लोगों की जेब ढीली करेगी। प्रतिदिन के भुगतान से बचने के लिए लोग मासिक पास बनवाएं, लेकिन उसके लिए दो लोगों के महीने के रसोई का खर्च जितना अतिरिक्त भुगतान करना होगा। 


पहले मासिक पास (50 यात्रा) के लिए 1555 रुपये का भुगतान लिया जा रहा था, जो अब बढ़कर 3915 हो गया है। ऐसे में अब इस टोल पर 2360 की बढ़ोतरी हुई है। इतने पैसे में दो लोगों का महीने का भर का रसोई खर्च (तेल, मसाले, दाल, चावल) आराम से चल सकता है। 

पुराना पास नहीं होगा मान्य
 जिन लोगों ने महीने के शुरुआती दो दिनों में मासिक पास बनवा लिया है, उन्हें भी अपना पास दोबारा से बनवाना पड़ेगा। पुरानी दर से बना पास यहां से गुजरने के लिए मान्य नहीं होगा। एनएचएआई के प्रबंधक विकास मित्तल के अनुसार, जब दरें बढ़ गई हैं तो बढ़ी दरों से वसूली की जाएगी। इसलिए पुरानी दर से बना पास मान्य नहीं होगा। पास के लिए जमा पैसे नए पास में मर्ज कर दिए जाएंगे। 
 

एनएचएआई के नियम पड़ रहे भारी
शायद यह देश का सबसे महंगा हाईवे है। यहां महज 22 किलोमीटर की दूरी के लिए 115 रुपये प्रति फेरा वसूल किया जा रहा है। इस टोल के महंगे होने के पीछे एनएचएआई कई कारण गिना रहा है। एक तो इस रोड पर मिलने वाली सुविधाओं का हवाला दिया जा रहा है, दूसरा इसकी लागत और तीसरा एनएचएआई का नियम। एनएचएआई के परियोजना निदेशक पीके कौशिक के अनुसार, मुफ्त में सफर करने वालों को टोल दरें महंगी लग रही हैं। 

टोल की दरें एनएचएआई के एक विशेष नियम के तहत तय होती हैं। उस नियम के अनुसार एलिवेटेड रोड का टोल सामान्य रोड के टोल से दस गुना अधिक होता है। बेंगलुरु में कई छोटे-छोटे एलिवेटेड रोड पर टोल महंगे हैं। उन्होंने कहा कि कुल 22 किलोमीटर के रोड में पांच किलोमीटर का एक हिस्सा, करीब दो किलोमीटर का दूसरा हिस्सा और सोहना वाले पैकेज में भी दो हिस्से एलिवेटेड  हैं। नियम के अनुसार ही टोल की दरें तय की गई हैं। 

आज से ये दरें लागू 
वाहन और यात्रा
         नई दर
कार, जीप-वैन एकतरफा  115 रुपये
दो तरफ की यात्रा          175
मासिक पास (50 यात्रा)   3915
हल्के वाणिज्यिक वाहन      190
दो यात्रा                        285
50 यात्रा                      6325
बस, ट्रक (एक यात्रा)         400
दो यात्रा                          595
50 यात्रा                        13250
भारी वाहन (एक यात्रा)           435
दो यात्रा                              650
50 यात्रा                         14455
बड़े वाहन (एक यात्रा)             625
दो यात्रा                            935 रुपये
 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00