विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

जाप प्रमुख को बड़ी राहत: 32 साल पुराने अपहरण केस में पप्पू यादव बरी, साक्ष्यों के अभाव में मधेपुरा विशेष कोर्ट ने सुनाया फैसला

मधेपुरा व्यवहार न्यायालय की विशेष अदालत ने 32 साल पुराने अपहरण के मामले में जन अधिकार पार्टी (जाप) के प्रमुख और पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को साक्ष्यों के अभाव में बरी कर दिया गया। सोमवार को अंतिम फैसला सुनाते हुए अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह विशेष अदालत निशिकांत ठाकुर ने पप्पू यादव को सबूतों के अभाव में रिहा कर दिया। 

पप्पू यादव को तीन दशक पुराने अपहरण के एक मामले में 11 मई को पटना से गिरफ्तार किया गया था। पटना के गांधी मैदान थाना से उन्हे रातोरात मधेपुरा पुलिस पटना से पप्पू यादव को लेकर सिविल कोर्ट पहुंची थी। जहां कोर्ट ने पप्पू यादव को जेल भेज दिया था। बता दें कि पटना से गिरफ्तारी के बाद पप्पू यादव के समर्थकों के भारी विरोध के बीच उन्हें मधेपुरा ले जाया गया था। कोर्ट का फैसला आने के बाद पप्पू यादव ने ट्वीट किया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा इंसाफ हुआ, षड्यंत्र बेनकाब हुआ। जनता के आशीर्वाद से आज बाइज्जत बरी हो गया।



पप्पू यादव के लिए रात में खुला था कोर्ट
पप्पू यादव की पेशी के लिए रात 11 बजे मधेपुरा सिविल कोर्ट को खोला गया था। पप्पू यादव को जब गिरफ्तार किया गया था तो बिहार समेत पूरे देश में कोरोना की दूसरी लहर पीक पर चल रही थी। इस दौरान पप्पू यादव लोगों की मदद भी कर रहे थे। साथ ही कोरोना प्रबंधन की अच्छी व्यवस्था नहीं होने से सरकार की आलोचना भी कर रहे थे। 

दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल में थे भर्ती
मई में गिरफ्तारी के बाद ही उन्होंने तबीयत खराब होने का हवाला दिया था। इसके बाद कोर्ट के आदेश पर उन्हें दरभंगा के DMCH में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। पप्पू तब से ही DMCH में भर्ती थे। वहीं से वो कोर्ट की तारीखों पर सुनवाई के लिए आते-जाते थे। आज सुबह वह अपने पैरों पर खड़े होकर एंबुलेंस में बैठकर मधेपुरा कोर्ट पहुंचे। इससे पहले वो ह्वील चेयर पर बैठे नजर आते थे। 

हाईकोर्ट ने छह महीने में मामला खत्म करने का दिया था आदेश
पटना हाईकोर्ट ने इस मामले को छह महीने में सुनवाई कर खत्म करने का आदेश जारी किया था।  सभी पक्षों की गवाही हो चुकी है। इस मामले में दो गवाहों की मौत भी हो चुकी है। दोनों पक्षों ने कोर्ट में सुलहनामा भी दाखिल कर दिया था। हाईकोर्ट के आदेश पर चार महीने में ही मामले की सुनवाई कर फैसला सुना दिया गया।  पप्पू यादव पर 1989 के दौरान शैलेंद्र यादव ने मुरलीगंज थाना में राम कुमार यादव और उमाशंकर यादव के अपहरण किए जाने का मामला दर्ज करवाया था। 32 साल पुराने अपहरण मामले में पप्पू यादव मई से जेल में बंद थे। मधेपुरा विशेष कोर्ट ने सबूतों के अभाव में उन्हें रिहा कर दिया। 
... और पढ़ें

पटना: जनता दरबार में फरियादी बोला- ढाई साल पहले बेटे का गला काटा, लेकिन हत्यारा का कोई सुराग नहीं, सीएम नीतीश ने अधिकारियों को दिए निर्देश

कोरोना संक्रमण कम होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता दरबार कार्यक्रम फिर से शुरू कर दिया है। प्रदेश के अलग-अलग जिलों से फरियादी अपनी फरियाद लेकर पटना स्थित सीएम आवास में लगे जनता दरबार में पहुंच रहे हैं मुख्यमंत्री एक एक कर लोगों की समस्या सुन रहे हैं और मौके पर ही संबंधित विभागों को उचित कार्रवाई करने के निर्देश दे रहे हैं। 

इसी सिलसिले में जनता दरबार में एक फरियादी अपने बेटे की हत्या के मामले में आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पहुंचा। पीड़ित पिता ने मुख्यमंत्री को बताया कि बेटे की ढाई साल पहले गला काट कर हत्या कर दी गई थी, लेकिन अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मुख्यमंत्री ने फरियादी को अधिकारियों के पास भेजकर तुरंत कार्रवाई करने का निर्देश दिया।  मेरे बेटे की ढाई साल पहले गला काट कर हत्या कर दी गई थी। कई जगह आवेदन भी दिए लेकिन अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई

जनता दरबार में जाने से पहले कोरोना जांच जरूरी
बता दें कि तय कार्यक्रम के अनुसार,  अक्तूबर महीने के पहले सोमवार को  मुख्यमंत्री पुलिस और जमीन से जुड़े मामले सुने रहे हैं।  जनता दरबार में गृह विभाग, राजस्व एवं भूमि सुधार, कारा, मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन, निगरानी, खान एवं भूतत्व और सामान्य प्रशासन विभाग से जुड़ी शिकायतें सुनी जाती हैं।  इसके लिए पहले से ही आनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है। साथ ही उनकी कोरोना जांच और वैक्सीनेशन भी किया जा रहा है।
... और पढ़ें

बिहार : पंचायत चुनाव की रंजिश में डबल मर्डर से दहला खगड़िया, प्रतिद्वंदी के मना करने के बाद बने थे प्रत्याशी

बिहार में पंचायत चुनाव का पहला चरण संपन्न हो गया, लेकिन खूनी संघर्ष की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रहीं। ताजा मामला खगड़िया का है, जहां चुनावी रंजिश के कारण दो लोगों को गोली मारकर हत्या कर दी गई है। वारदात के बाद इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है। घटना बेलदौर थाना के रोहियामा गांव की है। दोहरे हत्याकांड के बाद गांव में भारी पुलिस बल तैनात है। मृतकों के नाम किशन चौधरी और हरबेल यादव हैं। 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, किशन चौधरी की पत्नी सुलेखा देवी ने बताया कि उसके पति  पंचायत समिति सदस्य पद के लिए चुनाव में खड़ा होना चाह रहे थे। गांव के लोगों का पूरा समर्थन मिल रहा था। लोगों के समर्थन करने के बाद ही उन्होंने पंचायत समिति पद पर खड़ा होने का फैसला किया था, लेकिन ढोलन चौधरी और उसके लोगों ने उसके पति की गोली मारकर हत्या कर दी।  पति गांव में बैठक के लिए घर से निकले थे और बैठक में ही उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। 

पुलिस ने एक शख्स को हिरासत में लिया
डबल मर्डर की इस घटना के बाद पूरा गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। वहीं, घटना की सूचना मिलने के बाद बेलदौर विधायक पन्नालाल पटेल भी घटना स्थल पर पहुंचे और मृतकों के परिजनों से मुलाकात कर उन्हें संत्वाना दी। पुलिस ने इस मामले में एक व्यक्ति को हिरासत में लिया है। 

गांव में पुलिस बल तैनात
खगड़िया एसपी अमितेश कुमार ने बताया कि बेलदौर थाना के रोहियामा गांव में दो लोगों की गोली मारकर हत्या करने की घटना सामने आई है। प्रथम दृष्टया आपसी रंजिश की बात बताई जा रही है। पंचायत चुनाव को लेकर जो बात बताई जा रही है, उसको लेकर पड़ताल की जा रही है। फिलहाल एक शख्स को पुलिस ने हिरासत में लिया है। पूछताछ जारी है। जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। फिलहाल गांव में पुलिस बलों को तैनात किया गया है। गांव का माहौल शांत है। 
... और पढ़ें

बिहार चले लालू: महागठबंधन टूटने पर राजद अध्यक्ष ने तोड़ी चुप्पी, कांग्रेस प्रभारी भक्तचरण को बताया 'भकचोनहर'

करीब तीन साल बाद राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद आज (रविवार) पटना लौट रहे हैं। दिल्ली से पटना के लिए रवाना होने से पहले लालू यादव ने कहा कि कांग्रेस का क्या गठबंधन है। क्या सबकुछ कांग्रेस के भरोसे छोड़ दें।बिहार में कांग्रेस के साथ पार्टी के गठबंधन तोड़ने वाले सवाल पर लालू यादव ने कहा ''कांग्रेस का गठबंधन क्या है? क्या हम सब कुछ कांग्रेस के भरोसे छोड़ देते?  अपनी पार्टी की जमानत जब्त होने के लिए उनके साथ गठबंधन करके रखते?'' बिहार में दो विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है। इसी सिलसिले में लालू यादव तीन साल बाद बिहार पहुंच रहे हैं। कयास लगाया जा रहा है कि राजद प्रमुख लालू यादव कुशेश्वरस्थान और तारापुर में राजद प्रत्याशी के लिए प्रचार करेंगे।  

लालू ने कांग्रेस के बिहार प्रभारी भक्त चरण दास पर हमला बोलते हुए  कहा कि भक्त चरण दास भकचोनहर दास है। गौरतलब है कि दो दिन पहले बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास ने राजद पर बड़ा हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि राजद का पर्दे के पीछे से भाजपा से मिलीभगत है। अब बिहार में कांग्रेस महागठबंधन का हिस्सा नहीं है। अगले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस सभी चालीस सीटों पर चुनाव लड़ेगी।  

स्वास्थ्य में सुधार के बाद लालू यादव दिल्ली से पटना हवाई अड्डा पहुंचेंगे। पटना हवाई अड्डे पर राजद कार्यकर्ता उनका स्वागत करेंगे। कयास लगाया जा रहा है कि लालू यादव दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में प्रचार करेंगे। हालांकि, दो विधानसभा क्षेत्रों में हो रहे उपचुनाव के लिए प्रचार में जाने को लेकर संशय बना हुआ है। लालू यादव की तबीयत में सुधार तो जरूर है, लेकिन उनके आने के बाद डॉक्टरों की सलाह पर ही आगे का कार्यक्रम तय होगा।




जमानत पर जेल से बाहर आए लालू यादव
चारा घोटाले मामले में रांची जेल में सजा काट रहे लालू यादव को इसी साल अप्रैल में जमानत मिली है। बीपी, शूगर समेत अन्य समस्याओं को लेकर उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा है, लेकिन पिछले कुछ समय से  उनकी सेहत में सुधार है। लालू यादव दिल्ली में बड़ी बेटी मीसा भारती के आवास पर रह रहे हैं। लालू प्रसाद पटना से 23 दिसम्बर 2017 को गए थे।

तेज प्रताप के विद्रोही तेवर से परेशान हैं लालू यादव
लालू प्रसाद के पटना आने का कार्यक्रम पहले से ही तय था। उन्हें 22 या 23 अक्टूबर को पटना आना था। 25 और 27 को वह कुशेश्वरस्थान और तारापुर में पार्टी प्रत्याशियों के लिए प्रचार कर सकते हैं। पिछले दिनों  उनके आने का कार्यक्रम तय होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी पटना पहुंच गई थीं, लेकिन इसी बीच में राबड़ी फिर दिल्ली लौट गईं। जाते समय उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद की तबीयत ठीक नहीं है, अभी वह पटना नहीं आएंगे। जिसके बाद कयास लगाया जा रहा था कि तेजप्रताप के पार्टी के खिलाफ विद्रोही तेवर के कारण वह पटना नहीं आ रहे हैं। राबड़ी देवी पटना आईं तो सबसे पहले तेजप्रताप के आवास पर ही गईं, लेकिन तेज उनसे मिले बिना ही घर से निकल गये। उसके दो दिन बाद ही राबड़ी देवी फिर दिल्ली लौट गईं। 

लालू यादव के कड़े रुख से तेज प्रताप हुए नरम
पार्टी सूत्रों की मानें तो लालू यादव ने तेज प्रताप के बागी तेवर को देखते हुए कड़ी फटकार लगाई है, जिसके बाद तेज प्रताप नरम पड़े हैं। लालू यादव ने साफ कर दिया कि पार्टी में अनुशासनहिनता बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। लालू प्रसाद ने नाम लिए बगैर कहा कि जो पार्टी के खिलाफ काम करेगा उसे दल से बाहर जाना होगा। 
... और पढ़ें
लालू प्रसाद यादव लालू प्रसाद यादव

बिहार पंचायत चुनाव : पांचवें चरण के मतदान के लिए सुबह से बूथों पर लगी भीड़ ,मतदान केंद्रों के बाहर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

बिहार पंचायत चुनाव के पांचवें चरण का मतदान सुबह सात बजे से जारी है। 38 जिलों के 58 प्रखंडों में मतदान केंद्रों पर सुबह से भीड़ लगी हुई है। इस चरण के तहत मुखिया और सरपंच पद की 845 सीटों और जिला परिषद् सदस्य की 124 सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं। ग्राम पंचायत सदस्य और ग्राम कचहरी पंच के 1 लाख 15 हजार 553 सीट और पंचायत समिति सदस्य के 1 हजार 171 सीटों के लिए वोटिंग हो रही है। मतदान केंद्रों के बाहर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

वहीं, 23 अक्तूबर से नौवें चरण की सीटों के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है। यहां 29 नवंबर को मतदान होगा। नौवें चरण में 35 जिलों के 53 प्रखंड़ों में चुनाव होंगे।  वहीं, 25 अक्टूबर से 10वें चरण की सीटों के लिए चुनावी अधिसूचना जारी होगी। यहां 8 दिसंबर को मतदान होगा, 10वें चरण में 34 जिलों के 53 प्रखंडों में चुनाव होंगे।
... और पढ़ें

बिहार: मुंगेर में किराना कारोबारी के कर्मचारी से 59 लाख रुपये की लूट, पीछा नहीं करने के लिए बदमाशों ने की फायरिंग

बिहार में लूटपाट, डकैती और हत्या की वारदात फिर से तेज होने लगी है। अपराधी दिनदहाड़े घटना को अंजाम देकर फरार हो जा रहे हैं। ताजा मामला मुंगेर का है। शहर के मकससपुर के रहने वाले किराना कारोबारी लक्ष्मी साह के पुत्र गोपाल साह के 49 लाख रुपये अपराधियों ने लूट लिए। सोमवार की शाम 5:00 बजे बाइक सवार अज्ञात बदमाशों ने हथियार के बल पर कारोबारी के कर्माचीर से 49 लाख रुपये लूट लिए। पीछा नहीं करने और आसपास में भय पैदा करने के लिए अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया है। पैसे लेकर भागने के दौरान लुटेरों ने गोली भी चलाई। पुलिस सीसीटीवी कैमरे की मदद से बदमाशों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। वहीं इस मामले में व्यवसायी कुछ भी बोलने से इनकार कर रहे हैं। 

शहर के सबसे बड़े किराना व्यवसायी गोपाल साह के दो कर्मचारी सौरभ और धर्मेंद्र कुमार अलग-अलग बाइक से  मकसपुर से मुख्य ब्रांच एसबीआई बैंक में पैसा जमा करने जा रहे थे। अपने कर्मचारी के साथ साथ व्यवसायी भी बेटी को लेकर बाइक से पीछे पीछे चल रहे थे। आगे की बाइक पर दोनों कर्मचारी एक बैग में पैसे लेकर चल रहे थे।

हवाई फायर कर दहशत फैलाया
तभी कोतवाली थाना क्षेत्र के शादीपुर मछली आढ़त के मस्जिद अहमदिया के पास पीछे से आ रहे बाइक सवार दो बदमाशों ने कर्मचारी की गाड़ी में टक्कर मार दी। कर्मचारी कुछ समझ पाता पिस्टल दिखाकर बाइक सवार ने पैसे से भरा बैग को छीन लिया। वहीं, कर्मचारी से पैसे छीनता देख व्यवसायी गोपाल साह बदमाशों के पीछे दौड़कर शोर मचाने लगे, जिसपर बदमाशों ने दहशत फैलाने के लिए दो राउंड फायरिंग कर भय का माहौल पैदा कर दिया और बैग लेकर फरार हो गए।
... और पढ़ें

बिहार: औरंगाबाद में बीए की छात्रा का अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म, हालत गंभीर

बिहार के औरंगाबाद में 20 वर्षीय छात्रा का अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। गंभीर हालत में पीड़िता को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के मुताबकि, शनिवार रात छात्रा पड़ोस में रहने वाली दोस्त के घर जा रही थी, इसी दौरान युवक ने उसे अगवा कर कार में बैठा लिया। इसके बाद सुनसान जगह पर ले जाकर अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर छात्रा के साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद तीनों आरोपी छात्रा को झाड़ी में फेंककर फरार हो गए। पेट्रोलिंग पर निकली मुफस्सिल थाना पुलिस ने लड़की के रोने की आवाज सुन, गंभीर हालत में पीड़िता को अस्पताल में दाखिला करवाया गया।

पीड़िता ने बताया कि बीती रात 9 बजे के करीब अपनी दोस्त से मिलने जा रही थी। इसी दौरान गांव के ही राहुल कुमार ने जबरदस्ती पकड़ कर गाड़ी में बैठा लिया। इसके बाद किसी अनजान जगह पर ले गया। उसने पहले मेरे चेहरे पर स्प्रे मारकर बेहोश कर दिया। आंख खुली तो देखा कि मेरे सामने राहुल, उसका दोस्त अविनाश कुमार राम और पंकज राम थे। मैं तीनों से छोड़ने की गुहार लगाती रही , लेकिन किसी ने एक न सुनी। तीनों ने मिलकर दुष्कर्म किया और विरोध करने पर मारपीट की। साथ ही मुंह खोलने पर जान से मारने की धमकी दी।
... और पढ़ें

बिहार: शिक्षक बहाली पर शिक्षा मंत्री के ट्वीट से बढ़ा विवाद, विपक्ष के तेवर के बाद हटा गया ट्वीट

सांकेतिक तस्वीर
बिहार के शिक्षा मंत्री के एक ट्वीट पर राजनीति तेज हो गई है। उनके ट्वीट पर विपक्ष ने ऐतराज जताते हुए कहा है कि यह विधानसभा उपचुनाव को प्रभावित करने की कोशिश है। विपक्षी नेताओं ने शिक्षा मंत्री को भी उन्हीं की भाषा में तीखे सवाल पूछे हैं। ट्रोलिंग के बाद आखिरकार शिक्षा मंत्री को अपना ट्वीट डिलीट करना पड़ा।

हुआ यूं कि शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने ट्वीट कर कहा था कि 'राज्य निर्वाचन आयोग से अनुमति मिलते ही छठे चरण की शिक्षक नियोजन प्रक्रिया को पूर्ण कर लिया जाएगा। अभ्यर्थी इन हालातों को संज्ञान में लें जिससे वे अनावश्यक किसी भ्रम का शिकार न हों।' शिक्षा मंत्री के इस ट्वीट के बाद विपक्ष ने तीखा हमला बोला। 

राजद नेता ने मंत्री पर कसा तंज 
राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि सरकार ने पहले तो कहा था कि 15 अगस्त तक शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दे दिया जाएगा। उसके बाद यह कहा गया कि अक्तूबर तक नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। अब सरकार कह रही है कि निर्वाचन आयोग से अनुमति ली जा रही है। चित्तरंजन गगन ने कहा कि विधानसभा उपचुनाव में सरकार का वोट बैंक प्रभावित नहीं हो इसलिए सरकार अभ्यर्थियों को गुमराह कर रही है। अब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ही मुख्यमंत्री बनेंगे तो शिक्षकों को नियुक्ति पत्र मिलेगा। 

शिक्षक बहाली मोर्चा ने खड़े किए सवाल
शिक्षा मंत्री के ट्वीट हटाए जाने पर बिहार टीईटी- सीटीईटी- एसटीईटी उत्तीर्ण शिक्षक बहाली मोर्चा ने कहा कि शिक्षा मंत्री जी को इस ट्वीट को डिलीट करने के क्या कारण हो सकते हैं? लगता है इरादा नेक नहीं है। इधर टीईटी-एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ ने आरोप लगाया कि सरकार जरूरी डॉक्यूमेंट निर्वाचन आयोग को उपलब्ध नहीं करा रही तो अनुमति कहां से मिलेगी।

शिक्षक बहाली को लेकर मंत्री ने किया था ट्वीट
शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने गुरुवार को ट्वीट किया कि राज्य में आने वाले दिनों में बड़ी संख्या में शिक्षकों की बहाली की जाएगी। सरकारी ने इसे लेकर जरूरी दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार शिक्षा में सुधार के लिए कटिबद्ध है।
... और पढ़ें

लालू यादव का नया लुक: मीसा भारती ने पोस्ट किया कुल अंदाज वाला फोटो, तेजप्रताप बोले- मेरे पिता जी जैसा सीएम कोई नहीं..

लालू प्रसाद यादव दिल्ली में अपनी बड़ी बेटी मीसा भारती के आवास पर स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं। स्वास्थ्य लाभ के दौरान उनकी कई तस्वीरें भी वायरल हुई हैं। इसी कड़ी में लालू यादव का कूल अंदाज वाला एक फोटो भी सोशल मीडिया पर  वायरल हो रहा है। लालू की एक तस्वीर उनकी बेटी मीसा भारती ने सोशल मीडिया पर पोस्ट की है। मीसा भारती ने लिखा है - 'जब नाना और प्यारे नाती में मची ज्यादा कूल दिखने की होड़!' वायरल तस्वीर से लालू के प्रशंसक भी काफी खुश नजर आ रहे हैं। शुभचिंतक इस उम्मीद में हैं कि नेताजी जल्द ही अब पटना लौटेंगे और सक्रिय राजनीति में हिस्सा लेंगे।

वहीं, बहन की पोस्ट को शेयर करते हुए तेजप्रताप ने लिखा है- मेरे पिता जी जैसा मुख्यमंत्री और कोई नहीं हो सकता। पिछले दिनों तेजप्रताप यादव ने लालू यादव के दिल्ली में रहने को लेकर तंज कसा था। तेज प्रताप ने कहा था कि लालू यादव को बंधक बना लिया गया है। इन दिनों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव के बीच अच्छे संबंध नहीं हैं।

बिहार उपचुनाव में राजद ने दो सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं।वहीं, कांग्रेस उम्मीदवार ने एक सीट पर नामांकन दाखिल किया है। बिहार राजद और कांग्रेस महागठबंधन का हिस्सा है, लेकिन उपचुनाव में जिस तरह से दोनों दलों ने प्रत्याशी उतारे हैं उससे गठबंधन कमजोर हुआ है। तेज प्रताप ने भी कांग्रेस के लिए प्रचार करने का एलान किया है।  

हाल के दिनों में कई बार दिखे लालू, पर इसमें दिखे अलग
लालू प्रसाद को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हाल के दिनों में लोगों ने कई बार देखा है। पार्टी के स्थापना दिवस हो या प्रशिक्षण शिविर या कोई अन्य कार्यक्रम सब में लालू यादव की उपस्थिति देखी गई है, लेकिन उनकी वह तस्वीर जिसे मीसा भारती ने सोशल मीडिया पर डाला है वह बहुत कुल मुद्रा में दिख रहे हैं। उनके बगल में नाती खड़ा है और उसका चश्मा पहनकर खुद फोटो खिंचवा रहे हैं। 

पटना आने की बढ़ी उम्मीद
इस फोटो को देखकर उनके शुभचिंतक अंदाज लगा रहे हैं कि नेताजी की सेहत धीरे-धीरे ठीक हो रही है और वह जल्द ही उपचुनाव में बिहार आएंगे। हालांकि, लालू प्रसाद हाई ब्लड प्रेशर, शूगर समेत कई बीमारियों से ग्रसित हैं। दिल्ली में उनका इलाज चल रहा है। डॉक्टरों की अनुमति के बाद ही वह कही जा सकते हैं। 
... और पढ़ें

लालू परिवार में घमासान: तेजप्रताप का शक्ति प्रदर्शन, मां राबड़ी का आशीर्वाद लिए बिना निकले यात्रा पर

लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और हसनपुर विधायक तेजप्रताप यादव राष्ट्रीय जनता दल से खासे नाराज चल रहे हैं। पार्टी में वर्चस्व की लड़ाई को लेकर वह अपने भाई तेजस्वी यादव से आर पार करने के मूड में हैं। इस बार तेज प्रताप इतने गुस्से में हैं कि विवाद सुलझाने में वह अपनी मां राबड़ी देवी का भी साथ नहीं चाहते। बिना मां का आशीर्वाद लिए तेज प्रताप यादव ने लोकनायक जय प्रकाश नारायण की जयंती पर पदयात्रा निकाल दी, जबकि इससे पहले तेज प्रताप ने कहा था कि वह अपनी मां से आशीर्वाद लेकर पदयात्रा की शुरुआत करेंगे।

रविवार को दिल्ली से पटना लौटीं राबड़ी देवी उनके आवास पर पहुंची थीं, लेकिन तेजप्रताप की उनसे मुलाकात नहीं हो सकी। उम्मीद जताई जा रही थी जेपी की जयंती पर पदयात्रा निकालने से पहले घर जाकर राबड़ी देवी से आशीर्वाद लेंगे, लेकिन तेजप्रताप का काफिला राबड़ी देवी के घर के सामने से गुजरा लेकिन वह मां का आशीर्वाद लेने नहीं गए।  तेजप्रताप यादव छात्र जनशक्ति परिषद की ओर से गांधी मैदान स्थित जेपी की मूर्ति पर सोमवार को माल्यार्पण किया और फिर जय प्रकाश नारायण के कदम कुआं स्थित घर तक नंगे पांव पद यात्रा की।

जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती
तेजप्रताप यादव ने एक वीडियो फेसबुक पर पोस्ट कर खुद ही इस संबंध में जानकारी दी। इस दौरान तेज प्रताप ने अधिक से अधिक छात्रों को इस पदयात्रा से जुड़ने की अपील की। लोकनायक जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती मनाई जा रही है। जेपी को 1970 में इंदिरा गांधी के विरुद्ध विपक्ष का नेतृत्व करने के लिए जाना जाता है। इंदिरा गांधी को सत्ता से हटाने के लिए उन्होंने 'सम्पूर्ण क्रांति' आंदोलन चलाया था। 

जेपी ने संपूर्ण क्रांति का दिया था नारा
जयप्रकाश नारायण ने संपूर्ण क्रांति का नारा दिया, उस समय इंदिरा गांधी देश की प्रधानमंत्री थी। जेपी ने इंदिरा गांधी सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। 1975 में निचली अदालत में इंदिरा गांधी पर चुनाव में भ्रष्टाचार का आरोप साबित हो गया। जयप्रकाश ने उनके इस्तीफे की मांग कर दी। जेपी का कहना था इंदिरा सरकार को गिरना ही होगा। आनन-फानन में इंदिरा गांधी ने इमरजेंसी का एलान कर दिया। उन दिनों राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने कहा था- 'सिंहासन खाली करो कि जनता आती है'। 

राजद के लिए तेज प्रताप ने खड़ी मुश्किलें
लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने छात्र जनशक्ति परिषद के नाम से एक नया संगठन बनाया है। हाल ही में तेज प्रताप यादव ने अपने संगठन डीएसएस (DSS) और एक अन्य संगठन का छात्र जनशक्ति परिषद में विलय किया है। दूसरी तरफ छात्र जनशक्ति परिषद के सदस्य संजय कुमार ने तारापुर उपचुनाव में नामांकन दाखिल कर राजद के लिए मुश्किलें बढ़ा दी हैं। तारापुर से नामांकन पर्चा दाखिल करने वाले संजय कुमार ने स्पष्ट रूप से कहा कि उन्होंने तेज प्रताप यादव से इजाजत लेकर नामांकन पत्र दाखिल किया है। वहीं, बिहार की दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजद ने भी को उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। कुशेश्वरस्थान और तारापुर विधानसभा सीट पर तेजस्वी ने दो प्रत्याशी को टिकट दिया है। ऐसे में अब तेजप्रताप ने प्रत्याशी खड़ा कर मुश्किलें पैदा कर दी है।  

स्टार प्रचारक की सूची पर तेज प्रताप की टिप्पणी
जय प्रकाश नारायण की जयंती पर छात्र जनशक्ति परिषद की ओर होने वाली पदयात्रा को लेकर तेजप्रताप यादव ने आगे कहा कि वो मीडिया के माध्यम से अपने अर्जुन (तेजस्वी यादव) को भी पदयात्रा में शामिल होने का न्योता दिया है। तेजप्रताप ने कहा कि वो इस पदयात्रा में आएं, उनका इंतजार किया जाएगा। तेजप्रताप ने कहा कि पदयात्रा में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष समेत जितने भी जुड़े लोग हैं वो सारे मौजूद होंगे। स्टार प्रचारकों की सूची में नाम नहीं होने के सवाल पर  तेजप्रताप यादव ने कहा कि इसमें कोई बड़ी बात नहीं है, हां इतना जरूर है कि इसमें  मां राबड़ी देवी और बहन मीसा भारती का नाम जरूर होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि स्टार प्रचारक बस कागजी प्रक्रिया है
... और पढ़ें

बिहार: शराब पार्टी की सूचना पर पहुंची पुलिस पर हमला, आठ पुलिसकर्मी घायल, सात आरोपी गिरफ्तार

यात्रीगण कृप्या ध्यान दें: बिहार में ठंड के दिनों में 26 ट्रेनें की गईं रद्द, सप्ताह में आठ ट्रेनें सिर्फ इतने दिन ही चलेंगी

बिहार पंचायत चुनाव : तीसरे चरण का मतदान खत्म, 58 फीसदी मतदान हुआ

बिहार पंचायत चुनाव के तीसरे चरण की वोटिंग शुक्रवार को खत्म हो गई। 35 जिलों के 50 प्रखंडों में 58.16 फीसदी वोटिंग हुई है। सबसे अधिक मतदान गया में 65.42 फीसदी हुआ।62 फीसदी के साथ नवादा जिला दूसरे नंबर पर रहा। दो सीटों पर दोबारा मतदान कराए जाने का फैसला लिया गया। समस्तीपुर के उजियारपुर में पंचायत समिति की एक सीट पर दोबारा मतदान होगा। इसके अलावा मुजफ्फरपुर में वार्ड 4 पर लोग फिर से मतदान करेंगे। बैलेट पेपर में गड़बड़ी के कारण दोबारा मतदान होगा। 

 तीसरे चरण के कुल 23 हजार 128 पदों के लिए 81 हजार 616 उम्मीदवार मैदान में थे। बिहार पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में 43061 महिला उम्मीदवार मैदान में हैं। 38555 पुरुष उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। ग्राम पंचायत सदस्य पद के 10240 पदों के लिए 46757 उम्मीदवार मैदान में हैं। पंच के 10240 पदों के लिए 16464 उम्मीदवार मैदान में हैं। मुखिया के 753 पद के लिए 6079 उम्मीदवार मैदान में हैं। पंचायत समिति सदस्य पद के 1034 पद पर 6706 उम्मीदवार मैदान में हैं। 

चुनाव से पहले जीते प्रत्याशी
बिहार पंचायत चुनाव में तीसरे चरण में 3144 प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। वोटिंग से पहले ही इन उम्मीदवारों को निर्विरोध चुन लिया गया। सबसे अधिक 3020 पंच निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। 

तीसरे चरण में 186 पदों पर नहीं हुआ नामांकन
तीसरे चरण के 186 पदों पर नामांकन नही हुआ है। इसमें ग्राम पंचायत सदस्य पद के लिए 7, पंच पद के लिए 176 और ग्राम कचहरी सरपंच पद के लिए 3 पद है। इसपर किसी ने भी नामांकन दाखिल नहीं किया। चुनाव आयोग ने बताया कि इन पदों पर किसी भी प्रत्याशी ने दावेदारी नहीं की है।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00