विज्ञापन
विज्ञापन
शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021
Myjyotish

शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बिहार: स्कूल में पिस्टल लहराने वाला नाबालिग भेजा गया किशोर सुधार गृह, पुलिस कर रही पूछताछ

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के कटरा स्थित हाई स्कूल में उस समय अफरा तफरी मच गई जब एक लड़का गोलियों से भरे पिस्टल लेकर क्लास में आ गया और  हवा में लहराने लगा। छात्र के हाथ में पिस्टल देख पूरे स्कूल परिसर में दहशत और भय का माहौल मच गया। छात्र इधर-उधर भगाने लगे। शिक्षक भी रूम में छिपकर छात्र से बंदूक फेंकने की मांग कर लगे। सूचना पर पहुंचे कुछ ग्रामीणों ने छात्र को पीछे से दबोच कर उससे बंदूक छीनी और उससे गोलियां निकालकर पहले तो उसकी पिटाई की और फिर पुलिस के हवाले कर दिया। 

घटना कटरा थाना क्षेत्र के चंगेल हाईस्कूल में मंगलवार की है। जहां क्लास में बच्चे पढ़ाई कर रहे थे, इसी दौरान नाबालिग छात्र बैग में बंदूक लेकर क्लास में आ धमका और अन्य छात्रों पर धौंस जमाने लगा। छात्र की इस करतूत से स्कूल में अफरा तफरी मच गई। शिक्षक भी जान बचाने के लिए क्लासरूम में छुप गए। शिक्षक ने कई बार उसे बंदूक फेंकने के लिए कहा, लेकिन वह पिस्टल अपने साथ लहराता रहा। बाद में ग्रामीणों की मदद से नाबालिग छात्र को पकड़ा गया। 

पुलिस मामले की जांच में जुटी
मुजफ्फरपुर पूरबी के डीएसपी मनोज कुमार पांडेय ने कहा कि 16 साल का नाबालिग लड़का स्कूल में पिस्टल लेकर पहुंच गया था। सूचना मिलने पर पुलिस ने नाबालिग को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की, लेकिन उसने अभी तक कोई सही जवाब नहीं दिया है। नाबालिग होने के कारण पुलिस किसी प्रकार की सख्ती नहीं बरत रही है। अपने स्तर से और विभिन्न स्रोतों से जानकारी जुटाई जा रही है। फिलहाल उसे  बाल सुधार गृह में भेज दिया गया है। 
 
... और पढ़ें

ललन सिंह का दावा: लालू प्रसाद यादव ने अपने मंत्री से कराए थे फर्जी दस्तावेजों पर दस्तखत

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने बुधवार को लालू प्रसाद यादव को लेकर बड़ा दावा किया। उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद यादव ने अपनी कैबिनेट के पशुपालन मंत्री भोलाराम तूफानी से फर्जी दस्तावेजों पर दस्तखत करवाए थे। ललन सिंह ने यह टिप्पणी लालू यादव के मंगलवार को किए गए दावे पर की, जिसमें उन्होंने कहा था हमारे शासन में दलितों की बहुत तरक्की हुई थी। 

ललन सिंह ने बुधवार को एक ट्वीट में लिखा कि लालू प्रसाद यादव आज महादलित समाज का मजाक उड़ा रहे हैं। वह एक बार फिर पूरे बिहार की इज्जत उतार रहे हैं। राज्य की जनता इन्हें बर्दाश्त नहीं कर रही है। इनके पूरे कुनबे को सत्ता से बाहर कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि लालू ने भोलाराम तूफानी से हेलिकॉप्टन में पशुपालन घोटाले के फर्जी कागजों पर हस्ताक्षर करा लिए थे। इससे उन्होंने राज्य का खजाना लूट लिया।

उन्होंने लिखा, लालू यादव ने भोलाराम तूफानी को हेलिकॉप्टर में घुमाया और बदले में फर्जी दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करवा बिहार का खाना लूटा और देश-विदेश में अथाह संपत्ति बनाई। उन्होंने आरोप लगाया कि लालू यादव की साजिश और सदमे में भोलाराम दिवंगत भी हो गए। उन्होंने लिखा, 'अपने बउवा (बेटे) और बिहार के लोगों को सारी बातें भी बताइए श्रीमानजी!' वहीं, नीतीश कुमार की तारीफ में ललन सिंह ने कसीदे पढ़े।

नीतीश कुमार की तारीफ में कही ये बात
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर ललन सिंह ने कहा कि विकास की सीढ़ियों पर अंतिम पंक्ति में खड़ा महादलित समाज के अंतिम तबके को बिहार में अलग से कानूनी आरक्षण, सामाजिक-राजनीतिक प्रतिनिधित्व व अनेकों  विकास उन्मुखी योजनाओं के तहत मुख्य धारा में लाने का कार्य मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ही किया है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार इन तबकों के लिए ऐसे कार्य करने वाले देश के पहले मुख्यमंत्री हैं।
... और पढ़ें

महागठबंधन में मनभेद: उपचुनाव में राजद के बाद कांग्रेस ने भी उम्मीदवारों को मैदान में उतारा, तेजस्वी बोले- यह कोई मुद्दा नहीं

बिहार में 30 अक्तूबर को दो सीटों पर होने वाले उपचुनावों को लेकर महागठबंधन की राजनीति गरमा गई है। राष्ट्रीय जनता दल ने कुशेश्वरस्थान और तारापुर सीट पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं, इससे महागठबंधन में शामिल कांग्रेस नाराज हो गई है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने सहयोगी पार्टी से बिना चर्चा किए हुए उम्मीदवारों के नाम का एलान कर दिया। ऐसे में कांग्रेस ने भी दोनों सीटों पर उम्मीदवार उतारने का एलान कर दिया है।

बिहार कांग्रेस प्रमुख मदन मोहन झा ने बताया कि 'विधानसभा उपचुनाव में कुशेश्वरस्थान से अतीरेक कुमार और तारापुर से राजेश कुमार मिश्रा कांग्रेस के उम्मीदवार होंगे। राजद द्वारा दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा के बाद, हमारे नेताओं की राय थी कि हमें भी यह चुनाव लड़ना चाहिए।'



गौरतलब है कि 2020 के विधानसभा चुनाव में कुशेश्र्वरस्थान की सीट कांग्रेस के खाते में थी, जबकि तारापुर राजद के। दोनों सीटों पर जदयू उम्मीदवार जीते थे। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने विश्वास में लिए बिना दोनों सीटों के उपचुनाव में प्रत्याशी उतार दिए। अब महागठबंधन के टूटने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसका फैसला केंद्रीय आलाकमान करेगा।

वहीं, राजद नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन में कोई समस्या नहीं है। हमारी पार्टी ने दो निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव लड़ने का फैसला किया। अगर कांग्रेस भी उपचुनावों में उम्मीदवार उतारना चाहती है तो कोई दिक्कत नहीं है।

बता दें कि राज्यों में स्थानीय पार्टियों के साथ गठबंधन की राजनीति करने वाली कांग्रेस के उनसे रिश्ते बिगड़ रहे हैं। बिहार से पहले बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से बिना विमर्श किए उपचुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से किसी भी तरह के गठबंधन पर चर्चा किए बिना चार विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनावों में अकेले लड़ने का फैसला कर लिया।

दो सीटों पर माकपा व एक-एक सीट पर फारवर्ड ब्लाक व आरएसपी चुनाव लड़ेगी। गौरतलब है कि गोसाबा, शांतिपुर, दिनहाटा और खड़दह में उपचुनाव होने हैं। वहीं, बिहार में कांग्रेस ने महागठबंधन के प्रमुख दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के खिलाफ ही उपचुनाव में ताल ठोक दी है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने बिना विश्वास में लिए दोनों सीटों पर अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: बिहार के लोगों के मारे जाने से चिंतित सीएम नीतीश ने की मनोज सिन्हा से बात, दो-दो लाख मुआवजे की घोषणा

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा को फोन किया और हाल ही में हुए आतंकवादी हमलों में पूर्वी राज्य के लोगों के मारे जाने पर चिंता व्यक्त की। आतंकियों ने जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में रविवार को दो और लोगों की हत्या कर दी। चौबीस घंटे के अंदर राज्य में तीन लोगों की हत्या हो गई है। इस मामले पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा को फोन कर अपनी चिंता व्यक्त की।

श्रीनगर में अरविंद कुमार साह जो बांका के रहने वाले थे, उनकी हत्या के चौबीस घंटे के अंदर ही अनंतनाग में बिहार के राजा ऋषिदेव और योगेंद्र ऋषिदेव की हत्या कर दी गई। कुछ ही दिनों में अब तक बिहार के तीन लोगों की हत्या जम्मू-कश्मीर में हो चुकी है। 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तीनों मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है और श्रम एवं समाज कल्याण विभागों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि संबंधित योजनाओं का लाभ शोकाकुल परिवारों तक पहुंचे।

भाजपा ने मुआवजा राशि बढ़ाने का किया अनुरोध
इस बीच, भाजपा ने अनुग्रह राशि में वृद्धि का अनुरोध करते हुए कहा कि यह राशि राज्य में दुर्घटनाओं और प्राकृतिक आपदाओं के पीड़ितों को दी जाने वाली राशि से भी कम है, राशि को बढ़ाया जाए। भाजपा के ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव और राज्य प्रवक्ता निखिल आनंद ने एक बयान में कहा, जिहादी अपनी आखिरी लड़ाई लड़ रहे हैं और हताशा में नृशंस हमले कर रहे हैं। उन्हें हमारे सशस्त्र बलों और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा सबक सिखाया जाएगा।

उन्होंने अनुरोध किया कि बिहार सरकार अनुग्रह राशि बढ़ाने पर विचार करे, दो लाख रुपये की राशि दुर्घटनाओं और प्राकृतिक आपदाओं के शिकार लोगों को दिए गए चार लाख रुपये के आधे के बराबर है। उन्होंने कहा कि हमें शोकाकुल परिवारों के सदस्यों की मदद करनी चाहिए, जो पिछड़े वर्ग के हैं और जिन्होंने अपने कमाने वालों को खो दिया है।
... और पढ़ें
नीतीश कुमार नीतीश कुमार

बिहार: पटना की जानी मानी मॉडल मोना राय की इलाज के दौरान मौत, शूटर्स ने बेटी के सामने ही मारी थी गोली

बिहार की राजधानी पटना की जानी मानी मॉडल मोना राय की रविवार को इलाज के दौरान मौत हो गई है।  मोना राय को पिछले दिनों नवरात्र में अपराधियों ने उनके घर के सामने ही गोली मार दी थी। घटना के बाद से वह इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (IGIMS) में भर्ती थी। इस मामले में अब तक पुलिस को कोई सुराग हाथ नहीं लगा है।

बेटी के सामने बदमाशों ने मारी थी गोली
राजीव नगर थाना क्षेत्र के रामनगरी बसंत कॉलोनी की रहने वाली 36 साल की मोना राय पेशे से मॉडल थीं और शहर में उनका अच्छा खासा नाम था। बदमाशों ने अनीता को उनकी 12 साल की बेटी के सामने उनके दरवाजे पर ही गोली मारी थी। घटना उस वक्त हुई जब वे मंदिर से स्कूटी से घर पहुंची थीं। मॉडल 2020 में मिसेज बिहार की प्रतिभागी रही हैं। वहीं उनके पति सुमन फोटो कॉपी की दुकान चलाते हैं।

आज सुबह में हुई मौत
राजीव नगर थानेदार सरोज ने मोना राय की मौत की पुष्टि की है। उनका कहना है कि इलाज के लिए मोना को IGIMS में भर्ती कराया गया था। उनकी रविवार की सुबह चार बजे मौत हो गई। पुलिस के अनुसार इस मामले में जांच तेज कर दी गई है।

प्रेम संबंध के एंगल से भी हो रही जांच
पुलिस के अनुसार प्रेम संबंध भी घटना के कारणों में से एक हो सकता है। वहीं मोना राय की मौत के बाद उनके बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है। जिस वक्त अपराधियो ने मोना को गोली मारी थी उस वक्त उसकी बेटी भी उसके साथ थी और वो बाल-बाल बच गई थीं।
... और पढ़ें

बिहार: दीपावली-छठ में एंट्री के लिए टीकाकरण प्रमाण पत्र अनिवार्य, नहीं तो होगा कोरोना टेस्ट

दीपावली और छठ में बिहार जाने की सोच रहे हैं तो पूर्ण वैक्सीनेशन जरूर करवा लें। क्योंकि त्योहारों में बिहार में एंट्री के लिए टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि दीपावली और छठ में बिहार आने वाले यात्रियों के टीकाकरण प्रमाणपत्र की अनिवार्य रूप से जांच की जाए। अगर उनके पास प्रमाणपत्र नहीं है तो कोरोना जांच के बाद ही उन्हें एंट्री दी जाए। 

यात्रियों का होगा वैक्सीनेशन 
सीएम नीतीश कुमार ने अधिकारियों के साथ एक बैठक में निर्देश दिए कि बिहार आने वाले यात्रियों के टीकाकरण की भी व्यवस्था की जाए। अगर उन्हें कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक नहीं लगी हैं तो उन्हें पूर्ण रूप से टीकाकरण के बाद ही राज्य में एंट्री दी जाए। इसके अलावा अगर लोगों के पास आधार कार्ड नहीं है तो उनके दूसरे पहचान पत्र के आधार पर भी टीकाकरण करवाया जाएगा। 

18 से 20 तक डोर-टू-डोर अभियान 
बिहार के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि दीपावली और छठ पर बड़ी संख्या में लोग बिहार आते हैं। इसलिए बिहार सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए अभी से तैयारी शुरू कर दी है। इसके तहत छठ महापर्व से पूर्व कोरोना वैक्सीनेशन अभियान चलाया जाएगा और कोरोना जांच की संख्या बढ़ाई जाएगी। उन्होंने बताया कि 18,19 व 20 अक्तूबर को कोरोना वैक्सीनेशन का डोर-टू-डोर अभियान चलाकर लोगों को वैक्सीन की खुराक लगाई जाएगी। 
... और पढ़ें

बिहार उपचुनाव: कांग्रेस ने नियुक्त किए दो पर्यवेक्षक, यादव वोट बैंक में सेंध लगाने की तैयारी

नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार
कांग्रेस ने बिहार में दो सीटों तारापुर और कुशेश्वरस्थान पर हो रहे उपचुनाव के लिए अपने दो पर्यवेक्षकों की घोषणा की है। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपालन द्वारा जारी सूची के मुताबिक, पार्टी ने अपनी पूर्व सांसद रंजीत रंजन को आरक्षित सीट कुशेश्वरस्थान के लिए पर्यवेक्षक बनाया है, जबकि छत्तीसगढ़ के प्रभारी सचिव चंदन यादव को तारापुर सौंपा गया है।

दोनों सीटों पर कांग्रेस कड़ी मेहनत कर रही है। उसका जद (यू) और राजद के साथ त्रिकोणीय मुकाबला है। वहीं चंदन यादव को तारापुर की कमान सौपने के इस कदम से कांग्रेस यादव वोट में सेंध लगाने के प्रयास में है। वहीं राजद ने अपने पुराने सहयोगी कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है। यहां जद (यू) के विधायक के निधन से खाली हुई सीट पर दोनों पार्टी अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं।

पंजाब की रहने वाली रंजीत रंजन बिहार में अच्छी तरह से जानी जाती हैं, उन्होंने बिहार के जाने माने नेता राजेश रंजन उर्फपप्पू यादव से शादी की है जो कई बार सांसद रह चुके हैं। साथ ही रंजीत रंजन ने  2004 में सहरसा से लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद के रूप में अपना करियर शुरू किया था।

उनके पति पप्पू यादव, जो तीन दशक पुराने मामले में सलाखों के पीछे रहने के बाद हाल ही में जेल से रिहा हुए थे, जन अधिकार पार्टी (जेएपी) के प्रमुख हैं, जो सड़कों पर सक्रिय है, लेकिन अभी तक चुनावी सफलता का स्वाद नहीं चखा है।

वहीं चंदन यादव खगड़िया जिले के रहने वाले हैं, जो मुंगेर से सटा हुआ है, जिसके अंतर्गत यादवों की एक बड़ी आबादी वाला एक अन्य निर्वाचन क्षेत्र तारापुर आता है। चंदन के जरिए कांग्रेस यादव वोट बैंक में सेंध लगा पाएगी ये देखना बाकी है। पार्टी ने इस सीट से सवर्ण नेता राजेश मिश्रा को मैदान में उतारा है।
... और पढ़ें

बिहार: शिक्षक बहाली पर शिक्षा मंत्री के ट्वीट से बढ़ा विवाद, विपक्ष के तेवर के बाद हटा गया ट्वीट

बिहार के शिक्षा मंत्री के एक ट्वीट पर राजनीति तेज हो गई है। उनके ट्वीट पर विपक्ष ने ऐतराज जताते हुए कहा है कि यह विधानसभा उपचुनाव को प्रभावित करने की कोशिश है। विपक्षी नेताओं ने शिक्षा मंत्री को भी उन्हीं की भाषा में तीखे सवाल पूछे हैं। ट्रोलिंग के बाद आखिरकार शिक्षा मंत्री को अपना ट्वीट डिलीट करना पड़ा।

हुआ यूं कि शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने ट्वीट कर कहा था कि 'राज्य निर्वाचन आयोग से अनुमति मिलते ही छठे चरण की शिक्षक नियोजन प्रक्रिया को पूर्ण कर लिया जाएगा। अभ्यर्थी इन हालातों को संज्ञान में लें जिससे वे अनावश्यक किसी भ्रम का शिकार न हों।' शिक्षा मंत्री के इस ट्वीट के बाद विपक्ष ने तीखा हमला बोला। 

राजद नेता ने मंत्री पर कसा तंज 
राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि सरकार ने पहले तो कहा था कि 15 अगस्त तक शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दे दिया जाएगा। उसके बाद यह कहा गया कि अक्तूबर तक नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। अब सरकार कह रही है कि निर्वाचन आयोग से अनुमति ली जा रही है। चित्तरंजन गगन ने कहा कि विधानसभा उपचुनाव में सरकार का वोट बैंक प्रभावित नहीं हो इसलिए सरकार अभ्यर्थियों को गुमराह कर रही है। अब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ही मुख्यमंत्री बनेंगे तो शिक्षकों को नियुक्ति पत्र मिलेगा। 

शिक्षक बहाली मोर्चा ने खड़े किए सवाल
शिक्षा मंत्री के ट्वीट हटाए जाने पर बिहार टीईटी- सीटीईटी- एसटीईटी उत्तीर्ण शिक्षक बहाली मोर्चा ने कहा कि शिक्षा मंत्री जी को इस ट्वीट को डिलीट करने के क्या कारण हो सकते हैं? लगता है इरादा नेक नहीं है। इधर टीईटी-एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ ने आरोप लगाया कि सरकार जरूरी डॉक्यूमेंट निर्वाचन आयोग को उपलब्ध नहीं करा रही तो अनुमति कहां से मिलेगी।

शिक्षक बहाली को लेकर मंत्री ने किया था ट्वीट
शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने गुरुवार को ट्वीट किया कि राज्य में आने वाले दिनों में बड़ी संख्या में शिक्षकों की बहाली की जाएगी। सरकारी ने इसे लेकर जरूरी दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार शिक्षा में सुधार के लिए कटिबद्ध है।
... और पढ़ें

बिहार: शराब पार्टी की सूचना पर पहुंची पुलिस पर हमला, आठ पुलिसकर्मी घायल, सात आरोपी गिरफ्तार

लालू यादव का नया लुक: मीसा भारती ने पोस्ट किया कुल अंदाज वाला फोटो, तेजप्रताप बोले- मेरे पिता जी जैसा सीएम कोई नहीं..

लालू प्रसाद यादव दिल्ली में अपनी बड़ी बेटी मीसा भारती के आवास पर स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं। स्वास्थ्य लाभ के दौरान उनकी कई तस्वीरें भी वायरल हुई हैं। इसी कड़ी में लालू यादव का कूल अंदाज वाला एक फोटो भी सोशल मीडिया पर  वायरल हो रहा है। लालू की एक तस्वीर उनकी बेटी मीसा भारती ने सोशल मीडिया पर पोस्ट की है। मीसा भारती ने लिखा है - 'जब नाना और प्यारे नाती में मची ज्यादा कूल दिखने की होड़!' वायरल तस्वीर से लालू के प्रशंसक भी काफी खुश नजर आ रहे हैं। शुभचिंतक इस उम्मीद में हैं कि नेताजी जल्द ही अब पटना लौटेंगे और सक्रिय राजनीति में हिस्सा लेंगे।

वहीं, बहन की पोस्ट को शेयर करते हुए तेजप्रताप ने लिखा है- मेरे पिता जी जैसा मुख्यमंत्री और कोई नहीं हो सकता। पिछले दिनों तेजप्रताप यादव ने लालू यादव के दिल्ली में रहने को लेकर तंज कसा था। तेज प्रताप ने कहा था कि लालू यादव को बंधक बना लिया गया है। इन दिनों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव के बीच अच्छे संबंध नहीं हैं।

बिहार उपचुनाव में राजद ने दो सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं।वहीं, कांग्रेस उम्मीदवार ने एक सीट पर नामांकन दाखिल किया है। बिहार राजद और कांग्रेस महागठबंधन का हिस्सा है, लेकिन उपचुनाव में जिस तरह से दोनों दलों ने प्रत्याशी उतारे हैं उससे गठबंधन कमजोर हुआ है। तेज प्रताप ने भी कांग्रेस के लिए प्रचार करने का एलान किया है।  

हाल के दिनों में कई बार दिखे लालू, पर इसमें दिखे अलग
लालू प्रसाद को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हाल के दिनों में लोगों ने कई बार देखा है। पार्टी के स्थापना दिवस हो या प्रशिक्षण शिविर या कोई अन्य कार्यक्रम सब में लालू यादव की उपस्थिति देखी गई है, लेकिन उनकी वह तस्वीर जिसे मीसा भारती ने सोशल मीडिया पर डाला है वह बहुत कुल मुद्रा में दिख रहे हैं। उनके बगल में नाती खड़ा है और उसका चश्मा पहनकर खुद फोटो खिंचवा रहे हैं। 

पटना आने की बढ़ी उम्मीद
इस फोटो को देखकर उनके शुभचिंतक अंदाज लगा रहे हैं कि नेताजी की सेहत धीरे-धीरे ठीक हो रही है और वह जल्द ही उपचुनाव में बिहार आएंगे। हालांकि, लालू प्रसाद हाई ब्लड प्रेशर, शूगर समेत कई बीमारियों से ग्रसित हैं। दिल्ली में उनका इलाज चल रहा है। डॉक्टरों की अनुमति के बाद ही वह कही जा सकते हैं। 
... और पढ़ें

लालू परिवार में घमासान: तेजप्रताप का शक्ति प्रदर्शन, मां राबड़ी का आशीर्वाद लिए बिना निकले यात्रा पर

लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और हसनपुर विधायक तेजप्रताप यादव राष्ट्रीय जनता दल से खासे नाराज चल रहे हैं। पार्टी में वर्चस्व की लड़ाई को लेकर वह अपने भाई तेजस्वी यादव से आर पार करने के मूड में हैं। इस बार तेज प्रताप इतने गुस्से में हैं कि विवाद सुलझाने में वह अपनी मां राबड़ी देवी का भी साथ नहीं चाहते। बिना मां का आशीर्वाद लिए तेज प्रताप यादव ने लोकनायक जय प्रकाश नारायण की जयंती पर पदयात्रा निकाल दी, जबकि इससे पहले तेज प्रताप ने कहा था कि वह अपनी मां से आशीर्वाद लेकर पदयात्रा की शुरुआत करेंगे।

रविवार को दिल्ली से पटना लौटीं राबड़ी देवी उनके आवास पर पहुंची थीं, लेकिन तेजप्रताप की उनसे मुलाकात नहीं हो सकी। उम्मीद जताई जा रही थी जेपी की जयंती पर पदयात्रा निकालने से पहले घर जाकर राबड़ी देवी से आशीर्वाद लेंगे, लेकिन तेजप्रताप का काफिला राबड़ी देवी के घर के सामने से गुजरा लेकिन वह मां का आशीर्वाद लेने नहीं गए।  तेजप्रताप यादव छात्र जनशक्ति परिषद की ओर से गांधी मैदान स्थित जेपी की मूर्ति पर सोमवार को माल्यार्पण किया और फिर जय प्रकाश नारायण के कदम कुआं स्थित घर तक नंगे पांव पद यात्रा की।

जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती
तेजप्रताप यादव ने एक वीडियो फेसबुक पर पोस्ट कर खुद ही इस संबंध में जानकारी दी। इस दौरान तेज प्रताप ने अधिक से अधिक छात्रों को इस पदयात्रा से जुड़ने की अपील की। लोकनायक जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती मनाई जा रही है। जेपी को 1970 में इंदिरा गांधी के विरुद्ध विपक्ष का नेतृत्व करने के लिए जाना जाता है। इंदिरा गांधी को सत्ता से हटाने के लिए उन्होंने 'सम्पूर्ण क्रांति' आंदोलन चलाया था। 

जेपी ने संपूर्ण क्रांति का दिया था नारा
जयप्रकाश नारायण ने संपूर्ण क्रांति का नारा दिया, उस समय इंदिरा गांधी देश की प्रधानमंत्री थी। जेपी ने इंदिरा गांधी सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। 1975 में निचली अदालत में इंदिरा गांधी पर चुनाव में भ्रष्टाचार का आरोप साबित हो गया। जयप्रकाश ने उनके इस्तीफे की मांग कर दी। जेपी का कहना था इंदिरा सरकार को गिरना ही होगा। आनन-फानन में इंदिरा गांधी ने इमरजेंसी का एलान कर दिया। उन दिनों राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने कहा था- 'सिंहासन खाली करो कि जनता आती है'। 

राजद के लिए तेज प्रताप ने खड़ी मुश्किलें
लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने छात्र जनशक्ति परिषद के नाम से एक नया संगठन बनाया है। हाल ही में तेज प्रताप यादव ने अपने संगठन डीएसएस (DSS) और एक अन्य संगठन का छात्र जनशक्ति परिषद में विलय किया है। दूसरी तरफ छात्र जनशक्ति परिषद के सदस्य संजय कुमार ने तारापुर उपचुनाव में नामांकन दाखिल कर राजद के लिए मुश्किलें बढ़ा दी हैं। तारापुर से नामांकन पर्चा दाखिल करने वाले संजय कुमार ने स्पष्ट रूप से कहा कि उन्होंने तेज प्रताप यादव से इजाजत लेकर नामांकन पत्र दाखिल किया है। वहीं, बिहार की दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजद ने भी को उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। कुशेश्वरस्थान और तारापुर विधानसभा सीट पर तेजस्वी ने दो प्रत्याशी को टिकट दिया है। ऐसे में अब तेजप्रताप ने प्रत्याशी खड़ा कर मुश्किलें पैदा कर दी है।  

स्टार प्रचारक की सूची पर तेज प्रताप की टिप्पणी
जय प्रकाश नारायण की जयंती पर छात्र जनशक्ति परिषद की ओर होने वाली पदयात्रा को लेकर तेजप्रताप यादव ने आगे कहा कि वो मीडिया के माध्यम से अपने अर्जुन (तेजस्वी यादव) को भी पदयात्रा में शामिल होने का न्योता दिया है। तेजप्रताप ने कहा कि वो इस पदयात्रा में आएं, उनका इंतजार किया जाएगा। तेजप्रताप ने कहा कि पदयात्रा में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष समेत जितने भी जुड़े लोग हैं वो सारे मौजूद होंगे। स्टार प्रचारकों की सूची में नाम नहीं होने के सवाल पर  तेजप्रताप यादव ने कहा कि इसमें कोई बड़ी बात नहीं है, हां इतना जरूर है कि इसमें  मां राबड़ी देवी और बहन मीसा भारती का नाम जरूर होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि स्टार प्रचारक बस कागजी प्रक्रिया है
... और पढ़ें

बिहार: तेजप्रताप के खिलाफ तेजस्वी की बड़ी चाल, तारापुर से निर्दलीय उम्मीदवार का नामांकन करवाया वापस

बिहार में तेज ब्रदर्स के बीच विरासत की लड़ाई तेज होती जा रही है। सत्ता के शीर्ष पर जाने के लिए दोनों भाई एक दूसरे के खिलाफ लगातार नई चाल चल रहे हैं। तेजप्रताप जहां बगावती सुर अपनाते नजर आ रहे हैं तो वहीं तेजस्वी राष्ट्रीय जनता दल की विरासत खुद के पास रखने के लिए अपनी ताकत का एहसास करवा रहे हैं। ताजा मामला है तारापुर विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के दो दिन पहले जहां तेज प्रताप के समर्थन से संजय कुमार ने निर्दलीय के तौर पर अपना नामांकन किया था। तेज प्रताप से समर्थन प्राप्त करके संजय कुमार ने तारापुर विधानसभा सीट उपचुनाव के लिए अपना नामांकन तो कर दिया लेकिन दो दिन के अंदर ही तेजस्वी ने बड़ी चाल चल दी। दरअसल तेजस्वी ने शनिवार शाम संजय कुमार को अपने आवास पर बुलाया और उनसे मुलाकात की जिसके बाद उन्होंने अपना नामांकन वापस लेने का एलान कर दिया और आरजेडी में भी शामल हो गए। वहीं अब तेजस्वी के इस फैसले के बाद तेजप्रपाप भड़क गए हैं और उन्होंने तेजस्वी के सलाहकार संजय यादव को जमकर लताड़ लगा दी है।

तेजप्रताप ने तेजस्वी के सलाहकार को लगाई लताड़
तारापुर सीट से नामांकन वापस लेने के संजय कुमार के फैसले पर तेज प्रताप यादव ने ट्वीट कर कर अपनी प्रतिक्रिया दी और कहा कि उनका इस मामले से कुछ लेना देना नहीं है। उन्होंने तेजस्वी के सलाहकार को लताड़ लगाते हुए ट्वीट किया कि ''जनता के लिए संजय कुमार ने अपनी उम्मीदवारी वापस ली-- आरजेडी.. ना मैंने कुछ कहा ना लिखा तो इसमें मेरा क्या रोल था या है ? हरियाणवी स्क्रिप्ट राइटर तुम यह फालतू सी ग्रेड कहानी कहीं और लिखना.. बिहारी सब समझते हैं।”  

उम्मीदवारी वापस लेने पर संजय कुमार ने भी दी प्रतिक्रिया
संजय कुमार ने कहा कि बिहार में आरजेडी सरकार बनानी है इसीलिए मैंने फैसला किया है कि और आरजेडी परिवार को मजबूत बनाने के लिए मैं अपना नामांकन वापस लूंगा। अब मेरा मकसद है तारापुर से आरजेडी उम्मीदवार को जिताना।

जानें तेजप्रताप ने संजय यादव को क्यों कहा हरियाणवी स्क्रिप्ट राइटर
दरअसल, संजय यादव हरियाणा के रहने वाले हैं और बतौर राजनीतिक सलाहकार तेजस्वी यादव के साथ लंबे समय से काम कर रहे हैं। संजय यादव तेजस्वी यादव के रिश्तेदार भी हैं। संजय यादव की तेजस्वी यादव से पहली बार दिल्ली में वर्ष 2010 में मुलाकात हुई थी। इसके बाद संजय यादव तेजस्वी यादव के काफी करीब आ गए थे और कुछ ही दिन में वे विश्वासपात्र बन गए। तेजस्वी ने इसके बाद उन्हें अपना राजनीतिक सलाहकार बना लिया। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00