लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Panama scandal: Pak PM names common friend who offered Rs 1000 crore bribe to withdraw case against Nawaz Sharif

पनामा: इमरान ने चार साल बाद बताया, नवाज का केस बंद करने के लिए 1,000 करोड़ रुपये की रिश्वत देने वाले 'कॉमन फ्रेंड' का नाम

पीटीआई, लाहौर Published by: दीप्ति मिश्रा Updated Thu, 29 Jul 2021 08:49 AM IST
सार

प्रधानमंत्री इमरान खान ने अदालत से कहा कि उन्होंने एक ‘साझा मित्र’ (कॉमन फ्रेंड) की पहचान की है, जिसने उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पनामा पेपर्स केस वापस लेने के लिए शाहबाज शरीफ की ओर से कथित तौर पर 1,000 करोड़ रुपये की पेशकश की थी।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (फाइल फोटो)
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (फाइल फोटो) - फोटो : Facebook
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पनामा पेपर्स लीक मामले में पूर्व पीएम नवाज शरीफ को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने अदालत से कहा कि उन्होंने एक ‘साझा मित्र’ (कॉमन फ्रेंड) की पहचान की है, जिसने उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पनामा पेपर्स केस वापस लेने के लिए शाहबाज शरीफ की ओर से कथित तौर पर 1,000 करोड़ रुपये की पेशकश की थी।



पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने वर्ष 2017 में आरोप लगाया था कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शाहबाज ने पूर्व पीएम नवाज शरीफ के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पनामा पेपर्स मामले को वापस लेने के लिए एक कॉमन फ्रेंड के माध्यम से उन्हें 1,000 करोड़ रुपये की पेशकश की थी। इमरान ने उस वक्त शाहबाज की ओर से रिश्वत की पेशकश करने वाले व्यक्ति की पहचान का खुलासा नहीं किया था।


मानहानि मामले में जवाब दाखिल कर बताया नाम
69 वर्षीय शाहबाज नवाज शरीफ के छोटे भाई हैं। इमरान खान के आरोप के बाद शाहबाज ने क्रिकेटर से नेता बने खान के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया था। प्रधानमंत्री इमरान खान ने मानहानि के इस मामले में जवाब दाखिल किया है। इस लिखित जवाब में प्रधानमंत्री खान ने उमर फारूक के रूप में नवाज शरीफ के खिलाफ पनामा पेपर्स मामले को वापस लेने के लिए 1,000 करोड़ रुपये की पेशकश करने वाले व्यक्ति के नाम का खुलासा किया। प्रधानमंत्री के वकील ने अदालत को बताया कि एक साझा मित्र उमर फारूक ने इमरान खान को यह पेशकश की थी।

50 सुनवाई पर स्थगन की मांग

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एम फरीद ने सुनवाई 4 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी। चार वर्षों में इमरान खान की कानूनी टीम ने कम से कम 50 सुनवाई पर स्थगन की मांग की। शाहबाज ने अपनी याचिका में अदालत से अपमानजनक टिप्पणी के मुआवजे के रूप में 1,000 करोड़ रुपये की वसूली के लिए एक ‘डिक्री’ जारी करने का अनुरोध किया था। 

मरियम बोलीं- इमरान पीएम का पद संभालने के योग्य नहीं
इस बीच बुधवार को एक बयान में,पीएमएल-एन की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब ने विपक्षी नेता के खिलाफ निराधार आरोप लगाने के लिए प्रधानमंत्री खान से माफी मांगने की मांग की। मरियम ने इमरान खान द्वारा बोले गए इस झूठ को 'पैथोलॉजिकल झूठा' बताया। मरियम ने कहा कि इमरान अब नेशनल असेंबली के सदस्य और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का पद संभालने के लिए 'नैतिक रूप से योग्य' नहीं हैं।

क्या था मामला?
बता दें कि पनामा पेपर्स मामले के मद्देनजर जुलाई, 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने शरीफ को अयोग्य घोषित कर दिया था। बाद में उन्हें भ्रष्टाचार के दो मामलों - एवेनफील्ड संपत्तियों और अल-अजीजिया में दोषी ठहराया गया था और सात साल की जेल की सजा सुनाई गई थी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00