वीडियो: ट्यूटर बना हैवान, दूसरी कक्षा के छात्र के साथ की दिल दहला देने वाली क्रूरता

क्राइम डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़ Updated Mon, 19 Nov 2018 02:56 AM IST
बच्चे के बाल पकड़कर पीटता ट्यूटर।
बच्चे के बाल पकड़कर पीटता ट्यूटर। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें
गांधीपार्क थाना क्षेत्र के नौरंगाबाद के एक सात वर्षीय मासूम को ट्यूटर द्वारा बुरी तरह पिटाई करने का मामला सामने आया है। वीडियो फुटेज में साफ दिख रहा है कि शिक्षक ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी हैं। इससे कक्षा दो में पढ़ने वाला यह बच्चा गहरे सदमे में है। इसी के साथ पिता सहित अन्य परिजन भी यह सीसीटीवी फुटेज देखकर दो दिनों से काफी व्यथित हैं। दूसरी ओर तहरीर लेकर गए पीड़ित पिता को गांधीपार्क थाने की पुलिस टरका रही है। ट्यूटर के परिजन एक स्थानीय नेता के जरिये समझौते का दबाव भी बना रहे हैं। देर रात ट्यूटर के भाई को पुलिस ने पूछताछ के उठाया है। 
विज्ञापन




नौरंगाबाद के दुर्गा नगर-विकास नगर की गली नंबर दो के रहने वाले अमित कुमार शर्मा के सात वर्षीय पुत्र अनुज कुमार को शास्त्रीनगर का एक शिक्षक ट्यूशन पढ़ाता है। शुक्रवार को अमित अपनी सीसीटीवी फुटेज चेक कर रहे थे। इसी दौरान 15 नवंबर की वीडियो फुटेज देख उनके होश उड़ गए। जैसे ही उन्होंने अपने बेटे को ट्यूटर द्वारा पिटता हुआ देखा तो वीडियो को और पीछे करके देखा। इसमें शिक्षक बच्चे को गाड़ी की चाबी से मार रहा है। उसकी चारों उंगलियां दांतों से कुचल दीं। थप्पड़ मारते हुए अपने चप्पल से उसके पैरों को कुचल रहा है। वहीं मासूम कराहते हुए रो रहा है।



ट्यूटर यहीं नहीं रुका। वह बच्चे के बाल खींचते हुए डांट रहा है। दोनों कान पकड़कर बुरी तरह झिंझोड़ते हुए चप्पल से पीट रहा है। इसमें यह भी सामने आया कि शिक्षक पानी पिलाकर उसे पीटता है। यह देख पिता अमित के होश उड़ गए। इसके बाबत जब अमित ने बेटे से पूछा तो वह खामोश रहा। जब कहा कि अब यह टीचर दोबारा नहीं आएगा तो उसने सारी बात बताई। इसके बाद पीड़ित पिता तहरीर लेकर गांधीपार्क थाने पहुंचा। यहां सिपाहियों ने थानाध्यक्ष के मौजूद न होने की बात कहकर तहरीर लेने से मना कर दिया। पिता का आरोप है कि इसी दौरान आरोपी टूयूटर अपने दो भाइयों और एक नेता के साथ वहां पहुंच गया। यहां उसने अपनी गलती मानी। उसके बड़े भाई ने भी गलती मानते हुए उचित दंड देने की बात कही। जबकि अन्य भाई ने धमकी दी कि तहरीर से कुछ होने वाला नहीं है। मैं इसे तो छुड़ा लूंगा, बाद में दुश्मनी महंगी पड़ेगी। स्थानीय नेता ने भी मामला रफा दफा करने की कहा।


पीड़ित पिता ने बताया कि वह अभी तक इस सदमे से नहीं निकल पाए हैं। जबकि उनका बेटा अब मायूस सा रहता है। इसलिए उसे इलाज के लिए किसी मानसिक रोग विशेषज्ञ से सोमवार से इलाज शुरू कराने की बात कही। 
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00