Hindi News ›   Delhi NCR ›   Ghaziabad ›   ias officer k sarangi filed fir against two organizations including abdul rehman in ghaziabad marrying daughter for love jihad

गाजियाबाद : आईएएस पिता का आरोप- लव जिहाद के लिए बेटी से रचाई शादी, मुस्लिम युवक और दो संस्थाओं के खिलाफ केस दर्ज

संवाद न्यूज एजेंसी, गाजियाबाद। Published by: Vikas Kumar Updated Wed, 04 May 2022 06:47 AM IST
सार

के सारंगी ने एफआईआर में कहा, लव जिहाद की इस साजिश में सिर्फ उनकी बेटी नहीं, और भी लड़कियां फंसी हैं। पुलिस से गुहार है कि इस केस में कड़ी कार्रवाई करे ताकि अन्य लड़कियां सुरक्षित माहौल में रह सकें।

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : फाइल फोटो
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

दिल्ली में तैनात आईएएस अधिकारी के. सारंगी ने गाजियाबाद नगर कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराकर आरोप लगाया है कि युवक अब्दुल रहमान ने उनकी इकलौती बेटी डॉ. हर्ष भारती सारंगी से बड़ी साजिश के तहत शादी की है। इसके पीछे उसका मकसद लव जिहाद के तहत बेटी का धर्म परिवर्तन कराने का है। शादी कराने वाली दो संस्थाएं भी इस साजिश में शामिल हैं। पुलिस ने संस्थाओं के पदाधिकारियों से जवाब तलब किया है।



के. सारंगी ने एफआईआर में कहा, बेटी 2016 में यूक्रेन से एमबीबीएस कर लौटी थी। मेरठ के मवाना निवासी अब्दुल रहमान 2017 से उसके पीछे पड़ा था। उसने फरेब का जाल बुनकर बेटी को फंसाया। बेटी को पहले घायल किया, फिर सहानुभूति दिखाई और उसके बाद दबाव बनाकर साथ में रखने लगा। इसमें मौलानाओं ने उसका साथ दिया। उसने खौलते तेल से बेटी का चेहरा जलाने की कोशिश की ताकि उससे शादी की बात मानने के सिवाय उसके पास कोई चारा न रहे। उसने कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए नवंबर 2018 में मंदिर में शादी रचाकर इसका पंजीकरण भी कराया। शादी के बाद से अब्दुल रहमान और हर्ष भारती नोएडा में रह रहे हैं। एफआईआर में अब्दुल रहमान, वैदिक हिंदू सभा, गाजियाबाद के पदाधिकारी, आर्य समाज मंदिर ट्रस्ट, दिल्ली के पदाधिकारी नामजद हैं।


और भी लड़कियां जाल में फंसी
के सारंगी ने एफआईआर में कहा, लव जिहाद की इस साजिश में सिर्फ उनकी बेटी नहीं, और भी लड़कियां फंसी हैं। पुलिस से गुहार है कि इस केस में कड़ी कार्रवाई करे ताकि अन्य लड़कियां सुरक्षित माहौल में रह सकें। पुलिस के मुताबिक धोखाधड़ी के इस मामले में नामजद दोनों संस्थाओं के पदाधिकारियों से पूछताछ की जाएगी। उन्हें बुलाया गया है। उनसे पूछा जाएगा कि अलग-अलग धर्म के युवक-युवती की शादी का प्रमाणपत्र किस आधार पर जारी किया गया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00