लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

भईया सिवन.. हिम्मत ना हारेव.. अगली बार मिशन कामयाब होई- राजू श्रीवास्तव

यूपी डेस्क, अमर उजाला, कानपुर Published by: शिखा पांडेय Updated Mon, 09 Sep 2019 01:28 PM IST
फाइल फोटो
1 of 7
विज्ञापन
बताव हम लोगे हिंया से चंद्रयान का इत्ता सजाय धजाय के.. बैंड बाजा बजाय के ई उड़नखटोला यानी चंद्रयान हिंया से चांद पे भेजे रहन मगर चंदा मामा ओमा बैठेहे नाहिं.. हमका याद आय कि जब हम छोट रहन तो हमार अम्मा हमका लोरी सुनावत रहीं ‘चंदा मामा दूर के.. पुए पकावें बूर के’.. तो हमका लगत है कि इधिर चंद्रयान चंदा मामा का ढूंढत रहा.. अउर उधिर ई चंदा मामा कहूं दूर बइठे पुए बूर बूर खावत होईहैं.. खैर ई तो रही मजाक मस्ती वाली बात..
राजू श्रीवास्तव
2 of 7
मगर सच बताई तो हम शुक्रवार की रात मा टीवी खोले बइठे रहन कि आपन चंद्रयान केर सफलता हमहूं देखब.. हमरा पूरा घर सोवत रहा.. अकेले हम रात मा बइठे टीवी की आवाज बंद किये टकटकी लगाय देखत रहन.. काहे से हमार मेहेरिया हमसे पहलेहे कहि दीस रहय कि आवाज बंद करि के टीवी देखेव.. नाही तो हम तुम्हरी आवाज बंद करि देब.. खैर हम अकेले हॉल मा बइठे लाइव न्यूज देखत रहन अउर बस यही सोचित रहन कि चंद्रयान केर लैंडिंग होय वाली आय..
विज्ञापन
राजू श्रीवास्तव
3 of 7
कहूं बत्ती ना चलि जाय.. काहे से आपन कानपूर मा बत्ती कब ‘लाइन’ दई जाय कोऊ नाहिं बताय सकत.. ई मामले मा तो सबै कनपुरिये केसा केर भुक्तभोगी आंय.. खैर.. रात का टाइम.. पूरा घर सांय सांय करत रहा.. हम डिरात भी रहन.. तभीने हमका आवाज सुनाई पड़ी.. सोय जाव .. हम डर के मारे खड़बड़ाए गेन.. देखेन तो हमरी पत्नी रहीं.. हमसे कहिन सोय जाव.. सुबह सब पता चलि जाई.. सबै न्यूज चैनल वाले यही खबर रगड़े हैं.. हम कहा हमका बासी नाही ताजा माल चाहि..
राजू श्रीवास्तव
4 of 7
तो उई कहिन सोय जाव तुमका सुबह शताब्दी पकडे़ का है’.. हम कहा शताब्दी वपाब्दी गयी तेल ले.. एतने बड़े अभियान केर सफलता मा हमहूं गवाह बनब.. मगर हमरा दिल बुझि गवा.. जब विक्रम सिरिफ दुई किलोमीटर दूर रहा अउर ओका संपर्क टूट गवा.. कसम से हमरा दिल चिरमिराय के रहि गवा मगर इसरो हिंया तक पहुंचा.. ई बहुत बड़ी बात आय अउर सच्ची बात ई आय कि हौंसला बढ़ाना.. हौंसला बनाय रखे से जादा बड़ा होत है.. विक्रम से कांटेक्ट नाहि होय रहा कौनो बात नाही..
विज्ञापन
विज्ञापन
राजू श्रीवास्तव
5 of 7
कभूं कभूं हमरे मोबाइल मा भी नेटवर्क नाही होत है तो कौनो से कांटेक्ट नाहिं होत है.. तो जइसेहे विक्रम का नेटवर्क मिलि.. तुरंतै कांटेक्ट हुई जाई.. एमा हताश होय वाली कौनो बात नाही.. हमरा केडीए का प्लाटौ तीन बार कैंसिल भवा रहय.. फिर बाद मा हमरे नाम अलॉट हुई गवा रहय.. हमार लरिकवा भी कई बार मिलिट्री भर्ती मा फेल भा रहा.. मगर आखिरकार उई सब पास करि के आज अफसर बनि गा.. तुम लोगे चंद्रयान का चन्द्रमा तक पहुंचायेव यही बहुत बड़ी बात आय..
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00