लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

दिलचस्प: 'मिलें न मिलें हम' से हुआ था चिराग पासवान का डेब्यू, नहीं चली फिल्म तो पकड़ी थी सियासत की राह

एंटरटेनमेंट डेस्क, अमर उजाला Published by: विजयाश्री गौर Updated Mon, 14 Jun 2021 07:11 PM IST
मिले ना मिले हम, चिराग पासवान
1 of 5
विज्ञापन
बॉलीवुड और राजनीति का हमेशा से एक अलग अटूट बंधन रहा है। फिल्मों में नाम कमाने के बाद से बहुत से सितारे राजनीति की ओर चले गए और वहां सफल पारी भी खेली। हालांकि कई बार ऐसा भी देखने को मिला कि फिल्मों में कमाल दिखाने वाले सितारे राजनीति में ज्यादा दिनों तक टिक नहीं पाए और हाथ जोड़कर दोबारा फिल्मों में आ गए। कुछ सितारे अभी भी राजनीति में सक्रिय हैं।हालांकि रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान दोनों ही रूप में असफल साबित होते नजर आए हैं।

फिल्मों में हुए थे असफल अब पार्टी में भी दरार

चिराग पासवान की अगुवाई वाली लोक जनशक्ति पार्टी बिहार में एक बार फिर से टूट का शिकार हुई है। दरअसल बिहार विधानसभा चुनाव के बाद से ये दूसरी बार हुआ है जब पार्टी के सदस्यों ने अपने ही सुप्रीमो का साथ छोड़कर दूसरे पार्टी से हाथ मिला लिया हो। हाल ही में रविवार की देर शाम हुई सियासी हलचल से साफ हो गया है कि पार्टी के छह में से पांच सांसदों ने चिराग पासवान को अपना नेता मानने से ही इनकार कर दिया है। बॉलीवुड में असफलता पाकर राजनीति में सक्रिय हुए चिराग पासवान को यहां भी बड़ी असफलता का सामना करना पड़ा है।
चिराग पासवान, कंगना रणौत
2 of 5
चिराग के बॉलीवुड करियर की बात करें तो उन्होंने साल 2011 में फिल्म 'मिलें ना मिलें हम' से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। राज्यसभा सांसद रामविलास पासवान के बेटे होने के नाते बॉलीवुड में उनकी एंट्री काफी चर्चा में आई थी। उनके गुड लुक्स के कारण भी उन्हें काफी लोकप्रियता मिली थी। इस फिल्म में कंगना रणौत, सागरिका घाटगे ने भी अहम भूमिका निभाई थी। अनुज सक्सेना के निर्देशन में बनी ये फिल्म पूरी तरह से चिराग पासवान पर ही आधारित थी। हालांकि ये फिल्म पर्दे पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई थी। इस फिल्म में चिराग कंगना संग रोमांस करते नजर आए थे। आज जहां कंगना आज बड़ी स्टार बन चुकी हैं तो वहीं चिराग बॉलीवुड छोड़ सियासी पारी खेल रहे हैं। बता दें कि फिल्मों में खास करियर ना देखते हुए चिराग पासवान ने अपने पिता रामविलास पासवान की तरह राजनीति की ओर रुख करने का फैसला किया था। उन्होंने साल 2014 में राजनीति में कदम रखा।
विज्ञापन
चिराग पासवान
3 of 5
चिराग ने साल 2014 के आम चुनाव में बिहार की जमुई लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था। इस सीट पर उन्होंने आरजेडी के प्रत्याशी सुधांसु शेखर भास्कर को हराकर शानदार जीत हासिल की थी। इसके बाद चिराग पूरी तरह से राजनीति में सक्रिय हो गए और बॉलीवुड से दूरी बना ली थी।
चिराग पासवान (फाइल फोटो)
4 of 5
बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान का पिछले साल 8 अक्तूबर को लंबी बीमारी के चलते निधन हो गया था। उनके निधन के बाद से पार्टी की कमान चिराग पासवान के हाथ में आ गई थी। हालांकि चिराग के बागी तेवर और हीरो वाली छवि को चलते उनकी पार्टी में उठापटक चलती रही। चिराग के मनमर्जी से लिए जा रहे फैसलों से सांसद लंबे समय से नाराज चल रहे थे।
विज्ञापन
विज्ञापन
चिराग पासवान
5 of 5
वहीं इसके चलते अब पार्टी में हुई बगावत के बाद सभी नेताओं ने चिराग पासवान के चाचा पशुपति कुमार पारस को अपना नेता मान लिया है। वहीं माना जा रहा है कि बागियों का नेतृत्व करने वाले चिराग पासवान के चारा पशुपति कुमार पारस इस मामल के लेकर सार्वजनिक तौर पर बात करेंगे। 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00