लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Shakti ›   Surashree Rahane Success Story in Hindi Founder And CEO of Yearbook Canvas

Surashree Rahane: शारीरिक दिक्कतें भी नहीं रोक पाईं रास्ता, सुरश्री रहाणे ऐसे बनीं सफल कारोबारी महिला

लाइफस्टाइल डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: शिवानी अवस्थी Updated Sat, 24 Sep 2022 06:24 PM IST
सार

एक दो नहीं बल्कि 15 सर्जरी कराने के बाद भी सुरश्री रहाणे हमेशा अडिग और साहस के साथ खड़ी रहीं। रहाणे ने हिम्मत नहीं हारी और सफलता की उस बुलंदियों को हासिल किया, जहां से वह हर महिला के लिए मिसाल बन गईं।

सुरश्री रहाणे
सुरश्री रहाणे - फोटो : https://www.facebook.com/rahane.surashree
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

Surshri Rahane: सुरश्री रहाणे ने बुरी से बुरी परिस्थितियों में कभी हार नहीं मानी। शारीरिक तकलीफों से लड़ते हुए उन्होंने सफलता को हासिल किया। जन्म के बाद से ही सुरश्री रहाणे ने साबित किया कि वह योद्धा हैं। महज 15 दिन की उम्र में रहाणे की पहली सर्जरी हुई। एक दो नहीं बल्कि 15 सर्जरी कराने के बाद भी वह हमेशा अडिग और साहस के साथ खड़ी रहीं। उनका जीवन पीड़ादायक रहा लेकिन रहाणे ने हिम्मत नहीं हारी और सफलता की उस बुलंदियों को हासिल किया, जहां से वह हर महिला के लिए मिसाल बन गईं। चलिए जानते हैं सुरश्री रहाणे के जीवन संघर्षों और सफलता की कहानी।



सुरश्री रहाणे महाराष्ट्र के नासिक के रहने वाली हैं। वह एक बिजनेसमैन परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उनकी मां नासिक में एक साड़ी स्टोर चलाती हैं। पढ़ाई में निपुण रहाणे एक सफलत बिजनेस विमेन हैं। हालांकि उनका जीवन सफलता की इन ऊंचाइयों पर कठिन परिस्थियों को पार करते हुए पहुंचा।


रहाणे की शिक्षा

रहाणे बचपन से ही पढ़ाई में होनहार थीं। वह स्कूल में टाॅपर रहीं। बाद में पुणे के काॅलेज ऑफ इंजीनियरिंग से स्नातक की डिग्री हासिल की। इसके बाद नई दिल्ली के प्रतिष्ठित बिजनेस स्कूल, दिल्ली यूनिवर्सिटी के फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज से परास्नातक किया। पढ़ाई के साथ ही रहाणे अन्य क्षेत्रों में भी निपुण थीं। रहाणे ने भरतनाट्यम डांस सीखा था, तो वहीं वह सर्टिफाइड स्कूबा ड्राइवर भी हैं।

रहाणे का जीवन संघर्ष

इतनी होनहार सुरश्री रहाणे के जीवन में तकलीफ कम नहीं थीं। जन्म से ही उनका एक पैर दूसरे पैर से छोटा था। इस कारण वह सही से चल नहीं पाती थीं। उनकी इस समस्या को दूर करने के लिए परिवार वालों ने रहाणे का इलाज कराया। महज 15 दिन की रहाणे की पहली सर्जरी हुई और उसके बाद एक के बाद एक करके 15 सर्जरी की गईं। लेकिन इसके बावजूद रहाणे पूरी तरह से ठीक न हो सकीं।

सुरश्री रहाणे की शादी

रहाणे के जीवन में महज परेशानी नहीं थीं। इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान उनकी मुलाकात अमोल बागुल से हुई। दोनों में दोस्ती हुई और नजदीकियां बढ़ीं। 22 साल की उम्र में रहाणे ने अमोल बागुल से शादी कर ली। शादी के बाद दोनों ने साथ ही आगे की पढ़ाई पूरी की।

सुरश्री रहाणे का करियर

रहाणे ने जीवन में कभी हार नहीं मानी और अपने करियर को संभालने की दिशा में प्रयास करना शुरू किया। रहाणे ने पेप्सीको और एचपी जैसी प्रतिष्ठित कंपनियों के साथ काम किया। वह एक बिजनेसमैन परिवार से ताल्लुक रखती थीं। उनके करियर की राह भी उसी दिशा में रहाणे को ले गई। उन्होंने अपना बिजनेस शुरू करने का विचार किया लेकिन निवेशक न मिलने से निराशा हाथ लगी। साल 2018 में इयरबुक कैनवास नाम से उन्होंने खुद की कंपनी शुरू की।

उन्हें अपने बिजनेस में सफलता हासिल हुई और अब उनकी कंपनी शिक्षण संस्थानों और कॉरपोरेट की सोशल नेटवर्क, इयरबुक और मर्चेंडाइज को बनाने की दिशा में काम कर रही है। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00