लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Gorakhpur ›   High Court took cognizance of Nafisa gang SSP summoned

Gorakhpur: नफीसा गिरोह का हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान, एसएसपी तलब

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Sat, 01 Oct 2022 01:43 PM IST
सार

मुकदमे को खत्म करने या फिर स्टे देने की गुहार लिए नफीसा गिरोह के सदस्य हाईकोर्ट पहुंचे थे। हाईकोर्ट ने सुनवाई की तो वादी मुकदमा खालिद के अधिवक्ता ने कहा कि पूरे प्रकरण में केस दर्ज है। फर्जी केस दर्ज कराने वाला गिरोह वसूली भी करता है।

सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो - फोटो : Social Media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

दुष्कर्म का फर्जी केस दर्ज कराकर वसूली करने वाले नफीसा गिरोह का हाईकोर्ट ने संज्ञान लिया। कोर्ट ने अब तक हुई कार्रवाई के बारे में पूछते हुए 18 अक्तूबर को एसएसपी गोरखपुर को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर जानकारी देने का आदेश जारी किया है। कोर्ट ने आपत्ति की है कि सीओ कैंट की जांच रिपोर्ट के बाद केस दर्ज होने के बाद भी अब तक इस प्रकरण में गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई है।



 दरअसल, मुकदमे को खत्म करने या फिर स्टे देने की गुहार लिए नफीसा गिरोह के सदस्य हाईकोर्ट पहुंचे थे। हाईकोर्ट ने सुनवाई की तो वादी मुकदमा खालिद के अधिवक्ता ने कहा कि पूरे प्रकरण में केस दर्ज है। फर्जी केस दर्ज कराने वाला गिरोह वसूली भी करता है।


 इसके बाद कोर्ट ने सीओ कैंट द्वारा की गई जांच रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद अब तक हुई कार्रवाई के बारे में पूछा और 18 अक्तूबर को एसएसपी गोरखपुर को तलब कर लिया।
 पुलिस ने इस मामले में सात अगस्त 2022 को कैंट थाने में केस दर्ज किया था, लेकिन अभी तक इस प्रकरण में कार्रवाई नहीं हो सकी है।

इसे भी पढ़ें: सामूहिक दुष्कर्म के आरोपियों पर गैंगस्टर की कार्रवाई, रेलवे स्टेशन के आउटर से युवती को किया था अगवा
 

पीड़ित ने दर्ज कराया था केस

कैंपियरगंज के खालिद की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज किया है। आरोप है कि गिरोह में शामिल महिलाएं फर्जी मुकदमा दर्ज कराकर लोगों से वसूली करती हैं। उनकी शिकायत पर पहले दो सीओ ने जांच की थी, जांच रिपोर्ट में आरोप सही पाए जाने पर नफीसा गैंग पर मुकदमा दर्ज किया गया था।

23 मई को सीओ ने सौंपी थी जांच रिपोर्ट
तत्कालीन एसएसपी डॉ. विपिन ताडा से पीड़ित खालिद ने शिकायत की थी। एसएसपी के आदेश पर सीओ कैंट ने जांच की और 23 मई 2022 को जांच रिपोर्ट एसएसपी को सौंप दी थी। इसके बाद सीओ बांसगांव ने भी जांच की और पाया कि गिरोह के सदस्य इस तरह का कृत्य कर रहे हैं। इसके बाद उनकी रिपोर्ट भी आ गई। बाद में एसएसपी के आदेश पर पुलिस ने इस मामले में केस तो दर्ज कर लिया, लेकिन कार्रवाई नहीं हो सकी।
विज्ञापन

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00