विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

दीपावली और छठ पर बिहार जाने वालों के लिए कोरोना टेस्ट जरूरी, नीतीश कुमार ने दिए निर्देश

बिहार: दीपावली-छठ में एंट्री के लिए टीकाकरण प्रमाण पत्र अनिवार्य, नहीं तो होगा कोरोना टेस्ट

दीपावली और छठ में बिहार जाने की सोच रहे हैं तो पूर्ण वैक्सीनेशन जरूर करवा लें। क्योंकि त्योहारों में बिहार में एंट्री के लिए टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि दीपावली और छठ में बिहार आने वाले यात्रियों के टीकाकरण प्रमाणपत्र की अनिवार्य रूप से जांच की जाए। अगर उनके पास प्रमाणपत्र नहीं है तो कोरोना जांच के बाद ही उन्हें एंट्री दी जाए। 

यात्रियों का होगा वैक्सीनेशन 
सीएम नीतीश कुमार ने अधिकारियों के साथ एक बैठक में निर्देश दिए कि बिहार आने वाले यात्रियों के टीकाकरण की भी व्यवस्था की जाए। अगर उन्हें कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक नहीं लगी हैं तो उन्हें पूर्ण रूप से टीकाकरण के बाद ही राज्य में एंट्री दी जाए। इसके अलावा अगर लोगों के पास आधार कार्ड नहीं है तो उनके दूसरे पहचान पत्र के आधार पर भी टीकाकरण करवाया जाएगा। 

18 से 20 तक डोर-टू-डोर अभियान 
बिहार के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि दीपावली और छठ पर बड़ी संख्या में लोग बिहार आते हैं। इसलिए बिहार सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए अभी से तैयारी शुरू कर दी है। इसके तहत छठ महापर्व से पूर्व कोरोना वैक्सीनेशन अभियान चलाया जाएगा और कोरोना जांच की संख्या बढ़ाई जाएगी। उन्होंने बताया कि 18,19 व 20 अक्तूबर को कोरोना वैक्सीनेशन का डोर-टू-डोर अभियान चलाकर लोगों को वैक्सीन की खुराक लगाई जाएगी। 
... और पढ़ें

बिहार उपचुनाव: कांग्रेस ने नियुक्त किए दो पर्यवेक्षक, यादव वोट बैंक में सेंध लगाने की तैयारी

कांग्रेस ने बिहार में दो सीटों तारापुर और कुशेश्वरस्थान पर हो रहे उपचुनाव के लिए अपने दो पर्यवेक्षकों की घोषणा की है। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपालन द्वारा जारी सूची के मुताबिक, पार्टी ने अपनी पूर्व सांसद रंजीत रंजन को आरक्षित सीट कुशेश्वरस्थान के लिए पर्यवेक्षक बनाया है, जबकि छत्तीसगढ़ के प्रभारी सचिव चंदन यादव को तारापुर सौंपा गया है।

दोनों सीटों पर कांग्रेस कड़ी मेहनत कर रही है। उसका जद (यू) और राजद के साथ त्रिकोणीय मुकाबला है। वहीं चंदन यादव को तारापुर की कमान सौपने के इस कदम से कांग्रेस यादव वोट में सेंध लगाने के प्रयास में है। वहीं राजद ने अपने पुराने सहयोगी कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है। यहां जद (यू) के विधायक के निधन से खाली हुई सीट पर दोनों पार्टी अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं।

पंजाब की रहने वाली रंजीत रंजन बिहार में अच्छी तरह से जानी जाती हैं, उन्होंने बिहार के जाने माने नेता राजेश रंजन उर्फपप्पू यादव से शादी की है जो कई बार सांसद रह चुके हैं। साथ ही रंजीत रंजन ने  2004 में सहरसा से लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद के रूप में अपना करियर शुरू किया था।

उनके पति पप्पू यादव, जो तीन दशक पुराने मामले में सलाखों के पीछे रहने के बाद हाल ही में जेल से रिहा हुए थे, जन अधिकार पार्टी (जेएपी) के प्रमुख हैं, जो सड़कों पर सक्रिय है, लेकिन अभी तक चुनावी सफलता का स्वाद नहीं चखा है।

वहीं चंदन यादव खगड़िया जिले के रहने वाले हैं, जो मुंगेर से सटा हुआ है, जिसके अंतर्गत यादवों की एक बड़ी आबादी वाला एक अन्य निर्वाचन क्षेत्र तारापुर आता है। चंदन के जरिए कांग्रेस यादव वोट बैंक में सेंध लगा पाएगी ये देखना बाकी है। पार्टी ने इस सीट से सवर्ण नेता राजेश मिश्रा को मैदान में उतारा है।
... और पढ़ें

बिहार चले लालू: महागठबंधन टूटने पर राजद अध्यक्ष ने तोड़ी चुप्पी, कांग्रेस प्रभारी भक्तचरण को बताया 'भकचोनहर'

करीब तीन साल बाद राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद आज (रविवार) पटना लौट रहे हैं। दिल्ली से पटना के लिए रवाना होने से पहले लालू यादव ने कहा कि कांग्रेस का क्या गठबंधन है। क्या सबकुछ कांग्रेस के भरोसे छोड़ दें।बिहार में कांग्रेस के साथ पार्टी के गठबंधन तोड़ने वाले सवाल पर लालू यादव ने कहा ''कांग्रेस का गठबंधन क्या है? क्या हम सब कुछ कांग्रेस के भरोसे छोड़ देते?  अपनी पार्टी की जमानत जब्त होने के लिए उनके साथ गठबंधन करके रखते?'' बिहार में दो विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है। इसी सिलसिले में लालू यादव तीन साल बाद बिहार पहुंच रहे हैं। कयास लगाया जा रहा है कि राजद प्रमुख लालू यादव कुशेश्वरस्थान और तारापुर में राजद प्रत्याशी के लिए प्रचार करेंगे।  

लालू ने कांग्रेस के बिहार प्रभारी भक्त चरण दास पर हमला बोलते हुए  कहा कि भक्त चरण दास भकचोनहर दास है। गौरतलब है कि दो दिन पहले बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास ने राजद पर बड़ा हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि राजद का पर्दे के पीछे से भाजपा से मिलीभगत है। अब बिहार में कांग्रेस महागठबंधन का हिस्सा नहीं है। अगले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस सभी चालीस सीटों पर चुनाव लड़ेगी।  

स्वास्थ्य में सुधार के बाद लालू यादव दिल्ली से पटना हवाई अड्डा पहुंचेंगे। पटना हवाई अड्डे पर राजद कार्यकर्ता उनका स्वागत करेंगे। कयास लगाया जा रहा है कि लालू यादव दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में प्रचार करेंगे। हालांकि, दो विधानसभा क्षेत्रों में हो रहे उपचुनाव के लिए प्रचार में जाने को लेकर संशय बना हुआ है। लालू यादव की तबीयत में सुधार तो जरूर है, लेकिन उनके आने के बाद डॉक्टरों की सलाह पर ही आगे का कार्यक्रम तय होगा।




जमानत पर जेल से बाहर आए लालू यादव
चारा घोटाले मामले में रांची जेल में सजा काट रहे लालू यादव को इसी साल अप्रैल में जमानत मिली है। बीपी, शूगर समेत अन्य समस्याओं को लेकर उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा है, लेकिन पिछले कुछ समय से  उनकी सेहत में सुधार है। लालू यादव दिल्ली में बड़ी बेटी मीसा भारती के आवास पर रह रहे हैं। लालू प्रसाद पटना से 23 दिसम्बर 2017 को गए थे।

तेज प्रताप के विद्रोही तेवर से परेशान हैं लालू यादव
लालू प्रसाद के पटना आने का कार्यक्रम पहले से ही तय था। उन्हें 22 या 23 अक्टूबर को पटना आना था। 25 और 27 को वह कुशेश्वरस्थान और तारापुर में पार्टी प्रत्याशियों के लिए प्रचार कर सकते हैं। पिछले दिनों  उनके आने का कार्यक्रम तय होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी पटना पहुंच गई थीं, लेकिन इसी बीच में राबड़ी फिर दिल्ली लौट गईं। जाते समय उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद की तबीयत ठीक नहीं है, अभी वह पटना नहीं आएंगे। जिसके बाद कयास लगाया जा रहा था कि तेजप्रताप के पार्टी के खिलाफ विद्रोही तेवर के कारण वह पटना नहीं आ रहे हैं। राबड़ी देवी पटना आईं तो सबसे पहले तेजप्रताप के आवास पर ही गईं, लेकिन तेज उनसे मिले बिना ही घर से निकल गये। उसके दो दिन बाद ही राबड़ी देवी फिर दिल्ली लौट गईं। 

लालू यादव के कड़े रुख से तेज प्रताप हुए नरम
पार्टी सूत्रों की मानें तो लालू यादव ने तेज प्रताप के बागी तेवर को देखते हुए कड़ी फटकार लगाई है, जिसके बाद तेज प्रताप नरम पड़े हैं। लालू यादव ने साफ कर दिया कि पार्टी में अनुशासनहिनता बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। लालू प्रसाद ने नाम लिए बगैर कहा कि जो पार्टी के खिलाफ काम करेगा उसे दल से बाहर जाना होगा। 
... और पढ़ें
लालू प्रसाद यादव लालू प्रसाद यादव

बिहार: जिम में जमकर पसीना बहा रहे लालू के बड़े लाल तेज प्रताप, तस्वीर साझा कर दिया खास संदेश

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव अपने अलग अंदाज के लिए जाने जाते हैं। इस बीच उन्होंने जिम में पसीना बहाते हुए एक तस्वीर साझा की है, जिसके जरिए उन्होंने एक खास संदेश भी दिया है। उन्होंने फोटो के कैप्शन में लिखा है, 'यदि आपको समय नहीं मिलता है, यदि आप काम नहीं करते हैं, तो आपको परिणाम नहीं मिलता है।' दरअसल, इन दिनों तेज प्रताप अपनी ही पार्टी से बगावती सुर अपनाए हुए हैं। तेज अपने ही छोटे भाई तेजस्वी से नाराज चल रहे हैं। इससे पहले तेज प्रताप का नया हेयर स्टाइल भी सामने आया था। उन्होंने खुद अपने हेयर स्टाइल की तस्वीरें साझा करते हुए अपने विरोधियों पर तंज कसा था। तेज प्रताप ने लिखा था ति तुम मजाक उड़ाओ, हम तुम्हारी धज्जियां उड़ा देंगे। तेज प्रताप के इस पोस्ट पर लोग कमेंट के जरिए उनको नसीहत देते हुए भी नजर आ रहे हैं कि पार्टी और भाई के विरोध में उन्हें बगावती तेवर अख्तियार नहीं करना चाहिए।
 

लालू यादव तेज प्रताप के बागी व आक्रमक तेवर से परेशान हैं
पार्टी सूत्रों की मानें तो लालू यादव ने तेज प्रताप के बागी तेवर को देखते हुए कड़ी फटकार लगाई है, जिसके बाद तेज प्रताप नरम पड़े हैं। लालू यादव ने साफ कर दिया कि पार्टी में अनुशासनहिनता बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। लालू प्रसाद ने नाम लिए बगैर कहा कि जो पार्टी के खिलाफ काम करेगा उसे दल से बाहर जाना होगा। 
... और पढ़ें

पटना: 'विराट रामायण मंदिर' को लेकर महावीर मंदिर ने राष्ट्रपति कोविंद को भेंट की कलाकृति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को पटना में प्रसिद्ध महावीर मंदिर का दौरा किया। यहां मंदिर की ओर से उन्हें आगामी 'विराट रामायण मंदिर' पर चेन्नई के कलाकारों द्वारा बनाई गई कलाकृति भेंट की गई। महावीर मंदिर ट्रस्ट सचिव किशोर कुणाल ने कहा कि राष्ट्रपति ने मंदिर में 15-20 मिनट गुजारे।

उन्होंने कहा, राष्ट्रपति कोविंद पूर्व में बिहार के राज्यपाल रहते हुए महावीर मंदिर जा चुके हैं, लेकिन राष्ट्रपति के रूप में यह उनकी पहली मंदिर यात्रा थी। हम बहुत प्रसन्न हैं। पटना जंक्शन से सटे ऐतिहासिक मंदिर में राष्ट्रपति कोविंद ने अपनी पत्नी और बेटी के साथ, सुबह-सुबह दर्शन किए और पूजा-अर्चना की।
... और पढ़ें

राष्ट्रपति का बिहार दौरा: तीसरे दिन महामहिम ने हरमंदिर साहिब गुरुद्वारा में टेका मत्था, खादी मॉल में की जमकर खरीदारी

बिहार दौरे पर गए महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तीसरे दिन राजधानी पटना स्थित हरमंदिर साहिब गुरुद्वारा पहुंचे, जहां उन्होंने मत्था टेका। इसके बाद वह अपनी धर्मपत्नी सविता कोविंद के साथ पटना जंक्शन स्थित महावीर मंदिर पहुंचे। यहां उन्होंने भारत की प्रथम महिला के साथ भगवान हनुमान की पूजा अर्चना की। नैवेद्यम का भोग लगाया, इसके बाद गर्भ गृह की परिक्रमा की। राष्ट्रपति कोविन्द ने मानवता के कल्याण तथा कोरोना से मुक्ति के लिए प्रार्थना की।



राष्ट्रपति ने खादी मॉल का भी दौरा किया, जहां उन्होंने काफी संख्या में खरीदारी भी की। खादी मॉल में बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने राष्ट्रपति का स्वागत किया। राष्ट्रपति ने मॉल में महात्मा गांधी की प्रतिमा को खादी का माला पहनाया। इसके बाद उन्होंने चरखा चलाया। साथ ही खादी व सिल्क के कपड़ों की खरीदारी भी की। उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने राष्ट्रपति को भगवान बुद्ध और मिथिला पेंटिंग भेंट की।

 
... और पढ़ें

पटना: बिहारी कहने पर खुश हो गए राष्ट्रपति, कहा- चाहता हूं आजादी के 100 वर्ष पूरा होने पर बिहार रहे सबसे आगे

रामनाथ कोविंद
बिहार विधानसभा के सौ साल पूरा होने पर गुरुवार को पटना में शताब्दी समारोह का आयोजन किया गया। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने विधानसभा परिसर में बने शताब्दी स्मृति स्तंभ का शिलान्यास भी किया। इसके अलावा विधानसभा परिसर में पवित्र बोधि वृक्ष का पौधा भी लगाया। राष्ट्रपति का स्वागत विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया। इस मौके पर सीएम नीतीश कुमार ने राष्ट्रपति कोविंद को बिहारी कहकर पुकारा। उन्होंने कहा कि रामनाथ कोविंद जी का रिश्ता बिहार से खास रहा है। वे बिहार के राज्यपाल दो वर्ष तक रहे और राज्यपाल रहते हुए सीधे राष्ट्रपति बने, इन्हें हम बिहारी भी कहते हैं। इनसे हमारा संबंध बहुत ही घनिष्ठ है। इस कारण हम  हमेशा कहते हैं असली बिहारी आप ही हैं।

वहीं मुख्यमंत्री से अपने लिए बिहारी शब्द सुनते ही राष्ट्रपति खुश हो गए। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि मुख्यमंत्री जब मुझे बिहारी राष्ट्रपति के रूप में संबोधित कर रहे थे, तो मैं अंदर से गदगद महसूस कर रहा था, क्योंकि यह देश के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र बाबू की धरती है।

बिहार को अग्रणी राज्य के रूप में देखना चाहता हूं: राष्ट्रपति
राष्ट्रपति कोविंद ने इस मौके पर सभी विधायकों को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य की जनता आप सभी जनप्रतिनिधियों को अपना भाग्य विधाता मानती है और उनकी आशाएं और आकांक्षाएं आपसे जुड़ी है। मुझे विश्वास है कि आप सभी विधायक अपने प्रयास से देश की आजादी के 100 वर्ष पूरे होने तक बिहार को एक अग्रणी राज्य बना सकेंगे।

बिहार का निमंत्रण नहीं टाल पाता हूं: राष्ट्रपति
राष्ट्रपति ने कहा कि कभी-कभी लोग हमसे सवाल कर देते हैं आप बिहार का कोई भी निमंत्रण हो तो कभी नहीं टालते ऐसा क्यों? मैं कहता हूं कि बिहार से मेरा सिर्फ राज्यपाल तक का ही नाता नहीं है, बल्कि कुछ और भी नाता है। इस नाते को मैं ढूंढता रहता हूं। यहां भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था।
... और पढ़ें

विवादित बयान: जीतन राम मांझी बोले- राम से कई गुणा बड़े संत थे वाल्मीकि, मर्यादा पुरुषोत्तम काल्पनिक चरित्र

बिहार में एनडीए सरकार के सहयोगी और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। उन्होंने बुधवार को दिल्ली में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की मीटिंग में भगवान वाल्मीकि को श्रद्धांजलि देने के बाद एक बार फिर दोहराया कि भगवान राम एक काल्पनिक चरित्र थे।

हिन्दुस्तान अवाम मोर्चा (HAM) के  प्रमुख मांझी ने कहा कि महाकाव्य रामायण के लेखक महर्षि वाल्मीकि राम से हजारों गुना बड़े थे।' हालांकि, उन्होंने आगे कहा कि यह मेरा निजी विचार है और मैं किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना चाहत हूं। 

रामायण को बताया काल्पनिक ग्रंथ
दिल्ली में बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने 'हम' की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में विवादित बयान दिया। इससे पहले पिछले माह सितंबर में मांझी रामायण को लेकर विवादित बयान दे चुके हैं। पटना में मीडिया ने उनसे मध्य प्रदेश की तर्ज पर बिहार के स्कूली पाठ्यक्रम में रामायण को शामिल करने को लेकर सवाल पूछा था। तब हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष ने पाठ्यक्रम में रामायण को शामिल करने की जरूरत तो बताई थी, लेकिन साथ ही कहा था- 'रामायण की कहानी सत्य पर आधारित नहीं है।' श्रीराम महापुरुष थे, वह इस बात को भी नहीं मानते। उन्होंने रामायण को काल्पनिक ग्रंथ बताया था।

कश्मीर में सरकार के प्रयासों के परिणाम नहीं दिख रहे
दिल्ली में अपनी पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी को संबोधित करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मांझी ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार कश्मीर में शांति स्थापित करने के प्रयास कर रही है, लेकिन परिणाम दिखाई नहीं दे रहे हैं।  

इन पांच सांसदों का लिया नाम
मांझी ने आरोप लगाया कि केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल, जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य महास्वामी (भाजपा), कांग्रेस सांसद मोहम्मद सादिक, टीएमसी सांसद अपरूपा पोद्दार और निर्दलीय सांसद नवनीत रवि राणा चुनाव लड़ने के बाद एससी के लिए आरक्षित सीटों का प्रतिनिधित्व करते हैं। मांझी ने इस मामले की जांच की मांग की है। 

मांझी ने दावा किया कि अनुसूचित जाति के लोगों को नौकरियों और यहां तक कि स्थानीय निकाय चुनावों में भी 15 से 20 प्रतिशत कोटा लाभ जाली जाति प्रमाण पत्र के आधार पर दूसरों द्वारा हड़प लिया जाता है। ऐसे मामले रुकने चाहिए। 
... और पढ़ें

बिहार: कुलगाम में टारगेट किलिंग के शिकार दो युवकों के शव पटना लाए गए, भाजपा नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में 17 अक्तूबर को टारगेट किलिंग के शिकार हुए बिहार के दो युवकों के शव मंगलवार को पटना लाए गए। पटना एयरपोर्ट पर बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम व सांसद सुशील मोदी और मौजूदा डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

आतंकियों ने कुलगाम में बिहार के राजा ऋषि देव और जोगिंदर ऋषि देव की गोली मार कर हत्या कर दी थी। दोनों के शव 19 अक्तूबर को विमान से पटना लाए गए। उपमुख्यमंत्री प्रसाद ने इस मौके पर कहा, 'यह हिंदू या मुस्लिम का मामला नहीं है। आतंकवादियों का मकसद क्षेत्र में भय पैदा करना है।' राज्यसभा सदस्य सुशील मोदी ने कहा कि जम्मू कश्मीर प्रशासन ने मृतकों के आश्रितों को 11-11 लाख रुपये और बिहार सरकार तीन-तीन लाख रुपये की सहायता प्रदान करेगी।

पटना से अररिया ले जाए गए शव
एयरपोर्ट से दोनों के शव एंबुलेंस से अररिया ले जाए गए। बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा कि आतंकी बिहारी नहीं बल्कि मजदूरों, हिंदुओं, सिखों और गैर-कश्मीरी लोगों को टारगेट कर रहे हैं। एनआईए ने पूरे मामले को अपने हाथ में ले लिया है। अभी तक ऑपरेशन में 13 आतंकियों को मार गिराया गया है और आगे भी सुरक्षा एजेंसी अपने काम में सफलता हासिल करेगी।

विधायक की मांग, मुफ्त में दी जाए एके-47  
वहीं, बिहार के लोगों की कश्मीर में हत्या पर भाजपा विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने इसे कायराना हरकत बताते हुए कहा कि पाकिस्तान गरीबों को मार रहा है। विधायक ने केंद्र सरकार से कार्रवाई करने की मांग की और सुरक्षा देने की मांग की, ताकि वहां से बिहार के लोगों का पलायन न हो।

साथ ही विधायक ने कहा कि एक जगह रोजगार की व्यवस्था की जाए जहां सुरक्षा भी हो। विधायक ने यह भी कहा कि बाहर से आए लोगों को संविधान में संसोधन कर सरकार हथियार का लाइसेंस दे जिससे वो आतंकियों से अपनी रक्षा कर सकें। विधायक ज्ञानू ने यहां तक कह दिया कि बिहारियों को मुफ्त में एके-47 दें जिससे वो वो खुद अपनी सुरक्षा कर सकें। 
 
... और पढ़ें

बिहार पंचायत चुनाव: चौथे चरण का मतदान जारी, 75808 उम्मीदवार आजमा रहे किस्मत, समस्तीपुर में ईवीएम मशीन खराब

बिहार पंचायत चुनाव के चौथे चरण के लिए मतदान जारी है। 36 जिलों के 53 प्रखंडों में वोटिंग हो रही है। सुबह सात बजे से शाम पांच बजे तक वोट डाले जाएंगे। इस चरण में 11 हजार 318 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। पंचायत चुनाव में आज चौथे चरण के 799 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान का दिन है। इस चरण में 75808 उम्मीदवार मैदान में हैं। इसमें 35,525 पुरुष और 40283 महिला उम्मीदवार शामिल हैं।

कई जगह ईवीएम खराब 
समस्तीपुर के विभूतिपुर पतैलिया में बूथ संख्या 3, 5, 15 में ईवीएम मशीन खराब होने की जानकारी आ रही है, वहीं खगड़िया में ईवीएम में खराबी के कारण बन्नी पंचायत के बूथ संख्या 11 पर 50 मिनट देरी से शुरू हुआ मतदान।अररिया के नरपतगंज प्रखंड में मतदान केन्द्र संख्या 172 हाजी जाकिर टोला में ईवीएम खराब के कारण मतदान बाधित। वहीं कई शहरों में भारी बारिश के कारण मतदाता बूथ पर नहीं पहुंच पा रहे हैं।

सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद
मतदान के दौरान बूथ पर सुरक्षा के लिए होमगार्ड, बिहार पुलिस और बिहार सशस्त्र पुलिस के जवान तैनात किए गए हैं। चौथे चरण की सीटों पर 22 और 23 अक्तूबर को मतगणना होनी है।

799 ग्राम पंचायतों के मुखिया और सरपंच के लिए चुनाव
चौथे चरण में 799 ग्राम पंचायतों के मुखिया और सरपंच के लिए चुनाव होंगे। 10888 वार्डों में ग्राम पंचायत सदस्य और ग्राम कचहरी के पंच पर चुनाव हो रहा है। जिला परिषद की 119 सीटों पर, जबकि पंचायत समिति की 1093 पदों पर चुनाव के लिए चुनाव कराया जा रहा है।
... और पढ़ें

बिहार: राजद विधायक का गुस्से वाला ऑडियो वायरल, गैंगरेप की जानकारी मांगने पर युवक पर निकाली भड़ास, बोले-मैं आपका एमएलए नहीं

औरंगाबाद जिले के मदनपुर गैंगरेप मामले में रफीगंज विधानसभा के विधायक मोहम्मद नेहालुद्दीन का गुस्से वाला आॉडियो सामने आया है। गैंगरेप मामले की जानकारी देने को लेकर एक शख्स ने विधायक को कॉल किया। इस पर विधायक मोहम्मद नेहालुद्दीन भड़क गए। उन्होंने कहा कि गैंगरेप मामले से उन्हें कोई लेना-देना नहीं है। साथ ही फोन करने वाले को कहा कि आपके विधायक भी हम नहीं हैं।

उपचुनाव में व्यस्त हैं विधायक
ऑडियो में रफीगंज के विधायक कह रहे हैं कि गैंगरेप मामले से कुछ लेना-देना नहीं है। उन्होंने फोन करने वाले को कहा कि ऐसा हुआ है तो एसपी-डीएम पास जाओ। हमें फोन करने की जरूरत नहीं है। हम आपके विधायक नहीं हैं। उन्होंने यह भी धमकी दी कि आप पूछने वाले कौन होते हैं। जब, फोन करने वाले शख्स ने कहा कि आप हमारे विधायक हैं। लेकिन, घूम रहे हैं तारापुर में। तारापुर उपचुनाव में प्रचार में जा रहे हैं। इस पर भी विधायक भड़क गए।

युवक के सवाल पर भड़क गए मोहम्मद नेहालुद्दीन
आॉडियो की पुष्टि करने के लिए दैनिक भास्कर की टीम ने रफीगंज विधायक मोहम्मद नेहालुद्दीन से बातचीत की। उन्होंने फोन आने की बात स्वीकार की। कहा कि कुछ लड़के उनके साथ बदतमीजी कर रहे थे। उन्होंने यह भी कहा कि तारापुर विधानसभा उपचुनाव मे व्यस्त होने की वजह से मुझे इसकी जानकारी नहीं थी। लड़कों की ओर से बदतमीजी करने पर गुस्सा आ गया। वहीं, रफीगंज में आकर पीड़िता से मिलने के सवाल पर विधायक मो. नेहालुद्दीन ने कहा कि तारापुर विधानसभा उपचुनाव खत्म होने के बाद ही आ पाएंगे, अभी किसी भी हालत में नही आ सकते।

क्या है मामला
 16 अक्तूबर को 20 साल की छात्रा (बीए फाइनल) पास ही रहने वाली सहेली के घर जा रही थी, तभी राहुल कुमार नाम के युवक ने उसे अगवा कर लिया। वह उसे कार से सुनसान जगह पर ले जाकर तीन दोस्तों के साथ मिलकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। जहां उसने और उसके दो साथियों अविनाश कुमार राम और पंकज राम ने गैंगरेप किया। इसके बाद छात्रा को झाड़ी में फेंककर फरार हो गए। पेट्रोलिंग पर निकली पुलिस ने लड़की के कराहने की आवाज सुनी तो उसे सदर अस्पताल ले गई थी।

... और पढ़ें

बिहार: मुंगेर में किराना कारोबारी के कर्मचारी से 59 लाख रुपये की लूट, पीछा नहीं करने के लिए बदमाशों ने की फायरिंग

बिहार में लूटपाट, डकैती और हत्या की वारदात फिर से तेज होने लगी है। अपराधी दिनदहाड़े घटना को अंजाम देकर फरार हो जा रहे हैं। ताजा मामला मुंगेर का है। शहर के मकससपुर के रहने वाले किराना कारोबारी लक्ष्मी साह के पुत्र गोपाल साह के 49 लाख रुपये अपराधियों ने लूट लिए। सोमवार की शाम 5:00 बजे बाइक सवार अज्ञात बदमाशों ने हथियार के बल पर कारोबारी के कर्माचीर से 49 लाख रुपये लूट लिए। पीछा नहीं करने और आसपास में भय पैदा करने के लिए अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया है। पैसे लेकर भागने के दौरान लुटेरों ने गोली भी चलाई। पुलिस सीसीटीवी कैमरे की मदद से बदमाशों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। वहीं इस मामले में व्यवसायी कुछ भी बोलने से इनकार कर रहे हैं। 

शहर के सबसे बड़े किराना व्यवसायी गोपाल साह के दो कर्मचारी सौरभ और धर्मेंद्र कुमार अलग-अलग बाइक से  मकसपुर से मुख्य ब्रांच एसबीआई बैंक में पैसा जमा करने जा रहे थे। अपने कर्मचारी के साथ साथ व्यवसायी भी बेटी को लेकर बाइक से पीछे पीछे चल रहे थे। आगे की बाइक पर दोनों कर्मचारी एक बैग में पैसे लेकर चल रहे थे।

हवाई फायर कर दहशत फैलाया
तभी कोतवाली थाना क्षेत्र के शादीपुर मछली आढ़त के मस्जिद अहमदिया के पास पीछे से आ रहे बाइक सवार दो बदमाशों ने कर्मचारी की गाड़ी में टक्कर मार दी। कर्मचारी कुछ समझ पाता पिस्टल दिखाकर बाइक सवार ने पैसे से भरा बैग को छीन लिया। वहीं, कर्मचारी से पैसे छीनता देख व्यवसायी गोपाल साह बदमाशों के पीछे दौड़कर शोर मचाने लगे, जिसपर बदमाशों ने दहशत फैलाने के लिए दो राउंड फायरिंग कर भय का माहौल पैदा कर दिया और बैग लेकर फरार हो गए।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00