लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Varanasi ›   Ring road Varanasi started crumbling in one year unable to bear pressure of heavy vehicles in summer

वाराणसी: डेढ़ साल में ही उखड़ने लगी रिंग रोड, गर्मी में भारी वाहनों का दबाव नहीं झेल पा रही सड़क

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी Published by: उत्पल कांत Updated Thu, 14 Apr 2022 11:16 AM IST
सार

वाराणसी रिंग रोड फेज-2 का लोकार्पण 25 अक्टूबर 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। करोड़ों की लागत से निर्मित रिंग रोड फेज-2 की हालत डेढ़ साल के भीतर ही खराब होने लगी। 

डेढ़ साल में ही उखड़ने लगी रिंग रोड
डेढ़ साल में ही उखड़ने लगी रिंग रोड - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

वाराणसी शहर को जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए डेढ़ साल पहले मिर्जामुराद से हरहुआ जाने के लिए रिंग रोड फेज-2 का निर्माण किया गया था। यह सड़क अभी से उखड़ने लगी है। इससे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। रिंग रोड फेज-2 का लोकार्पण 25 अक्टूबर 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था।



करोड़ों की लागत से निर्मित रिंग रोड फेज-2 की हालत डेढ़ साल के भीतर ही खराब होने लगी। गर्मी और तेज धूप की थपेड़े सड़कों के लिए असहनीय साबित हो रहे हैं। सड़क के उखड़ने से मार्ग पर दुर्घटना का खतरा बढ़ गया है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि निर्माण कार्य में मानक का पालन नहीं होने से सड़क जल्दी खराब हो रही है।  राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के परियोजना प्रबंधक आरएस यादव ने कहा कि मिर्जामुराद से हरहुआ सड़क पर भारी वाहनों के दबाव काफी बढ़ गया है। इससे सड़कें उखड़ रही है। जल्द ही इसे ठीक कराया जाएगा। 

सामग्री का सही इस्तेमाल न होने से खराब होती है सड़क

इंजीनियरिंग विभाग बीएचयू के सिविल इंजीनियर डॉ. बिंद्र कुमार ने बताया कि सड़क बनाते समय अच्छी तरह से कुटाई न किए जाने और सामग्री का सही से इस्तेमाल न करने से सड़क जल्दी खराब होती है। तारकोल से बनाई जाने वाली सड़कों को बनाते समय पतली परत रखना जरूरी है। तारकोल की परत 20 सेमी से ज्यादा नहीं रखना चाहिए। 

भोजूबीर में धंसी सड़क, परेशान हुए राहगीर

भोजूबीर में धंसी सड़क
भोजूबीर में धंसी सड़क - फोटो : अमर उजाला
भोजूबीर में सड़क के बीचोबीच डिवाइडर के पास बुधवार को अचानक सड़क धंस गई। जिससे राहगीरों को आने-जाने में काफी दिक्कतें हुई। हालांकि स्थानीय लोगाें की शिकायत के बाद कार्यदायी संस्थाओं द्वारा गड्ढे को देर शाम भर दिया गया। इलाके के लोगाें का कहना था कि अक्सर जल निगम द्वारा सड़क किनारे खोद कर छोड़ दिया जाता है। जिससे तमाम तरह की समस्याएं होती हैं।

ओवरलोड वाहनों की परिवहन विभाग कर रहा अनदेखी

 सड़कों पर ओवरलोड वाहनों के चलने के मामले में परिवहन विभाग ठोस कार्रवाई नहीं कर रहा है। ऐसी स्थिति तब है जब लगातार जनप्रतिनिधियों की ओर से भी इसकी शिकायत की जा रही है। 
ओवरलोड वाहनों के संचालन को लेकर कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर के साथ ही सपा एमएलसी आशुतोष सिन्हा ने शिकायत शासन से की थी।

हालांकि इस मामले में परिवहन विभाग की ओर से जांच कमेटी का गठन किया गया लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई। इससे ओवरलोड वाहन धड़ल्ले से दौड़ रहे हैं। सपा एमएलसी आशुतोष सिन्हा ने बताया कि पिछले महीने परिवहन आयुक्त को लिखे पत्र में कार्रवाई की मांग की गई थी। एक बार फिर मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग करेंगे। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00