लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Chanakya Niti : इन हालातों में अन्न, वर्षा का जल और दीये की रौशनी भी हो जाती है बेकार

ज्योतिष डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: आशिकी पटेल Updated Fri, 17 Jun 2022 12:04 PM IST
इन हालातों में अन्न, वर्षा का जल और दीये की रौशनी भी हो जाती है बेकार
1 of 5
विज्ञापन
Chanakya Niti Quotes In Hindi: आचार्य चाणक्य एक कुशल राजनीतिज्ञ के अलावा भारत के महान विद्वानों में से एक थे। उन्होंने एक नीति शास्त्र की रचना की है, जिसमे उन्होंने मनुष्य के जीवन से जुड़ी कई बातों का जिक्र किया है। यदि इन बातों को ध्यान में रखा जाए तो व्यक्ति समस्याओं से बच सकता है। साथ ही एक संतुष्ट और सफल जीवन भी व्यतीत कर सकता है। भोजन, पानी, वर्षा, उजाला ये सब मनुष्य के जीवन की जरूरी चीजें हैं, लेकिन आचार्य चाणक्य ने इनकी अति के बारे में भी जिक्र किया है। चाणक्य नीति के अनुसार, कुछ परिस्थितियों में इन चीजों की अधिकता सही नहीं होती। ऐसी जगहों पर इनका होना व्यर्थ माना जाता है। आइए चाणक्य नीति के अनुसार जानते हैं कि ऐसी कौन सी चीजें और परिस्थितियां हैं, जिन्हे व्यर्थ माना गया है...    
इन हालातों में अन्न, वर्षा का जल और दीये की रौशनी भी हो जाती है बेकार
2 of 5
अमीर आदमी को दान देना व्यर्थ है
आचार्य चाणक्य के अनुसार, जो व्यक्ति पहले से संपन्न है, उसे और अधिक दान देने से हमें कोई पुण्य फल नहीं मिलेगा और न ही उस व्यक्ति को उस दान से कोई फर्क पड़ेगा। इसलिए आचार्य चाणक्य ने कहा है कि धनिक को दान करना व्यर्थ है।
विज्ञापन
इन हालातों में अन्न, वर्षा का जल और दीये की रौशनी भी हो जाती है बेकार
3 of 5
दिन में दीपक जलाना व्यर्थ है
रौशनी की जरूरत अंधेरे में होती है। अंधकार को दूर करने के लिए दीपक जलाया जाता है। ऐसे में आचार्य चाणक्य ने कहा है कि दिन में सूर्य की पर्याप्त रोशनी होते हुए भी अगर कोई दीपक जलाता है तो इसे मूर्खता ही समझा जाएगा। दिन में दीपक जलाना व्यर्थ है।
इन हालातों में अन्न, वर्षा का जल और दीये की रौशनी भी हो जाती है बेकार
4 of 5
तृप्त व्यक्ति को भोजन कराना व्यर्थ है
यदि किसी व्यक्ति ने भरपेट भोजन किया हुआ है तो, उसे भोजन करना या भोजन करने का आग्रह करना व्यर्थ है। चाणक्य नीति के अनुसार, जिस व्यक्ति का पेट भरा है, उसके लिए छप्पन भोग भी किसी काम के नहीं। इसलिए आचार्य चाणक्य ने कहा है कि तृप्त व्यक्ति को भोजन कराना बेकार है।
विज्ञापन
विज्ञापन
इन हालातों में अन्न, वर्षा का जल और दीये की रौशनी भी हो जाती है बेकार
5 of 5
समुद्र में वर्षा होना व्यर्थ है
चाणक्य नीति के अनुसार, समुद्र अथाह पानी का भंडार है। वहां चाहे जितनी भी बारिश हो जाए, समुद्र को कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि उससे किसी का भला नहीं होगा। ऐसे में समुद्र में बारिश होना व्यर्थ है। 

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण): ये खबर लोक मान्यताओं पर आधारित है। इस खबर में शामिल सूचना और तथ्यों की सटीकता, संपूर्णता के लिए अमर उजाला उत्तरदायी नहीं है।
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स, परामनोविज्ञान समाचार, स्वास्थ्य संबंधी योग समाचार, सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00