बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान
Myjyotish

इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

सावधान : मेरठ में कोरोना से राहत, डेंगू-स्क्रब टाइफस ने मचाई आफत

कोरोना से तो अब काफी राहत है, लेकिन डेंगू, वायरल बुखार और स्क्रब टाइफस आफत बन रहा है। मेरठ मंडल में स्क्रब टाइफस के 42 मरीज मिल चुके हैं, जबकि डेंगू के 288 मरीज मिले हैं। 

अपर निदेशक स्वास्थ्य डॉ. राजकुमार का कहना है कि डेंगू या स्क्रब टाइफस के मरीज मंडल में बढ़ रहे हैं, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है, इलाज मुहैया है। अस्पतालों में डेंगू वार्ड बने हैं और जांच की भी सुविधा उपलब्ध है। स्क्रब टाइफस के लक्षण मिलने पर तुरंत टेस्ट कराएं। अपंजीकृत डॉक्टर से इलाज न कराएं। टाइफस आरिएंटिया त्सुत्सुगामशी बैक्टीरिया के कारण होती है। मंडल में अलग से टीमें गठित की गई हैं। 

फिजिशियन डॉ. वीके बिंद्रा ने बताया कि स्क्रब टाइफस में मरीजों के जोड़ों में दर्द होता है। बुखार के साथ शरीर पर निशान पड़ जाते हैं। 7 से 8 दिन में मरीज ठीक हो जाता है। जिन लोगों को लंबे समय से बुखार या स्किन पर निशान बना रहता है, ऐसे लोगों को डॉक्टर के पास जाने में देर नहीं करनी चाहिए।

स्क्रब टाइफस: मेरठ मंडल के जिलों की स्थिति
जिला                      मरीजों की संख्या
गाजियाबाद                     34
गौतमबुद्धनगर                  03
हापुड़                                02
मेरठ                                 01
बुलंदशहर                         01
बागपत                             01

डेंगू: मेरठ मंडल के जिलों की स्थिति 

जिला                    मरीजों की संख्या
मेरठ                           142
गाजियाबाद               113
गौतमबुद्धनगर            13
बागपत                     11
हापुड़                   08
बुलंदशहर             01
(यह आंकड़े 16 सितंबर 2021 तक के हैं।)

डेंगू और स्क्रब टाइफस क्या है और कैसे होता है
डेंगू एक वायरल बीमारी है, जो कि मच्छर के काटने से होता है। वहीं स्क्रब टाइफस बैक्टीरिया से होता है, जो कि माइट (चिगर्स) के काटने से फैलता है। ये चूहे, छछूंदर और गिलहरी वगैरह से होते हुए भी इंसान तक पहुंच सकते हैं।

बचाव
- डेंगू से बचने के लिए लोग खुद को मच्छरों से बचाएं और मच्छर के पनपने के लिए कूलर, बर्तन, गड्ढे वाली जगह पर पानी न इकट्ठा होने दें।
- स्क्रब टाइफस से बचाव के लिए जंगल, झाड़ी या खेत वाली जगहों पर जाने से बचें। अगर जाएं तो हमेशा पूरी बांह वाले कपड़े पहनें। साफ-सफाई का ख्याल रखें। बुखार, सिरदर्द वगैरह होने पर डॉक्टर को दिखाएं, ताकि समय पर बीमारी की पहचान कर इलाज शुरू हो सके। 

लक्षण 
डेंगू की शुरुआत तेज बुखार व ठंड लगने के साथ होती है। सिरदर्द, कमरदर्द व आंखों में तेज दर्द हो सकता है। जोड़ों में दर्द, बेचैनी, उल्टियां और लो ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। 

स्क्रब टायफस में तेज बुखार, सिरदर्द, खांसी, मांसपेशियों में दर्द व कमजोरी जैसी परेशानियां हो सकती हैं।
... और पढ़ें
dengue dengue

आगरा: दुकान में घुसकर लूट की कोशिश, विरोध पर कर्मचारी की गोली मारकर हत्या, लुटेरे फरार

आगरा के कालिंदी विहार में सौ फुटा मार्ग स्थित प्लाईबोर्ड एंड ग्लास एल्यूमीनियम की दुकान में शुक्रवार रात को बाइक से आए तीन बदमाशों ने लूट का प्रयास किया। कर्मचारी साहस दिखाते हुए दो बदमाशों से भिड़ गया। दोनों को घसीटते हुए दुकान से बाहर ले आया। इस पर तीसरे बदमाश ने उसे गोली मार दी। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। क्षेत्र के लोगों ने पुलिस के देर से पहुंचने पर हंगामा किया। हालांकि एसएसपी मुनिराज जी. का कहना है कि पुलिस दस मिनट में मौके पर पहुंच गई।

एत्मादपुर निवासी वीर बहादुर उर्फ भूरा की कालिंदी विहार में सौ फुटा मार्ग पर राधिका प्लाईबोर्ड एंड ग्लास एल्यूमीनियम के नाम से शोरूम है। यहां पर शुक्रवार को मूलरूप से फर्रुखाबाद निवासी सुशील चौहान (32) पुत्र राजपाल चौहान काम करने आया था। वह दयालबाग में रह रहा था।

वीर बहादुर ने पुलिस को बताया कि उनके पास माल आने वाला था। इसलिए सुशील को दुकान पर रोक रखा था। रात तकरीबन 10:30 बजे दुकान पर एक बाइक पर तीन बदमाश आए। इनमें से दो बाइक से उतरकर अंदर आ गए। उन्होंने सामान दिखाने को कहा। इस पर वीर बहादुर सामान निकालने लगे। तभी बदमाशों ने गल्ले में रखे रुपये देने को कहा। उन्होंने विरोध किया तो धमकी देने लगे। इसके बाद बदमाश गल्ला खोलने का प्रयास करने लगे। 
... और पढ़ें

कानपुर: थानेदार ने डकैती को चोरी में दर्ज किया, अफसरों को करते रहे गुमराह, स्पष्टीकरण तलब

डकैती जैसा संगीन मामला होने के बाद भी गोविंदनगर पुलिस वारदात पर पर्दा डालती नजर आई। थाना प्रभारी अनूप सिंह अफसरों को मामूली चोरी बताकर गुमराह करते रहे। दोपहर में जब अफसरों को सोशल मीडिया से घटना की सही जानकारी मिली तब छानबीन में तेजी लाई गई।

शुक्रवार दोपहर को एडीसीपी डॉ. अनिल कुमार वारदात स्थल पर पहुंचे। उन्होंने भी पीड़िता आशा गुप्ता से पूछताछ की। एसीपी गोविंदनगर विकास पांडेय को जब पता चला कि थाना प्रभारी ने एफआईआर डकैती के बजाय चोरी में दर्ज की है। तो उन्होंने थाना प्रभारी को फटकार लगाई और स्पष्टीकरण तलब किया। एसीपी ने बताया कि पीड़िता के बयानों के आधार पर डकैती की धारा बढ़ाई जाएगी। 

पांच माह पहले ही आईं थीं आशा
आशा की बेटी रानी ने बताया कि मार्च में ही मां अपार्टमेंट में रहने आईं थीं। इससे पहले मां पिता के पैतृक निवासी गोविंद नगर भदौरिया पार्क के पास स्थित मकान में ही रहतीं थीं। पिता के सेवानिवृत्त होने के बाद यह फ्लैट खरीदा गया था। यहां आने के कुछ ही दिन बाद पिता का देहांत हो गया था।

डेढ़ घंटे तक की लूटपाट
अपार्टमेंट के प्रथम तल पर जी- टू में आशा गुप्ता और जी-वन में दीपक राठी का परिवार रहता है। बदमाश डेढ़ घंटे तक लूटपाट करते रहे, लेकिन पड़ोसियों को भनक तक नहीं लगी। करीब सवा तीन बजे आशा बंधन मुक्त हुईं थीं। सुबह करीब चार बजे कई थानों का फोर्स पहुंचा था। 

30 से 35 उम्र के बीच के थे डकैत
आशा गुप्ता ने बताया कि घर में दाखिल हुए डकैत 30 से 35 साल के बीच के थे। जिसमें एक बदमाश काफी मोटा था। आपस में काफी बदतमीजी और तू तड़ाक से बात कर रहे थे। कुछ बदमाशों ने नकाब पहना था कुछ के चेहरे खुले हुए थे। स्केच एक्सपर्ट की मदद से बदमाशों का स्केच बनवाया जा रहा है।
... और पढ़ें

बारिश से आगरा का हुआ बुरा हाल: कई जगहों पर सड़कें धंसी, हाईवे की दीवार ढही, जलभराव बना मुसीबत

आगरा में गुरुवार रात से शुक्रवार शाम तक रिमझिम रिमझिम 27.9 मिमी बारिश में जगह-जगह सड़कों पर जलभराव हो गया तो नाले और हाईवे की दीवार ढह गईं। फिरोजाबाद रोड स्थित नवीन गल्ला मंडी के सामने नेशनल हाईवे की 10 फुट ऊंची दीवार गिर गई, जिसका मलबा सर्विस लेन पर गिर पड़ा। दो साल पहले ही इसी जगह यही दीवार गिरी थी, जिसमें कई कारें दबने से क्षतिग्रस्त हो गईं थीं।

शुक्रवार शाम तक हुई बारिश में वेस्टर्न जोन और स्मार्ट सिटी के एबीडी एरिया की सड़कों पर पानी जमा होने से गड्ढे हो गए, जिसमें गिरकर वाहन चालक चोटिल हो गए। बाग फरजाना, न्यू राजामंडी, पुरानी मंडी, तोरा, मारुति एस्टेट, बोदला में सड़कें धंसी तो वाटरवर्क्स चौराहा, यमुना किनारा रोड, अलबतिया रोड पर जलभराव बना रहा। 
... और पढ़ें

जीएसटी परिषद की बैठक : पेट्रोल-डीजल की मंहगाई से राहत नहीं, जीवनरक्षक दवाएं होंगी सस्ती

बारिश से शहर का हुआ ये हाल
पेट्रोल व डीजल की महंगाई से अभी राहत मिलने वाली नहीं है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में बृहस्पतिवार को यहां संपन्न वस्तु एवं सेवा कर परिषद (जीएसटी काउंसिल) की बैठक में पेट्रोल व डीजल को जीएसटी में शामिल करने पर विचार किया गया, लेकिन इस पर सहमति नहीं बनी। हालांकि, काउंसिल ने आम लोगों को राहत देने वाले भी कुछ फैसले किए हैं। कई महंगी जीवनरक्षक दवाओं को जीएसटी से मुक्त कर दिया गया हैं। साथ ही कोविड से जुड़ी दवाओं पर जीएसटी की रियायत 31 दिसंबर तक बढ़ा दी गई है। निर्यात के लिए जीएसटी इनपुट क्रेडिट साल के अंत तक जारी रहेगी।

काउंसिल की बैठक के बाद वित्त मंत्री ने एक प्रेस कांफ्रेंस में लिए गए निर्णयों की जानकारी दी। वित्त मंत्री ने बताया कि दो वर्ष काउंसिल की बैठक सदस्यों की भौतिक उपस्थिति में बहुत अच्छे माहौल में हुई और कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। उन्होंने बताया कि केरल हाईकोर्ट के आदेश के मद्देनजर पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने पर विचार हुआ। बहुमत सदस्य इसके खिलाफ थे। चर्चा में आमराय बनी कि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में शामिल करने का अभी समय नहीं आया है। उन्होंने बताया कि  निर्णय की जानकारी केरल हाईकोर्ट को दी जाएगी।

वित्त मंत्री ने बताया कि कोरोना की दवाओं में रेमडेसिविर, एम्फोटेरेसिन-बी, टोसिलिजुमैब व हिपेरिन पर जीएसटी की रियायत 31 दिसंबर तक जारी रहेगी। हालांकि कोरोना से जुड़े उपकरणों पर अब रियायत नहीं रहेगी। रियायत की समयसीमा इसी 30 सितंबर को खत्म हो रही थी। एम्फोटेरेसिन-बी व टोसिलिजुमैब पर जीएसटी नहीं लग रहा है जबकि रेमडेसिविर व हिपेरिन पर 5 प्रतिशत जीएसटी लग रही है। इसी तरह कोविड से जुड़ी सात अन्य दवाओं इटोलीजुनैब, पोसोकॉनाजॉल, इन्फिल्क्सीमैब, फैवीपिराविर, कैसिरिविमैब एंड इम्डीविमैब, 2-डॉक्सी-डी-ग्लूकोज, बैम्लेनिविमैब एंड एटिसिविमैब पर जीएसटी से पांच प्रतिशत की रियायत दी गई है।
... और पढ़ें

वाराणसी : पीएम मोदी के जन्मदिन पर युवा कांग्रेस ने झुनझुना बजाकर बांटा लॉलीपॉप, महिला नेताओं ने तले पकौड़े

युवा कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर झुनझुना बजाकर और लॉलीपॉप बांटकर विरोध किया। जिलाध्यक्ष विश्वनाथ कुंवर की अध्यक्षता में युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं में शहर में कई स्थानों पर पीएम के जन्मदिन को राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया। युवा कांग्रेस की प्रवक्ता रोशनी जायसवाल के नेतृत्व में न्यू कालोनी ककरमत्ता में पकौड़ा तलकर और केक काटकर विरोध जताया गया। 

वहीं एनएसयूआई की बीएचयू इकाई की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर बेरोजगारी के खिलाफ छित्तूपुर गेट से विरोध मार्च निकाला गया। बीएचयू सिंह द्वार तक निकाले गए इस मार्च में एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने बेरोजगारी के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए प्रदर्शन किया। आरोप लगाया कि 2019 में ग्रुप डी की भर्ती के लिए एक करोड़ से ज्यादा पढ़े लिखे युवाओं ने आवेदन किया। इसके लिए 500 रुपये की फीस भी दी लेकिन अब तक नियुक्ति नहीं हुई। 
... और पढ़ें

बच्चो..! स्कूल पढ़ने आओ और डेंगू घर ले जाओ

आगरा में बुखार का प्रकोप: एक और बच्ची की मौत, 60 से ज्यादा बीमार, 13 मरीजों में डेंगू की पुष्टि

आगरा के खंदौली थाना क्षेत्र के गांव खड़िया में गुरुवार की देर रात बुखार से एक बच्ची की मौत हो गई। उसके परिवार में कई और लोग बीमार हैं। इनका आगरा के अस्पताल में इलाज चल रहा है। शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में शिविर लगाकर जांच की। इससे पूर्व टेढ़ी बगिया के महादेवी नगर में एक ही परिवार के दो बच्चों की मौत हो चुकी है। 

आगरा में बुखार का कहर: 24 घंटे में एक ही परिवार के दो बच्चों की मौत, तीसरा बच्चा अस्पताल में भर्ती

गांव खड़िया निवासी बिजेंद्र कुशवाह ने बताया कि उनकी पांच बेटियां हैं। इनमें तीसरे नंबर की बेटी मोहिनी की दो दिन पहले तबीयत खराब हो गई थी। उन्होंने गांव में ही झोलाछाप से उसे दवा दिला दी। गुरुवार रात मोहिनी को फिर से बुखार आया और पेट में दर्द होने लगा। परिजन उसे तुरंत आगरा लेकर चल दिए, लेकिन रास्ते में ही मोहिनी की मौत हो गई। 

खड़िया में 30 से ज्यादा लोग बीमार
बिजेंद्र ने बताया की परिवार में उनकी मां बोदश्री, बहन सपना, बड़ी बेटी निशा, छोटे भाई गजेंद्र की पत्नी राजश्री बुखार से पीड़ित हैं। पड़ोसी भूदेव का बेटा संदीप और उसकी पत्नी गुलाब देवी सहित गांव में 30 से ज्यादा लोग बीमार हैं। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us