लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

टूटेगा गठबंधन!: 'अखिलेश यादव से मिलकर कुछ सवाल पूछना चाहता हूं', ओमप्रकाश राजभर का नया दांव

अमर उजाला नेटवर्क, लखनऊ Published by: शाहरुख खान Updated Tue, 12 Jul 2022 09:13 AM IST
अखिलेश यादव और ओम प्रकाश राजभर
1 of 6
विज्ञापन
सपा और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) गठबंधन में दरार पड़ने की चर्चाओं के बीच सुभासुपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने कहा है कि पहले वह सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात कर विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा कार्यक्रम में न बुलाने की वजह से पूछेंगे। इसके बाद ही गठबंधन के भविष्य और राष्ट्रपति चुनाव में वोट देने को लेकर फैसला लेंगे। राजभर ने कहा कि दो दिन पहले हमने पार्टी के पूर्व एमएलसी उदयवीर से अखिलेश से मुलाकात कराने को कहा था लेकिन अभी तक उधर से कोई सूचना नहीं मिली है। इसलिए हम भी प्रतीक्षा कर रहे हैं। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के सम्मान में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास पर आयोजित रात्रि भोज में शामिल होकर राजभर ने सियासी हलचल पैदा कर दी थी। इसके बाद राजभर के कई बयान भी यह संकेत कर रहे हैं सपा-सुभासपा गठबंधन में गांठ पड़ चुकी हैं।
अखिलेश यादव के साथ ओमप्रकाश राजभर
2 of 6
अब राजभर का कहना है कि वह पहले अखिलेश यादव से मिलकर कुछ सवाल पूछना चाहते हैं। उसमें एक सवाल यह भी करेंगे कि विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के कार्यक्रम में गठबंधन में शामिल रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी को बुलाया गया तो सुभासपा अध्यक्ष को क्यों नहीं बुलाया गया। 

 
विज्ञापन
अखिलेश यादव और ओम प्रकाश राजभर
3 of 6
इसके अलावा भी कई ऐसे सवाल हैं जो अखिलेश से पूछेंगे। लेकिन उनसे समय मांगे तीन दिन हो गया है, उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं मिला है। उन्होंने यह भी कहा कि अखिलेश से दो टूक पूछेंगे कि उन्हें अब हमारी जरूरत है नहीं। इसके बाद ही कोई फैसला लेंगे। 

 
अखिलेश यादव के साथ ओमप्रकाश राजभर
4 of 6
उधर ओमप्रकाश के बार-बार बयान बदलने से सपा और भाजपा में असमंजस की स्थिति है। सियासी गलियारों में राजभर और भाजपा के बीच फिर से नजदीकी बढ़ने की चर्चाएं जोरों पर है। यह भी कहा जा रहा है कि राजभर राष्ट्रपति पद के लिए 18 जुलाई को होने वाले चुनाव तक अपना पत्ता नहीं खोलेंगे। 

 
विज्ञापन
विज्ञापन
अखिलेश यादव के साथ ओमप्रकाश राजभर
5 of 6
वहीं कुछ सूत्रों का तो यहां तक कहना है कि राजभर और भाजपा के रणनीतिकारों के बीच गुप्त समझौता हो चुका है और राजभर व उनकी पार्टी के सभी विधायकों ने द्रौपदी मुर्मू को वोट देने की हामी भर दी है।
 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00