लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Charmme Kaur Interview: चार्मी कौर का खुलासा, ‘अभिषेक बच्चन ने मुझे देखा और बोले, आपको तो हीरोइन होना चाहिए’

अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई Published by: पलक शुक्ला Updated Fri, 19 Aug 2022 08:12 AM IST
चार्मी कौर
1 of 9
विज्ञापन
बात उन दिनों की है जब अभिषेक बच्चन हिंदी सिनेमा में अपनी पहचान बनाने के लिए खूब मेहनत कर रहे थे। ऋतिक रोशन और करीना कपूर के साथ उनकी फिल्म ‘मैं प्रेम की दीवानी हूं’ की हर तरफ चर्चे थे और शूटिंग हो रही थी फिल्म के गाने, ‘बनी रे बनी मैं प्रेम दीवानी’ की। शूटिंग के दौरान अभिषेक बच्चन की नजर एकाएक अपने पीछे बैठी एक युवती पर गई तो वह काफी प्रभावित हुए और बोले, ‘आपको तो हीरोइन होना चाहिए।’ अभिषेक बच्चन की कही ये बात दिल से लगा बैठी ये युवती थीं चार्मी कौर। चार्मी ने न सिर्फ दक्षिण की तमाम हिट फिल्मों मे काम किया बल्कि अभिषेक के पिता अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म ‘बुड्ढा होगा तेरा बाप’ में काम भी किया और अब अगले हफ्ते रिलीज होने जा रही फिल्म ‘लाइगर’ की निर्माता के रूप में भी जमाना उनको जानता है।
मैं प्रेम की दीवानी हूं
2 of 9
पहली कमाई दो सौ रुपये 
‘अमर उजाला’ से एक खास मुलाकात में चार्मी कौर बताती हैं कि कैसे उन्होंने अपने करियर की शुरुआत फिल्मों में जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर की। फिल्म 'मैं प्रेम की दीवानी हूं' के  गाने की शूटिंग के दौरान अभिषेक बच्चन के पीछे बैठने के उन्हें दो सौ रुपये मिले थे और अब उनकी 200 करोड़ की फिल्म 'लाइगर' रिलीज के लिए तैयार है। चार्मी के जीवन में एक ऐसा भी दौर आया जब उनके घरवालों के पास स्कूल की उनकी फीस भरने के पैसे तक नहीं होते।
विज्ञापन
पुरी जगन्नाथ, चार्मी कौर
3 of 9

स्कूल की फीस भरने को नहीं थे पैसे
चार्मी कौर का जन्म मुंबई से सटे वसई में 17 मई 1987 को हुआ। उनके पिता दीप सिंह भूपत का गोरेगांव पूर्व में नट बोल्ट का कारखाना था। अचानक उनको लकवा मार गया तो कारखाना बंद करना पड़ा। चार्मी कौर बताती हैं, 'पिताजी की बीमारी की वजह से फैक्ट्री बंद हुई तो हम लोग बहुत परेशानी में आ गए। स्कूल में फीस भरने तक के पैसे नहीं होते थे। कई बार तो मेरे पड़ोस के शेट्टी अंकल ने ही मेरे स्कूल का फीस भरी। पिताजी वास्तुशास्त्र के जानकार थे तो उसी के चलते घर का खर्च किसी तरह निकल आता था। मैं 13 साल की थी तब और मुझे लगने लगा था कि मुझे भी कुछ काम करना चाहिए।'

लाइगर टीम के साथ चार्मी कौर
4 of 9

और, ऐसे मिला पहला ब्रेक
कहते हैं कि सच्चे दिल से की गई प्रार्थना कभी बेकार नहीं जाती। चार्मी कौर के साथ भी ऐसा ही हुआ। वह बताती हैं, 'एक दिन मैं गुरुद्वारे से अपने भाई कुलदीप सिंह के साथ घर आ रही थी तो रास्ते में एक कास्टिंग डायरेक्टर मिल गए। मुझे देखते ही बोले कहा कि तुम बहुत खूबसूरत हो, फिल्मों में काम करेगी? उनकी बात सुनकर मेरे भाई को गुस्सा आ गया। इस पर कास्टिंग डायरेक्टर ने बताया कि ऋतिक रोशन और करीना कपूर की एक फिल्म है। मैं गुरुद्वारे से यही प्रार्थना करके निकली थी कि वे इस संकट से मुझे निकालें और यूं लगा कि मेरी प्रार्थना सुन ली गई थी।'

विज्ञापन
विज्ञापन
लाइगर टीम के साथ चार्मी कौर
5 of 9

घर वाले एक्टिंग के खिलाफ थे
ऋतिक रोशन और करीना कपूर की चार्मी कौर बहुत बडी प्रशंसक रही है। जब उन्होंने अपने मम्मी पापा को बताया कि उन्हें ऋतिक रोशन और करीना कपूर की फिल्म में काम करने का मौका मिला है। तो वे फिल्मों में काम करने को लेकर राजी नहीं थे। चार्मी कहती हैं, 'मैंने रात भर रो रोकर मम्मी को समझाया कि एक बार मुझे काम करने दो। इसी बहाने मैं ऋतिक रोशन, करीना कपूर और अभिषेक बच्चन से मिल लूंगी। किसी तरह से मम्मी तैयार हुई और सिर्फ एक बार काम करने की अनुमति मिली। लेकिन जब यहां से शुरुआत हुई तो बस हो गई।' 

विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00