लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   3 policeman to protect each VIP but only one for 663 common man

663 लोगों के लिए 1 पुलिसवाला, 1 VIP के लिए 3 पुलिसकर्मी तैनात

amarujala.com- Presented by: अभिषेक मिश्रा Updated Mon, 18 Sep 2017 10:25 AM IST
3 policeman to protect each VIP but only one for 663 common man
ख़बर सुनें

साल दर साल नेता और सरकारें देश में वीआईपी कल्चर को खत्म करने के वादे करती आई है, लेकिन सच कुछ और ही है। हाल में जारी हुए आंकड़ों के मुताबिक कुछ 20 हजार वीआईपी के सुरक्षा के लिए प्रत्येक पर औसतन तीन पुलिसकर्मी को तैनात किया गया है। 




जबकि आम नागरिकों की सुरक्षा के लिए पुलिस वालों की कमी है। ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक देशभर में तैनात कुल 19.26 लाख पुलिसकर्मियों में से 56,944 को 20,828 वीआईपी की सुरक्षा में लगाया गया है। 


पढ़ें: बिहार में वीआईपी कल्चर पर बैन, नहीं दिखेंगी लालबत्ती

इस हिसाब से एक वीआईपी की सुरक्षा में औसत 2.73 पुलिसकर्मी तैनात हैं। वहीं लक्ष्यद्वीप एक मात्र ऐसा प्रदेश है जहां किसी को पुलिस सुरक्षा नहीं दी गई है। वहीं आम आदमी की सुरक्षा में तैनात पुलिस में मामले भारत काफी पीछे है। यहां 663 आम नागरिकों की सुरक्षा के लिए केवल एक पुलिसकर्मी मौजूद है। 

हालांकि केंद्र सरकार ने वीआईपी कल्चर को खत्म करने के लिए कुछ कदम जरूर उठाए, सरकार ने लाल बत्ती के इस्तेमाल पर रोक लगा दी। बीपीआरडी के आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा वीआईपी कल्चर उत्तर और पूर्वी भारत में है। इस मामले में बिहार का हाल सबसे बुरा है। यहां सबसे ज्यादा 3200 वीवीआईपी की सुरक्षा में 6,248 पुलिसकर्मियों को लगाया गया है। 

वहीं पश्चिम बंगाल में 2207 वीआईपी की सुरक्षा में 4233 पुलिसकर्मी को तैनात किया गया है। बंगाल में नियमों के तहत वीआईपी सुरक्षा के लिए सिर्फ 501 पुलिसकर्मियों की नियुक्ती का ही प्रावधान है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00