विज्ञापन
Home ›  

Columns

कॉलम

स्मृति शेष: कथक की बारीकियों से बहुत ऊपर थे पंडित बिरजू महाराज

उनकी शख्सियत में एक खास किस्म की रूमायित और सादगी थी। उनके भीतर इस उम्र में भी एक छोटा बच्चा था। उनके कथक की बारीकियां और उनकी भाव भंगिमाएं तो सबने देखीं और दुनिया ने उन्हें कथक सम्राट का दर्जा भी दिया, लेकिन अस्सी पार करने के बाद भी उनके भीतर का वो बच्चा कृष्ण के नन्हें अवतार की तरह उनके नृत्य में, उनके चेहरे पर, उनकी आंखों में मचलता रहता था।
Blog 17 जनवरी 2022
Blog 17 जनवरी 2022
Blog 17 जनवरी 2022
Advertorial
Blog 17 जनवरी 2022
विज्ञापन
Opinion 17 जनवरी 2022
Opinion 17 जनवरी 2022
Blog 16 जनवरी 2022
Opinion 16 जनवरी 2022
विज्ञापन
Blog 15 जनवरी 2022
Blog 15 जनवरी 2022
Opinion 15 जनवरी 2022
Opinion 15 जनवरी 2022
Blog 14 जनवरी 2022
Blog 14 जनवरी 2022
Blog 14 जनवरी 2022
Opinion 14 जनवरी 2022
Opinion 14 जनवरी 2022
Opinion 14 जनवरी 2022
Blog 13 जनवरी 2022
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00