लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Vande Bharat: कई आधुनिक तकनीकों और सुविधाओं के साथ लैस है वंदे भारत ट्रेन, पीएम नरेंद्र मोदी ने दिखाई हरी झंडी

यूटिलिटी डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: संकल्प सिंह Updated Fri, 30 Sep 2022 12:34 PM IST
Vande Bharat
1 of 5
विज्ञापन
Vande Bharat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के गांधीनगर से गांधीनगर-मुंबई सेंट्रल वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा दी है। यह देश की तीसरी स्वदेश निर्मित हाई स्पीड ट्रेन है। इस दौरान राज्य के मुख्यमंत्री भुपेंद्र पटेल, रेलवे मंत्री अश्विनी वैष्णव और रेलवे राज्य मंत्री दर्शाना जारदोष भी उप्सथित रहें। वंदे भारत हाई स्पीड ट्रेन गांधी नगर से मुंबई सेंट्रल के बीच चलेगी। देश की इस तीसरी स्वदेश निर्मित हाई स्पीड ट्रेन में कई शानदार सुविधाएं मिलती हैं। इसमें नई सुविधाओं के साथ साथ कई चीजों को अपडेट भी किया गया है, ताकि यात्रियों को सफर के दौरान एक शानदार अनुभव मिल सके। इस ट्रेन में 1128 यात्रियों के बैठने की क्षमता है। इसके अलावा इस ट्रेन में कवच (KAVACH ) तकनीक भी मिलती है। खास बात यह है कि वंदे भारत ट्रेन में सबसे पहले इस तकनीक को लॉन्च किया गया है। इसी कड़ी में आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से -
Vande Bharat
2 of 5
कवच तकनीक को देश में ही विकसित किया गया है। इसकी मदद से ट्रेनों को आमने-सामने से होने वाली टक्कर से रोका जा सकता है। यह ट्रेन 0 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की हाई स्पीड महज 52 सेकेंड में प्राप्त कर सकती है।  
विज्ञापन
Vande Bharat
3 of 5
यही नहीं इस ट्रेन में दिव्यांगों के लिए विशेष शौचालय। वहीं सामान्य यात्रियों के लिए टच फ्री एमिनिटीस युक्त बायो टॉयलेट्स की सुविधा भी मिलती है। इस ट्रेन में स्लाइडिंग्स फुटस्टेप्स, टच फ्री स्लाइडिंग और स्वचलित दरवाजे प्लग भी लगे हैं।
Vande Bharat
4 of 5
इसके अलावा एसी की मॉनिटरिंग के लिए कोच कंट्रोल मैनेजमेंट सिस्टम और कंट्रोल सेंटर है। इस ट्रेन में मेंटेनेंस स्टाफ के साथ कम्युनिकेशन और फीडबैक के लिए GSM/GPRS की तकनीक भी शामिल है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
Vande Bharat
5 of 5
ट्रेन में दृष्टि बाधित लोगों के लिए सीटों के ऊपर ब्रेल लिपि में सीट संख्या को लिखा गया है, ताकि वो आसानी से अपनी सीट की पहचान कर सकें। इसके अलावा इस ट्रेन में बेहतर नियंत्रण प्रबंधन के लिए लेवल - II सेफ्टी इंटीग्रेशन सर्टिफिकेट, कोच के बाहर रियर व्यू कैमरे और प्लेटफॉर्म साइड कैमरे भी शामिल हैं। वंदे भारत ट्रेन कोच में एस्पिरेशन आधारित फायर डिटेक्शन और सप्रेशन सिस्टम भी लगे हैं। 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00