लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Mani Ratnam Interview: ‘अमिताभ बच्चन एक किंवदंती है, मुझे अब भी उनके लायक एक कहानी की तलाश है’

पंकज शुक्ल
Updated Sat, 01 Oct 2022 10:38 AM IST
मणिरत्नम
1 of 7
विज्ञापन
चेन्नई में जन्मे गोपाल रत्नम सुब्रमण्यम को दुनिया मणिरत्नम के नाम से जानती है। ‘रोजा’ के दिनों से उनका जादू हिंदी सिनेमा के दर्शकों के सिर चढ़कर बोलता रहा है। उनकी नई फिल्म ‘पोन्नियिन सेल्वन’ (कावेरी का बेटा) भारतवर्ष के उस स्वर्णिम युग की झांकी है जब इंग्लैंड सिर्फ मछुआरों की एक बस्ती हुआ करता था। फिल्म निर्देशक मणिरत्नम से ‘अमर उजाला’ के सलाहकार संपादक पंकज शुक्ल की एक खास मुलाकात।
पोन्नियिन सेल्वन 1
2 of 7
कल्कि कृष्णमूर्ति के उपन्यास पोन्नियिन सेल्वन’ पर फिल्म बनाने के लिए चोल राजवंश के किस तथ्य ने आपको सबसे ज्यादा प्रेरित किया?
यह दक्षिण भारत का स्वर्णिम युग रहा है। उस समय के राजाओं ने जो कुछ किया, उसका लाभ हम आज भी ले रहे हैं। राजराजा चोल की इस कहानी का सबसे मुख्य बिंदु ये है कि उनके पास जो नौसैनिक बेड़ा था, वह उस समय दुनिया का सबसे बड़ा बेड़ा था। उस समय के हर धर्म को वहां फलने फूलने का मौका मिला। जिस नई कर प्रणाली का हम अनुसरण करते हैं, वह उसी समय शुरू हुई। जल संचय के जो उपाय उस समय किए गए, वे आज तक विद्यमान हैं। हम एक ऐसे महान राजा की बात कर रहे हैं जिसकी दूरदृष्टि की चर्चा आज होती है।

Arun Govil: एयरपोर्ट पर 'भगवान राम' को देख महिला ने किया दंडवत प्रणाम,आस्था ऐसी कि हर कोई रह गया हैरान
विज्ञापन
पोन्नियिन सेल्वन 1
3 of 7

हां, उनका बनाया तंजावुर का विशाल राजराजेश्वरम मंदिर अब यूनेस्को की वैश्विक धरोहर सूची में शामिल है..
उस समय मंदिर सिर्फ एक पूजा स्थल नहीं होते थे। मंदिर एक ऐसे स्थान के रूप में स्थापित किए जाते थे जिसके चारों तरफ एक समाज विकसित हो सके। ये कर एकत्रीकरण स्थलों के रूप में काम करते थे। यहां से जरूरतमंदों को ऋण भी दिया जाता था। समाज का पूरा विकास इन मंदिरों के जरिए ही बरसों तक होता रहा। एक खास बात ये भी है कि तब के राजाओं ने अपने महल तो ईंटों के बनाए लेकिन मंदिरों में पत्थरों का ही इस्तेमाल किया। तब के महल अब नहीं दिखते, पर ये मंदिर अब भी विद्यमान हैं।

Brahmastra Box Office Collection Day 22: लाखों में आई करोड़ों की फिल्म की कमाई, मारक नहीं रहा 'ब्रह्मास्त्र'

पोन्नियिन सेल्वन 1
4 of 7
कहा जा रहा है कि ये भारत में बनी अब तक की सबसे महंगी फिल्म हैकहीं कहीं इसका बजट 500 करोड़ रुपये तक बताया गया है?
फिल्म ‘पोन्नियिन सेल्वन’ सिर्फ सिनेमा का वैभव या कौतुक दिखाने के लिए बनी फिल्म नहीं है। इस फिल्म को बनाने में मैंने पांच साल का लंबा समय व्यतीत किया है। धन इसमें कितना व्यय हुआ, इसकी जानकारी मुझे नहीं है। पैसे आदि का प्रबंधन इसके निर्माता ही शुरू से देखते रहे, लिहाजा वे लोग ही इसकी सही जानकारी दे सकेंगे। मेरी पूरी कोशिश सिर्फ कल्कि कृष्णमूर्ति के लिखे उपन्यास के प्रति ईमानदार रहने की रही है।

Box Office Report: पहले दिन ही ‘पोन्नियिन सेल्वन 1’ ने मारी बाजी, विक्रम वेधा और ब्रह्मास्त्र का ऐसा रहा हाल
विज्ञापन
विज्ञापन
पोन्नियिन सेल्वन 1 प्रेस कॉन्फ्रेंस
5 of 7
क्या फिल्म को बनाने में हुए विलंब और इस बीच सिनेमा की तकनीक में हुए विकास ने आपके सपने को और बेहतर तरीके से पर्दे पर पेश करने में मदद की है?
बहुत ज्यादा। मैं कहता हूं तकनीक के विकास ने बहुत ही ज्यादा मदद की है। मैंने ये फिल्म कोई 15 साल पहले बनाने की पहली कोशिश की थी, लेकिन अब मुझे लगता है कि तब शायद मैं इस तरह की फिल्म इस कहानी पर न बना पाता। सिनेमा के तकनीकी विकास ने मुझे जो सहूलियत अब प्रदान की है, वह शायद तब नहीं मिलती।

Vikram Vedha Box Office Collection Day 1: ऋतिक की फिल्म ने पहले दिन की औसत कमाई, जानिए कैसा रहा प्रदर्शन?
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00