लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Bareilly ›   school teacher went away after locking girl in school in faridpur Bareilly

लापरवाही की हद: बच्ची को स्कूल में बंद कर चले गए टीचर, ढूंढता हुआ पहुंचा पिता तो इस हाल में मिली बेटी

संवाद न्यूज एजेंसी, फतेहगंज पूर्वी Published by: Vikas Kumar Updated Sat, 06 Aug 2022 01:11 AM IST
सार

स्कूल की प्रिंसिपल निर्मला देवी का कहना है कि बच्ची की दादी स्कूल आई थी और वह उसका बैग ले गई थीं, इसलिए स्टाफ को लगा होगा कि वह अपने भाई के साथ घर चली गई होगी।

मां के साथ मासूम
मां के साथ मासूम - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पांच साल की छात्रा को फतेहगंज पूर्वी के गांव निवड़िया में स्थित कंपोजिट विद्यालय का स्टाफ छुट्टी के बाद स्कूल में बंद करके चला गया। एक घंटे बाद छात्रा का पिता उसे ढूंढते हुए स्कूल पहुंचा तो आंगनबाड़ी केंद्र के एक कक्ष में वह बैठी मिली। छात्रा के पिता ने फोन करके मामले की शिकायत खंड शिक्षा अधिकारी से की तो उन्होंने कंपोजिट विद्यालय के स्टाफ का स्पष्टीकरण तलब किया है।



निवड़िया गांव में रहने वाले संजीव मिश्रा की पांच साल की बेटी निहारिका गांव में ही स्थित कंपोजिट विद्यालय में आंगनबाड़ी केंद्र में पढ़ती है। उसका बड़ा भाई वंश भी इसी स्कूल में कक्षा एक पढ़ता है। शुक्रवार को दो बजे स्कूल की छुट्टी होने के बाद वंश तो घर पहुंच गया, लेकिन निहारिका नहीं पहुंची। इस पर उसकी दादी स्कूल पहुंची तो वहां मिले एक कर्मचारी ने बताया कि छुट्टी के बाद सभी बच्चे घर जा चुके हैं। वह घर पहुंची और अपने बेटे संजीव को बताया। करीब पौन घंटे तक संजीव बेटी को गांव में ढूंढते रहे। जब उसका कहीं पता नहीं चला तो तलाश करते हुए स्कूल पहुंचे। स्कूल के गेट पर ताला पड़ा होने पर वह गेट कूदकर परिसर के अंदर दाखिल हुए। वहां आंगनबाड़ी केंद्र के एक कमरे में निहारिका गुमसुम सहमी हुई बैठी मिली। संजीव उसे निकालकर घर लेकर आए। इसके बाद उन्होंने मामले की शिकायत खंड शिक्षा अधिकारी शशांक शेखर मिश्रा को फोन करके की।

 

कुछ समय पहले भी हो गई थी लापता

पिता को बच्ची जिस कमरे में बैठी मिली उसका दरवाजा खुला हुआ था। स्कूल परिसर के सिर्फ गेट पर ताला पड़ा था। ग्रामीणों का कहना है कि बच्ची या तो कमरे में सो गई होगी या फिर खुद ही वहां छिपकर बैठी होगी। उन्होंने बताया कि बच्ची कुछ दिन पहले भी इसी तरह पड़ोस के एक घर में छिप गई थी। परिजन के काफी तलाश करने पर वह मिली थी। बताया कि स्कूल जिस रास्ते पर है उस पर हर समय आवाजाही रहती है, आसपास में कई घर भी हैं। ऐसे में यदि वह आवाज लगाती या रोती तो किसी न किसी को पता चला जाता।

वहीं स्कूल की प्रिंसिपल निर्मला देवी का कहना है कि बच्ची की दादी स्कूल आई थी और वह उसका बैग ले गई थीं, इसलिए स्टाफ को लगा होगा कि वह अपने भाई के साथ घर चली गई होगी।

बच्ची को स्कूल में बंद कर जाने का मामला गंभीर है। विद्यालय के स्टाफ को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा गया है। जवाब संतोषजनक न मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। - शशांक शेखर मिश्रा, खंड शिक्षा अधिकारी, फरीदपुर
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00