लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun ›   Ankita Bhandari murder case Pushkar Singh Dhami announces financial compensation of 25 lakh for family

Ankita Murder Case: अंकिता के परिवार को दिया जाएगा 25 लाख का मुआवजा, सीएम धामी ने की घोषणा

अमर उजाला नेटवर्क, देहरादून Published by: अलका त्यागी Updated Wed, 28 Sep 2022 08:01 PM IST
सार

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अंकिता भंडारी के परिजनों को 25 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है।

सीएम पुष्कर सिंह धामी
सीएम पुष्कर सिंह धामी - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दिवंगत अंकिता भंडारी के परिजनों को 25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए हैं। उनके निर्देश पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने 25 लाख रुपये की धनराशि मंजूर किए जाने का आदेश जारी किया।



Ankita Murder Case: रिमांड एडवोकेट ने पुलकित की बेल की अर्जी वापस ली, वकील बोले- न लड़ेंगे न लड़ने देंगे केस


मुख्यमंत्री ने अंकिता के परिजनों को हर संभव मदद का भरोसा दिया था। उन्होंने गरीब परिजनों को आर्थिक सहायता देने की बात भी कही थी। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री ने 25 लाख रुपये की सहायता देने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अंकिता के परिवार के साथ है और उनकी हर प्रकार से सहायता करेगी। मामले की एसआईटी जांच की जा रही है। पूर्ण निष्पक्ष तरीके से जल्द से जल्द जांच पूरी की जाएगी। मामले से संबंधित हर तथ्य को जुटाते हुए पुख्ता तरीके से रिपोर्ट तैयार कर अपराधियों को सख्त से सख्त सजा दिलाना सुनिश्चित किया जाएगा। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराधियों को ऐसी सजा दिलाई जाएगी जो आगे के लिए भी नजीर बने। पीड़ित परिवार को त्वरित न्याय मिल सके, इसके लिये फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई के लिए न्यायालय से अनुरोध किया गया है। उधर, मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद अपर सचिव मुख्यमंत्री नवनीत पांडेय ने मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से अंकिता के परिजनों को आर्थिक सहायता के रूप में घोषित 25 लाख रुपये की धनराशि स्वीकृत करने का आदेश जारी किया।

रिजॉर्ट नीलाम कर सारा धन परिजनों को दें: कुमार विश्वास 

अंकिता हत्याकांड पर मशहूर कवि कुमार विश्वास भी टिप्पणी करने से खुद को नहीं रोक सके। प्रदेश सरकार के अंकिता के परिजनों को 25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने के फैसले पर कुमार विश्वास ने प्रश्न किया? उन्होंने ट्विटर पर पोस्ट लिखी, पर क्यों? सत्ता के अहंकार में डूबे उस नीच दुर्योधन के कुकर्मों का मुआवजा टैक्स-पेयर के पैसे से क्यों दिया जाएगा? उस नराधम के रिसोर्ट और संपत्तियों की नीलामी करके इस बिटिया के परिजनों को सारा धन दिया जाए।

अनाचार करें पॉलिटिकल परिवार के संरक्षण में पले बेलगाम लड़के और भरे जनता। वह आगे लिखते हैं, गद्दी पर बैठे हुए हर धृतराष्ट्र को यह सदैव याद रखना चाहिए कि जिन राजवंशों के दुर्योधन भरी राज्यसभा में अपनी बेटियों, बहनों और कुलवधुओं का अपमान करते हैं, वे कितने भी वैभवशाली हस्तिनापुर हों, समय का महाभारत अंतत: उन्हें विनाश के मलबे में तब्दील कर ही देता है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00