बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान
Myjyotish

इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

शिक्षक दिवस विशेष: कोरोना काल में भी इन शिक्षकों ने नहीं मानी हार, अपने इनोवेशन से फैलाया ज्ञान का प्रकाश

कोरोना काल में हर क्षेत्र को चुनौतियों का सामना करना पड़ा। ऐसी विकट परिस्थितियों में भी कुछ शिक्षकों ने चुनौतियों को स्वीकार किया और अपने नवाचार के जर...

5 सितंबर 2021

Digital Edition

महंत नरेंद्र गिरी प्रकरण : शासन ने हत्या और आत्महत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए एसआईटी गठन का दिया आदेश

महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले की जांच अब स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) करेगी। शासन ने इस हत्या और आत्महत्या की गुत्थी को सुलझाने के लिए एसआईटी के गठन का आदेश दिया है। गौरतलब है कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एडीजी, मंडलायुक्त, आईजी और डीआईजी को जांच का आदेश पहले ही दे दिया था। इसी के साथ सभी जांच एजेंसियों को अलर्ट कर दिया गया था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरी घटना को संपत्ति के विवाद के रूप में देखा जा रहा है। इसी आधार पर जांच आगे बढ़ रही है। घटना को लेकर कई साक्ष्य एकत्रित किए गए हैं। एक-एक घटना का पर्दाफाश किया जाएगा। दोषी कोई भी हो बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि यह बहुत ही संवेदनशील घटना है। लोग अनावश्यक बयानबाजी न करें। जांच एजेंसियों पर भरोसा रखें और उन्हें निष्पक्ष रूप से काम करने दें।

नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत के मामले में एक भाजपा नेता का नाम भी सामने आ रहा है। मुख्यमंत्री के सामने भी यह मुद्दा उठा। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषी कोई भी हो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री ने नरेंद्र गिरि के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया। कहा कि कुंभ के आयोजन में उन्होंने अभिभावक की भूमिका निभाई। आयोजन को वैश्विक बनाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा। अखाड़ों के विकास के लिए वह हमेशा तत्पर रहे। साधु-संतों की समस्याओं को भी लगातार उठाते रहे। उनके निधन से समाज का हर वर्ग आहत है।

 उल्लेखनीय है कि महंत नरेंद्र गिरि ने सोमवार को संदिग्ध परिस्थितियों में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। उनका शव अल्लापुर स्थित बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास में मिला। शाम को सूचना मिलते ही हड़कंप मच गया। पुलिस ने सूचना मिलते ही मठ को सीज कर दिया। जिले के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। वहां से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है जिसमें उन्होंने अपने शिष्य आनंद गिरि पर परेशान करने का आरोप लगाया है। वहीं दूसरी आरे महंत नरेंद्र गिरि के शिष्य आनंद गिरि को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।
... और पढ़ें
महंत नरेंद्र गिरी महंत नरेंद्र गिरी

आजादी का अमृत महोत्सव: एसएसबी की साइकिल रैली को सीएम योगी ने दिखाई हरी झंडी, बोले-आपसी संबंध बनाए रखना जवानों से सीखा जा सकता है

ह्यूमन इंटेलीजेंस का अब भी कोई तोड़ नहीं है। इसका अपना अलग महत्व है। क्योंकि आम नागरिक स्थानीय स्तर पर सटीक व सही जानकारी रखता है। यह आंतरिक और बाहरी सुरक्षा के लिए बहुत जरूरी है। इस पर पुलिस को भी काम करने की जरूरत है। यह बातें मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यना ने सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की ओर से आयोजित आजादी के अमृत महोत्सव के तहत साइकिल रैली को रवाना करने से पहले कहीं।

मुख्यमंत्री ने एसएसबी की तारीफ करते हुए कहा कि यह एक फोर्स ही नहीं है बल्कि राष्ट्र के प्रति अपनी जिम्मेदारियों के निर्वहन करने वाली फोर्स है। इसे स्थानीय नागरिकों के साथ आत्मीय संबंध बनाए जाने के लिए भी जाना जाता है। उन्होंने कहा कि भारत नेपाल की सीमा पर एसएसबी 2001 से लगातार काम कर रही है उत्तर प्रदेश की 600 किलोमीटर की सीमा नेपाल से जुड़ी हुई है। उन्होंने कहा कि हम सब आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। आजादी में अपना बलिदान देने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के त्याग और बलिदान से हम सबको प्रेरणा प्राप्त होती है।

चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव का भी हो रहा आयोजन
मुख्यमंत्री ने कहा कि 4 फरवरी 1922 को गोरखपुर के चौरी चौरा में देश की स्वधीनता के लिए स्थानीय नागरिकों, किसानों व श्रमिकों ने ब्रिटिश शासक के खिलाफ एक बड़ा आन्दोलन किया था। ऐसे में 100 साल पूरे होने पर चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव का भी आयोजन किया जाएगा। आजादी का अमृत महोत्सव और चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव को एक साथ जोड़ते हुए यह व्यवस्था बनाई गई कि इन दोनों आयोजनों से जुड़े प्रदेश के प्रत्येक शहीद स्थल व स्वाधीनता से जुड़े पवित्र स्थलों पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। योगी ने कहा कि एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को साकार करते हुए प्रदेश सरकार ने महाराष्ट्र, असम, मणिपुर व अरुणाचल प्रदेश के साथ 2015-16 में एमओयू हस्ताक्षरित किया गया था। इसके माध्यम से राष्ट्रीय पर्वों पर प्रदेश की सांस्कृतिक टीम इन राज्यों में जाती हैं व इन राज्यों की टीम उत्तर प्रदेश आती हैं।

असम से चली साइकिल रैली दिल्ली में राजघाट पर होगी समाप्त
आजादी के अमृत महोत्सव की श्रृंखला में असम के तेजपुर स्थित एसएसबी के सीमान्त मुख्यालय निकली साइकिल रैली 2 अक्तूबर को दिल्ली में राजघाट पर समाप्त होगी। इस दौरान साइकिल रैली 2384 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। इस मौके पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, डीजीपी मुकुल गोयल, अपर महानिदेशक एसएसबी राधिका, आईजी एसएसबी संजय रतन समेत कई अधिकारी मौके पर मौजूद थे।
... और पढ़ें

बीसीसीआई ने जारी किया कैलेंडर: लखनऊ करेगा भारत-श्रीलंका टी-20 मैच की मेजबानी, 18 मार्च को होगा मुकाबला

लखनऊ का अटल बिहारी वाजपेयी इकाना क्रिकेट स्टेडियम तकरीबन सवा तीन साल के बाद टीम इंडिया के मुकाबले की मेजबानी करेगा। बीसीसीआई की अपेक्स काउंसिल की ओर से जारी घरेलू कैलेंडर के अनुसार अगले साल 18 मार्च को भारत और श्रीलंका के बीच सीरीज का तीसरा टी-20 मैच खेला जाएगा।

यह इकाना स्टेडियम में टीम इंडिया का दूसरा अंतरराष्ट्रीय मुकाबला होगा। इससे पहले यहां छह नवंबर वर्ष 2018 को भारत और वेस्टइंडीज के बीच टी-20 मैच खेला गया था, जिसमें भारतीय टीम ने कप्तान रोहित शर्मा के आतिशी शतक (61 गेंदों पर नाबाद 111 रन) की बदौलत वेस्टइंडीज को 71 रन से करारी मात दी थी।

पिछले साल कोरोना संक्रमण से पहले इकाना स्टेडियम को अफगानिस्तान ने अपना होम ग्राउंड बनाया था। इसके तहत स्टेडियम में अफगानिस्तान और वेस्टइंडीज टीम के बीच तीन वनडे, तीन टी-20 और एक टेस्ट मैच की सीरीज खेली गई थी।
... और पढ़ें

महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामला: शिष्य आनंद गिरि के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज, सुसाइड नोट में था आरोप

अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या मामले की पुलिस हर कोण से जांच कर रही है। महंत ने सुसाइड नोट में शिष्य आनंद गिरि पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। प्रदेश के एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि पुलिस के पहुंचने से पहले ही महंत के शव को रस्सी के फंदे से उतारा जा चुका था। उन्होंने सुसाइड नोट में शिष्य द्वारा प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। एडीजी के अनुसार, शिष्य आनंद गिरि के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

एडीजी कानून व्यवस्था के अनुसार, शव को महंत नरेंद्र गिरि के अनुयायियों ने दरवाजा तोड़कर फंदे से उतारा। उनके कमरे से सुसाइड नोट मिला है, जिसमें महंत के शिष्य आनंद गिरि की प्रताड़ना से परेशान होकर ऐसा कदम उठाने की बात कही गई है। पूरे मामले की जांच की जा रही है।

पुलिस का कहना है कि प्रथम दृष्टया में यह खुदकुशी का मामला है। बाघंबरी मठ के समर्थकों को यह बात हजम नहीं हुई। उन्होंने गेट पर नारेबाजी करते हुए इसे हत्या का मामला बताया। इसी तरह निरंजनी अखाड़े के सचिव रहे महंत आशीष गिरि की मौत पर भी सवाल उठे थे। उनकी खून से लथपथ लाश उनके दारागंज स्थित कमरे में मिली थी। उस समय भी पुलिस ने कहा था कि उन्होंने पिस्टल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। आज तक पता नहीं चल पाया कि आशीष गिरि ने आत्महत्या क्यों की।
... और पढ़ें

बदल गया नजरिया: कोरोना की त्रासदी ने समझाई रिश्तों की अहमियत, तलाक की दहलीज से लौटे 65 दंपती

नरेंद्र गिरि (फाइल फोटो)
कोरोना ने हमसे बहुत कुछ छीना, इस खोने के दर्द ने जिंदगी व रिश्तों की अहमियत भी समझा दी है। इसका उदाहरण हैं ऐसे 65 दंपती, जो एक-दूसरे की शक्ल तक देखने के लिए तैयार नहीं थे और अलग होने का फैसला कर चुके थे। कोरोना काल में जिस तरह लोगों से अपने बिछड़ते चले गए, उस दुख ने इन्हें जिंदगी के प्रति नया नजरिया दिया। रिश्तों की अहमियत का अहसास होने पर इन्होंने तलाक का इरादा बदल दिया। अब ये हंसी-खुशी साथ रहने के लिए तैयार है।

इसे संभव किया है 181 वन स्टॉप सेंटर की टीम ने। तीन से चार काउंसिलिंग के बाद टीम के सदस्यों ने ‘कल हो न हो’ के फलसफे को समझाकर इन परिवारों को टूटने से बचा लिया।

पत्नियों को पीटने में डॉक्टर, इंजीनियर आगे
काउंसिलर सोनल श्रीवास्तव बताती हैं कि कोरोना काल में घरेलू हिंसा बहुत तेजी से बढ़ी। लगातार मामले आ रहे थे। अप्रैल से अगस्त तक 625 शिकायतें आईं थीं। इनमें 70 फीसदी मामले डॉक्टर, इंजीनियर, शिक्षक जैसे पढ़े-लिखे परिवारों के थे।
... और पढ़ें

यूपी विधानसभा चुनाव 2022: सपा के वरिष्ठ नेता गांवों को लेंगे गोद, मोहल्ले में जाकर करेंगे विकास योजनाओं का प्रचार

समाजवादी पार्टी ने हर व्यक्ति तक पहुंचने की नई रणनीति अपनाई है। इसके तहत पार्टी के वरिष्ठ नेता गांवों को गोद लेंगे। वे माह में एक दिन संबंधित गांव में चौपाल लगाएंगे। अन्य दिन अलग-अलग पुरवा (मोहल्ला) में जाकर लोगों से मिलेंगे। इस दौरान समाजवादी सरकार के कार्यकाल में हुए विकास कार्यों के बारे में लोगों को बताएंगे।

इन दिनों सपा के विभिन्न फ्रंटल संगठनों, मोर्चा और समर्थित पार्टियों की ओर से यात्रा निकाली जा रही है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल की किसान पटेल यात्रा, सपा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राजपाल कश्यप की पिछड़ा वर्ग स्वाभिमान यात्रा, लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय महासचिव के नेतृत्व में बेरोजगार, किसान व मजदूर संवाद यात्रा, पूर्व मंत्री राम किशोर बिंद की समाजवादी जन चौहान, बिंद, निषाद केवट मल्लाह यात्रा, महिला सभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष जूही सिंह की जनसंवाद यात्रा, जनवादी पार्टी अध्यक्ष डॉ. संजय चौहान की जनवादी क्रांति रथ यात्रा सहित करीब दो दर्जन यात्राएं चल रही हैं। इनके लिए अलग-अलग क्षेत्र तय किए गए हैं।

अगले चरण में सपा गांव-गांव डेरा डालने की रणनीति पर कार्य करेगी। यह कार्यक्रम अक्तूबर के पहले सप्ताह से शुरू करने की तैयारी है। इसके तहत पार्टी के जिला कार्यकारिणी अथवा चुनाव मैदान में उतरने की तैयारी करने वाले वरिष्ठ नेता अपने विधानसभा क्षेत्र के गांवों को गोद लेंगे। एक नेता को अधिकतम पांच गांव की जिम्मेदारी दी जाएगी। ताकि वे संबंधित गांवों में लोगों के बीच पहुंच सकें। नेताओं को विधानसभा क्षेत्रवार गांवों का निर्धारण जिला अध्यक्ष और विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष आपसी मशविरा से करेंगे।
... और पढ़ें

पीएम मोदी को भेजे जाएंगे 51 लाख पोस्टकार्ड : राम मंदिर निर्माण से लेकर अनुच्छेद 370 की समाप्ति पर जताएंगे आभार

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की शुरुआत करने, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 की समाप्ति के साथ किसान सम्मान निधि, उज्ज्वला और सौभाग्य योजनाएं लागू करने के लिए भाजपा के कार्यकर्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताएंगे। यहां से प्रधानमंत्री को 51 लाख पोस्टकार्ड भेजे जाएंगे।

भाजपा की ओर से नरेंद्र मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर से 7 अक्तूबर तक सेवा एवं समर्पण अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत भाजपा ने हर बूथ से ‘धन्यवाद मोदीजी’ शीर्षक से 31 पोस्टकार्ड प्रधानमंत्री के नई दिल्ली स्थित आवास 7 लोक कल्याण मार्ग भेजने का निर्णय किया है। पोस्टकार्ड भेजने वाले को अपना नाम, पता और फोन नंबर भी लिखना होगा। पार्टी के प्रदेश महामंत्री जेपीएस राठौर ने बताया कि कार्यकर्ता और लाभार्थी खुद पोस्टकार्ड लिखकर भेजेंगे। इसमें वे अपनी पसंद से मोदी सरकार की किसी भी योजना के लिए धन्यवाद जताएंगे।
... और पढ़ें

नरेन्द्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत : स्वतंत्र देव ने जताया शोक, संजय सिंह ने की सीबीआई जांच की मांग

आम आदमी पार्टी (आप) के प्रदेश प्रभारी व सांसद ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत पर सवाल खड़ा करते हुए सरकार सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। ट्विटर के जरिए जारी बयान में आप सांसद ने कहा कि स्वामी नरेन्द्र गिरी की मौत को लेकर तरह-तरह की खबरें आ रही हैं। इसकी सच्चाई सबके सामने आना चाहिए।

स्वामी जी के निधन पर शोक जताते हुए आप सांसद ने कहा कि बहुत से लोग उनके निधन को आत्महत्या बता रहे हैं और सुसाइड नोट मिलने की भी बात कही जा रही है। लेकिन अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं है। उन्होंने कहा उनके निधन की खबर सुनकर बहुत आहत हूं। इस घटना से यह भी स्पष्ट हो गया है कि इस सरकार में न तो आम आदमी सुरक्षित है और न ही साधु-संतो की जान ही सुरक्षित है। 

स्वतंत्र देव ने जताया शोक
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। स्वतंत्र देव ने कहा कि महंत नरेन्द्र गिरी के ब्रह्मलीन होने के समाचार से स्तब्ध हूं। नरेंद्र गिरी का स्नेह व आशीर्वाद सदैव उन्हें मिलता रहा है। उनका जाना संत समाज के लिए अपूरणीय क्षति है। पार्टी के प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल, गोविंद शुक्ला, जेपीएस राठौर, सुब्रत पाठक ने भी नरेंद्र गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

प्रदेश सरकार कराए उच्चस्तरीय जांच : स्वामी यतींद्रानंद 
जीवनदीप आश्रम परमाध्यक्ष रुड़की व वरिष्ठ महामंडलेश्वर पंच दशनाम जूना अखाड़ा के स्वामी यतींद्रानंद गिरी ने कहा कि जिन परिस्थितियों में महंत नरेंद्र गिरी का निधन हुआ है, उसमें किसी गहरे षड्यंत्र से इनकार नहीं किया जा सकता है। उनसे हमारा गहरा लगाव था। बड़े प्रखर और दृढ़ निश्चयी संन्यासी थे। वह आत्महत्या नहीं कर सकते। हम प्रदेश सरकार से तत्काल उच्चस्तरीय जांच की मांग करते हैं। महंत नरेंद्र गिरी सनातन परंपराओं का पालन करने वाले और समस्त षड्दर्शन साधु समाज व अखाड़े का समन्वय बनाकर चलते थे। उनकी मृत्यु ने संत समाज को गहरे विषाद में डाल दिया है।

गंभीरता से कार्रवाई करे सरकार: मायावती
बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्विटर के जरिए कहा है कि देश के प्रख्यात व अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत की खबर अति दुखद है। जिस परिस्थिति में उनकी मौत हुई है वह अति चिंतनीय है। उनके अनुयायियों के प्रति मायावती ने संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि सरकार जनभावना व मामले की गंभीरता के अनुरूप संतोषजनक कार्रवाई करे।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X