बुखार से तीन बच्चों संग 6 की मौत

Kanpur	 Bureau कानपुर ब्यूरो
Updated Mon, 18 Oct 2021 12:00 AM IST
6 died along with three children due to fever
विज्ञापन
ख़बर सुनें
इटावा/ताखा/जसवंतनगर। जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में वायरल बुखार का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। रविवार को वायरल फीवर से से तीन मासूम बच्चों समेत छह लोगों की मौत हो गई। अकेले इकदिल क्षेत्र के बिरारी गांव में तीन मासूमों की जान चली गई, जिससे गांव में कोहराम मचा है।
विज्ञापन

इकदिल के ग्राम बिरारी में बुखार से अमरनाथ का एक वर्षीय बेटा आयुष, कपिलेंद्र की एक वर्षीय पुत्री काव्या और प्रदीप का दो वर्षीय पुत्र आर्यन की मौत हो गई। तीनों बच्चों के पिता ने मौत की वजह डेंगू बताया है।

वहीं, रविवार को ब्लाक ताखा की ग्राम पंचायत सोंथना के ग्राम रजपुरा में 24 वर्षीय युवक व जसवंतनगर में 18 साल के युवक और ग्राम कुंजपुर में 19 वर्षीय युवक की आगरा में इलाज के दौरान बुखार से मौत हो गई।
ब्लॉक ताखा की सोंथना ग्राम पंचायत के गांव रजपुरा निवासी ब्रजबिहारी कश्यप के 24 वर्षीय गौतम की बुखार से मौत हो गई। बताया गया कि गौतम को कई दिन से तेज बुखार से पीड़ित था।
ऊसराहार में इलाज चलने के दौरान डॉक्टर ने दिमागी बुखार बताकर इटावा भेज दिया, लेकिन डाक्टरों ने हालत गंभीर देखकर आगरा ले जाने की सलाह दी। गौतम को आगरा ले जा रहे थे, पर रास्ते में उसकी मौत हो गई। ऊसराहार में काफी कई मरीज आगरा, कानपुर, मैनपुरी, इटावा आदि स्थानों पर इलाज करा रहे हैं।
एडीओ पंचायत ने बुखार ग्रसित मरीजों की संख्या बढ़ने पर सफाई करवाई, लेकिन महज खानापूरी की गई। जसवंतनगर के ग्राम बलरई निवासी सलीम अली के बेटे समीर अली (18) की मृत्यु हो गई। परिजनों ने मौत का कारण डेंगू बताया है।
युवक अपने मां- बाप की इकलौता पुत्र था। सलीम अली ने बताया कि समीर को पिछले काफी दिनों से बुखार आ रहा था। स्थानीय चिकित्सकों से उपचार कराने के बाद हालत नाजुक होने पर उसे शिकोहाबाद व फिरोजाबाद इलाज कराया।
डॉक्टरों के मना करने पर आगरा ले जाकर भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान समीर अली की मौत हो गई। वहीं ग्राम कुंजपुर निवासी शिवम (19) की रविवार को आगरा में मृत्यु हो गई। शिवम पिछले कई दिनों से बुखार से ग्रसित चल रहा था।
परिजन स्थानीय चिकित्सकों से उपचार कराते रहे। फिरोजाबाद में डॉक्टरों के इलाज करने से मना करने पर आगरा में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान पेट दर्द होने के बाद शिवम ने दम तोड़ दिया।
बसरेहर में भी डेंगू के मरीज बढ़े
बसरेहर कस्बे में डेंगू के बढ़ते प्रकोप का असर कम होने का नाम नहीं ले रहा है। बसरेहर में किल्ली रोड बड़े मंदिर के पास सुधीर कुमार शाक्य सीता देवी की जांच रिपोर्ट डेंगू पॉजिटिव आई, जबकि राकेश कुमार की पुत्री शिवानी वायरल बुखार से ग्रसित है। क्षेत्र में डेंगू की पुष्टि करके झोलाछाप इलाज करने में जुटे हैं।
चार बच्चे वायरल फीवर से पीड़ित
लवेदी। लखना में भाजपा नेता हरनाथ सिंह का डेढ़ वर्षीय पौत्र नचिकेत व राशन डीलर धनंजय सिंह का ढाई वर्षीय पुत्र शिवांजय सिंह, ठाकुरान मोहाल निवासी ढाबा संचालक राहुल सिंह राठौर का छह वर्षीय पुत्र अभय सिंह बुखार से ग्रसित हैं।
बालिका का तान्या का लखना में इलाज चल रहा है। वायरल फीवर और डेंगू के चलते लखना में झोलाछापों के यहां लोग इलाज करा रहे हैं।
वार्ड के बरामदे में पड़े बेड
वायरल बुखार के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला अस्पताल के डेंगू वार्ड के बरामदे में अतिरिक्त बेड बढ़ाए गए हैं। सीएमएस डा. एमएम आर्या ने बताया कि इस समय सीरियस मरीज ज्यादा आ रहे हैं।
भर्ती करने की स्थिति में बेड भरने पर वार्ड के बरामदे में करीब दस बेड अतिरिक्त डाले गए हैं, जिससे मरीजों का उपचार ठीक से हो सके।
बुखार के 1115 मरीज पहुंचे
एसीएमओ डा. अवधेश यादव ने बताया कि जनपद में बुखार के 1115 मरीज आए। इनमें से 396 की डेंगू जांच हुई। इनमें से 92 निगेटिव निकले, जबकि एलाइजा जांच में 12 पॉजिटिव मिले। बुखार के 234 मरीज भर्ती हैं, इनमें से 89 डिस्चार्ज किए गए। जिला अस्पताल की ओपीडी में आधा सैकड़ा बुखार के मरीज आए।
सैफई में बुखार के 19 मरीज भर्ती
सैफई चिकित्सा विवि में रविवार को बुखार के 3 मरीज आए, जबकि डेंगू के 19 नए मरीज भर्ती किए गए। चिकित्सा अधीक्षक प्रो. डा. आदेश कुमार ने बताया कि रविवार को अस्पताल से डेंगू के 9 मरीजों की छुट्टी की गई। इस समय 67 डेंगू के मरीज भर्ती हैं।
रविवार को इटावा के डेंगू के 10 नए मरीज भर्ती हुए, जबकि इटावा के 5 डेंगू मरीजों को छुट्टी दे दी गई। इटावा के अभी 41 डेंगू ग्रसित मरीज भर्ती हैं। इसके अलावा औरैया, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा समेत आसपास के कई जिलों के मरीज यहां भर्ती हैं, लेकिन मलेरिया ग्रसित कोई मरीज नहीं है।
बीवामऊ के कैंप में मौजूद रहे सीएमओ
सीएमओ ने रविवार को जसवंतनगर के ग्राम बीवामऊ में कैंप लगवाकर अपनी उपस्थिति में मरीजों की जांच करवाई व उन्हें दवाएं वितरित कराईं। एसीएमओ डा. अवधेश यादव ने इस दौरान 33 मरीजों की रेपिड कार्ड से जांच की गई। कैंप में डा. सोहम प्रकाश गुप्ता व मलेरिया विभाग की टीम भी उपस्थित रही।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00