आत्मा का ज्ञान ही मानव को संसार रुपी मोह से दिलाता है मुक्ति

Meerut Bureau मेरठ ब्यूरो
Updated Fri, 22 Oct 2021 11:24 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
परशुराम खेड़ा पर चल रही सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा संपन्न
विज्ञापन

संवाद न्यूज एजेंसी
बालैनी। पुरा महादेव गांव के परशुराम खेड़ा पर चल रही सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा शुक्रवार को संपन्न हो गई। अंतिम दिन कथा वाचक ने कहा कि आत्मज्ञान ही व्यक्ति को संसार रूपी मोह से मुक्ति दिलाता है। प्रत्येक पशु-पक्षी जीवन में मार्गदर्शक हो सकते हैं, उन्होंने मानव को उनसे सीख लेने का आह्वान किया।
कथा वाचक अतुल कृष्ण भारद्वाज ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने भामासुर राक्षस से अपहरण करके ले गई 16 हजार 100 कन्याओं को छुड़ाया। समाज उनका तिरस्कार न करे इसके लिए भगवान ने स्वयं उनके साथ विवाह कर लिया था। भगवान श्रीकृष्ण से बड़ा दयालु कौन होगा। जिसे दुनिया त्याग देती है, भगवान स्वयं उसका वरण कर लेते हैं। सुदामा संतोषी हैं वह भगवान श्रीकृष्ण से मिलने गए और श्रीकृष्ण ने उन्हें सिंहासन पर बैठाया। उन्होंने कहा कि नष्ट होने वाली वस्तुएं शाश्वत हैं यह भी भ्रम है। कथा में महाराज सुरजमुनि स्वरूप, देवमुनि महाराज, पूर्व सपा जिलाध्यक्ष डॉ. एसपी यादव, विजय शर्मा, अरविंद, ब्रह्मपाल, किशन चंद शर्मा, सुभाष बजरंगी, उमेश कन्नौजिया, योगेंद्र कुमार, कृष्णवीर, सचिन उज्ज्वल रवींद्र फौजी, कपिल लक्की, प्रदीप मलिक, राजपाल शर्मा, मुकेश शर्मा मौजूद रहे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00