विज्ञापन
विज्ञापन
शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021
Myjyotish

शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बिहार पंचायत चुनाव परिणाम: 10 जिलों के 12 प्रखंडों में महिलाओं ने मारी बाजी, मंत्री की भाभी मुखिया पद के लिए चुनाव हारी

बिहार पंचायत चुनाव में पहले चरण में 10 जिलों के 12 प्रखंडों में करीब-करीब मतगणना हो चुकी है। हालांकि,कुछ मतदान केंद्रों पर मतगणना आज भी जारी रहेगी। पहले चरण की 151 पंचायतों के लिए 24 सितंबर को मतदान हुआ था।  इधर, आयोग की ओर से 26 और 27 सितंबर, दो दिन मतगणना के लिए सुनिश्चित किया गया था, लेकिन ईवीएम से संपन्न हुए चुनाव के कारण 26 सितंबर ( रविवार) को ही ज्यादातर पंचायतों के परिणाम सामने आ गए। जिन पंचायतों के परिणाम रविवार को जारी नहीं हुए हैं वहां, मतगणना के बाद आज रिजल्ट आ जाएगा। 

वहीं, चुनाव परिणाम जारी होने के बाद जीते हुए प्रत्याशी जहां खुश नजर आ रहे थे, वहीं, हारने वाले उम्मीदवार मायूस थे। जमुई के खरडीह पंचायत में तो हार की खबर सुनते ही पंचायत समिति पद की उम्मीदवार बेहोश हो गई। आनन-फानन में लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। वहीं, मुंगेर जिला के तारापुर प्रखंड से मानिकपुर पंचायत से पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी की भाभी मीना देवी मुखिया पद का चुनाव हार गई। 

मतदान केंद्रों पर कोरोना गाइडलाइन की उड़ी धज्जियां
सभी मतदान केंद्रों के बाहर गहमागहमी का माहौल रहा। कई प्रत्याशी एवं उनके समर्थक भी मतगणना केंद्र के बाहर खड़े दिखें। राज्य निर्वाचन आयोग ने कोरोना प्रोटोकॉल के पालन करने का आदेश जारी किया था, लेकिन प्रत्याशी और उनके समर्थकों की ओर से कोविड गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाई गई। न मास्क दिखा और न ही दो गज की दूरी का पालन हुआ।

15 हजार से ज्यादा प्रत्याशियों ने विभिन्न पदों के लिए किया नामांकन
पहले चरण में 15,328 प्रत्याशियों ने विभिन्न पदों के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया था। कुल 4985 विभिन्न पदों के लिए हुए मतदान में 858 पदों पर प्रत्याशियों का निर्विरोध निर्वाचन हो गया। वहीं, 72 पदों पर किसी भी प्रत्याशी ने नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया।  पहले चरण में ग्राम पंचायत सदस्य के 2233 पदों को लेकर 8611 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया। ग्राम कचहरी पंच के 2233 पदों को लेकर 3225 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया। मुखिया के 151 पद के लिए 1294 ने नामांकन पत्र दाखिल किया था। सरपंच के 151 पदों के के लिए 772 नामांकन किए गए हैं। पंचायत समिति सदस्य के 195 पदों के लिए 1205 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया था। जिला परिषद के 22 पदों के लिए 221 प्रत्याशी था।

कहां-कितनी पंचायतों में हुआ मतदान
गया जिले के बेलागंज प्रखंड की 19 पंचायत, खिजरसराय प्रखंड की 14 पंचायत
मुंगेर जिले के तारापुर प्रखंड की 10 पंचायत
रोहतास जिले के दावथ प्रखंड की 9 पंचायत, संझौली प्रखंड की 6 पंचायत
बांका जिले के धौरेया प्रखंड की 20 पंचायत
जमुई जिले के सिकंदरा प्रखंड के 10 पंचायत
अरवल जिले के सोनभद्र-वंशी-सूर्यपुर प्रखंड की 8 पंचायत
कैमूर जिले के कुदरा प्रखंड में 14 पंचायत
नवादा जिले के गोविंदपुर प्रखंड की 9 पंचायत
औरंगाबाद जिले के औरंगाबाद प्रखंड की 15 पंचायत
जहानाबाद जिले के काको प्रखंड की 14 पंचायत

पहले चरण में  59.85% वोटिंग
पंचायत चुनाव के पहले चरण में 59.85% मतदान हुआ। सबसे अधिक 63.93% वोटिंग मुंगेर में, जबकि सबसे कम 56.69% वोटिंग जहानाबाद जिले में हुई। इसके बाद बांका में 63.89% तो जमुई और रोहतास में 62.50-62.50% वोटिंग हुई। औरंगाबाद में 62%, गया में 60.50%, कैमूर में 60.04% मतदाताओं ने वोटिंग की। करीब सभी प्रखंडों में महिलाओं का मतदान फीसदी पुरुषों की तुलना में ज्यादा रहा है।
... और पढ़ें

बिहार में बड़ा हादसा: मोतिहारी में नाव पलटने से छह की मौत, 22 लोगों के डूबने की आशंका, तलाश जारी

बड़ी खबर बिहार से आ रही है, मोतिहारी में नाव पलटने से 22 लोग डूब गए हैं। बूढ़ी गंडक नदी में नाव पलटने से 22 लोगों के डूबने की खबर है। अब तक 6 लोगों के शव निकाले गए हैं। नदी के घाट पर अफरा-तफरी का माहौल है,  बड़ी संख्या में लोग घाट पर मौजूद हैं ।  सूचना मिलने पर जिला प्रशासन पूरी टीम के साथ मौके पर मौजूद है। 

बाकी डूबे हुए लोगों की तलाश की जा रही है। बताया जा रहा है कि नाव पर ज्यादा सवारी बैठने से यह हादसा हुआ है। छोटी नाव पर 12 लोगों के बैठने की जगह थी उस पर 22 से ज्यादा लोग सवार हो गए, जिसकी वजह से नाव बीच नदी में डूब गई। 



बता दें कि दो महीने पहले ही डुमरियाघाट थाना क्षेत्र स्थित सरोतर झील में नाव पलटने से एक युवक की मौत हो गई थी। इस नाव पर एक दर्जन से ज्यादा लोग सवार थे। हालांकि, बाकी लोग नदी में तैरकर बाहर निकल आए थे, लेकिन बबूल सहनी पानी में बुरी तरह से फंस गया था, थोड़ी देर बाद उसका शव बाहर निकला। 
... और पढ़ें

बिहार पंचायत चुनाव: पहले चरण की मतगणना जारी, 10 जिलों की 151 पंचायतों के आएंगे परिणाम

बिहार में पहले चरण के पंचायत चुनाव की मतगणना सुबह आठ बजे से जारी है। 151 पंचायतों के परिणाम आएंगे। पहले चरण के पंचायत चुनाव के लिए शुक्रवार को10 जिलों में वोट डाले गए थे। मतदान की तरह मतगणना के लिए सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा रहा है। आवश्यकता पड़ने पर मतगणना का कार्य सोमवार को भी कराया जाएगा।


राज्य निर्वाचन आयोग के सूत्रों ने बताया कि सभी प्रखंडों और जिलों में मतगणना सुबह आठ बजे से शुरू हो गई है। ईवीएम एवं मतपेटियों को सख्त सुरक्षा व्यवस्था के तहत खोला गया और सभी वोटों की गिनती की जा रही है। मतगणना केंद्रों पर उम्मीदवारों के मतगणना एजेंटों की तैनाती पूरी कर ली गई है। आयोग के अनुसार, पहले चरण के पंचायत चुनाव में 65.50 फीसदी मतदान हुआ।
... और पढ़ें

बिहार: औरंगाबाद में बीए की छात्रा का अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म, हालत गंभीर

बिहार के औरंगाबाद में 20 वर्षीय छात्रा का अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। गंभीर हालत में पीड़िता को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के मुताबकि, शनिवार रात छात्रा पड़ोस में रहने वाली दोस्त के घर जा रही थी, इसी दौरान युवक ने उसे अगवा कर कार में बैठा लिया। इसके बाद सुनसान जगह पर ले जाकर अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर छात्रा के साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद तीनों आरोपी छात्रा को झाड़ी में फेंककर फरार हो गए। पेट्रोलिंग पर निकली मुफस्सिल थाना पुलिस ने लड़की के रोने की आवाज सुन, गंभीर हालत में पीड़िता को अस्पताल में दाखिला करवाया गया।

पीड़िता ने बताया कि बीती रात 9 बजे के करीब अपनी दोस्त से मिलने जा रही थी। इसी दौरान गांव के ही राहुल कुमार ने जबरदस्ती पकड़ कर गाड़ी में बैठा लिया। इसके बाद किसी अनजान जगह पर ले गया। उसने पहले मेरे चेहरे पर स्प्रे मारकर बेहोश कर दिया। आंख खुली तो देखा कि मेरे सामने राहुल, उसका दोस्त अविनाश कुमार राम और पंकज राम थे। मैं तीनों से छोड़ने की गुहार लगाती रही , लेकिन किसी ने एक न सुनी। तीनों ने मिलकर दुष्कर्म किया और विरोध करने पर मारपीट की। साथ ही मुंह खोलने पर जान से मारने की धमकी दी।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

बिहार: शिक्षक बहाली पर शिक्षा मंत्री के ट्वीट से बढ़ा विवाद, विपक्ष के तेवर के बाद हटा गया ट्वीट

बिहार के शिक्षा मंत्री के एक ट्वीट पर राजनीति तेज हो गई है। उनके ट्वीट पर विपक्ष ने ऐतराज जताते हुए कहा है कि यह विधानसभा उपचुनाव को प्रभावित करने की कोशिश है। विपक्षी नेताओं ने शिक्षा मंत्री को भी उन्हीं की भाषा में तीखे सवाल पूछे हैं। ट्रोलिंग के बाद आखिरकार शिक्षा मंत्री को अपना ट्वीट डिलीट करना पड़ा।

हुआ यूं कि शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने ट्वीट कर कहा था कि 'राज्य निर्वाचन आयोग से अनुमति मिलते ही छठे चरण की शिक्षक नियोजन प्रक्रिया को पूर्ण कर लिया जाएगा। अभ्यर्थी इन हालातों को संज्ञान में लें जिससे वे अनावश्यक किसी भ्रम का शिकार न हों।' शिक्षा मंत्री के इस ट्वीट के बाद विपक्ष ने तीखा हमला बोला। 

राजद नेता ने मंत्री पर कसा तंज 
राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि सरकार ने पहले तो कहा था कि 15 अगस्त तक शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दे दिया जाएगा। उसके बाद यह कहा गया कि अक्तूबर तक नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। अब सरकार कह रही है कि निर्वाचन आयोग से अनुमति ली जा रही है। चित्तरंजन गगन ने कहा कि विधानसभा उपचुनाव में सरकार का वोट बैंक प्रभावित नहीं हो इसलिए सरकार अभ्यर्थियों को गुमराह कर रही है। अब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ही मुख्यमंत्री बनेंगे तो शिक्षकों को नियुक्ति पत्र मिलेगा। 

शिक्षक बहाली मोर्चा ने खड़े किए सवाल
शिक्षा मंत्री के ट्वीट हटाए जाने पर बिहार टीईटी- सीटीईटी- एसटीईटी उत्तीर्ण शिक्षक बहाली मोर्चा ने कहा कि शिक्षा मंत्री जी को इस ट्वीट को डिलीट करने के क्या कारण हो सकते हैं? लगता है इरादा नेक नहीं है। इधर टीईटी-एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ ने आरोप लगाया कि सरकार जरूरी डॉक्यूमेंट निर्वाचन आयोग को उपलब्ध नहीं करा रही तो अनुमति कहां से मिलेगी।

शिक्षक बहाली को लेकर मंत्री ने किया था ट्वीट
शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने गुरुवार को ट्वीट किया कि राज्य में आने वाले दिनों में बड़ी संख्या में शिक्षकों की बहाली की जाएगी। सरकारी ने इसे लेकर जरूरी दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार शिक्षा में सुधार के लिए कटिबद्ध है।
... और पढ़ें

बिहार: शराब पार्टी की सूचना पर पहुंची पुलिस पर हमला, आठ पुलिसकर्मी घायल, सात आरोपी गिरफ्तार

लालू परिवार में घमासान: तेजप्रताप का शक्ति प्रदर्शन, मां राबड़ी का आशीर्वाद लिए बिना निकले यात्रा पर

लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और हसनपुर विधायक तेजप्रताप यादव राष्ट्रीय जनता दल से खासे नाराज चल रहे हैं। पार्टी में वर्चस्व की लड़ाई को लेकर वह अपने भाई तेजस्वी यादव से आर पार करने के मूड में हैं। इस बार तेज प्रताप इतने गुस्से में हैं कि विवाद सुलझाने में वह अपनी मां राबड़ी देवी का भी साथ नहीं चाहते। बिना मां का आशीर्वाद लिए तेज प्रताप यादव ने लोकनायक जय प्रकाश नारायण की जयंती पर पदयात्रा निकाल दी, जबकि इससे पहले तेज प्रताप ने कहा था कि वह अपनी मां से आशीर्वाद लेकर पदयात्रा की शुरुआत करेंगे।

रविवार को दिल्ली से पटना लौटीं राबड़ी देवी उनके आवास पर पहुंची थीं, लेकिन तेजप्रताप की उनसे मुलाकात नहीं हो सकी। उम्मीद जताई जा रही थी जेपी की जयंती पर पदयात्रा निकालने से पहले घर जाकर राबड़ी देवी से आशीर्वाद लेंगे, लेकिन तेजप्रताप का काफिला राबड़ी देवी के घर के सामने से गुजरा लेकिन वह मां का आशीर्वाद लेने नहीं गए।  तेजप्रताप यादव छात्र जनशक्ति परिषद की ओर से गांधी मैदान स्थित जेपी की मूर्ति पर सोमवार को माल्यार्पण किया और फिर जय प्रकाश नारायण के कदम कुआं स्थित घर तक नंगे पांव पद यात्रा की।

जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती
तेजप्रताप यादव ने एक वीडियो फेसबुक पर पोस्ट कर खुद ही इस संबंध में जानकारी दी। इस दौरान तेज प्रताप ने अधिक से अधिक छात्रों को इस पदयात्रा से जुड़ने की अपील की। लोकनायक जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती मनाई जा रही है। जेपी को 1970 में इंदिरा गांधी के विरुद्ध विपक्ष का नेतृत्व करने के लिए जाना जाता है। इंदिरा गांधी को सत्ता से हटाने के लिए उन्होंने 'सम्पूर्ण क्रांति' आंदोलन चलाया था। 

जेपी ने संपूर्ण क्रांति का दिया था नारा
जयप्रकाश नारायण ने संपूर्ण क्रांति का नारा दिया, उस समय इंदिरा गांधी देश की प्रधानमंत्री थी। जेपी ने इंदिरा गांधी सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। 1975 में निचली अदालत में इंदिरा गांधी पर चुनाव में भ्रष्टाचार का आरोप साबित हो गया। जयप्रकाश ने उनके इस्तीफे की मांग कर दी। जेपी का कहना था इंदिरा सरकार को गिरना ही होगा। आनन-फानन में इंदिरा गांधी ने इमरजेंसी का एलान कर दिया। उन दिनों राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने कहा था- 'सिंहासन खाली करो कि जनता आती है'। 

राजद के लिए तेज प्रताप ने खड़ी मुश्किलें
लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने छात्र जनशक्ति परिषद के नाम से एक नया संगठन बनाया है। हाल ही में तेज प्रताप यादव ने अपने संगठन डीएसएस (DSS) और एक अन्य संगठन का छात्र जनशक्ति परिषद में विलय किया है। दूसरी तरफ छात्र जनशक्ति परिषद के सदस्य संजय कुमार ने तारापुर उपचुनाव में नामांकन दाखिल कर राजद के लिए मुश्किलें बढ़ा दी हैं। तारापुर से नामांकन पर्चा दाखिल करने वाले संजय कुमार ने स्पष्ट रूप से कहा कि उन्होंने तेज प्रताप यादव से इजाजत लेकर नामांकन पत्र दाखिल किया है। वहीं, बिहार की दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजद ने भी को उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। कुशेश्वरस्थान और तारापुर विधानसभा सीट पर तेजस्वी ने दो प्रत्याशी को टिकट दिया है। ऐसे में अब तेजप्रताप ने प्रत्याशी खड़ा कर मुश्किलें पैदा कर दी है।  

स्टार प्रचारक की सूची पर तेज प्रताप की टिप्पणी
जय प्रकाश नारायण की जयंती पर छात्र जनशक्ति परिषद की ओर होने वाली पदयात्रा को लेकर तेजप्रताप यादव ने आगे कहा कि वो मीडिया के माध्यम से अपने अर्जुन (तेजस्वी यादव) को भी पदयात्रा में शामिल होने का न्योता दिया है। तेजप्रताप ने कहा कि वो इस पदयात्रा में आएं, उनका इंतजार किया जाएगा। तेजप्रताप ने कहा कि पदयात्रा में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष समेत जितने भी जुड़े लोग हैं वो सारे मौजूद होंगे। स्टार प्रचारकों की सूची में नाम नहीं होने के सवाल पर  तेजप्रताप यादव ने कहा कि इसमें कोई बड़ी बात नहीं है, हां इतना जरूर है कि इसमें  मां राबड़ी देवी और बहन मीसा भारती का नाम जरूर होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि स्टार प्रचारक बस कागजी प्रक्रिया है
... और पढ़ें

यात्रीगण कृप्या ध्यान दें: बिहार में ठंड के दिनों में 26 ट्रेनें की गईं रद्द, सप्ताह में आठ ट्रेनें सिर्फ इतने दिन ही चलेंगी

तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव

बिहार पंचायत चुनाव : तीसरे चरण का मतदान खत्म, 58 फीसदी मतदान हुआ

बिहार पंचायत चुनाव के तीसरे चरण की वोटिंग शुक्रवार को खत्म हो गई। 35 जिलों के 50 प्रखंडों में 58.16 फीसदी वोटिंग हुई है। सबसे अधिक मतदान गया में 65.42 फीसदी हुआ।62 फीसदी के साथ नवादा जिला दूसरे नंबर पर रहा। दो सीटों पर दोबारा मतदान कराए जाने का फैसला लिया गया। समस्तीपुर के उजियारपुर में पंचायत समिति की एक सीट पर दोबारा मतदान होगा। इसके अलावा मुजफ्फरपुर में वार्ड 4 पर लोग फिर से मतदान करेंगे। बैलेट पेपर में गड़बड़ी के कारण दोबारा मतदान होगा। 

 तीसरे चरण के कुल 23 हजार 128 पदों के लिए 81 हजार 616 उम्मीदवार मैदान में थे। बिहार पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में 43061 महिला उम्मीदवार मैदान में हैं। 38555 पुरुष उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। ग्राम पंचायत सदस्य पद के 10240 पदों के लिए 46757 उम्मीदवार मैदान में हैं। पंच के 10240 पदों के लिए 16464 उम्मीदवार मैदान में हैं। मुखिया के 753 पद के लिए 6079 उम्मीदवार मैदान में हैं। पंचायत समिति सदस्य पद के 1034 पद पर 6706 उम्मीदवार मैदान में हैं। 

चुनाव से पहले जीते प्रत्याशी
बिहार पंचायत चुनाव में तीसरे चरण में 3144 प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। वोटिंग से पहले ही इन उम्मीदवारों को निर्विरोध चुन लिया गया। सबसे अधिक 3020 पंच निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। 

तीसरे चरण में 186 पदों पर नहीं हुआ नामांकन
तीसरे चरण के 186 पदों पर नामांकन नही हुआ है। इसमें ग्राम पंचायत सदस्य पद के लिए 7, पंच पद के लिए 176 और ग्राम कचहरी सरपंच पद के लिए 3 पद है। इसपर किसी ने भी नामांकन दाखिल नहीं किया। चुनाव आयोग ने बताया कि इन पदों पर किसी भी प्रत्याशी ने दावेदारी नहीं की है।
... और पढ़ें

बिहार: स्कूल में पिस्टल लहराने वाला नाबालिग भेजा गया किशोर सुधार गृह, पुलिस कर रही पूछताछ

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के कटरा स्थित हाई स्कूल में उस समय अफरा तफरी मच गई जब एक लड़का गोलियों से भरे पिस्टल लेकर क्लास में आ गया और  हवा में लहराने लगा। छात्र के हाथ में पिस्टल देख पूरे स्कूल परिसर में दहशत और भय का माहौल मच गया। छात्र इधर-उधर भगाने लगे। शिक्षक भी रूम में छिपकर छात्र से बंदूक फेंकने की मांग कर लगे। सूचना पर पहुंचे कुछ ग्रामीणों ने छात्र को पीछे से दबोच कर उससे बंदूक छीनी और उससे गोलियां निकालकर पहले तो उसकी पिटाई की और फिर पुलिस के हवाले कर दिया। 

घटना कटरा थाना क्षेत्र के चंगेल हाईस्कूल में मंगलवार की है। जहां क्लास में बच्चे पढ़ाई कर रहे थे, इसी दौरान नाबालिग छात्र बैग में बंदूक लेकर क्लास में आ धमका और अन्य छात्रों पर धौंस जमाने लगा। छात्र की इस करतूत से स्कूल में अफरा तफरी मच गई। शिक्षक भी जान बचाने के लिए क्लासरूम में छुप गए। शिक्षक ने कई बार उसे बंदूक फेंकने के लिए कहा, लेकिन वह पिस्टल अपने साथ लहराता रहा। बाद में ग्रामीणों की मदद से नाबालिग छात्र को पकड़ा गया। 

पुलिस मामले की जांच में जुटी
मुजफ्फरपुर पूरबी के डीएसपी मनोज कुमार पांडेय ने कहा कि 16 साल का नाबालिग लड़का स्कूल में पिस्टल लेकर पहुंच गया था। सूचना मिलने पर पुलिस ने नाबालिग को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की, लेकिन उसने अभी तक कोई सही जवाब नहीं दिया है। नाबालिग होने के कारण पुलिस किसी प्रकार की सख्ती नहीं बरत रही है। अपने स्तर से और विभिन्न स्रोतों से जानकारी जुटाई जा रही है। फिलहाल उसे  बाल सुधार गृह में भेज दिया गया है। 
 
... और पढ़ें

बिहार उपचुनाव: आरजेडी की लालटेन बुझाएंगे तेज प्रताप यादव, कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस प्रत्याशी के लिए मांगेंगे वोट

बिहार विधानसभा में उपचुनाव को लेकर राजनीतिक दलों ने स्टार प्रचारकों की सूची जारी कर दी है। राजद ने भी स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी है, लेकिन राजद की इस सूची में लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव और उनकी बेटी मीसा भारती का नाम नहीं है। इस सूची में नाम नहीं होने से तेज प्रताप ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। तेजप्रताप अब कुशेश्वरस्थान पर कांग्रेस प्रत्याशी अतिरेक कुमार के पक्ष में प्रचार करेंगे। 

बिहार में 30 अक्तूबर को तारापुर और कुशेश्वरस्थान पर उपचुनाव होना है। इससे पहले सियासी पार्टियां अपने अपने स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर रही है। इसी कड़ी में राजद की जारी लिस्ट में तेज प्रताप का नाम नहीं है, जिससे नाराज तेज प्रताप ने कांग्रेस के लिए वोट मांगने का एलान कर दिया है। 



कुशेश्वरस्थान से कांग्रेस प्रत्याशी अतिरेक कुमार के पक्ष में करेंगे वोट
कुशेश्वरस्थान से कांग्रेस प्रत्याशी अतिरेक कुमार के पिता और बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अशोक कुमार ने गुरुवार को तेज प्रताप से मुलाकात की और इस महत्वपूर्ण मुलाकात के बाद बताया जा रहा है कि तेज प्रताप अतिरेक कुमार के पक्ष में प्रचार कर सकते हैं। इससे पहले कुशेश्वरस्थान और तारापुर सीट पर आरजेडी ने अपने दो उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी थी, जिसके जवाब में कांग्रेस ने भी दोनों सीटों से आरजेडी के खिलाफ उम्मीदवार खड़ा कर दिया है। बिहार में कांग्रेस और राजद गठबंधन के तहत चुनाव लड़ रहे थे, लेकिन धीरे-धीरे इसकी कड़ी कमजोर पड़ रही है। 
... और पढ़ें

महागठबंधन में मनभेद: उपचुनाव में राजद के बाद कांग्रेस ने भी उम्मीदवारों को मैदान में उतारा, तेजस्वी बोले- यह कोई मुद्दा नहीं

बिहार में 30 अक्तूबर को दो सीटों पर होने वाले उपचुनावों को लेकर महागठबंधन की राजनीति गरमा गई है। राष्ट्रीय जनता दल ने कुशेश्वरस्थान और तारापुर सीट पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं, इससे महागठबंधन में शामिल कांग्रेस नाराज हो गई है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने सहयोगी पार्टी से बिना चर्चा किए हुए उम्मीदवारों के नाम का एलान कर दिया। ऐसे में कांग्रेस ने भी दोनों सीटों पर उम्मीदवार उतारने का एलान कर दिया है।

बिहार कांग्रेस प्रमुख मदन मोहन झा ने बताया कि 'विधानसभा उपचुनाव में कुशेश्वरस्थान से अतीरेक कुमार और तारापुर से राजेश कुमार मिश्रा कांग्रेस के उम्मीदवार होंगे। राजद द्वारा दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा के बाद, हमारे नेताओं की राय थी कि हमें भी यह चुनाव लड़ना चाहिए।'



गौरतलब है कि 2020 के विधानसभा चुनाव में कुशेश्र्वरस्थान की सीट कांग्रेस के खाते में थी, जबकि तारापुर राजद के। दोनों सीटों पर जदयू उम्मीदवार जीते थे। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने विश्वास में लिए बिना दोनों सीटों के उपचुनाव में प्रत्याशी उतार दिए। अब महागठबंधन के टूटने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसका फैसला केंद्रीय आलाकमान करेगा।

वहीं, राजद नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन में कोई समस्या नहीं है। हमारी पार्टी ने दो निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव लड़ने का फैसला किया। अगर कांग्रेस भी उपचुनावों में उम्मीदवार उतारना चाहती है तो कोई दिक्कत नहीं है।

बता दें कि राज्यों में स्थानीय पार्टियों के साथ गठबंधन की राजनीति करने वाली कांग्रेस के उनसे रिश्ते बिगड़ रहे हैं। बिहार से पहले बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से बिना विमर्श किए उपचुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से किसी भी तरह के गठबंधन पर चर्चा किए बिना चार विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनावों में अकेले लड़ने का फैसला कर लिया।

दो सीटों पर माकपा व एक-एक सीट पर फारवर्ड ब्लाक व आरएसपी चुनाव लड़ेगी। गौरतलब है कि गोसाबा, शांतिपुर, दिनहाटा और खड़दह में उपचुनाव होने हैं। वहीं, बिहार में कांग्रेस ने महागठबंधन के प्रमुख दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के खिलाफ ही उपचुनाव में ताल ठोक दी है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने बिना विश्वास में लिए दोनों सीटों पर अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी।
... और पढ़ें

दो हिस्सों में बंटी लोजपा: रामविलास पासवान की पार्टी के हुए दो टुकड़े, आयोग ने चुनाव चिह्न और नाम भी बदले

दो गुटों में बंटी लोक जनशक्ति पार्टी को लेकर चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला सुनाया है। चुनाव आयोग ने लोकजनशक्ति पार्टी के दोनों गुटों को अलग-अलग पार्टी के तौर पर मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही चुनाव आयोग ने पुराना नाम और चुनाव चिह्न भी खत्म कर दिया है। आयोग ने चिराग पासवान के नेतृत्व वाले गुट को पार्टी का नया नाम लोक जनशक्ति पार्टी (राम विलास) दिया है और चुनाव चिह्न हेलीकॉप्टर आवंटित किया है। वहीं, उनके चाचा पशुपति पारस को राष्ट्रीय जनशक्ति पार्टी और सिलाई मशीन चुनाव चिह्न प्रदान किया गया है। 

गौरतलब है कि एलजेपी के संस्थापक और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन के बाद पार्टी में दो गुट हो गया था। राम विलास के बेटे चिराग पासवान अकेले पड़ गए थे। वहीं, बाकी सांसद उनके चाचा पशुपति कुमार पारस के साथ चले गए थे। पार्टी के सिंबल को लेकर चाचा-भतीजा के बीच लगातार तनातनी का माहौल बना हुआ था। दोनों नेताओं की ओर से पार्टी के चिह्न हो लेकर दावा किया जा रहा था। लगातार इसको लेकर सियासत हो रही थी।

चुनाव आयोग ने सिंबल किया था जब्त 
पिछले सप्ताह चुनाव आयोग ने लोजपा का चुनाव चिह्न जब्त कर लिया था। चाचा-भतीजा ने चुनाव आयोग से पार्टी का नाम और चुनाव चिह्न जारी करने की मांग की थी। चुनाव आयोग ने दोनों नेताओं को पार्टी का नाम और चिह्न अलॉट कर दिया है। 

चुनाव आयोग ने 4 अक्तूबर को दोपहर 1 बजे तक अपने-अपने गुट के लिए नया नाम और सिंबल का तीन विकल्प देने का आदेश दिया था। जिसपर दोनों गुटों ने आयोग के आदेश का पालन करते हुए जवाब भेज दिया था। आयोग ने मंगलवार को दोनों नेताओं को पार्टी का नया नाम और चुनाव चिह्न जारी कर दिया है। 

चिराग ने चाचा पारस पर लगाया था ये आरोप
चिराग पासवान ने चुनाव आयोग को एक पत्र लिखकर इस मामले में पशुपति पारस गुट पर आरोप लगाया था कि पशुपति पारस का गुट जानबूझकर नामों और सिंबल का तीन विकल्प देने में देरी कर रहा है ताकि आयोग फैसला नहीं कर सके।  चिराग ने आरोप लगाया था कि आयोग की ओर से फैसले में हो रही देरी से उनकी चुनावी तैयारियों पर भी असर पड़ रहा है । चिराग पासवान बिहार विधानसभा की दो सीटों पर 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनाव में अपने उम्मीदवार उतारना चाहते हैं। कुशेश्वरस्थान और तारापुर की सीट पर चिराग प्रत्याशी उतारेंगे। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00