Vishwakarma Puja: क्यों कहा जाता हैं भगवान विश्वकर्मा को प्रथम वास्तुकार? जानें महत्व और पूजा विधि

धर्म डेस्क,अमर उजाला Published by: विनोद शुक्ला Updated Mon, 16 Sep 2019 08:20 AM IST
Vishwakarma puja
1 of 5
विज्ञापन
इस वर्ष विश्वकर्मा पूजा 17 सितंबर, 2019 मंगलवार को मनाई जाएगी। विश्वकर्मा पूजा हर वर्ष कन्या संक्रांति को होती है। भगवान विश्वकर्मा का जन्म इसी दिन हुआ था इसलिए इसे विश्वकर्मा जयंती कहा जाता है। इस दिन भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने का विधान है। दरअसल मान्यताओं के अनुसार विश्वकर्मा को दुनिया का सबसे पहला इंजीनियर और वास्तुकार माना जाता है।

किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान, जानें प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों द्वारा केवल 99 रुपये में। अभी आर्डर करें। (विज्ञापन)
vishwakarma puja
2 of 5
इस दिन उद्योगों, फैक्ट्रियों और मशीनों की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन विश्वकर्मा पूजा करने से खूब तरक्की होती है और कारोबार में मुनाफा होता है। यह पूजा विशेष तौर पर सभी कलाकारों, बुनकर, शिल्पकारों और औद्योगिक क्षेत्रों से जुड़े लोगों द्वारा की जाती है। इस दिन अधिकतर कल-कारखाने बंद रहते हैं।

किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान, जानें प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों द्वारा केवल 99 रुपये में। अभी आर्डर करें। (विज्ञापन)
विज्ञापन
विज्ञापन
2019 vishwakarma puja Date: Lord Vishwakarma the first indian architect
3 of 5
क्या है धार्मिक मान्यताएं 
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है कि प्राचीन काल की सभी राजधानियों का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने ही किया था।  स्वर्ग लोक, सोने कि लंका, द्वारिका और हस्तिनापुर भी विश्वकर्मा द्वारा ही रचित हैं। 

किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान, जानें प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों द्वारा केवल 99 रुपये में। अभी आर्डर करें। (विज्ञापन)
विश्वकर्मा पूजा
4 of 5
क्या है धार्मिक महत्व 
यह पूजा उन लोगों के लिए  महत्वपूर्ण है जो कलाकार, शिल्पकार और व्यापारी हैं। ऐसी मान्यता है कि भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने से व्यापार में वृद्धि होती है। धन-धान्य और सुख-समृद्धि की अभिलाषा रखने वालों के लिए भगवान विश्वकर्मा की पूजा करना आवश्यक और मंगलदायी है।

किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान, जानें प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों द्वारा केवल 99 रुपये में। अभी आर्डर करें। (विज्ञापन)
विज्ञापन
विज्ञापन
vishwakarma puja
5 of 5
विश्वकर्मा पूजा विधि
इस दिन भगवान विश्वकर्मा की प्रतिमा को मंदिर में विराजित किया जाता है। भगवान विश्वकर्मा कि पूजा-अर्चना की जाती है। वैवाहिक जीवन वाले अपनी पत्नी के साथ पूजन करें। हाथ में फूल, चावल लेकर भगवान विश्वकर्मा का ध्यान करे। पूजा में दीप, धूप, पुष्प, गंध, सुपारी का प्रयोग करें। अगले दिन प्रतिमा का विसर्जन करने का विधान है।

किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान, जानें प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों द्वारा केवल 99 रुपये में। अभी आर्डर करें। (विज्ञापन)
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00