लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Varanasi ›   Crores of projects stranded in compensation

कैसे हो काशी का विकास, मुआवजे के फेर में फंसे करोड़ों के प्रोजेक्ट

ब्यूरो/अमर उजाला, वाराणसी Updated Tue, 04 Apr 2017 03:26 PM IST
ship
ship - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कछवां से अलीनगर तक बनने वाली 58 किलोमीटर के रिंग रोड मामले में प्रभावित किसानों को मुआवजा देने में खास तेजी नहीं आई है। पहले फेज में बाकी रह गए किसानों को मुआवजा दिया जाना है। इसमें 169 करोड़ में से अब तक 140 करोड़ रुपये ही बांटे गए हैं। इसके अलावा जो 14 गांव मुआवजे की मांग को लेकर हाईकोर्ट गए थे, फैसला आने के बाद वहां धीमी गति से मुआवजा दिया जा रहा है।


लगभग एक पखवारे में 240 करोड़ के सापेक्ष सिर्फ 50 करोड़ रुपये बांटे जा सके हैं। भूमि अध्यापित अधिकारी राजेंद्र कुमार ने बताया कि अप्रैल भर मुआवजा बांटा जाएगा। कितने किसानों को दिया गया, कैंप आदि की संख्या, वह स्पष्ट नहीं कर पाए।


सूत्रों की मानें तो धीमी गति के कारण मुआवजा बांटने में दो महीने लगेंगे। जाहिर है कि इसके बाद जून में ही रिंग रोड का काम रफ्तार पकड़ सकेगा। बता दें कि रिंग रोड से संबंधित किसानों को 1 जनवरी, 2014 के सर्किल रेट का चार गुना मुआवजे के रूप में दिया जा रहा है।
 


 

‌जिले से तीन नेशनल हाईवे गुजरते हैं। इन तीनों के चौड़ीकरण की योजना भी अधिकारियों की सुस्ती की शिकार है। इसलिए यह काम रफ्तार नहीं पकड़ पा रहा है। मुआवजा देने में हीलाहवाली के कारण न केवल काम में देरी हो रही है, बल्कि आए दिन किसान अपने मुआवजे के लिए आंदोलन के मूड में आ जाते हैं। अधिकारी इन किसानों को बहला-फुसलाकर शांत कर देते हैं लेकिन मुआवजे की राशि के वितरण में तेजी नहीं आ पाई है।

 
एनएच-56 के चौड़ीकरण के पहले भाग में 183 करोड़ रुपये मुआवजे में से अब तक 155 करोड़ रुपये ही किसानों को दिए गए हैं। वहीं दूसरे भाग में 353 करोड़ मुआवजा दिया जाना है। अब तक 304 करोड़ रुपये का भुगतान हुआ है। एनच-2 पर चल रहे काम के लिए 71 करोड़ में से 50 करोड़ बांटे जा चुके हैं।


एनएच-233 के लिए अधिग्रहीत जमीन के लिए 311 करोड़ रुपये मुआवजा दिया जाना था जिसमें से 200 करोड़ रुपये ही बांटा जा सका है। इसी प्रकार एनएच 29 के लिए 404 करोड़ रुपये के सापेक्ष 225 करोड़ प्रतिकर का भुगतान किया गया है।
 


जलमार्ग-एक के तहत गंगा में वाराणसी से हल्दिया के बीच जल परिवहन शुरू करने के लिए 4200 करोड़ रुपये की परियोजना की फंडिंग विश्व बैंक कर रहा है। इसके तहत रामनगर में मल्टी मॉडल टर्मिनल का निर्माण कराया जा रहा है लेकिन जितनी जमीन की जरूरत है, उतनी अब तक अधिग्रहीत नहीं की जा सकी है। तीन साल से आईडब्ल्यूएआई एक काश्तकार को मनाने में लगा है। उसकी आठ हेक्टेयर से अधिक जमीन अधिगृहीत की जानी है। 


अधिकारियों की मानें तो काश्तकार जमीन अधिग्रहण के बाद भी जमीन पर होने वाले निर्माण और उसके बाद भी अपना पूरा दखल चाहता है। मुआवजे के साथ उसकी कई शर्तें हैं। आईडब्ल्यूएआई अब प्रशासन की मदद लेने की तैयारी कर रहा है। दरअसल, टर्मिनल के बाद सेकेंड फेज में जिउनाथपुर से रेल लाइन बिछनी है। इसके लिए 27 हेक्टेयर से अधिक जमीन चाहिए।

अब तक 12 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण हो पाया है। जमीन न मिल पाने के चलते टर्मिनल निर्माण के लिए बिजली का कनेक्शन भी नहीं मिल पाया है।  

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00