लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

संगरूर उपचुनाव: AAP की हार के पांच बड़े कारण, 100 दिन पहले जीती थी यहीं की नौ विधानसभा सीटें, अब अपना गढ़ भी नहीं बचा सके

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जालंधर (पंजाब) Published by: ajay kumar Updated Sun, 26 Jun 2022 09:14 PM IST
अरविंद केजरीवाल व भगवंत मान। (फाइल फोटो)
1 of 6
विज्ञापन
महज 100 दिन पहले आम आदमी पार्टी ने पंजाब विधानसभा चुनाव में बंपर जीत हासिल की थी। खासकर संगरूर, जो पंजाब के सीएम भगवंत मान का क्षेत्र है, वहां के नौ विधानसभा हलकों  में आप को चार लाख वोटों की लीड मिली थी और अब लोकसभा उपचुनावों में पार्टी हार गई है। वहां से सिमरनजीत सिंह मान जीत गए हैं। जमीनी स्तर पर 100 दिन में हालात ऐसे बदले कि सुनाम जहां से आप के अमन अरोड़ा 75 हजार मतों से जीते थे, उनके विधानसभा हलके में आप को महज 1483 मतों की लीड मिली। संगरूर लोकसभा सीट भगवंत मान की पक्की मानी जाती रही है। 2019 के लोकसभा चुनाव में पूरे देश में आप ने एक ही लोकसभा सीट जीती थी, वह थी संगरूर की। संगरूर के वोटरों ने लोकसभा से आप को खत्म कर दिया है।
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान।
2 of 6
संगरूर लोकसभा क्षेत्र में नौ विधानसभा हलके आते हैं, जिसमें संगरूर शहरी, दिबड़ा, बरनाला, भदौड़, मलेरकोटला, धूरी, महिल कलां, लहरागागा, सुनाम शामिल हैं। ये हलके आप का गढ़ माने जाते हैं। धूरी तो भगवंत मान का खुद का विधानसभा हलका है, जहां से वह 58 हजार 206 मतों से जीतकर पंजाब के सीएम बने लेकिन अब वहां आप की लीड 12 हजार रह गई है। आम आदमी पार्टी ने महज 100 दिन के भीतर अपने चार लाख वोटर संगरूर लोकसभा क्षेत्र से गंवा दिए हैं। 

पहला कारण
पार्टी की हार का मुख्य कारण पंजाब में गैंगस्टरों का हावी होना है, इस कारण भारी संख्या में युवाओं ने आप से किनारा कर लिया है। पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा में कटौती करना फिर प्रचार कर वाहवाही लूटना और अगले ही दिन सिद्धू मूसेवाला की हत्या की वारदात ने पंजाब के युवाओं में आक्रोश पैदा कर दिया है। पंजाब से लेकर कनाडा तक पंजाबी मूल के लोग रोष में आ गए, जिसका नतीजा हुआ कि पार्टी का एक बड़ा वोट बैंक टूट गया। कबड्डी खिलाड़ी संदीप नंगल अंबिया समेत कई युवा गैंगस्टरों का शिकार बने। इसके बाद पंजाब में आप के प्रति लोगों का विश्वास काफी गिरता जा रहा था।
विज्ञापन
भगवंत मान और अरविंद केजरीवाल।
3 of 6
दूसरा कारण
पंजाब में दिल्ली सरकार की दखलंदाजी है। हाल ही में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल व भगवंत मान के रोड शो का फोटो वायरल हुआ, जिसमें भगवंत मान एक सिक्योरिटी गार्ड के साथ अरविंद केजरीवाल की गाड़ी पर लटके थे, जिससे सोशल मीडिया पर सीएम मान की काफी किरकिरी हुई और पंजाब में यह संदेश गया कि भगवंत मान की सरकार को दिल्ली से चलाया जा रहा है।
पंजाब के सीएम भगवंत मान
4 of 6
तीसरा कारण
गायक सिद्धू मूसेवाला का एक ऑडियो वायरल हुआ। इसमें वह सिमरनजीत सिंह मान को कहते हैं कि बापू मैं तैनूं मिलना आना है... पंजाब के भारी संख्या में युवा सिद्धू मूसेवाला को अपना आइकॉन मानते हैं। अंतिम संस्कार में उमड़ी युवाओं की भीड़ ने दिखा दिया था कि उनके जेहन में सिद्धू मूसेवाला के लिए प्यार है। युवाओं ने खुलकर मूसेवाला के कारण सिमरनजीत सिंह मान को वोट किया।
विज्ञापन
विज्ञापन
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान।
5 of 6
चौथा कारण
पंजाब के अहम मुद्दे ड्रग व बेअदबी की घटनाओं पर सरकार का एक भी एक्शन नहीं हुआ है। वीडियो वायरल हुआ, जिसमें दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मीडिया को संबोधित करते हुए कहते हैं कि मेरे साथ कुंवर विजय प्रताप खड़े हैं। इनकी रिपोर्ट सीएम चन्नी की टेबल पर है, उसमें दोषियों के नाम हैं, उनको पकड़कर अंदर करो। यह काम 24 घंटे का है। हमारी सरकार आई तो सबसे पहले बेअदबी के दोषियों को अंदर किया जाएगा। 100 दिन में बेअदबी की घटनाओं के दोषियों पर कार्रवाई नहीं हुई है।
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00