लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   now people cheers inquilab zindabad and bharat mata ki jai

'इंकलाब जिंदाबाद' के साथ होगी 'भारत माता की जय!'

एम राजीव लोचन, इतिहासकार, पंजाब विश्वविद्यालय/बीबीसी हिंदी डॉट कॉम के लिए Updated Wed, 23 Mar 2016 02:26 PM IST
भारत माता की जय के साथ इंकलाब जिंदाबाद का नारा भी
भारत माता की जय के साथ इंकलाब जिंदाबाद का नारा भी - फोटो : Getty
ख़बर सुनें

कभी-कभार कुछ लोग ऐसे काम कर जाते हैं की सारा देश उनके पीछे इकट्ठा हो जाता है। उनके बोलों को लगातार याद करता है। मानो इतना कर लेने भर से देश और दुनिया के सारे कष्ट दूर हो जाएंगे।


भारत माता की जय के साथ इंकलाब जिंदाबाद का नारा भी 1929 वाले साल में कुछ ऐसा ही था। या यह कहें कि 'यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत, अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्', वाली बात गीता में बस भगवान उवाच न रह कर, सच हो जाए। कुछ ऐसा ही बीसवीं सदी के दूसरे दशक में हुआ जब भगत सिंह और उनके क्रांतिकारी साथियों ने दिल्ली की असेंबली में एक आवाजी बम फोड़ा (8 अप्रेल 1929)। बम का उद्देश्य केवल जोर से आवाज करना था, किसी को नुकसान पहुंचाना नहीं। बस सरदार बहादुर सोभा सिंह के हाथ में कुछ खरोंचें आईं। 


http://ichef-1.bbci.co.uk/news/ws/624/amz/worldservice/live/assets/images/2015/03/23/150323111024_bhagat_singh_sukhdev_rajguru_624x351_bbc.jpg

बम की अफरा-तफरी में भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त दर्शक दीर्घा से ‘इंकलाब ज‌िंदाबाद’ के नारे लगाते हुए कुछ पर्चे फेंक रहे थे। अगले दिन अखबारों में बस एक ही चर्चा थी: सोशलिस्ट विचार धारा के दो नौजवानों ने कुंभकर्णी सरकार की नींद खोल दी है। सरकार को साधारण भारतीयों की बात सुनने पर मजबूर कर दिया है। अखबारों ने यह भी बताया कि दोनों क्रांतिकारी 'इंकलाब ज‌िंदाबाद' के नारे लगा रहे थे।

http://ichef.bbci.co.uk/news/ws/624/amz/worldservice/live/assets/images/2014/08/06/140806124505_bhagat_singh_book_jadanwala_pakistan_624x351_shirazhasan.jpg

यह इंकलाबी नारा 1921 में अलीगढ़ में सर सैयद अहमद खान द्वारा स्थापित मोहमेदन ऐंग्लो ओरिएंटल कॉलेज से पढ़े हुए, मशहूर शायर हसरत मोहानी ने मुस्लिम लीग के सालाना जलसे में, आज़ादी-ए-कामिल (पूर्ण आज़ादी) की बात करते हुए दिया था। यह वह समय था जब स्वतंत्रता आंदोलन जोरों पर था और गांधीजी ने लोगों को एक साल में पूर्ण आज़ादी का आश्वासन दिया था। कुछ ही महीनों में आंदोलन वापस ले लिया गया. झुंझलाए हुए लोग इंक़लाब की बात भूल कर सांप्रदायिक नारे लगाते हुए एक-दूसरे को ढूंढ-ढूंढ कर क़त्ल करने लगे।

http://ichef-1.bbci.co.uk/news/ws/624/amz/worldservice/live/assets/images/2014/12/15/141215153208_bhagat_singh_640x360__nocredit.jpg

किशोर भगत सिंह यह सब देख कर मानो विस्मित हो गया. वे लोग जो कल तक एक-दूसरे के साथ मिल कर 'भारत माता की जय' के नारे लगाते हुए अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ खड़े थे अचानक एक-दूसरे के ख़ून के प्यासे कैसे हो गए? और वह भी साम्प्रदायिकता के आधार पर! जिससे हर किसी का केवल नुक़सान होता है, लोग बंट जाते हैं, उनकी असली समस्याओं का हल भी नहीं निकलता, बस विदेशी सरकार का हाथ मज़बूत होता है।

कौमी नारों से होने वाला नुकसान दिख चुका था। लोगों को एक नई दिशा देना जरूरी था। नतीजतन नौजवान भारत सभा के साथियों ने तय किया कि 'भारत माता की जय' के साथ-साथ 'इंकलाब जिन्दाबाद' भी उनका नारा होगा। उनका मानना था कि बग़ैर इंक़लाब के लोग सांप्रदायिकता के जाल में फंस जाएंगें।

 

असेंबली बम कांड में लगे नारों ने देश को झकझोर दिया। इसके बाद देश भर में 'भारत माता की जय' और 'इंकलाब ज़िंदाबाद' के नारे लगने लगे। कौमी नारे और कौमी बैर को लोगों ने ताक पर रख दिया। एक होकर अंग्रेजों के खिलाफ फिर खड़े हो गए।

आने वाले चार सालों तक लगभग रोज अखबारों में भगत सिंह और उनके साथियों के कारनामों की चर्चा रहती। और हर खबर के साथ लोगों का निश्चय दृढ़ हो जाता: भारत में कौमी नारों का कोई स्थान नहीं है, 'भारत माता की जय', 'इंकलाब जिंदाबाद' के साथ ही होगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00