बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान
Myjyotish

इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर बप्पा के घर में आगमन से होंगी ये राशियां धनवान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Digital Edition

एएमयू में इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा आज

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में सोमवार को इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा आयोजित की जा रही है। इस प्रवेश परीक्षा में पूरे देश से कुल 12496 परीक्षार्थी भाग ले रहे हैं। इसमें अलीगढ़ के परीक्षा केंद्रों पर 7380 परीक्षार्थी भाग लेंगे। अलीगढ़ में विश्वविद्यालय परिसर में 25 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।
बीटेक की प्रवेश परीक्षा दोपहर 2 बजे से 5 बजे तक संचालित की जाएगी। जबकि बीआर्क के लिए प्रवेश परीक्षा सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक होगी। प्रवेश परीक्षा को संचालित करने के लिए सभी सुरक्षा उपाय और जांच की व्यवस्था की गई है। अलीगढ़ के अलावा, लखनऊ, जम्मू कश्मीर, पश्चिम बंगाल आदि जगहों में भी परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।
यहां बनाए गए परीक्षा केंद्र
वीमेंस कॉलेज, फैकल्टी ऑफ आर्ट्स, इंजीनियरिंग कॉलेज, एसटीएस स्कूल, एएमयू सिटी स्कूल, सैयद हामिद सीनियर सेकेंडरी स्कूल बॉयज, लेक्चर कांप्लेक्स साइंस फैकल्टी, सिविल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट, डिपार्टमेंट ऑफ मैथ, डिपार्टमेंट ऑफ एजूकेशन, डिपार्टमेंट ऑफ कॉमर्स, डिपार्टमेंट ऑफ फिजिक्स, सीनियर सेकेंडरी गर्ल्स स्कूल, डिपार्टमेंट ऑफ जूलॉजी, डिपार्टमेंट ऑफ जियोलॉजी, डिपार्टमेंट ऑफ़ बॉटनी, डिपार्टमेंट ऑफ जियोग्राफी, एबीके स्कूल बॉयज, एबीके स्कूल गर्ल्स, डिपार्टमेंट ऑफ उर्दू, डिपार्टमेंट ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन, फिजिकल हेल्थ एजूकेशन डिपार्टमेंट, एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग ब्लॉक, यूनिवर्सिटी पॉलिटेक्निक, एएमयू गर्ल्स स्कूल।
... और पढ़ें

एएमयू : प्रवेश परीक्षा में 6139 परीक्षार्थी रहे गैरहाजिर

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में बीएससी, बीकॉम और बीए ऑनर्स पाठ्यक्रम के लिए रविवार को प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया। इस प्रवेश परीक्षा के लिए कुल 22534 परीक्षार्थियों ने आवेदन किया था। इनमें से 6139 परीक्षार्थी गैरहाजिर रहे। अलीगढ़ के अलावा, कोझीकोड, श्रीनगर, पटना, लखनऊ और कोलकाता में भी परीक्षा केंद्र बनाए गए थे।
अलीगढ़ में 17567 परीक्षार्थियों के लिए 54 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। विश्वविद्यालय के कार्यवाहक प्रॉक्टर डॉक्टर सैयद अली नवाज जैदी ने बताया कि सुबह की शिफ्ट में बीएससी की प्रवेश परीक्षा में कुल 11638 परीक्षार्थियों में से 8682 परीक्षार्थी उपस्थित रहे।
2956 परीक्षार्थी गैरहाजिर रहे। बीकॉम की प्रवेश परीक्षा के पंजीकृत कुल 4795 परीक्षार्थियों में से 3749 परीक्षार्थी उपस्थित रहे। 1046 परीक्षार्थी गैरहाजिर रहे। इस प्रकार 4002 परीक्षार्थी सुबह की शिफ्ट में परीक्षा से अनुपस्थित रहे।
शाम की शिफ्ट में 3 से 5 बजे के बीच बीए ऑनर्स की परीक्षा हुई। इसमें सभी केंद्रों पर 10896 परीक्षार्थियों ने आवेदन किया था। इसमें से 8759 परीक्षार्थी परीक्षा के लिए उपस्थित हुए। 2137 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। परीक्षा पूरी तरह शांतिपूर्वक और व्यवस्थित तरीके से संचालित हुई।
प्रवेश परीक्षा एक नजर में
- बीएससी, बीकॉम और बीए ऑनर्स में देश के सभी परीक्षा केंद्रों पर कुल परीक्षार्थी - 22534
- अलीगढ़ के 54 परीक्षा केंद्रों पर आवेदन करने वाले कुल परीक्षार्थी - 17567
- देश के सभी परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा से गैरहाजिर रहे परीक्षार्थियों की संख्या - 6139
ट्रेन लेट होने से छात्रा की परीक्षा छूटी
ट्रेन लेट होने के चलते आजमगढ़ से प्रवेश परीक्षा में शामिल होने आ रही युवती की परीक्षा छूट गई। युवती ने रो-रोकर अपनी समस्या विश्वविद्यालय प्रशासन को बताई। लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन ने नियमों का हवाला देकर छात्रा से अपनी असमर्थता व्यक्त की।
- आगामी शैक्षिक सत्र के लिए विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश परीक्षाएं रविवार से शुरू हो गई हैं। पहले दिन प्रवेश परीक्षा शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न हुई है। प्रॉक्टर कार्यालय का पूरा स्टाफ, मेरी टीम, विश्वविद्यालय के शिक्षक, नॉन टीचिंग स्टाफ सभी बधाई के पात्र हैं। लंबे समय बाद कैंपस गुलजार दिखाई दिया है। उम्मीद है जल्द ही कैंपस में पुराने दिन वापस होंगे।
- प्रोफेसर वसीम अली, प्रॉक्टर, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय
एएमयू सीनियर सेकेंडरी स्कूल गर्ल्स से एएमयू प्रवेश परीक्षा देकर बाहर निकलती छात्राएं। अमर उजाल?
एएमयू सीनियर सेकेंडरी स्कूल गर्ल्स से एएमयू प्रवेश परीक्षा देकर बाहर निकलती छात्राएं। अमर उजाल?- फोटो : CITY OFFICE
... और पढ़ें

अलीगढ़ : केमिकल से सैनिटाइजर बनाने का भंडाफोड़

अतरौली थाने से महज डेढ़ सौ मीटर दूर इंडस्ट्रियल एरिया में अवैध केमिकल से सैनिटाइजर आदि बनाने के गोरखधंधे का भंडाफोड़ हुआ है। फैक्टरी से भारी मात्रा में लिक्वड आदि बरामद हुआ है। प्रयोगशाला की जांच में अवैध केमिकल से सैनिटाइजर आदि बनाने की पुष्टि होने के बाद आबकारी निरीक्षक ने रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने फैक्टरी संचालक को पकड़ लिया, जिसे न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया गया।
थाने के समीप इंडस्ट्रियल एरिया में प्रदीप पुत्र जयदीप सिंह की हिना केमिकल्स के नाम से फैक्टरी है। फैक्टरी में वार्निस, पॉलिस व सैनिटाइजर आदि बनता है। आबकारी इंस्पेक्टर जितेंद्र कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि जहरीली शराब से लोगों की मौत के बाद आबकारी टीम ने इस तरह की लाइसेंसधारी फैक्टरी से भी सैंपल लेकर मेरठ की प्रयोगशाला में भेजे थे।
फैक्टरी द्वारा आबकारी से लिए जा रहे थिनर आदि का रिकार्ड भी देखा गया था। प्रयोगशाला की जांच में पाया कि वार्निश व सैनिटाइजर एसडीएस के स्थान पर अवैध मिथाइल व केमिकल डालकर बनाया जा रहा था। यह केमिकल इतना खतरनाक है कि गलती से कोई सेवन कर ले तो मौत हो जाए।
वहीं लाखों रुपये रोजाना की सरकारी राजस्व की भी हानि हो रही थी। फैक्टरी से एक ड्रम में 60 लीटर लिक्विड सफेद रंग, दो बोतल एक-एक लीटर लिक्विड सफेद रंग, छह पेटी जिनमें कुल 205 शीशी लिक्विड बरामद किया गया है। आरोपी फैक्टरी मालिक प्रदीप को जेल भेजा गया है।
- ऑपरेशन धोखाधड़ी के तहत आबकारी की रिपोर्ट पर गलत सैनिटाइजर बनाकर भारी मुनाफा कमाने व आबकारी नियमों की धज्जियां उड़ाने वाले कारोबारी प्रदीप को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है।- शिव प्रताप सिंह, सीओ।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः टप्पल में स्कूल गई बालिका की लाश खेत में औंधे मुंह मिली

टप्पल क्षेत्र में यमुना खादर के गांव से स्कूल पढ़ने गई अनुसूचित जाति की आठ वर्षीय बालिका का शव सोमवार दोपहर करीब एक बजे पानी से भरे धान के खेत में औंधे मुंह पड़ा मिला। कुछ दूरी पर जामुन के पेड़ के नीचे उसका स्कूल बैग और चप्पल पड़ी थीं। जानकारी पर वहां ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई और पुलिस भी पहुंच गई। इस दौरान ग्रामीणों ने शव नहीं हटने दिया। किसी तरह खींचतान कर पुलिस ने शव मौके से हटा लिया तो गुस्साए ग्रामीणों ने फिर से टप्पल-लालपुर मार्ग पर शव रख दिया। करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद खींचतान व धक्कामुक्की कर पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। देर रात समाचार लिखे जाने तक तहरीर नहीं मिली थी। परिजनों ने बच्ची के संग दुष्कर्म की आशंका व्यक्त की है।
गैर प्रांत में निजी कंपनी में नौकरी करने वाले युवक के तीन बच्चों में सबसे बड़ी बेटी गांव से करीब एक किमी दूर स्थित स्कूल में पढ़ने जाती थी। सोमवार सुबह आठ बजे वह स्कूल के लिए घर से निकली थी। सुबह करीब 11 बजे बच्ची की दादी खेत पर चारा लेने अपने पहुंची तो उसे बगल के खेत में जामुन के पेड़ के नीचे अपनी नातिन का बैग व चप्पल रखी मिलीं। जिन्हें देख कर दादी भौचक रह गई। इसके बाद उन्होंने घर और स्कूल में बच्ची का पता लगवाया, तो पता चला कि वह स्कूल नहीं पहुंची। उन्होंने अपने बेटे को खबर देते हुए खेतों में ग्रामीणों की मदद से बच्ची की तलाश शुरू कर दी।
इसी बीच खुद के खेतों से कुछ दूरी पर एक धान के खेत में बच्ची का शव उल्टा पड़ा मिला। उसमें पानी भरा होने के कारण दलदल जैसी स्थिति थी। इस सूचना पर सीओ खैर, इंस्पेक्टर टप्पल आदि मौके पर पहुंच गए। मगर पुलिस के आने पर ग्रामीणों ने शव नहीं उठने दिया। चूंकि, यह अनुसूचित जाति के परिवार संग घटना हुई थी, इसलिए किसी भी अनहोनी को भांपते हुए अन्य थानों का फोर्स बुला लिया गया। शव उठाने के लिए जोर जबर्दस्ती करनी चाही तो ग्रामीण भड़क गए। किसी तरह शव को उठवाया तो ग्रामीण लालपुर-टप्पल मार्ग पर शव रखकर बैठ गए। करीब दो घंटे की जद्दोजहद के बाद पुलिस ने शाम चार बजे खींचतान कर भारी पुलिस बल के बीच शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसी बीच एसएसपी कलानिधि नैथानी, एसपी देहात शुभम पटेल भी वहां पहुंच गए। देर रात तक एसपी देहात व कई थानों का फोर्स मौके पर जमा था। इधर, पैनल के जरिये पोस्टमार्टम कराए जाने की तैयारी चल रही थी। परिवार की ओर से समाचार लिखे जाने तक तहरीर नहीं दी गई थी।
- घटनास्थल की बारीकी से फोरेंसिक टीम से जांच कराई गई है। शव का पैनल के जरिये पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। दो टीमें जांच व खुलासे में लगाई गई हैं, जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आएगा, उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी। - कलानिधि नैथानी, एसएसपी
... और पढ़ें

अलीगढ़ः परिवार को नहीं किसी पर शक, पर सीबीआई जांच की मांग

यमुना पट्टी के गांव में सोमवार को हुई सनसनीखेज वारदात के पीछे क्या, क्यों, किसने, कैसे, जैसे अभी अनगिनत सवाल अनसुलझे हैं। मगर घटनास्थल पर रोते बिलखते परिवार ने किसी पर शक नहीं जताया। हां, एक बात जरूर कही कि दरिंदे का मासूम ने क्या बिगाड़ा था। जिसने भी किया है, उसे फांसी पर लटकाया जाए और इस घटना के खुलासे के लिए सीबीआई जांच होनी चाहिए। इस दौरान बिलखते हुए दादी ने बच्ची संग दुष्कर्म का भी अंदेशा जताया है। कई ग्रामीणों ने भी दादी की बात पर बल दिया है। यही वजह है कि पुलिस ने पैनल के जरिये पोस्टमार्टम कराना तय किया है।
मुंह में भरी थी मिट्टी, शर्ट पर लगा था खून
जिस वक्त परिवार की खोजबीन में पुलिस पहुंची तो बच्ची धान के खेत में औंधे मुंह ऐसे पड़ी थी, जैसे बिस्तर पर कोई उल्टा लेटता है। धान के खेत से बगल का खेत ऊंचा था। धान के खेत में उसमें से ही होकर उतरना होगा। जब बच्ची के शव को सीधा कर बाहर निकाला गया तो मुंह में मिट्टी भरी हुई थी और शरीर का आगे का पूरा हिस्सा मिट्टी से सना था। हां, शर्ट पर खून के धब्बे लगे हुए थे। जिन्हें देखकर पुलिस ने महिला पुलिसकर्मियों की मदद से दादी, बुआ व मां आदि की मौजूदगी में बच्ची के शव की बारीकी से पड़ताल कराई। मगर जाहिरा चोट का कोई निशान नहीं दिखाई दिया। उसकी स्कूल ड्रेस की पैंट, शर्ट, बेल्ट ज्यों की त्यों बंधी थी। बस चप्पल व बैग जरूर अलग जामुन के पेड़ के नीचे थे। घटनास्थल से बच्ची का घर करीब 600 मीटर दूरी पर था। जिस चकरोड से बच्ची स्कूल आती जाती थी। वह बाईपास संपर्क मार्ग है, उस मार्ग पर दिन में आवाजाही समय बचाने के लिए रहती है। मार्ग से दो-तीन खेत हटकर बच्ची की लाश मिली थी।
पढ़ने में होशियार थी बच्ची, मां का हाल बेहाल
घटनास्थल पर मौजूद पिता, दादी, मां व बुआ को संभाल पाना मुश्किल हो रहा था। मां व बुआ तो बार-बार बेहोश होकर गिर जा रही थीं। इस दौरान मां ने बताया कि बच्ची पढ़ने में बेहद होशियार थी। कहा कि दरिंदों के कीड़े पड़ेंगे। साथ में कहा कि सीबीआई जांच कराकर मासूम बिटिया की हत्या करने वालों को फांसी पर चढ़ाया जाए। थाना प्रभारी देवेंद्र सिंह ने कहा कि अभी तहरीर नहीं मिली है। एहतियात के तौर पर गांव में पुलिस तैनात कर दी गई है।
घर से पंद्रह सौ मीटर दूर है स्कूल
बच्ची जिस स्कूल में पढ़ती थी, वह उसके घर से महज 1500 मीटर की दूरी पर है। वह रोजाना गांव के करीब 50 बच्चों के साथ पैदल ही स्कूल जाती थी। सोमवार को उसका बैग खेतों में जामुन के पेड़ के नीचे मिलने के बाद बाबा स्कूल पहुंचे, तब पता चला कि सोमवार को वह स्कूल नहीं पहुंची। इस पर वह रास्ते में लोगों से पूछते हुए घर लौटे तो बात पूरे गांव में फैल गई। गांव वाले भी बच्ची की तलाश में जुट गए। जहां पर बैग और चप्पल मिले थे उससे करीब 100 मीटर दूर धान के खेत में शव मिला।
दोषियों को मिले कड़ी सजा
पिता का रो-रोकर बुरा हाल था। उन्होंने बताया कि बच्ची पहली कक्षा की छात्रा थी। उनके तीन बच्चों में सबसे बड़ी थी। उन्होंने घटना की सीबीआई जांच कराकर दोषियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग की। वहीं घटना के बाद गांव में तनाव की स्थिति को देखते हुए कई थानों का फोर्स बुला लिया गया था। पुलिस अधीक्षक ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए थे।
टप्पल में तीन साल बार दोहराई गई वारदात
यह पहला मौका नहीं, इससे पहले भी टप्पल में इस तरह की एक सनसनीखेज वारदात हो चुकी है। वर्ष 2019 में इसी तरह ढाई साल की बच्ची घर के बाहर खेलते समय गायब हुई थी। तीसरे दिन उसकी लाश पड़ोस की गली में गैर समुदाय के आरोपियों के घर के सामने कूड़े में मिली थी। देश भर में सुर्खियों में रहे इस घटनाक्रम के दौरान कई दिन तक टप्पल सुलगता रहा था। धरना प्रदर्शन के बीच आरोपियों की गिरफ्तारी और परिवार को तमाम तरह की आर्थिक मदद के बाद मामला शांत हुआ था। न्यायालय में विचाराधीन उस प्रकरण में सोमवार को गवाही की तारीख नियत थी। त्वरित गति से चल रही सुनवाई के बाद मामले में जल्द फैसला आने की उम्मीद है। इसके अलावा, यमुना एक्सप्रेस वे आंदोलन, ज्ञानी हत्याकांड सहित अन्य कई घटनाओं के कारण टप्पल अक्सर सुर्खियों में रहता है।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः छपरौली की भीड़ से उत्साहित रालोद 2022 की तैयारी में

दो दिन पहले छपरौली (बागपत) में रालोद के मुखिया जंयत चौधरी की रस्म पगड़ी हुई। छह मई 2021 को रालोद के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अजित सिंह का निधन होने के बाद ये रस्म बाकी थी। भारतीय किसान यूनियन के नरेश टिकैत ने उनको पगड़ी पहनाई। इस कार्यक्रम में उमड़ी भीड़ से पार्टी का हरेक कार्यकर्ता ऊर्जावान महसूस कर रहा है। कार्यक्रम में अलीगढ़ से भी कई लोग पहुंचे थे। छपरौली में उमड़े जनसैलाब से पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की आंखों में चमक आ गई है।
कार्यकर्ता वर्ष 2012 जैसा जोश महसूस कर रहे हैं। जिसके बलबूते पर इगलास से त्रिलोकीराम दिवाकर, बरौली से ठा. दलवीर सिंह व खैर से भगवती प्रसाद सूर्यवंशी ने विधानसभा का सफर तय किया था। कार्यकर्ताओं को उम्मीद हो चली है कि वर्ष 2022 के चुनाव में एक बार फिर से पार्टी वही प्रदर्शन करेगी।
पार्टी का लगातार ग्राफ बढ़ रहा है। 2022 में बरौली, खैर व इगलास विधानसभा चुनाव में रालोद फिर परचम लहराएगा।
-अब्दुल्ला शेरवानी, पूर्व प्रदेश महासचिव, रालोद
बरौली, खैर व इगलास की सीट पर रालोद का पताका लहराएगी। किसान से लेकर आमजन तक रालोद ने पहुंच बना ली है।
-चौधरी राम बहादुर सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष, रालोद
चौधरी राम बहादुर सिंह।
चौधरी राम बहादुर सिंह।- फोटो : CITY OFFICE
... और पढ़ें

अलीगढ़ः आपसी रेस में फंसी साईकिल कैसे निकले आगे

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में प्रस्तावित है। जिसमें भाजपा को कड़ी टक्कर देने का दावा कर रही सपा के कार्यकर्ताओं में जोश चरम पर है, लेकिन पदाधिकारियों और नेताओं की खुद की राजनीतिक आकांक्षाओं ने पार्टी के जमीनी कामकाज को प्रभावित कर दिया है। आलम यह है कि बूथ कमेटियां नहीं बन पाई हैं। जिलाध्यक्ष की कई पदाधिकारियों से तीखी बहस हो चुकी है। जिला और महानगर कमेटी के बीच भी कई जगह तालमेल नहीं दिखता है।
बीती 26 अगस्त को ख्वाजा जिबरान हसन के आवास पर ही यूथ बिग्रेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस राजा को अतरौली के आलमपुर ले जाने की पेशकश पर जिलाध्यक्ष का विरोध हुआ था। उस वक्त जिलाध्यक्ष के बातचीत करने के लहजे पर भी तीखी नोंकझोक हुई थी। ठीक दूसरे दिन 27 अगस्त को पूर्व विधायक जफर आलम ने अपने कार्यालय पर हुई पत्रकारवार्ता में कहा था कि सपा पदाधिकारियों को माला पहनने और फोटो खिंचाने का शौक ज्यादा है। जमीन पर उतना काम नहीं हो रहा है। उनके इस चेतावनी भरे बयान के बाद भी संगठन में खींचतान जारी है। पूर्व विधायक जमीरउल्लाह भी मानते हैं कि वर्तमान में पार्टी में काम करने वाले नेता और कुछ पदाधिकारी खुद का चेहरा चमकाने में ज्यादा जोर दे रहे हैं। संगठन मजबूत करने या बूथ स्तर पर काम करने में लोग मेहनत नहीं कर रहे हैं। वोट बढ़वाने के काम भी बहुत मेहनत से नहीं हो रहे हैं। पूर्व विधायक ने कहा कि सभी को मिल कर सपा सरकार बनाने के लिए काम करना होगा, तभी चुनाव में जीत होगी। वरना नतीजा कुछ भी हो सकता है।
जिलाध्यक्ष गिरीश यादव ने कहा है कि समन्वय की कोई कमी नहीं है। सभी अपना अपना काम कर रहे हैं। विधानसभा अध्यक्ष और विधानसभा प्रभारी बूथ कमेटियां बना रहे हैं। हरेक विधानसभा में लगभग 380 से 400 बूथ कमेटियां बननी हैं। महानगर कमेटी कोल और शहर विधानसभा पर काम कर रही है। जिला और महानगर कमेटी में काम को लेकर कोई दिक्कत नहीं है। महानगर अध्यक्ष अब्दुल हमीद घोषी ने कहा कि शहर में 391 बूथों पर और कोल में 399 बूथों पर कमेटियां बन चुकी है। अब अगर बूथ बढ़ेंगे तो कुछ नई कमेटियां बनेंगी। जिला कमेटी के साथ समन्वय पर उन्होंने कहा कि सभी अपना अपना काम कर रहे हैं। बड़ी पार्टी है इसलिए कुछ न कुछ होता रहता है। एक पूर्व विधायक ने कहा कि चुनाव लड़ने वाले दावेदार खुद ही अपनी कमेटियां बना रहे हैं। जो पहले से एक या दो बार से अधिक चुनाव लड़ चुके हैं उनकी कमेटियां बन चुकी हैं। इसलिए उनको जिला या महानगर संगठन की कमेटियों से बस थोड़ा सहयोग चाहिए। बाकी संगठन क्या कर रहा है ये सभी देख रहे हैं।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः सैन्य कर्मी के सूने मकान से लाखों रुपये की चोरी

थाना रोरावर क्षेत्र स्थित चंद्रलोक कॉलोनी फेस वन में चोरों ने सैन्य कर्मी के सूने मकान को निशाना बनाते हुए लाखों रुपये का सामान, नगदी, जेवरात आदि चोरी कर लिए। घटना की जानकारी के बाद फोरेंसिक टीम, डॉग स्क्वायड और पुलिस मौके पर पहुंची। वहीं, सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की मदद से चोरों तक पहुंचने की कोशिश की जा रही है।
मूल रूप से खैर के गांव बलीपुर के रहने वाले विक्रम सिंह सेना में तैनात हैं। वर्तमान में वह उत्तराखंड के रुड़की में सेवाएं दे रहे हैं। कुछ वर्ष पहले उन्होंने चंद्रलोक कॉलोनी फेस वन में मकान बनवाया था। यहां पर उनका परिवार रहता है। विक्रम सिंह की पत्नी अनीता सिंह लोधा क्षेत्र के गांव केशोपुर जोफरी में प्राइमरी स्कूल में शिक्षिका हैं। इन दिनों विक्रम सिंह छुट्टी पर घर आए हुए हैं। पुलिस को दी गई तहरीर में विक्रम सिंह ने कहा है कि सोमवार को उनकी पत्नी स्कूल गई हुई थीं। 12 वर्षीय बेटी अंकिता और 10 वर्ष का बेटा हर्ष भी स्कूल गए हुए थे। घर पर वह और उनकी मां मौजूद थीं। दोपहर करीब 1:30 बजे वह अपनी मां के साथ आईटीआई रोड स्थित प्लॉट पर चले गए।
पत्नी अनीता अपने दोनों बच्चों को स्कूल से लेकर घर पर पहुंचीं, उन्होंने जैसे ही मुख्य दरवाजा खोला तो कमरों में सामान अस्त-व्यस्त था और ताले टूटे हुए थे। चोर दूसरी मंजिल पर छत पर लगे लोहे के जाल को तोड़कर घर में घुसे थे। अनीता सिंह ने घटना की जानकारी पति विक्रम सिंह को दी। इसके बाद रोरावर पुलिस फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड के साथ मौके पर पहुंच गई। टीम ने घटना से संबंधित साक्ष्य इकट्ठे किए।
रोरावर थाने के इंस्पेक्टर सुनील कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की सहायता से चोरों के संबंध में पता लगाया जा रहा है। जल्द घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः रिश्वत देने पहुंचे युवक को सीएमएस ने किया पुलिस के हवाले

फार्मेसी में प्रशिक्षण के लिए रिश्वत देने पहुंचे युवक को मलखान सिंह जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) ने पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं।
थाना बन्नादेवी क्षेत्र के मलखान सिंह जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. रामकिशन के आवास (अस्पताल परिसर स्थित सरकारी आवास) पर सोमवार को एक युवक रिश्वत देने पहुंच गया। सीएमएस का पैर छूकर युवक ने फार्मेसी (बी फार्मा) में तीन माह का प्रशिक्षण देने का आग्रह किया। आवेदन पत्र एवं कागजात के साथ एक लिफाफा पकड़ाने की कोशिश की। सीएमएस ने पूछा कि लिफाफा में क्या है तो युवक ने छुपाने की कोशिश की। उसने कहा कि वह मर्जी से कुछ गिफ्ट दे रहा है। संयोग से उसी समय किसी काम से रसलगंज चौकी प्रभारी अजयपाल सिंह पहुंच गए। सीएमएस डॉ. रामकिशन ने चौकी प्रभारी को बुलाकर युवक को उनके हवाले कर दिया। सीएमएस डॉ. रामकिशन ने बताया कि फार्मेसी की ट्रेनिंग के लिए एक युवक आया था। पहले वह फार्मेसी विभाग में गया था। उसके बाद मेरे आवास पर आ गया और रिश्वत देने की कोशिश की। युवक को पुलिस के हवाले कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि युवक के खिलाफ थाने में तहरीर दी गई है। इस युवक को पहले कभी नहीं देखा था। चौकी प्रभारी अजयपाल सिंह ने बताया कि जांच-पड़ताल की जा रही है। उसके बाद ही इस संबंध में कुछ कहा जा सकता है।
कहीं सीएमएस को फंसाने की साजिश तो नहीं
युवक की कार्रवाई को कुछ लोग संदेह की नजर से देख रहे हैं। यह भी चर्चा है कि कही युवक सीएमएस को फंसाने की नीयत से तो नहीं पहुंचा था। हालांकि सीएमएस द्वारा पूछे जाने पर वह बार-बार इंकार करता रहा। पुलिस के हवाले किए जाने पर रोने-गिड़गिड़ाने लगा। उसने कहा कि वह किसी के कहने पर नहीं आया है। सीएमएस डॉ. रामकिशन ने कहा कि हो सकता है कि मुझे फंसाने के लिए किसी ने षड़यंत्र किया हो।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः पुलिस का फरमान, बंद कर दो नॉनवेज खाने का ढाबा

बन्नादेवी क्षेत्र में इलाका पुलिस के अजीबोगरीब फरमान से दलित सामाजिक कार्यकर्ता नरेश निराला को अपना नॉनवेज खाने का ढाबा बंद करना पड़ा है। ढाबा संचालक ने कांग्रेसी नेता विनोद पांडे के माध्यम से उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखा है।
नरेश निराला ने पत्र में कहा है कि वह होली चौक जमीराबाद पर अपने घर में बनी दुकान में ही नॉनवेज का ढाबा चलाता है। यही उसकी आजीविका है। लेकिन पिछले कुछ दिनों से इलाका पुलिस का सब इंस्पेक्टर उस पर दबाव डाल रहा है कि वह अपना ढाबा बंद कर दे। जब नरेश ने यह दलील दी कि क्षेत्र में नॉनवेज के अन्य ढाबा और स्टॉल चल रहे हैं। आरोप है कि सब इंस्पेक्टर ने उसके साथ अभद्रता करते हुए गालीगलौज कर दी। साथ ही जातिसूचक शब्द भी कहे। इसके बाद नरेश ने ढाबा बंद कर दिया है। उसने पर पुलिस पर झूठे मुकदमे में फंसाने का भी आरोप लगाया है।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः शराब तस्कर मदनगोपाल के खिलाफ चार्ज फ्रेम

जहरीली शराब कांड में न्यायालय में ट्रायल की प्रक्रिया जारी है। इसी क्रम में एडीजे विशेष न्यायाधीश के न्यायालय में सोमवार को मडराक में गिरफ्तार ऋषि व अनिल के करीबी शराब तस्कर फरीदाबाद के मदन गोपाल उर्फ कालिया के खिलाफ आरोप तय हो गया।
बता दें कि मदनगोपाल गुरुग्राम में अवैध फैक्टरी चलाता था। वहां से माल लाकर यहां बेचता था और मडराक में भंडारण करता था। एडीजीसी चौ. जितेंद्र सिंह के अनुसार, मडराक से संबंधित मुकदमे में मदनगोपाल के खिलाफ आरोप तय होने की प्रक्रिया पूरी हो गई है और अब इस मामले में गवाही के लिए पहली तारीख एक अक्तूबर नियत की गई है। इसके अलावा, क्वार्सी के चंदनिया में हुईं मौत से जुड़े मुकदमे में भी सोमवार को इसी अदालत में आरोप तय होने की प्रक्रिया थी। आरोपी भाजपा नेता रविंद्र पाठक उर्फ रिंकू, लक्ष्मी देवी, मुकेश, राम निवास, शरद, पवन, विकास उर्फ विक्की, मुकेश डांसर, मनोज मन्नू आदि आरोपी तलब थे। उनके अधिवक्ता द्वारा आरोप तय की प्रक्रिया पर बहस के लिए समय मांगे जाने के कारण मामले में अब सुनवाई के लिए 28 सितंबर तारीख तय कर दी गई है। अब उस दिन बचाव पक्ष की बहस के बाद आरोप तय करने की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः अवैध संबंधों में महिला की चाकू से गोदकर हत्या

थाना सिविल लाइन क्षेत्र में पति से अलग रह रही महिला की अवैध संबंधों के चलते चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। वारदात को अंजाम पति के रिश्तेदार ने दिया है। पति की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार, आरोपी ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है।
क्षेत्राधिकारी तृतीय श्वेताभ पांडे ने बताया कि सिविल लाइन क्षेत्र के जमालपुर में 32 वर्षीय महिला अपने दो बेटों के साथ किराये के मकान में रहती थी। वह पति से अलग रह रही थी। महिला को मकान उसके पति के रिश्तेदार अनवार ने दिलवाया था। एक वर्ष पहले महिला के संबंध अनवार से हो गए थे। इसके बाद रिक्शा चालक पति उसको छोड़ कर मुंबई चला गया था।
पुलिस की पूछताछ में ऊपरकोट निवासी हत्यारोपी अनवार ने बताया कि वह महिला को घर के खर्च के लिए 10 हजार रुपये देता था। अनवार किसी मूर्ति के कारखाने में काम करता है। कुछ दिनों पहले उसकी जानकारी में आया कि महिला के कुछ अन्य लोगों से भी संबंध हो गए हैं।
रविवार की रात वह महिला के मकान में गया और कहा कि जब वह उसके परिवार का खर्च उठा रहा है, तब वह ऐसा क्यों कर रही है। इसी बात पर महिला झगड़ा करने लगी। मामला तूल पकड़ने पर अनवार ने महिला पर चाकू से हमला कर दिया। महिला का सात वर्षीय बेटा उसको बचाने आया तो वह भी घायल हो गया। बीचबचाव में अनवार भी हाथ में चाकू लगने से घायल हो गया। चीख-पुकार पर पड़ोस के लोग आ गए। उस समय अनवार मौके से भाग गया। घायल महिला को जेएन मेडिकल कॉलेज ले जाया गया, वहां पर उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया। महिला का पति कुछ दिनों पहले सड़क हादसे में घायल होने के बाद अलीगढ़ आ गया था। उसने पत्नी की हत्या के संबंध में नामजद तहरीर दी, जिस पर पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर सोमवार को अनवार को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। घटना में महिला का बेटा भी जख्मी हुआ है और हमला करते वक्त आरोपी भी जख्मी हुआ है।
महिला पर 15 बार किए चाकू से वार
पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार, महिला के शरीर पर चाकू से 15 बार हमला किया गया। चाकू लगने से पेट, हृदय, फेफड़े बुरी तरह जख्मी हो गए। इसी के चलते महिला की मौत हुई है। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव को परिजनों को सौंप दिया है।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः स्कूल प्रिंसिपल के घर से लाखों रुपये की चोरी

थाना क्वार्सी क्षेत्र के मोहल्ला सुरेंद्रनगर में मुरादाबाद के एक निजी स्कूल में कार्यरत प्रिंसिपल के सूने घर पर चोरों ने धावा बोल दिया। चोरों ने लाखों रुपये के जेवरात और नगदी साफ कर दी। पड़ोस में लगे सीसीटीवी कैमरे में चोर कैद हो गए हैं, जिसके आधार पर पुलिस चोरों की तलाश कर रही है।
मोहल्ला सुरेंद्र नगर में रहने वाले नाहर सिंह परिवार सहित कहीं रिश्तेदारी में गए थे। रविवार की रात को चोर छत के रास्ते से मकान के अंदर घुस गए। अलमारी व बक्से आदि खोलकर कीमती सामान चोरी कर ले गए। नाहर सिंह ने बताया कि उनके घर से सोने की दो चेन, पांच अंगूठी, 40 हजार नकदी और लाखों रुपये के जेवरात चोरी हो गए हैं। पड़ोस में लगे सीसीटीवी कैमरे में चोर कैद हुए हैं। थाना को क्वार्सी के इंस्पेक्टर विजय सिंह के मुताबिक फुटेज के आधार पर चोरों तक पहुंचने की कोशिश की जा रही है।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X