लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   pics of doctors will be put on board of private hospitals in Lucknow.

सीएमओ ने जारी किया आदेश: निजी अस्पतालों को अब लगानी होगी डॉक्टरों की फोटो, बोर्ड पर लिखना होगा फोन नंबर

माई सिटी रिपोर्टर, अमर उजाला, लखनऊ Published by: ishwar ashish Updated Mon, 03 Oct 2022 03:51 PM IST
सार

निजी अस्पतालों को अपने डॉक्टरों की पूरी डिटेल बोर्ड पर देनी होगी और उनकी तस्वीर भी लगानी होगी। इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है।

सांकेतिक तस्वीर।
सांकेतिक तस्वीर। - फोटो : अमर उजाला।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कागजों पर एमबीबीएस की डिग्री लगाकर अस्पताल व लैब खोलने का लाइसेंस लेना अब आसान नहीं होगा। निजी अस्पतालों को अब गेट पर पर डॉक्टरों का नाम, फोटो, मोबाइल नंबर के साथ उनका पूरा डेटा चस्पा करना होगा। इमरजेंसी मेडिकल अफसर किस विधा के हैं, इसका भी जिक्र करना होगा। इसके अलावा इलाज से संबंधित कई अन्य बिंदुओं की जानकारी साझा करनी होगी। इसके लिए सभी अस्पतालों को पत्र भेजा गया है। इसका अनुपालन सख्ती से कराया जाएगा।



सीएमओ ऑफिस की टीम के निरीक्षण में कई जगह डॉक्टर के स्थान पर हाईस्कूल व इंटर पास युवक मरीजों का इलाज करते मिले थे। इसे लेकर उनके संचालन पर रोक लगाई जा रही है। अस्पताल में पारदर्शिता बनाने के लिए अब सीएमओ ने सभी निजी अस्पताल व लैब को पत्र जारी किया है। इसमें कहा है कि अस्पताल का पंजीकरण व नवीनीकरण प्रमाण पत्र हमेशा उपलब्ध रहना चाहिए।


अस्पताल में कार्यरत एमबीबीएस का नाम, विशेषज्ञता एवं मोबाइल नंबर, फोटो सहित चिकित्सालय के मुख्य द्वारा पर लगाना होगा। ओपीडी करने वाले चिकित्सकों की ओपीडी का समय बोर्ड पर चस्पा करना होगा। भर्ती मरीजों की बीएचटी पर उपचार करने वाले पंजीकृत एलोपैथिक चिकित्सक का हर दिन नाम चढ़ना चाहिए।

इमरजेंसी डॉक्टर की रोस्टर ड्यूटी भी देनी होगी
निजी अस्पतालों की इमरजेंसी में एमबीबीएस डॉक्टर के बजाय आयुर्वेद-यूनानी डॉक्टर इलाज कर रहे हैं। इसे लेकर भी सीएमओ ऑफिस ने आपत्ति की है। अब इमरजेंसी में चिकित्सकीय कार्य करने वाले ईएमओ की 24 घंटे ड्यूटी का रोस्टर, मुख्य द्वार पर नाम, मोबाइल नंबर हर दिन प्रदर्शित करना होगा। चिकित्सालय में पंजीकृत पैरामेडिकल स्टाफ से ही कार्य लिया जाए। 

निजी लैब में भी लागू होगी व्यवस्था  
निजी लैब में जांच करने वाले विशेषज्ञों का नाम-फोटो समेत मोबाइल नंबर लैब के मुख्य द्वार पर अंकित करना होगा। इसके अलावा टेक्नीशियन पर भी यही व्यवस्था लागू होगी। इसके अलावा डेंगू-मलेरिया, कोविड व स्वाइन फ्लू मरीज पॉजिटिव मिलते हैं तो इसकी सूचना उसी कार्यदिवस में सीएमओ कार्यालय ईमेल से भेजनी होगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00