Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   UPSSSC PET 2021: You can get low marks even if you answer the questions correctly, do you know about this rule of PET-safalta

UPSSSC PET 2021: सवालों के सही जवाब देने पर भी मिल सकते हैं कम नंबर, क्या आपको है PET के इस नियम की जानकारी

Media Solution Initiative Published by: पीआर डेस्क Updated Thu, 16 Sep 2021 01:31 PM IST
सार

उत्तर प्रदेश में 24 अगस्त को PET आयोजित की गई थी। इस परीक्षा में सफल होने वाले अभ्यर्थियों को लेखपाल समेत कई भर्तियों में शामिल होने का मौका मिलेगा। 

UPSSSC
UPSSSC - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरियों के लिए लागू की गई प्रारंभिक पात्रता परीक्षा (PET) में शामिल हुए अभ्यर्थी अपने रिजल्ट का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। राज्य में अब उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC) की ग्रुप C की भर्तियों में शामिल होने के लिए PET पास होना जरूरी है। यही वजह है कि पहली बार हुई इस परीक्षा में लाखों की संख्या में अभ्यर्थी शामिल हुए थे। PET के बाद UPSSSC मार्च 2022 से पहले लेखपाल के 7,882  पदों समेत कुल 22,794 भर्तियां निकालेगा। अगर आपने भी PET में हिस्सा लिया है और अब आप लेखपाल भर्ती में शामिल होने की तैयारी कर रहे हैं तो अनुभवी शिक्षकों के मार्गदर्शन में बेहतर तैयारी के लिए आप सफलता द्वारा चलाए जा रहे  FREE UP लेखपाल ग्रामीण विकास E-Book - Download Now  से जुड़ सकते हैं।

सवालों के सही जवाब देने पर भी मिल सकते हैं कम नंबर :

इस परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को सही जवाब देने के बाद भी पूरे नंबर नहीं मिलेंगे। दरअसल UPSSSC द्वारा PET के लिए जारी किए गए नोटिफिकशन में पहले ही साफ-साफ बता दिया गया था कि अगर ये परीक्षा एक से अधिक पाली में होगी तो इसमें नॉर्मलाइजेशन की व्यवस्था लागू होगी। आप सभी को पता है कि 24 अगस्त को हुआ PET दो पालियों में आयोजित किया गया था इसलिए इसमें भी नॉर्मलाइजेशन की व्यवस्था लागू होगी। ऐसी स्थिति में ये संभव है कि आपने जितने प्रश्नों का सही जवाब दिया है आपको उसके लिए पूरे नंबर नहीं दिए जाएं। 



क्या है नॉर्मलाइजेशन की व्यवस्था और क्यों नहीं दिए जाएंगे पूरे नंबर

आपको बता दें कि अलग-अलग पालियों में होने वाली परीक्षाओं में कई बार अभ्यर्थियों की ये शिकायत होती है कि उनकी पाली में  कठिन प्रश्न आए थे और दूसरे अभ्यर्थियों की पाली में आसान प्रश्न आए। ऐसे में मार्क्स के असमान वितरण को रोकने के लिए परीक्षाओं में नॉर्मलाइजेशन की व्यवस्था लागू की जाती है। इसमें एक फॉर्मूले के तहत जिस पाली में कठिन प्रश्न आते हैं उस पाली के अभ्यर्थियों को कुछ एक्स्ट्रा मार्क्स देकर और जिस पाली में आसान प्रश्न आते हैं उस पाली के अभ्यर्थियों के कुछ मार्क्स काट कर ये सुनिश्चित किया जाता है कि सभी अभ्यर्थियों को समान रूप से नंबर मिल सके। PET में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को भी इसी आधार पर नंबर मिलेंगे। इसलिए अगर आपके पाली में आसान प्रश्न आए थे तो ऐसा संभव है कि आपने जितने प्रश्नों का सही उत्तर दिया है आपको उससे कम नंबर मिलें।

UPSSSC लेखपाल कम्पलीट कोर्स में क्या है खास :

PET के बाद होने वाली लेखपाल भर्ती में शामिल होने के इच्छुक अभ्यर्थियों के लिए सफलता द्वारा  UPSSSC लेखपाल कम्पलीट कोर्स चलाया जा रहा है। इस कोर्स से जुड़ने पर आपको 120 घंटे से भी ज्यादा की लाइव इंटरैक्टिव क्लासेस और 100 से भी ज्यादा डाऊनलोड करने योग्य स्टडी मैटेरियल्स के साथ 20 घंटे का लाइव मॉक टेस्ट डिस्कशन, प्रतिदिन 2 घंटे की कक्षाएं , विशेषज्ञों द्वारा परामर्श सत्र, परीक्षा क्रैक करने की रणनीति, नियमित अपडेट के साथ एक टेलीग्राम समूह और वीकली टेस्ट जैसी अन्य कई सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती हैं। आप इस कोर्स से सफलता ऐप के जरिए भी जुड़ सकते हैं और साथ ही फ्री मॉक-टेस्ट और ई-बुक्स जैसी अन्य सुविधाओं का भी लाभ उठा सकते हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

 रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00