सीसीईटी में 23 से ऑफलाइन कक्षाएं, अभिभावकों का अनुमति पत्र लाना होगा

Panchkula Bureau पंचकुला ब्‍यूरो
Updated Tue, 21 Sep 2021 02:05 AM IST
Offline classes will be held from 23 in CCET
विज्ञापन
ख़बर सुनें
चंडीगढ़। चंडीगढ़ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेकभनोलॉजी (सीसीईटी) डिग्री विंग के तृतीय व चतुर्थ सेमेस्टर के विद्यार्थियों की ऑफलाइन कक्षाएं 23 सितंबर से शुरू हो रही हैं। प्रयोगशालाओं को भी इसी के साथ खोल दिया जाएगा। छात्रों को कैंपस आते ही अभिभावकों का अनुमति पत्र दिखाना होगा। कोविड गाइडलाइन का पूरा पालन भी करना होगा। सीसीईटी ने छात्रों से कहा है हर हाल में कैंपस आना जरूरी नहीं है। वह मर्जी के अनुसार निर्णय ले सकते हैं।
विज्ञापन

मार्च 2020 में कोरोना के कारण हर शिक्षण संस्थान की तरह सीसीईटी भी बंद हो गया। तकनीकी संस्थान होने के कारण विद्यार्थियों के लिए ऑनलाइन शिक्षा की व्यवस्था की। ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली बेहतर चली। इसके साथ उच्च शिक्षा विभाग की गाइडलाइन आई तो डिग्री विंग के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को कैंपस बुलाने की योजना बनाई। इसी के तहत आदेश जारी कर दिए गए। छात्रावासों में रहने की व्यवस्था के लिए तैयारी चल रही है। महिला छात्रावासों में सुविधा पूरी हो गई है। लड़कों के छात्रावासों में अभी काम चल रहा है। एक रूम में एक ही छात्र को रखा जाएगा। हर छात्र को मास्क लगाना अनिवार्य होगा। प्रयोशाला व क्लास रूम में दो गज की दूरी बनाकर रखनी होगी।

छात्रों का विरोध, कहा, ऑनलाइन कक्षाएं जारी रखें
ऑफलाइन कक्षाएं लगाने के आदेश का कुछ छात्रों ने विरोध किया है। उन्होंने कहा है कि यहां भवनों का निर्माण कार्य चल रहा है। धूल उड़ रही है। ऐसे में छोटे कैंपस में छात्रों को बुलाना ठीक नहीं है। छात्रों का आरोप है कि छात्रावासों में छात्रों के रहने की व्यवस्था नहीं हो पाई है। मेस व कैंटीन भी बंद पड़ी है। खाने के पूरे बंदोबस्त नहीं हैं। एक कक्षा में 60 विद्यार्थियों को बैठाया जाएगा। ऐसे में दो गज की दूरी नहीं रह पाएगी। कोरोना के प्रसार का खतरा होगा। इसके अलावा छात्रों ने कई सवाल उठाए हैं। वह चाहते हैं कि कक्षाएं ऑनलाइन ही जारी रहें।
वर्जन----
गाइड लाइन के मुताबिक ही संस्थान खोलने का निर्णय लिया गया है। पीयू समेत तमाम शिक्षक संस्थान चरणबद्ध तरीके से कैंपस खोल रहे हैं। ठीक उसी तरह सीसीईटी भी कैंपस खोलेगा। प्रथम चरण में तृतीय व अंतिम सेमेस्टर के छात्रों को बुलाया गया है। यह छात्र प्रयोगशालाओं में काम करेंगे। इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए प्रैक्टिकल बहुत जरूरी हैं। छात्रों की कोई शिकायत मुझे नहीं मिली है।
- डॉ. एमएस गुजराल, प्राचार्य, सीसीईटी कॉलेज डिग्री विंग

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00