विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

जम्मू-कश्मीर: अनुच्छेद-370 हटने के बाद कल पहली बार कश्मीर दौरे पर आएंगे अमित शाह, अतिरिक्त अर्धसैनिक बल तैनात

अनुच्छेद-370 व 35-ए हटने के बाद 23 अक्तूबर से शुरू हो रहे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के पहले जम्मू-कश्मीर दौरे पर जम्मू और श्रीनगर में सुरक्षा के अभूतपूर्व प्रबंध किए गए हैं। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबलों की तैनाती के साथ ही ड्रोन से भी निगरानी रखी जा रही है। दौरे के तहत शाह श्रीनगर से शारजाह के लिए विमान सेवा का शुभारंभ करेंगे। इसके साथ ही लाभार्थी सम्मेलन में विभिन्न केंद्रीय योजनाओं के लाभार्थियों व पंचायत प्रतिनिधियों से रूबरू होंगे। प्रदेश में टारगेट किलिंग की घटनाओं को लेकर उच्च स्तरीय सुरक्षा समीक्षा बैठक करने के साथ ही जम्मू में सभा को संबोधित करेंगे। जम्मू आईआईटी में नए ब्लॉक का उद्घाटन भी करेंगे।

उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि 23 अक्तूबर को गृहमंत्री श्रीनगर पहुंचेंगे। यहां शाह एसकेआईसीसी में आयोजित लाभार्थी सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। केंद्रीय योजनाओं के लाभार्थियों और पंचायती प्रतिनिधियों से 370 हटने के बाद धरातल पर हो रहे विकास कार्यों का फीडबैक लेंगे। श्रीनगर में ही प्रदेश में चल रहे विकास कार्यों व प्रधानमंत्री विकास पैकेज के कार्यों की भी समीक्षा करेंगे। पर्यटन विकास से जुड़े प्रोजेक्ट पर भी चर्चा करेंगे। वहीं, विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक कर आंतरिक सुरक्षा, आतंकवाद निरोधक मोर्चे पर सुरक्षा बलों की रणनीति पर चर्चा करेंगे।
यह भी पढ़ें- 
ऑपरेशन भाटादूड़ियां: दो बॉक्स में आईईडी बरामद, आतंकियों पर बरसाए जा रहे आग के गोले, देखें तस्वीरें

सूत्रों के अनुसार 24 अक्तूबर को गृहमंत्री जम्मू में आईईटी में नए ब्लॉक का उद्घाटन करेंगे और भगवती नगर में आयोजित सभा को संबोधित करेंगे। यहां राजभवन में कुछ प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात का कार्यक्रम भी प्रस्तावित है।





दौरे में रात्रि विश्राम श्रीनगर में ही करेंगे
सूत्रों ने बताया कि अपने दौरे में वह रात्रि विश्राम श्रीनगर में ही करेंगे। जम्मू में सभा को संबोधित करने के बाद वे दोपहर बाद श्रीनगर लौट जाएंगे। श्रीनगर में विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात का भी कार्यक्रम प्रस्तावित है। इसमें राजनीतिक दलों के नुमाइंदों के साथ ही विभिन्न कारोबारी संगठनों और सिविल सोसाइटी के नुमाइंदे होंगे।

श्रीनगर में बुलवर्ड रोड पर 23 से 25 तक बंद रहेगा ट्रैफिक
केंद्रीय गृहमंत्री के दौरे को देखते हुए 23 से 25 अक्तूबर तक श्रीनगर में डल किनारे बुलवर्ड रोड पर बडयारी से निशात बाग और गुपकार रोड आम यात्रियों के लिए बंद रहेगा। पर्यटकों को ठहरने के स्थल के सत्यापन के बाद नेहरू पार्क तक जाने की अनुमति होगी। 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: गणतंत्र दिवस 2022 में 11 वर्गों को दिए जाएंगे प्रदेश में सरकारी पुरस्कार

गणतंत्र दिवस 2022 में जम्मू कश्मीर में सरकारी पुरस्कार 11 वर्गो में दिए जाएंगे। सामान्य प्रशासनिक विभाग के आयुक्त सचिव मनोज कुमार द्विवेदी की तरफ से जारी अधिसूचना के तहत बहादुरी पुरस्कार के अलावा साहित्य के क्षेत्र में उत्कर्ष्ट कार्य, कला के क्षेत्र में उत्कर्ष्ट कार्य, आर्ट एंड क्राफ्ट के क्षेत्र में शानदार कार्य, सामाजिक सुधार व सशक्तिकरण के क्षेत्र में शानदार कार्य पर पुरस्कार दिए जाएंगे।

उत्कर्ष्ट जन सेवा के लिए दो पुरस्कार नान गजटेड अधिकारियों के लिए आरक्षित रहेंगे। किसी भी क्षेत्र में उत्कर्ष्ट कार्यों के लिए लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड व उत्कर्ष्ट खिलाड़ी व मीडिया कर्मी को भी सरकारी पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे। उत्कर्ष्ट कार्य के लिए पर्यावरणविद्ध व  उत्कर्ष्ट कार्य के लिए औद्योगिक उद्यमी को भी पुरस्कार पदान किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: सियासी नेताओं के दल बदल का सिलसिला लंबा चलने के आसार, राजनीतिक परिदृश्य के अनुसार बदल रहे पार्टी

पुरस्कारों के लिए सामाजिक संगठनों, खेल संगठनों, गैर सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों, जम्मू कश्मीर कला, संस्कृति और भाषा अकादमी, प्रशासनिक सचिव, मंडलायुक्त व जिला उपायुक्त व्यकितयों को मनोनीत करेंगे। इस संबंध में 25 नवंबर 2021 तक सिफारिशें व नामांकन करने के लिए कहा गया हैं।
... और पढ़ें

ब्लैक-डे: श्रीनगर में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे, शहर के कई चौराहों पर होर्डिंग, देखिए तस्वीरें

श्रीनगर शहर में शुक्रवार को ब्लैक-डे के अवसर पर पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए गए। इस अवसर पर शहर के चौक-चौराहों पर होर्डिंग लगाए गए, जिसमें ब्लैक-डे के संबंध में जानकारी दी गई है। 22 अक्तूबर, 1947 को पाकिस्तान की ओर से कश्मीर में किए गए कबाइली हमले के विरोध में जेके वर्कर्स पार्टी के अध्यक्ष एवं सेंटर फॉर इंक्लूसिव एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट (सीआईएसडी) के चेयरमैन जुनैद मीर की अगुवाई में रोष रैली निकाली गई। यह रैली एसकेआईसी से रॉयल स्प्रिंग गोल्फ कोर्स तक गई। रैली में शामिल युवाओं ने पाकिस्तान मुर्दाबाद, गुंडागर्दी नहीं चलेगी के नारे लगाए।

जुनैद मीर ने कहा कि इस दिन पाकिस्तान ने यहां कबाइलियों को आतंकी के रूप में भेज कर दहशत फैलाई और यहां के लोगों के हाथों में बंदूक थमा दी, आज इसके विरोध में हर कश्मीरी नागरिक खड़ा है। हाल ही में पाकिस्तान के इशारे पर आतंकियों द्वारा की गई बेगुनाहों की हत्याओं की निंदा की।
... और पढ़ें

शाह की सुरक्षा: जम्मू पहुंची सीआरपीएफ की वाईआईपी यूनिट, रैली स्थल पर तैनात रहेंगे 3000 से अधिक जवान

गृहमंत्री अमित शाह की 23 अक्तूबर से जम्मू-कश्मीर दौरे के लिए सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। इसके लिए सीआरपीएफ की वीआईपी यूनिट शुक्रवार को जम्मू पहुंच गई। रैली स्थल भगवती नगर ग्राउंड का वरिष्ठ अफसरों ने दौरा किया। साथ ही स्पेशल यूनिट के कमांडो ने इसका मुआयना किया। ये कमांडो शनिवार को रैली स्थल को अपने घेरे में लेंगे। वहीं, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ मुख्य रूप से रैली में तैनात रहेंगी। तीन हजार कर्मियों को रैली की सुरक्षा में तैनात किया जाएगा। एसएसबी, सीआईएसएफ के जवानों को भी सुरक्षा में लगाया जाएगा।
यह भी पढ़ें- 
तस्वीरें: आतंकियों के खात्मे की उल्टी गिनती शुरू, शहर से लेकर सरहद तक सुरक्षा का कड़ा पहरा

जानकारी के अनुसार सीआरपीएफ की वीआईपी यूनिट मुख्य रूप से स्टेज की सुरक्षा में होगी। जेके पुलिस के कमांडो सहयोग करेंगे। शुक्रवार को एडीजीपी मुकेश सिंह, एसएसपी चंदन कोहली ने भगवती नगर का दौरा कर सुरक्षा बंदोबस्त की समीक्षा की। आयोजन स्थल को सील कर दिया गया है। हरेक शख्स को पूरी जांच के बाद ही अंदर घुसने दिया जा रहा है। भगवती नगर से जुड़ने वाले तमाम रास्तों पर अतिरिक्त पुलिस कर्मियों को अर्द्धसैनिक बलों के साथ तैनात किया गया है। 
... और पढ़ें
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह

टारगेट किलिंग: हत्याओं में किसका हाथ, कहीं पत्थरबाज तो नहीं? इन सवालों के जवाब ऐसे ढूंढेगी एनआईए

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद में संलिप्त लोगों पर दर्ज एफआईआर को एनआईए दोबारा खंगालेगी। एनआईए को शक है कि इन एफआईआर में शामिल युवाओं का आतंकी संगठन इस्तेमाल कर रहे हैं और इनसे टारगेट किलिंग कराने समेत आतंकी नेटवर्क की दूसरी गतिविधियां संचालित की जा रही हैं।

यह भी संभव है कि इन युवाओं में पत्थरबाज भी शामिल रह चुके हों। सूत्रों का कहना है कि एनआईए की 100 से अधिक अफसरों और कर्मियों की टीम इस वक्त कश्मीर के अलग-अलग हिस्सों में मौजूद है, जो आतंकी नेटवर्क ध्वस्त करने में जुटी हुई है। 
यह भी पढ़ें- 
तस्वीरें: आतंकियों के खात्मे की उल्टी गिनती शुरू, शहर से लेकर सरहद तक सुरक्षा का कड़ा पहरा

सूत्रों का यह भी कहना है कि एनआईए आईबी, रॉ और एमआई जैसी खुफिया एजेंसियों की भी मदद लेगी। 2014 से लेकर 2018 तक कश्मीर में चार हजार युवाओं पर पत्थरबाजी करने का केस दर्ज किया गया था।
 
... और पढ़ें

ध्वस्त होगा आतंकियों का नेटवर्क:  26 देश विरोधी तत्वों को भेजा जाएगा आगरा सेंट्रल जेल, पहली सूची जारी

जम्मू-कश्मीर की विभिन्न जेलों में बंद कुख्यात पत्थरबाज, ओवर ग्राउंड वर्कर और आतंकियों के मददगारों को अब प्रदेश के बाहर की जेलों में शिफ्ट किया जाएगा ताकि घाटी की शांति में खलल डालने की पाकिस्तानी हैंडलरों के नेटवर्क को ध्वस्त किया जा सके। पहली कड़ी में प्रदेश की विभिन्न जेलों में पीएसए के तहत निरुद्ध 26 देश विरोधी तत्वों को आगरा की सेंट्रल जेल में भेजने का फैसला किया गया है। गृह विभाग की ओर से शुक्रवार को इस आशय का आदेश जारी किया गया। 

यह कार्रवाई हाल की टारगेट किलिंग की घटनाओं के मद्देनजर की गई है। प्रशासन की ओर से कुख्यात पत्थरबाजों की सूची तैयार की गई है जिन्हें प्रदेश के बाहर की जेलों उत्तर प्रदेश, हरियाणा व अन्य राज्यों में शिफ्ट किया जाना है।
यह भी पढ़ें- 
ऑपरेशन भाटादूड़ियां: दो बॉक्स में आईईडी बरामद, आतंकियों पर बरसाए जा रहे आग के गोले, देखें तस्वीरें

गृह विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार श्रीनगर के छह, बडगाम के चार, अनंतनाग-एक, पुलवामा-पांच, शोपियां-दो, बारामुला-तीन, बांदीपोरा के पांच अवांछनीय तत्वों को आगरा जेल भेजने का आदेश जारी हुआ है। सबसे अधिक संख्या में सेंट्रल जेल जम्मू में पीएसए में निरुद्ध 17 पत्थरबाजों व ओजीडब्ल्यू को बाहर की जेलों में भेजा गया है। घाटी में नेटवर्क तोड़ने के लिए जम्मू की जेल में इन्हें डाला गया था ताकि पाकिस्तानी हैंडलर इन तक पहुंच न सकें और चेन को तोड़ा जा सके।   
... और पढ़ें

ऑपरेशन भाटादूड़ियां: दो बॉक्स में आईईडी बरामद, आतंकियों पर बरसाए जा रहे आग के गोले, देखें तस्वीरें

जम्मू संभाग के पुंछ में भाटादूड़ियां जंगल में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन जारी है। ऑपरेशन के 9वें दिन शुक्रवार को जंगल में दो बॉक्स बरामद हुए। जिनमें आईईडी प्लांट की गई थी। सेना और पुलिस की टीम ने आईईडी को निष्क्रिय कर दिया है। आतंकियों को खोजने के लिए आग लगाने वाले गोले भी बरसाए जा रहे हैं। चमरेड़ के जंगल में 11 अक्तूबर को आतंकियों के पहले हमले के बाद 14 अक्तूबर को भाटादूड़ियां में घात लगाकर हमला किया गया था। दोनों हमलों में दो जेसीओ समेत नौ जवान शहीद हो गए थे। भौगोलिक परिस्थितियों की चुनौती को देखते हुए इस ऑपरेशन को विशेष एहतियात के तहत आगे बढ़ाया जा रहा है। 

जिले के विंबर गली क्षेत्र में सैन्य ठिकानों की फोटो खींचते एक संदिग्ध युवक को गुुरुवार को सेना ने गिरफ्तार भी किया था। उसके मोबाइल फोन में पाकिस्तान के नंबर और कई आपत्तिजनक व भड़काऊ वीडियो मिले हैं। पकड़े गए व्यक्ति से सुरक्षा एजेंसियां पूछताछ कर रही हैं। उसके ओवरग्राउंड वर्कर होने का शक है। पुंछ के भाटादूड़ियां गांव में पिछले आठ दिनों से चल रही मुठभेड़ के बीच संदिग्ध के पकड़े जाने से सनसनी फैल गई।


 
... और पढ़ें

ध्यान दें:  वैष्णो देवी यात्रा के लिए कोरोना टेस्ट अनिवार्य, रिपोर्ट के आधार पर ही मिलेगी अनुमति

पुंछ में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन
श्री माता वैष्णो देवी की यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए सरकार ने कोरोना टेस्ट अनिवार्य कर दिया है। अधिकतम 72 घंटे पहले करवाए गए रैपिड एंटीजन टेस्ट या आरटीपीसीआर रिपोर्ट के आधार पर ही यात्रा की अनुमति होगी। कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लेने वालों के लिए भी टेस्ट अनिवार्य है। मुख्य सचिव डॉ. अरुण कुमार मेहता की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई आपदा प्रबंधन विभाग की राज्य कार्यकारी कमेटी ने बैठक में कोरोना परिदृश्य की समीक्षा कर आदेश जारी किया। 
यह भी पढ़ें- 
तस्वीरें: आतंकियों के खात्मे की उल्टी गिनती शुरू, शहर से लेकर सरहद तक सुरक्षा का कड़ा पहरा

आदेश के तहत कोविड संबंधित लक्षण नहीं पाए जाने वाले यात्रियों को ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन की कोविड एसओपी के तहत कीटाणु या गंदगी हटाने के लिए रसायनों आदि से अच्छी तरह पर्याप्त साफ-सफाई के भी निर्देश जारी किए गए हैं।
... और पढ़ें

तस्वीरें: आतंकियों के खात्मे की उल्टी गिनती शुरू, शहर से लेकर सरहद तक सुरक्षा का कड़ा पहरा

जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में आतंकी गतिविधियों को देखते हुए सभी सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट पर रखा गया है। शहर में कई स्थानों पर नाके लगाकर चेकिंग की जा रही है। पुलिस, सेना और सीआरपीएफ के जवानों की संदिग्धों पर पैनी नजर है। आतंकियों की साजिशों से निपटने और उनके खात्मे के लिए कई जगहों पर नए सिक्योरिटी बंकर भी स्थापित किये गए हैं। इन बंकरो में 24 घंटे जवानों की तैनाती रहेगी।

डीजी बीएसएफ पंकज कुमार सिंह एलओसी पर सुरक्षा स्थिति की समीक्षा करने के लिए तीन दिवसीय दौरे पर हैं। दौरे के दूसरे दिन शनिवार को उन्होंने तंगधार, कुपवाड़ा और बांदीपोरा में अग्रिम क्षेत्रों का दौरा किया। बीएसएफ कमांडरों द्वारा सुरक्षा स्थिति और तैयारियों के बारे में उन्हें जानकारी दी गई। इस दौरान अधिकारियों और जवानों के बातचीत के बाद उन्होंने जवानों के साहस की सराहना की। किसी भी घटना के लिए सतर्क रहने का आह्वान किया।
... और पढ़ें

उप-राज्यपाल ने कहा:  मानवता का सबसे बड़ा दुश्मन है आतंकवाद, इसका मुकाबला होगा और हम विजयी होंगे

जम्मू-कश्मीर में बाहरी ताकतें सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश कर रही हैं। यह हमारी जिम्मेदारी है कि इस प्यार-मोहब्बत को हम सामूहिक रूप से बनाए रखें। आतंकवाद मानवता का सबसे बड़ा दुश्मन है। यह बात शुक्रवार को शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (एसकेआईसीसी) में सेंटर फॉर इंक्लूसिव एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट (सीआईएसडी) के ब्लैक-डे पर आयोजित कार्यक्रम में उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा ने कही।

उप-राज्यपाल ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में नई सुबह की शुरुआत हो, हम तरक्की और विश्वास के सफर पर आगे बढ़ें, उसमें चुनौतियां आएंगी, लेकिन वह यकीन से कह सकते हैं कि हम सब सामूहिक रूप से अगर प्रतिबद्ध रहेंगे तो निश्चित रूप से इसका मुकाबला भी होगा और हम विजयी होंगे।
यह भी पढ़ें- 
तस्वीरें: आतंकियों के खात्मे की उल्टी गिनती शुरू, शहर से लेकर सरहद तक सुरक्षा का कड़ा पहरा

उन्होंने 1947 के हमले में शहीद हुए वीर जवानों व नागरिक को श्रद्धांजलि दी। आश्वासन दिया कि प्रधानमंत्री मोदी के निर्देश में जम्मू-कश्मीर की समृद्धि और नागरिकों की खुशहाली के लिए काम किया जाएगा। उप-राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश के सवा करोड़ नागरिकों के लिए भविष्य में विकास के लिए हर संभव कोशिश की जाएगी। कार्यक्रम की शुरुआत राष्ट्रगान के साथ हुई और सभी लोग हाथों में काले झंडे लेकर खड़े हुए।
... और पढ़ें

पांच बड़ी खबरें: एनआईए ने कई स्थानों पर की छापेमारी, अनंतनाग में संदिग्ध परिस्थितियों में मिला एक नागरिक का शव

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की तरफ से जम्मू-कश्मीर और अन्य प्रमुख शहरों में लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हिज़्ब-उल-मुजाहिदीन (एचएम) और अल बद्र द्वारा हिंसक आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की साजिश के मामले में कई स्थानों पर तलाशी ली गई। घाटी में आम नागरिकों की हत्या के सिलसिले में एनआईए लगातार कार्रवाई कर रही है। वहीं लोगों से पूछताछ भी की गई है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.............

जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग जिले के जंगलत मंडी क्षेत्र में शुक्रवार को रहस्यमय परिस्थितियों में एक नागरिक का शव बरामद किया गया है। हालांकि अभी तक शव की पहचान नहीं हो पाई है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.............

गणतंत्र दिवस 2022 में जम्मू कश्मीर में सरकारी पुरस्कार 11 वर्गो में दिए जाएंगे। सामान्य प्रशासनिक विभाग के आयुक्त सचिव मनोज कुमार द्विवेदी की तरफ से जारी अधिसूचना के तहत बहादुरी पुरस्कार के अलावा साहित्य के क्षेत्र में उत्कर्ष्ट कार्य, कला के क्षेत्र में उत्कर्ष्ट कार्य, आर्ट एंड क्राफ्ट के क्षेत्र में शानदार कार्य, सामाजिक सुधार व सशक्तिकरण के क्षेत्र में शानदार कार्य पर पुरस्कार दिए जाएंगे। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.............

पीडीपी प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर भाजपा पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि भाजपा की नीतियों ने जम्मू-कश्मीर को दशकों पीछे धकेल दिया है। सोशल मीडिया पर उन तस्वीरों और वीडियो के वायरल होने के बाद यह टिप्पणी की, जिसमें सुरक्षा बल लाल चौक और शहर के अन्य व्यावसायिक क्षेत्रों में औचक निरीक्षण के दौरान महिलाओं और नाबालिगों की तलाशी लेते नजर आ रहे हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.............

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती पर मानहानि के आरोप लगाने के लिए पीडीपी ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक को कानूनी नोटिस जारी किया है। सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में सत्यपाल मलिक ने अपने एक बयान में कहा था कि 2001 में आए रोशनी ऐक्ट का फायदा महबूबा मुफ्ती ने भी लिया था। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.................
... और पढ़ें

हाईकोर्ट ने कहा: सिंधु नदी का सीमांकन संबंधी रिपोर्ट तीन सप्ताह में पेश करें, बताएं- अब तक क्या किया

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के उच्च न्यायालय ने सिंधु नदी के सीमांकन संबंधी रिपोर्ट तीन सप्ताह में पेश करने के लिए कहा है। साथ ही यह भी कहा है कि यदि तय समय में रिपोर्ट दाखिल नहीं हो पाती है तो राजस्व के साथ-साथ सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण विभाग के सचिव व्यक्तिगत रूप से पेश होकर बताएंगे कि सीमांकन तय समय में क्यों नहीं हुआ।
 
एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश पंकज मित्थल और न्यायमूर्ति संजय धर की खंडपीठ ने राजस्व सचिवों के साथ-साथ सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण विभाग को एक अनुपालन रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा, जिसमें स्पष्ट रूप से बताया जाए कि अब तक सीमांकन के लिए क्या किया गया। नदी का सीमांकन और इसे पूरा करने के लिए कितना समय प्रस्तावित किया गया था।
यह भी पढ़ें- 
ऑपरेशन भाटादूड़ियां: दो बॉक्स में आईईडी बरामद, आतंकियों पर बरसाए जा रहे आग के गोले, देखें तस्वीरें

न्याय मित्र द्वारा प्रस्तुत विभिन्न सुझावों के संबंध में, अदालत ने कहा कि अतिरिक्त महाधिवक्ता एमए चाशू तीन सप्ताह की अवधि के भीतर जवाब दाखिल कर सकते हैं इससे ज्यादा अब और समय नहीं दिया जा सकता। कोर्ट ने अधिवक्ता जनरल को निर्देश दिया जाता है कि वे अधिकारियों की बैठक बुलाने के संबंध में 11 अगस्त 2021 के आदेश में निहित निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करें और अगली तारीख को उस पर एक रिपोर्ट प्रस्तुत करें।
यह भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: प्रदेश की जेलों में पीएसए के तहत बंद 26 कैदियों को उत्तर प्रदेश शिफ्ट करने का आदेश  

गांदरबल डीसी से जवाब मांगा
इस बीच अदालत ने गांदरबल जिले के सोनमर्ग में अपने होटल स्नो लैंड के लिए एक इनडोर स्विमिंग पूल, व्यायामशाला और एसपीए के निर्माण की अनुमति के संबंध में फारूक अहमद हाफिज द्वारा दायर एक आवेदन पर डिप्टी कमिश्नर गांदरबल से जवाब मांगा।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग जिले में संदिग्ध परिस्थितियों में मिला एक नागरिक का शव, जांच जारी

जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग जिले के जंगलत मंडी क्षेत्र में शुक्रवार को रहस्यमय परिस्थितियों में एक नागरिक का शव बरामद किया गया है। हालांकि अभी तक शव की पहचान नहीं हो पाई है। पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है। साथ ही कई लोगों से पूछताछ भी की जा रही है।


यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: एनआईए ने आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की साजिश के मामले में कई स्थानों पर की छापेमारी

इस मामले में पुलिस ने बताया कि अनंतनाग क्षेत्र में संदिग्ध परिस्थितियों में एक शव बरामद किया गया। उन्होंने बताया कि मृत शव  के सिर पर चोट है। इसके साथ आतंकवाद से जुड़ी किसी भी घटना का कोई एंगल सामने नहीं आया है। मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00