गलती साहब की, सजा भुगत रहे विद्युत उपभोक्ता

अमर उजाला ब्यूरो, प्रतापगढ़ Updated Sat, 24 Mar 2018 12:04 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
विद्युत विभाग की लापरवाही कहें या फिर भूल, मगर इसकी सजा उपभोक्ताओं को भुगतनी पड़ रही है। जिसने बिल जमा किया है, उसे बकाएदार बना दिया है और जिसने कनेक्शन लेकर मीटर तक लगवाया उसे विद्युत चोर। परेशान उपभोक्ता इसकी शिकायत कार्यालय से मंत्रालय तक कर चुके हैं, मगर समाधान अब तक नहीं हो सका है। ऐसे में उपभोक्ताओं को रोजाना उपकेंद्र के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।
विज्ञापन


विद्युत विभाग उपभोक्ताओं को सहूलियत प्रदान करने की कवायद में जुटा हुआ है। घर-घर मीटर लगाए जाने के साथ जीपीएस सिस्टम के साथ मीटर रीडिंग तक की व्यवस्था की गई है। इतना ही नहीं घर- घर बिलिंग को लेकर मोबाइल कैश वाहन की भी शुरुआत हो गई है। दावा है कि सारी व्यवस्थाएं एक क्लिक पर बड़ी आसानी से सुलभ हो सकेंगी। लेकिन इस हाईटेक व्यवस्था में भी उपभोक्ताओं को परेशान होना पड़ रहा है।


रानीगंज क्षेत्र के कोडरडीह गांव निवासी रमाशंकर पटेल ने 2007 में विद्युत कनेक्शन लिया। उन्होंने मीटर भी लगवा लिया। मीटर रीडिंग कर बिल की जानकारी देने के गांव में कोई नहीं आया। बिल की कितना हुआ है, यह पता करने के लिए उन्होंने कई बार उपकेंद्र तक के चक्कर लगाए, मगर अधिकारी उनकी शिकायत सुनने को तैयार नहीं हुए। इधर, 2016 में औचक निरीक्षण में पहुंचे अधिकारियों ने उन पर विद्युत चोरी का आरोप लगाकर 25 हजार जुर्माना ठोंक दिया। अब रमाशंकर अफसरों के चक्कर काट रहे हैं।

कूराडीह निवासी हरिकरन गुप्ता ने बिल की गड़बड़ियों से आजिज आकर कनेक्शन समाप्त कराने का निर्णय लिया। सन 2005 में विभागीय अफसरों ने सारी औपचारिकता पूर्ण कर उनके कनेक्शन की पीडी की। मगर इसके बाद भी बिल आना बंद नहीं हुआ। विभाग ने उन्हें एक लाख का बकाएदार बना दिया है। अब वह सारे दस्तावेज लेकर विभागीय कार्यालयों के चक्कर लगा रहे हैं। शिवगढ़ ब्लाक के गंभीरा गांव निवासी वादे अहमद ने मोटर कनेक्शन लिया था। 2011 में उन्होंने पीडी करा ली।

इसके बाद भी अभी भी बराबर बिल आ रहा है। शिकायत के बाद भी अब तक निदान नहीं हो सका है। रानीगंज कस्बा निवासी रामकिशोर मिश्र के यहां कनेक्शन नहीं है। फिर भी बिल का सिलसिला जारी है। इसके अलावा नवरंग बहादुर सिंह निवासी रायतारा, रामसमुझ पांडेय बिसहुला, राय साहब सिंह पूरे चौहान बिल जमा करने के बाद भी बकाएदार बने हुए हैं। इस बारे में अधिशाषी अभियंता सत्यप्रकाश मिश्र ने बताया कि इस तरह की शिकायतों को प्राथमिकता दी जा रही है। समाधान भी हो रहा है। जल्द ही जांच कराकर इन शिकायतों का भी निस्तारण किया जाएगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00