लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Five NCP MLAs Absent in Maharashtra Assembly Speaker Voting Know News in Hindi

Maharashtra Crisis: क्या पवार की पार्टी भी टूटेगी? रविवार को स्पीकर के चुनाव में पांच विधायकों ने नहीं किया था मतदान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Published by: संजीव कुमार झा Updated Mon, 04 Jul 2022 09:15 AM IST
सार

महाराष्ट्र की राजनीति में पिछले लगभग एक महीने से चल रहे सियासी घमासान का  अंत आज फ्लोर टेस्ट के परिणाम से होने की उम्मीद है। 

शरद पवार(फाइल)
शरद पवार(फाइल) - फोटो : पीटीआई
ख़बर सुनें

विस्तार

महाराष्ट्र में सियासी घमासान के बीच शिवसेना ही नहीं शरद पवार की पार्टी एनसीपी के लिए भी मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। दरअसल, रविवार को स्पीकर के चुनाव के लिए हुए मतदान में एनसीपी के पांच विधायकों ने भाग नहीं लिया था। जिसके बाद से आशंका जताई जा रही है कि क्या शरद पवार की पार्टी में भी टूट होगी?



एनसीपी के 53 में से 46 विधायक ही चुनाव में लिया था भाग, दो जेल में बंद
बता दें कि एनसीपी के 53 में से 46 विधायक ही विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए हुए मतदान में हिस्सा लेने के लिए विधान भवन पहुंच पाए। इनमें से नवाब मलिक और अनिल देशमुख जेल में बंद हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के आरएल नरवेकर 164 मतों के साथ अध्यक्ष चुने गए। महा विकास अघाड़ी गठबंधन की पार्टियां राकांपा, कांग्रेस और उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने स्पीकर पद के लिए शिवसेना के विधायक राजन साल्वी को अपने उम्मीदवार के रूप में नामित किया था। लेकिन साल्वी को केवल 107 मत मिले जिसके कारण उन्हें हार का सामना करना पड़ा।


ये हैं पांच विधायक जिन्होंने मतदान नहीं किया
रविवार को चुनाव में भाग नहीं लेने वाले एनसीपी के पांच विधायक दत्तात्रेय भराने, बबन शिंदे, नीलेश लंके, दिलीप मोहिते और अन्ना बंसोडे थे। इसके अलावा, एनसीपी के वरिष्ठ विधायक अनिल देशमुख और नवाब मलिक, जो वर्तमान में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में जेल में हैं, ने मतदान नहीं किया। एनसीपी नेताओं ने कहा कि भराने ने एक जुलाई को अपनी मां गिरिजाबाई को खो दिया था। देर से विधान भवन पहुंचने के कारण मोहिते और बंसोडे को मतदान प्रक्रिया में शामिल नहीं होने दिया गया। लांके से संपर्क नहीं हो सका।

एनसीपी के कुछ विधायक पहले से भाजपा से जुड़ना चाहते थे: मीडिया रिपोर्ट
मतदान प्रक्रिया के दौरान अनुपस्थित रहने वाले इन विधायकों में से अधिकांश एनसीपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री अजीत पवार के करीबी माने जाते हैं। कुछ  मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एकनाथ शिंदे के भाजपा से हाथ मिलाने से पहले एनसीपी का एक वर्ग भी भाजपा के साथ फिर से जुड़ना चाहता था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00