बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान
Myjyotish

इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

ग्रेनो: मुठभेड़ में नौ बदमाश गिरफ्तार, गोली लगने से दो घायल, निर्माणाधीन साइट से चुराते थे लोहे के सामान, अवैध हथियार बरामद

ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क थाने की पुलिस और बदमाशों के बीच सोमवार को मुठभेड़ हो गई। मुठभेड में गोली लगने से दो बदमाश घायल हो गए। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। काबिंग के दौरान सात अन्य बदमाशों को गिरफ्तार किया गया। वहीं, तीन मौके से फरार हो गए। बदमाशों के कब्जे से अवैध हथियार व लोडिंग गाड़ी बरामद की गई है। 

तीन बदमाश मौके से फरार
पुलिस और बदमाशों के बीच 20 सितंबर को हिंडन पुस्ते के पास हुई मुठभेड़ में दो बदमाशों को घायल अवस्था में गिरफ्तार किया गया। घायलों को उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कांबिग के दौरान सात अन्य बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है। उनके कब्जे से चार तमंचा, 315 बोर पांच जिंदा कारतूस, 315 बोर खोखा कारतूस, पांच चाकू, फैक्टरियों में लोहा काटने के उपकरण बरामद किए गए हैं। वहीं तीन बदमाश मौके से फरार हो गए। 

यह भी पढ़ें- 
दिल्ली: सिविल डिफेंस वॉलंटियर और सोनार गिरफ्तार, नेब सराय में सड़क पर चल रही महिला से छीनी थी सोने की चेन

शातिर चोर हैं बदमाश 
पुलिस के मुताबिक, पकड़े गए और फरार बदमाश शातिर चोर हैं, जो बंद पड़े व निर्माणाधीन रेलवे कॉरिडोर से लोहे के सामान चोरी करते थे। दिन में फैक्टरियों व निर्माणाधीन रेलवे पुलों की रेकी कर रात में चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे। बदमाशों के आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।

यह भी पढ़ें- दिल्ली-एनसीआर: जाते-जाते मानसून ने लोगों को भिगोया, कई इलाकों में झमाझम बारिश, रविवार तक येलो अलर्ट जारी

गिरफ्तार बदमाशों का विवरण
1. अनुज पुत्र कमलेश निवासी बाउपुरी थाना पटियाली (घायल) कासगंज हाल निवासी हबीबपुर थाना बिसरख गौतमबुद्धनगर
2. फिरोज खान पुत्र इस्लाम खान निवासी नाई का तालाब कठैरा रोड कस्बा व थाना दादरी 
3. सुधीर पुत्र ऋषिपाल यादव निवासी खजुआ थाना पटियाली कासगंज
4. आकाश पुत्र जयराम सिंह निवासी खदरी थाना पचदेवरा हरदोई
5. माधव सिंह पुत्र शिवपाल सिंह निवासी बिचौला थाना सिढ़पुरा कासगंज
6. नरेंद्र पुत्र विशम्भर पांचाल निवासी पट्टी एहरान थाना खेखडा बागपत
7. सतेंद्र पुत्र लाखन सिंह निवासी उनर पुर थाना मीरापुर फर्रुखाबाद
8. उमेश पुत्र रामबिलास निवासी कैलठा थाना अलीगंज एटा
9. दूरबीन सिंह पुत्र विशुन दयाल निवासी सुजात पुर थाना कम्पिल फर्रुखाबाद

फरार बदमाशों का विवरण
1. गुड्डू पुत्र पप्पू यादव निवासी बाउरी थाना पटियाली कासगंज
2. शैलेन्द्र पुत्र रेवारी यादव निवासी भूरी नंगला थाना पटियाली एटा
3. सनित नामालूम
... और पढ़ें
मुठभेड़ में दो बदमाशों को लगी गोली। मुठभेड़ में दो बदमाशों को लगी गोली।

दिल्ली-एनसीआर: जाते-जाते मानसून ने लोगों को भिगोया, कई इलाकों में झमाझम बारिश, रविवार तक येलो अलर्ट जारी

दिल्ली-एनसीआर में मंगलवार दोपहर मौसम का मिजाज अचानक बदल गया। कई इलाकों में झमाझम बारिश हो रही है। मौसम सुहाना होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली है। 

विदाई की ओर मानसून
पिछले कई दिनों से बादलों की आंख मिचौली चल रही थी। मंगवार दोपहर अचानक मौसम ने करवट ली और झमाझम बारिश हुई। गर्मी से परेशान लोगों ने राहत की सांस ली। बता दें कि दिल्ली-एनसीआर से मानसून विदाई की ओर है। जाते-जाते लोगों को बारिश ने भिगो दिया। 

मौसम विभाग ने लगाया था अनुमान
मौसम विभाग ने मंगलवार को बारिश होने की संभावन जताई थी। बुधवार से तापमान में गिरावट होने लगी थी। सप्ताह का अंत आते-आते अधिकतम तापमान 31 डिग्री तक पहुंच जाएगा जबकि न्यूनतम तापमान के 25 डिग्री के आसपास रहने की संभावना है। 

21 से 26 सितंबर तक येलो अलर्ट
बीते सप्ताह से दिल्ली में बारिश पर ब्रेक लगा हुआ था। आसमान में तेज धूप निकल रही थी। उमस से लोग परेशान हो रहे थे। मानसून ने जाते-जाते लोगों को भिगो दिया। मौसम विभाग ने 21 से 26 सितंबर तक येलो अलर्ट भी जारी किया है। 
... और पढ़ें

दिल्ली दंगा मामला: मां ने वापस ली ड्रग एडिक्ट बेटे की जमानत, कहा- वह मेरे नियंत्रण में नहीं

अदालत ने दिल्ली दंगों के मामले में एक आरोपी की जमानत रद्द कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया। दरअसल आरोपी की जमानत देने वाली उसकी मां ने कहा कि वह उसकी जमानत कायम नहीं रखना चाहती क्योंकि वह एक ड्रग एडिक्ट है और उसके नियंत्रण में नहीं है।

कड़कड़डूमा अदालत के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विनोद यादव ने आरोपी की मां को समझाने की कोशिश की ताकि आरोपी दीपक को सुधरने का मौका दिया जा सके, लेकिन वह अपने तर्क पर कायम रहीं और अपनी जमानत वापस लेने की मांग की।

अदालत ने कहा कि आरोपी को सुधरने का मौका दिया जाना चाहिए और वह उसकी मां ही कर सकती है। आरोपी की मां ने कहा कि उसका बेटा उसकी नहीं सुनता और वह उसकी जमानत को कायम नहीं रख सकती। अदालत ने सभी तथ्यों को देखने के बाद आरोपी को हिरासत में लेने का निर्देश देते हुए न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

वहीं अदालत ने सुनवाई के दौरान पाया कि पूरी न्यायिक और पुलिस फाइल जर्जर हालत में है और दस्तावेज काफी फटे हुए हैं। अदालत ने गोकुल पुरी एसएचओ व जांच अधिकारी से पुलिस स्टेशन गोकुलपुरी और आईओ से कुछ सवाल पूछे, जिनका उनके पास कोई जवाब नहीं था। 

अदालत ने कहा चूंकि विशेष लोक अभियोजक आज उपलब्ध नहीं है, इस संबंध में पूछताछ पर कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। अदालत ने इस मुद्दे पर सुनवाई स्थगित कर दी।
... और पढ़ें

शर्मनाक: वेतन मांगने गए युवक की पत्नी के पेट में मारी लात, गर्भ में पल रहे तीन महीने के भ्रूण की मौत

गुरुग्राम के बिलासपुर में एक निजी कंपनी में नौकरी से हटाए जाने के बाद अपनी पत्नी के साथ सैलरी मांगने गए युवक से एक महिला व एक पुरुष ने मिलकर उनके साथ मारपीट की और जातिसूचक शब्द कहे। इस दौरान उन्होंने बेरहमी से पीड़ित की पत्नी के पेट में लात मार दी। इससे पत्नी के गर्भ में पल रहे तीन माह के भ्रूण की मौत हो गई। बिलासपुर थाना पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज की है।

पीड़ित अपनी पत्नी के साथ कंपनी पहुंचा था और सैलरी के रुपये मांग रहा था। आरोप है कि पीड़ित के 17 हजार रुपये बनते थे, जबकि उसे 15 ही दिए जा रहे थे। विरोध जताया तो जातिसूचक शब्द कहते हुए आरोपियों ने उनके साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। इस दौरान पीड़ित की पत्नी के पेट में लात भी मारी, जिससे उसकी वहीं पर तबियत खराब हो गई। 

महिला को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने बताया कि गर्भ में पल रहे तीन महीने के भ्रूण की मौत हो गई। मामला बढ़ता देख दोनों पक्षों में समझौते की बात चली, लेकिन फिर बात न बन पाने पर पुलिस को शिकायत दी गई। 

बिलासपुर थाना एसएचओ इंस्पेक्टर नवीन ने बताया कि मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। जांच की जा रही है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ये वारदात कई दिन पुरानी है। अब तक दोनों पक्षों में समझौते को लेकर बातचीत चल रही थी। 

समझौता न हो पाने पर शिकायत पुलिस को दी गई है। मामले में शिकायतकर्ता राजस्थान अलवर का मूल निवासी है। वो बिलासपुर स्थित बीकेजी कंपनी में काफी समय से नौकरी करता था, लेकिन कुछ समय पहले उसे नौकरी से हटा दिया गया।
... और पढ़ें

प्रदूषण से निपटने की तैयारी: दिल्ली सरकार तैयार कर रही है एक्शन प्लान, 24 से बायो डि-कंपोजर घोल बनाने की प्रक्रिया होगी शुरू

प्रतीकात्मक तस्वीर।
पिछले साल की तरह इस बार भी इच्छुक किसानों के खेत में बायो डि-कंपोजर का नि:शुल्क छिड़काव दिल्ली सरकार करेगी। पराली से प्रदूषण नहीं फैले इसे लेकर सरकार अभी से ही सर्तक हो गई है। पिछले साल पांच अक्तूबर से घोल बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई थी, जबकि इस साल पांच अक्तूबर तक घोल तैयार कर लिया जाएगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस मुहिम के तहत 24 सितंबर को बायो डि-कंपोजर का घोल बनाने की प्रक्रिया की शुरूआत करेंगे। 

दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा है कि भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, पूसा के सहयोग से खरखरी नहर में यह घोल तैयार किया जाएगा। मीडिया से बातचीत में यह भी बताया कि थर्ड पार्टी ऑडिट की रिपोर्ट से किसान बहुत उत्साहित हैं। किसान गैर बासमती धान वाले खेतों में भी छिड़काव की मांग कर रहे है। लिहाजा इस साल 2 हजार एकड़ की जगह 4 हजार एकड़ खेत के लिए घोल तैयार किया जाएगा। दिल्ली सरकार 50 लाख रुपये इस अभियान में खर्च करेगी। 

उन्होंने केंद्र सरकार से पराली और बायो डि-कंपोजर के मुद्दे पर जल्द निर्णय लेने की मांग की, ताकि समय रहते सभी राज्यों में बायो डि-कंपोजर का छिड़काव किया जा सके। उन्होंने केंद्र से अपील की कि इसे इमरजेंसी मानते हुए जल्द कार्रवाई की जाए, ताकि दिल्ली समेत उत्तर भारत के लोगों को पराली की समस्या से निजात मिल सके।

पड़ोसी राज्यों में जलने वाली पराली का प्रदूषण बढ़ाने में भूमिका: गोपाल राय
गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली के अंदर प्रदूषण की समस्या के समाधान के लिए सरकार लगातार विभागों के साथ बैठक कर रही है। सभी विभाग अपने विंटर एक्शन प्लान बना रहे हैं, जिसे 30 सितंबर तक तैयार कर लिया जाएगा। विचार विमर्श के बाद इसे मुख्यमंत्री घोषित करेंगे। 

राय ने कहा कि प्रदूषण को बढ़ाने में पराली की एक अहम भूमिका होती है। जब दिल्ली के चारों तरफ पड़ोसी राज्यों में पराली जलनी शुरू होती है, तो उसके धुएं की चादर पूरी दिल्ली को घेर लेती है। इसका प्रभाव पूरे उत्तर भारत के अंदर होता है और प्रदूषण का असर कई गुना ज्यादा घातक हो जाता है। पराली की समस्या से निपटने के लिए कई कानून बनाए गए, कई किसानों पर मुकदमे चले और जुर्माना लगाया गया, लेकिन उससे पराली का समाधान नहीं निकला।

केंद्र सरकार की एजेंसी ने भी बायो डि-कंपोजर को सही माना: गोपाल राय
राय ने कहा कि पिछले साल दिल्ली सरकार ने पूसा इंस्टीट्यूट के कृषि वैज्ञानिकों के साथ मिलकर पराली पर बायो डि-कंपोजर का प्रयोग किया। वैसे तो दिल्ली के अंदर पराली कम पैदा होती है। फिर भी दिल्ली सरकार ने प्रयोग के तौर पर किसानों के खेतों में बायो डि-कंपोजर का छिड़काव किया और उसका काफी सकारात्मक परिणाम आया है। पराली पर बायो डि-कंपोजर के प्रभाव की पूरी रिपोर्ट केंद्रीय एयर क्वालिटी मैनेजमेंट कमीशन के सामने प्रस्तुत की थी। कमीशन ने कहा कि आप इसकी थर्ड पार्टी ऑडिट कराइए। ऑडिट भी कराया और उसने भी तमाम पहलुओं पर रिपोर्ट दी कि बायो डि-कंपोजर का पराली पर सकारात्मक असर हुआ है। गेहूं की बुवाई में देर न हो इसके लिए इसका छिड़काव जल्दी किया जाएगा। 29 सितंबर तक घोल की मात्रा को दोगुना कर लेंगे और 5 अक्टूबर तक छिड़काव के लिए घोल बनकर तैयार हो जाएगा। 25 सदस्यीय तैयारी समिति गांवों में जाकर घोल का छिड़काव करवाने के इच्छुक किसानों से फार्म भरवा रही है। पूसा इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों और कृषि विभाग के अधिकारियों की संयुक्त निगरानी में छिड़काव किया जाएगा। 

जाने कैसे तैयार होता है बायो डि कंपोजर
एक एकड़ खेत के लिए घोल बनाने के लिए पूसा इंस्टीट्यूट में निर्मित 4 कैप्सूल की जरूरत होती है। इसके अलावा 250 ग्राम गुड़ और 150 ग्राम बेसन मिलाया जाता है। इसके बाद इस घोल को पकाया जाता है। पकाने के बाद पांच दिन तक के लिए इसे भंडार किया जाता है। फिर उस घोल को दोगुना बनाया जाता है। पिछली बार की अपेक्षा इस बार 10 दिन पहले हम इस पूरी प्रक्रिया को शुरू की जा रही है। 
... और पढ़ें

सावधान: दो साल बाद दिल्ली में फिर तेजी से पांव पसार रहा डेंगू, स्वास्थ्य महकमे ने दी सतर्क रहने की सलाह

दिल्ली वासियों को तेजी से डेंगू अपनी चपेट में ले रहा है। इस साल अभी तक के आंकड़ों को देखें तो 2019 के बाद इस साल सबसे ज्यादा डेंगू के मामले दिल्ली में आए हैं। 2019 में इस अवधि में 217 मरीजों की पुष्टि हुई थी, जबकि इस साल 18 सितम्बर तक डेंगू के 211 मामले दर्ज किए गए हैं। कोरोना महामारी के इस दौर में दिल्ली के नगर निगमों के स्वास्थ्य महकमे ने लोगों को मच्छरों के प्रति ज्यादा सतर्क रहने की सलाह दी है।

पिछले हफ्ते तक डेंगू के 158 मामले दर्ज किए गए थे। एक हफ्ते में 53 नए मामले बढ़े हैं। अगस्त महीने में केवल 72 मामले आए थे। सोमवार को जारी दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की रिपोर्ट के मुताबिक इस साल जनवरी में डेंगू का कोई मामला नहीं आया था, जबकि फरवरी में 2, मार्च में 5, अप्रैल में 10, मई में 12, जून में 7 और जुलाई में 16 मामले आए थे। जुलाई के बाद अगस्त और सितम्बर में डेंगू के मामले तेजी के साथ बढ़े हैं। रिपोर्ट के मुताबिक इस साल डेंगू से अब तक किसी की मौत नहीं हुई है। इस साल मलेरिया के 86 और चिकुनगुनिया के 44 मामलों की पुष्टि हुई है।

डेंगू फैलाने वाले मच्छर का लार्वा साफ और ठहरे हुए पानी में पनपता है। जबकि मलेरिया के मच्छर का लार्वा गंदे पानी में पनपता है। मच्छर जनित बीमारी के मामले आम तौर पर जुलाई से नवंबर के बीच सामने आते हैं। लेकिन इस साल भारी बारिश होने और अधिक जल जमाव होने के कारण मच्छरजनित बीमारियों के मामले बढ़े हैं।
... और पढ़ें

दिल्ली: सिविल डिफेंस वॉलंटियर और सोनार गिरफ्तार, नेब सराय में सड़क पर चल रही महिला से छीनी थी सोने की चेन

अपग्रेडेशन: दुनिया की सर्वाधिक लंबी ड्राइवरलेस मेट्रो लाइन बन जाएगी पिंक लाइन, दुबई की रेड लाइन से साढ़े छह किमी अधिक होगी लंबाई

दिल्ली मेट्रो की पिंक लाइन को ड्राइवरलेस करने के लिए जरूरी तकनीकी बदलाव किए जा रहे हैं। साल के अंत तक यात्रियों को पिंक लाइन पर बगैर चालक वाली मेट्रो में सफर का मौका देने के लिए तैयारी चल रहा है। इसके तैयार होते ही पिंक लाइन दुनिया की सर्वाधिक लंबी (सिंगल लाइन) ड्राइवरलेस मेट्रो लाइन बन जाएगी। 52.1 किलोमीटर लंबी दुबई मेट्रो की रेड लाइन को फिलहाल यह दर्जा प्राप्त है।

पिंक लाइन के 58.6 किलोमीटर में 38 स्टेशन हैं। दिल्ली मेट्रो की सबसे लंबी लाइन होने की वजह से इसकी शुरुआत चरणों में की गई। हाल ही में त्रिलोकपुरी-मयूर विहार (पॉकेट-वन) मेट्रो स्टेशन के जुड़ने से यात्रियों की सहूलियतें और बढ़ गई हैं। मेट्रो अब बगैर किसी रुकावट मजलिस पार्क से शिव विहार के बीच परिचालित हो रही है। दुबई मेट्रो की रेड लाइन की लंबाई 52.1 किलोमीटर है। यह फिलहाल दुनिया की सर्वाधिक लंबी (सिंगल मेट्रो) मेट्रो लाइन है, मगर पिंक लाइन धीरे धीरे ड्राइवरलेस मेट्रो का नया कीर्तिमान स्थापित करने की दिशा में अग्रसर है।

पिंक लाइन को जल्द मिलेगी नई पहचान
मेट्रो सेवाओं को ड्राइवरलेस बनाने के लिए पूरी प्रणाली को कम्युनिकेशन बेस्ड ट्रेन कंट्रोल (सीबीटीसी) तकनीक से जोड़ने की प्रक्रिया चल रही है। इसके तहत सिग्नलिंग और इंटरलिंकिंग पर काम चल रहा है। तकनीक को अपग्रेड किया जा रहा है। इंटरलिंकिंग के साथ ड्राइवरलेस मेट्रो की रफ्तार, ब्रेक और संचालन नियंत्रण केंद्र (ओसीसी) के साथ जोड़ने का सिलसिला चल रहा है। 

साल के अंत तक पिंक लाइन हो जाएगी ड्राइवरलेस
ग्रे लाइन पर मेट्रो सेवाओं के विस्तार के दौरान केंद्रीय आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने भी दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) की तारीफ करते हुए कहा था साल के अंत तक पिंक लाइन को ड्राइवरलेस किया जाना है। इससे पहले पिछले साल मजेंटा लाइन को ड्राइवरलेस किया कर दिया गया है। ऐसा होने के बाद पिंक लाइन दुनिया की सर्वाधिक लंबी ड्राइवरलेस मेट्रो बन जाएगी। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X