लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Kanpur ›   Shivpal Security Level Reduced from Z to Y

जानें, कैसे रंग लाई सीएम योगी से शिवपाल की एक ‘छोटी सी मुलाकात’

टीम डिजिटल/ अमर उजाला, कानपुर Updated Wed, 24 May 2017 12:31 PM IST
शिवपाल और सीएम योगी
शिवपाल और सीएम योगी
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आखिर एक छोटी सी मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विधायक शिवपाल पर मेहरबान हो ही गए।  


योगी आदित्यनाथ की सरकार ने शिवपाल सिंह यादव की जेड श्रेणी की सुरक्षा मंगलवार को बहाल कर दी है। वीआईपी कल्चर को खत्म करने की बात करने वाली योगी सरकार ने पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव की सुरक्षा को जेड से घटाकर वाई कर दिया गया था। अभी कुछ दिन पहले ही शिवपाल यादव, सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने गए थे। शिवपाल की जे श्रेणी सुरक्षा बहाल किए जाने को इस मुलाकात से जोड़कर देखा जा रहा है।

डिंपल, रामगोपाल और आजम खान की सिक्योरिटी भी घटी

सीएम योगी, डिम्पल और आजम
सीएम योगी, डिम्पल और आजम
योगी सरकार ने पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव के अलावा वर्तमान नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना को भी जेड श्रेणी की सुरक्षा दी गई है। पिछले महीने योगी सरकार ने अखिलेश सरकार से जुड़े रहे कई नेताओं की सुरक्षा घटा दी थी।

यूपी की नई सरकार के आदेश पर एक महीने पहले  जिन नेताओं की सुरक्षा पिछले दिनों घटाई गई थी, उनमें पूर्व सीएम अखिलेश यादव की पत्नी सांसद डिंपल यादव, पूर्व मंत्री आजम खान, शिवपाल यादव और एसपी महासचिव रामगोपाल यादव भी शामिल थे। लेकिन इनमें से सिर्फ शिवपाल की सुरक्षा को फिर बढ़ाया गया है बाकी सभी लोगों को कम सुरक्षा दी जा रही है। 

100 अन्य लोगों की सुरक्षा भी वापस ले ली गई थी

डेमो पिक
डेमो पिक
बड़े नेताओं के अलावा अखिलेश सरकार के करीबी 100 अन्य लोगों की सुरक्षा वापस ले ली गई थी। हालांकि योगी सरकार ने एसपी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव, पूर्व सीएम अखिलेश यादव और मायावती की जेड प्लस सुरक्षा को जारी रखने का फैसला किया था। बदायूं के सांसद धर्मेंद्र यादव की वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा भी जारी रखी गई थी। वीआईपी कल्चर खत्म करने के तहत सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव (गृह) को सिर्फ जरूरत के मुताबिक नेताओं को सुरक्षा देने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद सभी वीवीआईपी और वीआईपी को मिली श्रेणीवार सुरक्षा का रिव्यू किया गया था।

 

छुटभैये नेताओं के लिए स्टेटस सिंबल बन गई थी सुरक्षा

डेमो पिक
डेमो पिक

हालांकि, योगी सरकार ने सपा के पूर्व महासचिव अमर सिंह और नरेश अग्रवाल की सुरक्षा बरकरार रखी है। सूबे में योगी सरकार बनते ही वीआईपी सुरक्षा में लगे सभी जवान एक ही झटके में वापस हो गए। अखिलेश य़ादव की सरकार में तो छुटभैये नेताओं के लिए वीआईपी सुरक्षा स्टेटस सिंबल बन गई थी। फोर्स की कमी के बावजूद 70 से अधिक छुटभैये नेता को गनर मिले थे। सुरक्षा की जरूरत न होते हुए भी रुतबे की खातिर सुरक्षा में हो रहे खर्च को दरकिनार कर दिया गया था।

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00